2020 में गंगा दशहरा कब है

आस्था

आज (1 जून)

Advertisement
गंगा दशहरा है। यह पर्व (गंगा दशहरा) ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि पर मनाया जाता है। कहा जाता है की आज के दिन ही मां गंगा धरती पर अवतरित हुईं थीं।

2020 में गंगा दशहरा कब है
2020 में गंगा दशहरा कब है
यह फोटो गूगल से ली है

क्‍यों मनाया जाता है गंगा दशहरा?

प्राचीन समय में राजा भगीरथ अपने पितृगणों को जीवन-मरण के चक्र से मुक्त करके मोक्ष दिलाना चाहते थे.जिसके लिए भगीरथ ने कठोर तपस्या की और भगवान विष्णु और मां गंगा को प्रसन्न किया .गंगा धरती पर आने को तैयार हो गईं.भगीरथ चाहते थे कि उनके पूर्वजों को मोक्ष मिल जाए.माँ गंगा इतनी पवित्र है कि उनके जल में डुबकी लगाने मात्र से ही मनुष्य जीवन चक्र में बार बार धरती पर आने के क्रम से मुक्त हो जाता है

गंगा स्नान से मनुष्य पाप मुक्त हो जाता है

तभी से माना जाता है गंगा दशहरा पर गंगा स्नान करने से दस तरह के पाप नष्ट हो जाते है।गंगा दशहरा के दिन पवित्र नदी गंगा में स्नान करने से मनुष्य अपने पापों से मुक्त हो जाता है।यदि आप किसी कारण से गंगा स्नान करने नहीं जा सकते तो घर पर ही थोड़े से गंगाजल में सादा जल मिलाकर स्नान कर लें।इससे भी आपको गंगा स्नान के जैसा ही पुण्य प्राप्त होगा स्नान के साथ-साथ इस दिन दान-पुण्य करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है

गंगा दशहरा पर ध्यान देने योग्य बाते

गंगा स्नान के बाद मां गंगा को प्रणाम करें और सुमिरन अवश्य करें। संभव हो तो मां गंगा की प्रतिमा या चित्र का पूजन करें। इनके साथ राजा भगीरथ और हिमालय देव की भी पूजा करें। गंगा पूजा के बाद देवाधिदेव महादेव की पूजा अवश्य करें।

गंगा दशहरा पर कोशिस यह करे की जो भी वास्तु का आप पूजा में या दान पुर्ण्य में उपयोग करे वह (10) दस हो जैसे की दस पुष्प,दस दीपक,दस ब्रामण या दस गरीबो को भोजन कराये इससे आपको उत्तम फल मिलेगा और कम से कम 10 पापो का नाश होगा

Leave a Reply