Narendra Giri Death Mystery:अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी की संदिग्‍ध हालात मौत पर बड़ा खुलासा

Top News
Narendra Giri Death Mystery
Advertisement
Narendra Giri Death Mystery

महंत नरेंद्र गिरि की मौत पर बड़ा खुलासा | Narendra Giri Death Mystery

Mahant Narendra Giri : अखाड़ा परिषद (akhara parishad) के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी (Mahant Narendra Giri Death) की संदिग्‍ध हालात में सोमवार को लाश मिली। उनका शव प्रयागराज के उनके बाघंबरी मठ में ही फांसी के फंदे से लटकता मिला है। मंहत के कमरे से 6 से 7 पेज का सुसाइड नोट भी मिला है।

प्रयागराज अखाड़ा परिषद (akhada parishad) के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी (Mahant Narendra Giri) की संदिग्ध परिस्थितियों में पंखे से लटकती लाश मिली है। बाघम्बरी पीठ के महंत नरेंद्र गिरी (mahant swami maharaj) के शव के पास 6 से 7 पन्नों का एक सुसाइड नोट भी बरामद किया है।

Mahant Narendra Giri : इस सुसाइड नोट में उन्होंने मठ की संपत्तियों को अपने किस शिष्य को क्या देना है इसका विस्तार से जिक्र किया है। महंत नरेंद्र गिरी ने अपने एक शिष्य से बेहद दु:खी होने की बात भी नोट में लिखी है। हालांकि, यह फॉरेंसिक जांच के बाद ही स्पष्ट होगा कि सुसाइड नोट असली है या किसी ने साजिशन उसे वहां रखा है।

Mahant Narendra Giri : सुसाइड नोट में उन्होंने लिखा है कि मठ और आश्रम को लेकर आगे क्या करना है। किस तरह से व्यवस्था होगी। क्या करना है। एक तरह से सुसाइड नोट में उनका वसीयतनामा है।

पुलिस के अनुसार सुसाइड नोट में यह भी लिखा है कि वह अपने एक शिष्य से दुखी थे। पुलिस ने शिष्य का नाम तो नहीं बताया लेकिन सूत्रों के अनुसार उन्होंने आनंद गिरी (anand giri maharaj) का नाम लिखा है। उन्होंने लिखा है कि मैं सम्मान के बिना नहीं रह सकता। अब समझ नहीं आ रहा कि क्या कर सकता हूं। उन्होंने बेहद मार्मिक बातें लिखी हैं। उन्होंने अपनी गद्दी किसे सौंपनी है इस बारें भी लिखा है।

जिसके बाद अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि (Mahant Narendra Giri) की संदिग्ध मौत मामले में उनके शिष्य आनंद गिरी (anand giri) को सहारनपुर पुलिस ने हरिद्वार स्थित उनके आश्रम से हिरासत में ले लिया और प्रयागराज के लिए रवाना हो गई।

साथ ही प्रयागराज में विश्व प्रसिद्ध लेटे हुए हनुमान जी के मंदिर के पुजारी आद्या तिवारी को एसओजी ने नैनी में छापामारी कर पकड़ लिया। देर रात तक उसके बेटे संदीप की तलाश में छापामारी चलती रही।

सुसाइड नोट में नरेंद्र गिरि (Mahant Narendra Giri) ने आनंद गिरि, (mahant anand giri) आद्या तिवारी और आद्या तिवारी के बेटे संदीप समेत अन्य के खिलाफ ब्लैकमेलिंग का आरोप लगाया है। इसके साथ ही उन्होंने यह भी लिखा है कि नरेंद्र गिरि ने जब से अखाड़ा परिषद की कमान संभाली, तब से उसका विकास किया। रुपयों के लेनदेन में कभी हेराफेरी नहीं की। उन पर आपत्तिजनक आरोप लगाया जा रहा है।

महंत नरेंद्र गिरि (Mahant Narendra Giri) ने सुसाइड नोट में लिखा है कि वह सम्मान से जीये। सम्मान के साथ कभी समझौता नहीं किया। मौत के बाद भी उन्हें यही सम्मान मिले। सम्मान के साथ समाधि मिले। सुसाइड नोट में उन्होंने मठ के अंदर ही समाधि स्थल बनाए जाने का जिक्र किया है।

महंत नरेंद्र गिरि के सुसाइड नोट पर उठ रहे हैं सवाल

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि (Mahant Narendra Giri)की मौत के बाद सुसाइड नोट पर भी सवाल उठ रहे हैं. अखिल भारतीय संत समिति के राष्ट्रीय महामंत्री स्वामी जितेंद्रानंद सरस्वती समेत आनंद गिरि (mahant anand giri) का कहना है कि नरेंद्र गिरि साइन तक नही कर पाते थे, तो इतना लंबा सुसाइड नोट कैसे लिख सकते हैं.

 

राष्ट्रीय महामंत्री स्वामी जितेंद्रानंद सरस्वती ने कहा है कि नरेंद्र गिरि कभी आत्महत्या नहीं कर सकते और जहां तक सुसाइड नोट की बात है तो वह अपना हस्ताक्षर ही ठीक से नहीं कर पाते थे तो आखिर इतना लंबा सुसाइड नोट कैसे लिख सकते हैं? उन्होंने यह भी कहा जो व्यक्ति सुसाइड करेगा वह 2 दिन पहले दान में एक बड़ी बिल्डिंग को स्वीकार करेगा ? ऐसे में इसके पीछे साजिश की बू आ रही है. उन्होंने प्रदेश सरकार से इसकी उच्च स्तरीय जांच की मांग की.

यह सवाल उस सुसाइड नोट पर उठ रहे है। जो नरेंद्र गिरि (Mahant Narendra Giri) के कमरे से मिला था, जिसके आधार पर आनंद गिरि समेत तीन लोगों को हिरासत में लिया गया है.

शिष्य बोला- लिख सकते थे नरेंद्र गिरि

नरेंद्र गिरि के शिष्य निर्भय द्विवेदी ने इस बात को नकारा कि नरेंद्र गिरि लिख नहीं सकते थे. उन्होंने कहा कि महाराज बड़े-बड़े अक्षरों में लिखा करते थे. , ‘लाइनें टूटी-फूटी जरूर होती थी लेकिन वह लिख लेते थे.’ निर्भय द्विवेदी ने निर्भय द्विवेदी ने यहाँ तक कहा कि शायद नरेंद्र गिरि जानते थे

कि उनकी मृत्यु के बाद सुसाइड नोट पर सवाल उठ सकते हैं, इसलिए उन्होंने कथित सुसाइड से पहले एक वीडियो भी रिकॉर्ड किया था. शिष्य के मुताबिक, वह वीडियो भी पुलिस ने जब्त किया है. वीडियो में क्या है ? इस सवाल पर शिष्य ने कहा कि उसमें वही सब बातें हो सकती हैं .जो कि सुसाइड नोट में लिखी थीं.

Leave a Reply