सोनू सूद ने बताया ट्वीट डिलीट होने के पीछे का कारण

न्यूज़
सोनू सूद ने बताया ट्वीट  डिलीट होने के पीछे का कारण
सोनू सूद ने बताया ट्वीट डिलीट होने के पीछे का कारण
फोटो सौजन्य :टाइम्स नाउ
Advertisement

देश में कोविड-19 (कोरोना वायरस) के संक्रमण को रोकने के लिए मार्च के अंतिम दिनों में लॉकडाउन लगाया गया था। जिसका सबसे ज्यादा गहरा प्रभाव दिहाड़ी मजदूरी करने वाले प्रवासी मजदूरो पर (Migrant Workers) हुआ ।जिसके कारण रोजगार ना मिलने की समस्या और पैसे की तंगी के कारण कई प्रवासी अपने घरों को पैदल ही निकल पड़े तो कुछ दूसरे राज्यों में महीनों तक फंसे रहे। ऐसे में इन लोगों के लिए मसीहा बनकर सामने आए बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद। अभिनेता सोनू सूद (Sonu Sood) ने बड़ी संख्या में प्रवासीयो को उनके घरों तक पहुंचाया। लोगों ने घर लौटने के बाद सोनू सूद को सोशल मीडिया के जरिए धन्यवाद भी कहा।और कुछ लोगो ने अपने राज्यों में पहुंच कर सोनू सूद की मूर्ति भी बना दी,एक प्रवासी महिला ने डिलीवरी होते ही अपने बच्चे का नाम सोनू रख दिया,लोगो का सहयोग करते हुए सोनू सूद को बहुत प्यार और रिसपेक्ट मिल रही है,अब स्थिति यह है की कोई भी व्यक्ति भारत या भारत से बाहर फसा है तो वह मात एक ट्वीट कर दे और सोनू सूद हेल्प करने पहुंच जा रहे है

कई राज्य सरकारे सोनू सूद से प्रवासियों को पहुंचाने में ले रही है सहयोग

कई राज्य सरकारे सोनू सूद से प्रवासियों को पहुंचाने में ले रही है सहयोग
कई राज्य सरकारे खुद सोनू सूद को कॉन्टेक्ट करके कह रही है की हमारे राज्य के नागरिको को आप ला दे. या इस राज्य के नागरिको को पहुंचा दे. अब तक सोनू प्रवासीयो को बसों से पहुंचा रहे थे लेकिन अब प्रवासीयो को हवाई सफर के माध्यम से भी पहुंचाया जा रहा है । परन्तु अब जब लोग घर पहुंच गए है तो कुछ लोगो द्वारा सोनू को हेल्प के लिए किये गए ट्वीट डिलेट किये गए है। कई ऐसे ट्वीट जिनका सोनू सूद ने रिप्लाई किया था, वो तक ट्विटर से डिलीट कर दिए गए हैंजिसके कारण कई लोग और राजनैतिक पार्टिया कह रही है की यह ट्वीट अभिनेता सोनू सूद के द्वारा कराये गए थे।

क्या है ट्वीट डिलीट होने के पीछे का कारण?

क्विंट की रिपोर्ट के अनुसार अभिनेता सोनू सूद ने ट्वीट डिलेट होने के कहा की ‘मुझे लगता है कि ज्यादातर लोग अपने घरों तक पहुंच गए हैं और उन्हें मदद मिल गई है लेकिन फिर भी उनके नंबर सोशल मीडिया पर थे, तो उन्हें शायद अब भी मदद के लिए फोन आ रहे होंगे। तो मुझे लगता है कि इसी वजह से कुछ लोगों ने अपने ट्वीट डिलीट कर दिए होंगे, ताकि उनके नंबर इंटरनेट पर ना रहें। दूसरी बात बहुत से लोग ऐसे भी थे, जो मदद चाहते थे। जैसे ही उन्हें हमारी ओर से फोन आया तो उन्होंने ये कहते हुए ट्वीट डिलीट कर दिए कि वो केवल हमसे संपर्क करना चाहते थे।

कई लोग सिर्फ जानना चाहते थे की हेल्प मिल रही है या नहीं

सोनू सूद ने कहा की उनको ऐसा भी लगता है कि लोगों का एक तबका कई लोग सिर्फ जानना चाहते थे की हेल्प मिल रही है या नहीं। तो उन्होंने नंबर डाले और हमारी और से हेल्प के लिए कॉल गयी तो लोगो ने कहा की वे केवल संपर्क करना चाहते। इसलिए, मैंने यह कहते हुए ट्वीट किया था कि केवल जरूरतमंदों तक ही मदद पहुंचनी चाहिए, अन्यथा बहुत से ऐसे लोग जिन्हें वास्तव में मदद की आवश्यकता है, लेकिन हमें मिल रहे बहुत सारे मैसेज में उनके ट्वीट खो सकते हैं।’आगे सोनू सूद ने यह भी बताया की कुछ लोग उनके नाम से फेक अकाउंट बनाकर पैसे भी मांग रहे है ऐसे लोगो से उन्होंने ट्वीट कर लोगों से सावधान रहने को कहा था

सोनू सूद का कहना है की जब तक अंतिम प्रवासी अपने परिवार से नहीं मिल जाता तब तक में प्रवासीयो को घर भेजते रहूँगा


धन्य है वो माता -पिता जिन्हे सोनू जिसे सोनू जैसा बेटा मिला जो सभी के लिए एक सच्चे भाई,मित्र की तरह दिन रात सभी प्रवासियो को उनके घर उनके अपनों से मिलाने में लगा है जब केंद्र सरकार और सभी राज्य सरकार फेल हो गयी तब सोनू सूद का उदय हुआ प्रवासियों के उद्धार के लिए

Leave a Reply