Agneepath scheme | AgniVeer Indian Army Yojana | Agneepath Scheme Advantages & Disadvantages | Agneepath Yojana Kya Hai | Agneepath Yojana age limit  

हेल्थ
Agnipath Scheme
Agnipath Scheme

Table of Contents

Agneepath scheme | AgniVeer Indian Army Yojana | Agnipath Scheme Advantages & Disadvantages | Agneepath Yojana Kya Hai | Agneepath Yojana age limit  

Agneepath scheme : 14 जून 2022 को भारत सरकार (केंद्र सरकार) ने भारतीय सेना में नई व्यवस्था लॉन्च की है, जिसका नाम है ‘अग्निपथ स्कीम’. (Agneepath Scheme)ये स्कीम भारतीय सेनाओं के लिए ऐतिहासिक बदलाव है. इस स्कीम की घोषणा ‘टूअर ऑफ ड्यूटी’ सिस्टम के तहत की गई है. टूअर ऑफ ड्यूटी का मतलब है, कि आप भारतीय सेना यानी नेवी, आर्मी और एयरफोर्स को लंबी अवधि के लिए जॉइन किए बगैर सेना में भर्ती होने का अनुभव ले सकते हैं । यह भर्ती कॉन्‍ट्रैक्‍चुअल होगी। इसका मकसद सेना को ज्‍यादा यंग बनाना है। देशभक्त और प्रेरित युवाओं को 4 साल की अवधि के लिए देश के सेना में सेवा करने की अनुमति देगा।

Advertisement

अग्निपथ योजना क्या है, कौन आवेदन कर सकता है? Agneepath Yojana Kya Hai

Agneepath scheme : अग्निपथ योजना, अधिकारी पद से नीचे के व्यक्तियों के लिए भर्ती प्रक्रिया, फिटर, युवा सैनिकों को तैनात करने के लक्ष्य के साथ, जिनमें से कई चार साल के अनुबंध पर होंगे। Agneepath scheme में भर्ती के लिए युवाओं के उम्र कम से कम 17 साल और अधिकतम 21 साल के बीच होनी चाहिए। यह एक गेम-चेंजिंग प्रोजेक्ट है जो थल सेना, नौसेना और वायु सेना को अधिक युवा छवि देगा। अग्निवीरों की भर्ती भारतीय सेना के तय नियमाअनुसार ही होगी। भर्ती के बाद युवाओं को ट्रेनिंग अवधी समेत कुल 4 सालों तक सशस्त्र बलों में सेवा करने का अवसर मिलेगा।

सरकार ने मंगलवार ‘अग्निपथ’ योजना (Agneepath Scheme)की घोषणा की, इस साल 46,000 सैनिकों, नाविकों और एयरमैन की भर्ती की प्रक्रिया अग्निपथ योजना के तहत शुरू होगी,

Agneepath Scheme: अग्निवीरों की सैलरी कितनी होगी

रक्षा मंत्रालय के अनुसार सेवा निधि पैकेज के तहत अग्निविरों को सालाना 4.76 लाख रुपये का पैकेज मिलेगा और चौथे साल में 6.9 लाख रुपये का पैकेज मिलेगा। सैलरी की बात करें तो पहले साल युवाओं को ₹30,000 मासिक सैलरी मिलेगी और चौथे साल तक की यह मासिक सैलरी ₹40,000 हो जाएंगे। यानि अग्निवीरों को औसतन ₹35,000 सैलरी मिलेगी।

सेना में भर्ती कब होगी और इसकी योग्यता क्या होगी-Agneepath scheme eligibility criteria in Hindi

रक्षा मंत्रालय के अनुसार अग्निवीरों की पहली भर्ती 90 दिनों के भीतर शुरू हो जाएगी। पहला बैच 2023 में आएगा। अग्निपथ योजना में 17 साल से 21 साल उम्र के युवा नौकरी पा सकते हैं। इस योजना में 10 हफ्ते से 6 महीने तक की ट्रेनिंग का प्रावधान होगा।

Agneepath Scheme : अग्निवीरों को EPF/PPF की सुविधा मिलेगी लेकिन पेंशन नहीं मिलेगी

अग्निपथ स्कीम के तहत भर्ती होने वाले सभी अग्निविरों को EPF और PPF की सुविधा मिलेगी। अग्निवीर मासिक परिलब्धियों में 30% का योगदान देंगे और एक समान राशि का योगदान सरकार द्वारा किया जाएगा। इसमें पूर्ण रूप से इनकम टैक्स छूट मिलेगी। रक्षा मंत्रालय ने इसके साथ-साथ कहा है कि Agneepath Scheme के तहत भर्ती युवाओं को ग्रेच्युटी और पेंशन का लाभ नहीं मिलेगा।

Agneepath scheme : 48 लाख का बीमा के साथ और भी बहुत कुछ मिलेगा

रक्षा मंत्रालय के अनुसार सालाना पैकेज के साथ अग्निवीरों को कुछ भत्ते भी मिलेंगे। जिसमें ट्रैवल एलाउंस, यूनिफॉर्म, राशन और रिस्क एंड हार्डशिप शामिल होंगे। रक्षा मंत्रालय ने कहा है कि अग्निवीर देश की सेवाओं के दौरान वीरगति को प्राप्त करते हैं, तो उनके परिवार को करोड़ों रुपये मुआवजा दिया जाएगा वहीं अगर घायल और विकलांग होने पर 48 लाख रुपये मुआवजा मिलेगा।

भारतीय सेना में भर्ती के लिए वॉलिंटियर का भी मिलेगा मौका

रक्षा मंत्रालय के अनुसार 4 साल की सेवाओं के बाद अग्निवीरों को सेना भर्ती के लिए भोजन तैयार करने का भी मौका मिलेगा। हालांकि, तभी संभव होगा जब उस वक्त सेना में भर्तियां निकली होगी। 4 साल के सेवाओं के बाद अग्निवीरों को विभिन्न सैन्य कौशल के लिए सर्टिफिकेट भी दिया जाएगा।

Agneepath scheme: अग्निपथ योजना की बड़ी बातें

  • अग्निपथ योजनाओं के तहत युवाओं को 4 साल के लिए सेना में सेवा करने का अवसर मिलेगा।
  • इस दौरान अग्निवीरों को पहले साल ₹ 30,000 सैलरी मिलेगा वहीं पर चौथे साल ₹ 40,000 सैलरी मिलेगा।
  • सेना में भर्ती होने के लिए 10/12वीं पास छात्र आवेदन कर सकते हैं।
  • चुने गए अग्निवीरों के ट्रेनिंग अवधि 10 हफ्ते से 6 महीनों तक होगी।
  • सेना में भर्ती होने के लिए न्यूनतम साढे़ 17 साल और अधिकतम 21 साल के युवाओं को अवसर मिलेगा।
    4 साल की सेवा के बाद सेवा निधि पैकेज मिलेगा।

 अग्निपथ योजना (Agneepath scheme)ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन

रक्षा मंत्रालय के अनुसार 90 दिनों के भीतर अग्निवीरों को भर्ती करने का प्रक्रिया शुरू की जाएगी। आपको बता दूं कि यह, जैसे ही भर्ती प्रक्रिया का तारीख तय होंगी आपको इसी आर्टिकल के माध्यम से जानकारी कराएंगे अत: हमारे साथे जुड़े रहे। हमारे साथ जुड़े रहने के लिए इस वेबसाइट को बुकमार्क कर लें और सब्सक्राइब भी जरूर कर लें।

Agnipath Scheme Advantages & Disadvantages
Agnipath Scheme Advantages & Disadvantages

आइये जानते हैं क्यों नराज है युवा अग्निपथ योजना से Agnipath Scheme Advantages & Disadvantages

अनेक जगहों पर छात्रों को मोदी सरकार की अग्‍न‍िपथ योजना (Agnipath Scheme) बिल्कुल पसंद नहीं आई और उन्होंने विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिय। छात्र इसे जले पर नमक छिड़कना बता रहे हैं। क्युकी बीते 2 वर्षो में कोरोना महामारी का हवाला देते हुए सरकार ने सेना के भर्ती रैलियों के निलंबन और भर्ती प्रक्रिया पर रोक लगा राखी थी। इसके अलावा और जिन राज्यों में भारतीय हुयी वहां अगले चरण और अंतिम प्रक्रिया पूरी होने की आस अब पूर्ण रूप से समाप्त हो गयी है।

क्युकी मंगलवार को अग्निपथ योजना के विषय में जानकारी देने के लिए रक्षा मंत्रालय की तरफ से आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में एक सवाल के जवाब में वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल वी.आर. चौधरी ने स्पष्ट किया की अब तक दी गई परीक्षा के आधार पर कोई भर्ती नहीं होगी उनका साफ साफ कहाना था की फिल्हाल जो भी भर्तियां होगी वे अग्निपथ योजना के जरिये ही होंगी

इसका मतलब है की युवाओ द्वारा उस परीक्षा के लिए की गयी मेहनत और वक्त बेकार हुआ ही और अब इन सभी युवाओ को अग्निपथ योजना के तहत नए सिरे से सुरुवात करनी होगी। इनमे बहुत से युवा ऐसे भी होंगे जिनके लिए वो परीक्षा सेना में भर्ती होने के आखरी मौका था। क्युकी अब उनमे से ज्यादा युवा उम्र के लिहाज़ से अग्निपथ योजना के तहत भर्ती के पात्र नहीं रह पाएंगे

अग्निवीर महज 6 महीने में ट्रेंड कैसे हो पाएंगे?

डिफेंस एक्सपर्ट्स का मानना है कि आर्मी में एक बेहतर जवान को तैयार होने में 7-8 साल लग जाते हैं, ऐसे में अग्निवीर महज 6 महीने में ट्रेंड कैसे हो पाएंगे. इन दिनों बहुत ही सुपर सोफिस्टिकेटेड इक्विपमेंट आ गए हैं। ये इक्विपमेंट आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से लैस होते हैं। छह महीने की ट्रेनिंग में ये उन इक्विपमेंट को इस तरह हैंडल करना सीख लें कि जंग जीत ली जाए तो यह भूल होगी।इसके साथ ही अग्निवीर जवानों को हमेशा अपने परिवार की चिंता लगी रहेगी. वह किसी तरह अपना 3-4 साल पूरा कर निकलने की फिराक में रहेगा.

तीन-चार साल की नौकरी वाला जवान अपनी जान हथेली पर रखकर क्यों लड़ेगा? इतना ही नहीं देश के लिए एक और चुनौती बढ़ जाएगी, क्योंकि इन अग्निवीरों को आसानी से रेडिकलाइज करने का डर बना रहेगा…

डिफेंस बजट में वेतन और पेंशन पर खर्च बढ़ता जा रहा था। सरकार पर दबाव था। वह किसी तरह पेंशन को कम करना चाहती थी। दूसरा प्रेशर औसत उम्र को लेकर था। सरकार सेना में औसत आयु 26 साल से घटाकर 20-21 साल करना चाहती थी। स्‍कीम से ये दोनों मकसद हल हो रहे हैं।

Q. क्या है अग्निपथ योजना ?

Ans. यह सशस्त्र बलों के लिए एक अखिल भारतीय अल्पकालिक सेवा युवा भर्ती योजना है. अग्निवीर के रूप में जाने जाने वाले बल रेगिस्तान, पहाड़, धरती, समुद्र और हवा में काम करेंगे.

Q.अग्निपथ योजना के तहत भर्ती के आवेदन करने के लिए कौन-कौन पात्र होगा?

Ans.योजना के लिए पात्र होने की आयु सीमा 17.5 से 21 वर्ष है.

Q. क्या महिलाएं अग्निपथ योजना के तहत आवेदन कर सकती हैं?

Ans.जी हां, भविष्य में महिलाओं को भी सशस्त्र बलों में शामिल किया जाएगा.

Q. क्या होगी सेवा की अवधि ?

Ans.अग्निपथ योजना के तहत अग्निवीर को चार साल के लिए नियोजित किया जाएगा. इसके लिए उन्हें कठोर सैन्य प्रशिक्षण भी दिया जाएगा.

Q.अग्निवीरों को कितना वेतन मिलेगा?

Ans.प्रारंभिक वार्षिक पैकेज 4.76 लाख रुपये होगा, जिसे सेवा समाप्त होने तक 6.92 लाख तक बढ़ाया जा सकता है. इसके अलावा भत्ता और गैर-अंशदायी बीमा कवर भी मिलेगा.

Q.क्या अग्निवीर सशस्त्र बलों में स्थायी सेवा का विकल्प चुन सकते हैं?

Ans.सभी अग्निशामकों को चार साल के बाद, स्थायी कैडर में नामांकन के लिए स्वेच्छा से आवेदन करने का अवसर प्रदान किया जाएगा. इन आवेदनों पर सेवा के दौरान योग्यता और प्रदर्शन के आधार पर विचार किया जाएगा. जिस पर 25 प्रतिशत तक आवेदन स्वीकार किए जाएंगे.

Q. कैसे करें आवेदन 

Ans. रिक्तियों और शामिल होने की प्रक्रिया सशस्त्र बलों की संबंधित वेबसाइटों पर उपलब्ध कराई जाएगी
joinindianarmy.nic.in
  joinindiannavy.gov.in
  Careerindianairforce.cdac.in

Q.कब कर सकते हैं आवेदन ?

Ans.योजना की घोषणा 14 जून, 2022 को की गई है तो जल्द ही आवेदन भी शुरू हो जाएंगे.

Q.क्या होगी ट्रेनिंग?

Ans.अग्निशामकों के लिए प्रशिक्षण नियमित सशस्त्र बलों के कैडर के समान होगा और इसमें कठोर सैन्य अभ्यास शामिल होगा. इसके अलावा सशस्त्र बलों में उच्च पदों पर बैठे अधिकारी प्रशिक्षण मानकों को स्पष्ट रूप से परिभाषित और मॉनिटर करेंगे.

Leave a Reply