Almond Oil Top Health Benefits | Uses and Side Effects in Hindi

हेल्थ

Almond Oil Top Health Benefits बादाम तेल (Badam Tel)के  फायदे, उपयोग और नुकसान
Badam Tel

Almond Oil Benefits, Uses and Side Effects in Hindi

बादाम के तेल (Almond Oil) को ब्रिटिश फार्मेकोपिया में ‘ओलियम एमिग्डैली’ (Oleum amygdalae) कहते हैं। यह बादाम की गिरी से प्राप्त होता है। गिरी को कोल्हू में पेरकर, अथवा विलायकों द्वारा, तेल को अलग करते हैं। तेल की मात्रा मीठे बादाम में45% से 55% और कडुवे बादाम में 35% से 44% हो सकती है।इस ओषधिय तेल का उपयोग चेहरे की क्रीमों,इत्र, तथा बिस्कुट या अन्य मिठाइयों के बनाने में यह प्रयुक्त होता है

Advertisement

Almond Oil Benefits, Uses and Side Effects in Hindi बादाम तेल (Badam Tel) के फायदे, उपयोग और नुकसान

Almond Oil Top Health Benefits : बादाम के बारे में हम बचपन से सुनते आ रहे हैं, लेकिन जितना फायदेमंद बादाम है। बादाम तेल (Almond Oil) भी हमारे लिए उतना ही फायदेमंद होता है। दरअसल, बादाम और बादाम के तेल में एंटी-इंफ्लेमेटरी, इम्यूनिटी-बूस्टिंग सहित कई गुण मौजूद होते हैं । इसी वजह से बादाम तेल त्वचा से लेकर आंतरिक स्वास्थ्य को बनाए रखने में मददगार साबित हो सकता है।

बादाम का तेल (Almond Oil) कई पोषक तत्वों से भरपूर होता है। इसका इस्तेमाल खाने में ही नहीं, बल्कि शरीर पर लगाने के लिए भी किया जाता है। लेकिन क्या आपको पता है कि बादाम तेल कई बीमारियों से बचाव कर सकता है। जी हां, बादाम तेल के कुछ ऐसे ही उपयोग और बादाम तेल के फायदे के बारे में हम sangeetaspen.com के इस लेख में बताएंगे। साथ ही आप यहां बादाम तेल के नुकसान भी जान पाएंगे।

बादाम का तेल आपके लिए क्यों अच्छा है

बादाम तेल (Badam Tel) के फायदे Benefits of Almond Oil in Hindi

हृदय स्वास्थ्य – बादाम तेल में मौजूद मोनोअनसैचुरेटेड फैट से एलडीएल यानी खराब कोलेस्ट्रॉल कम और एचडीएल (अच्छा) कोलेस्ट्रॉल बढ़ सकता है। इससे हृदय रोग के जोखिम से बचा जा सकता है। साथ ही बादाम तेल में मौजूद मोनोअनसैचुरेटेड फैटी एसिड रक्तचाप को कम करके हृदय स्वास्थ्य के लिए कारगर साबित हो सकता है। इसी आधार पर बादाम तेल के फायदे में हृदय स्वास्थ्य को भी गिना जा सकता है।


डायबिटीज – बादाम का तेल ब्लड शुगर को कम करने में मदद कर सकता है। एक वैज्ञानिक अध्ययन के मुताबिक, जिन लोगों ने नाश्ते में बादाम के तेल को शामिल किया था, उनके ब्लड में शुगर की मात्रा अन्य लोगों के मुकाबले काफी कम पाई गई। वहीं, बादाम की तुलना में बादाम तेल का सीधा सेवन डायबिटीज के लिए ज्यादा लाभकारी पाया गया ।

वजन कम करने में सहायक – बादाम के तेल के फायदे में वजन कम करना भी शामिल है। दरअसल, एक शोध से जानकारी मिलती है कि बादाम तेल में मोनोसैचुरेटेड फैट मौजूद होता है। यह मोनोसैचुरेटेड फैट वजन को कम करने में लाभकारी माना जाता है।

एक रिसर्च पेपर से इस बात की भी जानकारी मिलती है कि रोजाना 28 ग्राम से कम बादाम का सेवन करने से वजन को बढ़ने से रोका जा सकता है । ऐसे में कहा जा सकता है कि वजन कम करने में बादाम और बादाम का तेल दोनों अहम भूमिका निभा सकते हैं।

आंखों के लिए फायदेमंद – बादाम तेल आंखों के लिए भी फायदेमंद माना जा सकता है। बादाम के तेल में मिलने वाला विटामिन-ई यानी अल्फा टोकोफेरॉल आंखों को स्वस्थ बनाने का काम कर सकता है। यह बूढ़ी होती आंखों की सेहत का ख्याल रखने के साथ ही आंखों की रोशनी को भी बढ़ा सकता है।

आंखों की सेहत के लिए बादाम के तेल का सेवन करने के साथ ही आंखों के आस-पास मसाज करना भी फायदेमंद माना जाता है। इसके अलावा, बादाम तेल का उपयोग कई आई-ड्रॉप में भी किया जाता है। बस ध्यान रहे कि बादाम तेल को सीधे आंखों में नहीं डालना चाहिए।


पाचन स्वास्थ्य – बादाम का तेल पाचन स्वास्थ्य को बढ़ाने में भी उपयोगी हो सकता है। दरअसल, बादाम तेल का सेवन आंत से संबंधित क्रिया को बेहतर करने में सहायक है। यह इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम यानी आंत से जुड़ी समस्या (कब्ज, डायरिया, पेट दर्द आदि) को दूर करने में मददगार हो सकता है। ऐसे में कहा जा सकता है कि बादाम तेल पाचन स्वास्थ्य को भी बनाए रखने में लाभकारी हो सकता है।

इसके अलावा, बादाम के तेल का इस्तेमाल बतौर इंजेक्शन भी होता है। बादाम के तेल के इंजेक्शन से बच्चों को होने वाले रेक्टल प्रोलैप्स का इलाज किया जाता है। रेक्टल प्रोलैप्स बच्चों को होने वाली पाचन तंत्र से जुड़ी एक दुर्लभ स्थिति है, जिसमें बड़ी आंत का एक हिस्सा मल द्वार (एनस) के बाहर खिसक जाता है। यह समस्या कब्ज व डायरिया की वजह से हो सकती है ।

कब्ज – बादाम का तेल इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम के लक्षण जैसे कि पेट में दर्द, कब्ज व मल से संबंधी अन्य परेशानी को दूर करने में सहायक साबित हो सकता है। सोने से पहले एक गिलास हल्के गर्म दूध में 6 से 10 ml बादाम तेल मिलाकर पी सकते हैं, जिससे मल त्याग में होने वाली परेशानी से राहत मिल सकती है ।

कान का संक्रमण और वैक्स – बादाम के तेल के फायदे में कान का मैल (Earwax) हटाना भी शामिल है। दरअसल, कान में सहने योग्य गर्म बादाम का तेल डालने से कान का मैल नरम हो जाता है, जिससे इसे निकालने में आसानी होती है। एक अध्ययन के मुताबिक, ईयर वैक्स हटाने वाले सेरमेनोलिटिक (Ceruminolytic)की तरह बादाम का तेल कान के लिए ऑटो टॉक्सिसिटी यानी जहरीलेपन का कारण नहीं है।

इस प्रकार कहा जा सकता है कि अगर कान के मैल को बादाम तेल की सहायता से निकालें, तो कान को संक्रमण से बचा सकते हैं। वहीं, बादाम के तेल से कान के सुनने की क्षमता बढ़ती है या नहीं, इसको लेकर शोध की जरूरत है।

अरोमाथेरेपी – अरोमाथेरेपी के लिए भी बादाम तेल का इस्तेमाल किया जा सकता है। एक वैज्ञानिक शोध के अनुसार, अरोमाथेरेपी में बादाम के तेल का उपयोग करने से नींद की गुणवत्ता में सुधार और थकान से निजात मिल सकती है । इसके अलावा, अरोमाथेरपी तनाव को भी कम करने में काफी हद तक लाभकारी हो सकता है । इसके लिए, बादाम तेल को सूघने और मसाज दोनों के लिए इस्तेमाल में लाया जा सकता है।

नवजात को होने वाले क्रैडल कैप में सहायक – नवजात के सिर पर जमने वाली परत को क्रैडल कैप (Cradle Cap)कहा जाता है। इससे शिशु को आराम दिलाने के लिए बादाम तेल उपयोगी हो सकता है। दरअसल, बादाम तेल में शुष्क त्वचा को ठीक करने के गुण मौजूद होते हैं ।

ऐसे में माना जाता है कि क्रैडल कैप की परेशानी को कम करने में भी बादाम तेल मदद कर सकता है। बस यह ध्यान रहे कि बादाम तेल से क्रैडल कैप में होने वाली परतदार त्वचा मुलायम हो सकती है। बादाम तेल को क्रैडल कैप का इलाज समझने की भूल न करें। क्रैडल कैप की समस्या बच्चे को एक निश्चित उम्र तक होती है। एक उम्र के बाद यह अपने आप ही ठीक हो जाती है।

दमकती त्वचा – बादाम के तेल में त्वचा को निखारने और उसको जीवंत करने की क्षमता होती है। इसमें मौजूद इमोलिएंट (Emollient) और स्केलेरोसेंट (Sclerosant) प्रभाव चेहरे की रंगत में निखार ला सकते हैं। ऐसे में दमकती त्वचा के लिए बादाम का तेल चेहरे पर लगाना फायदेमंद हो सकता है। इसके अलावा, बादाम के तेल के लाभ चोट और त्वचा पर अन्य निशानों को कम करने में भी सहायक हो सकता है ।

सूजन – बादाम ऑयल के फायदे में शरीर की सूजन को कम करना भी शामिल है। दरअसल, एक रिसर्च पेपर में इस बात का जिक्र मिलता है कि बादाम के तेल में एंटी इंफ्लामेटरी प्रभाव होता है। यह प्रभाव सूजन की समस्या को कम करने में कारगर हो सकता है । इसके आधार पर कहा जा सकता है कि शरीर की सूजन को कम करने में बादाम के तेल के लाभ भी हो सकते हैं।

सिर दर्द – सिर दर्द की समस्या बेहद आम है। इस समस्या से छुटकारा दिलाने के लिए बादाम तेल को कारगर माना जा सकता है। हम ऊपर बता ही चुके हैं कि अरोमाथेरेपी के लिए बादाम तेल का इस्तेमाल किया जाता है। इससे संबंधित एक रिसर्च पेपर के अनुसार, अरोमाथेरेपी से सिरदर्द से भी राहत मिल सकती है। खासकर, बादाम तेल की मालिश से व्यक्ति को काफी रिलेक्स महसूस होता है ।

काले घेरे – आंखों के नीचे पड़ने वाले काले घेरे को कम करने में भी बादाम तेल को सहायक माना जा सकता है। दरअसल, बादाम में स्किन लाइटनिंग गुण पाए जाते हैं (1)। इसके अलावा, यह तेल विटामिन-ई से भरपूर होता है। एक अध्ययन के मुताबिक, विटामिन-ई आंखों के नीचे पड़े काले घेरे को दूर करने में लाभदायक होता है। बादाम तेल की दो-तीन बूंदें आंखों के नीचे लगाकर हल्की मसाज करने से काले घेरों में बादाम ऑयल के फायदे हो सकते हैं।

सोरायसिस और एक्जिमा में सहायक – त्वचा के लिए बादाम तेल का इस्तेमाल लंबे समय से किया जा रहा है। प्राचीन चीनी और भारतीय आयुर्वेद उपचार में इसका इस्तेमाल सोरायसिस और एक्जिमा जैसी त्वचा संबंधी गंभीर समस्याओं के लिए किया जाता रहा है। बता दें कि सोरायसिस एक त्वचा रोग है, जिसमें त्वचा लाल और पपड़ीदार हो जाती है। इस दौरान त्वचा में दर्द, सूजन भी हो सकती है। वहीं, एक्जिमा त्वचा पर पड़ने वाले चकत्तों और लाल धब्बों को कहा जाता है।

बालों का स्वास्थ्य – बादाम तेल की मालिश के फायदे बालों को स्वस्थ बनाए रखने के लिए भी हो सकते हैं। बादाम का तेल विटामिन-ई से भरपूर होता है। ऐसे में बालों की जड़ों में बादाम तेल लगाकर मालिश करें। इससे बालों में चमक आ सकती है। सबसे अच्छी बात यह है कि बालों के लिए बादाम का तेल लाइट होता है। इसका इस्तेमाल करने से स्कैल्प के छिद्र बंद नहीं होते, जिसकी वजह से बालों के विकास में कोई रुकावट नहीं आती ।

बादाम तेल में मौजूद पोषक तत्व 

बादाम के तेल के पौष्टिक तत्व – Almond Oil Nutritional Value in Hindi

बादाम तेल को पोषक तत्वों का खजाना कहा जाए, तो गलत नहीं होगा। यह शरीर को ऊर्जा देने के साथ ही कई रोगों से निजात दिलाने का भी काम कर सकता है। खूबसूरती और सेहत के लिए इस्तेमाल होने वाले बादाम तेल में मौजूद पोषक तत्व इस प्रकार हैं

पोषक तत्व प्रति 100 ग्राम
ऊर्जा 844 kacl
कुल लिपिड (वसा) 100 g
विटामिन ई (अल्फा-टोकोफेरॉल) 39.20 mg
विटामिन के (फाइलोक्विनोन) 7.0 µg
फैटी एसिड, सैचुरेटेड 8.200 g
फैटी एसिड, मोनोअनसैचुरेटेड 69.900 g
फैटी एसिड, पॉलीअनसैचुरेटेड 17.400 g

बादाम का तेल लाभ कैसे करता है, यह समझने के लिए अब बादाम तेल के उपयोग जानिए।

बादाम तेल (Badam Tel) का उपयोग – How to Use Almond Oil in Hindi

  • बादाम के तेल का उपयोग सदियों से त्वचा को आराम पहुंचाने, मामूली घावों और चोट का इलाज करने के लिए हो रहा है। बादाम तेल का लाभ लेने के लिए लोग कई तरह से इसका इस्तेमाल करते हैं। बस ऊपर बताए गए बादाम आयल बेनिफिट्स पाने के लिए निम्न तरीके अपनाने होंगे।
  • दिनभर की थकावट दूर करने के लिए बादाम तेल की मालिश के फायदे ले सकते हैं। इसके लिए दो चम्मच बादाम के तेल से पूरे शरीर की मालिश करके आराम महसूस हो सकता है।
  • बादाम के तेल से चेहरे के लिए एक एंटी एजिंग लेप भी तैयार किया जा सकता है। इसके लिए 1 बड़ा चम्मच बादाम तेल और 1 चम्मच गुलाब जल का मिश्रण चेहरे पर लगाएं और 15 मिनट बाद गुनगुने पानी से चेहरा धो लें।
  • बादाम रोगन पीने के फायदे पाने के लिए दूध के साथ इसको मिलाकर पीने में भी इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • इसके अलावा, बादाम आयल बेनिफिट्स के लिए इसका इस्तेमाल खाना बनाने में भी कर सकते हैं
  • बादाम के तेल को सेब के सिरके के साथ मिलाकर सलाद ड्रेसिंग के लिए भी उपयोग कर सकते हैं।
  • पास्ता में भी बादाम तेल की कुछ बूंदें डालकर खा सकते हैं। इससे स्वस्थ फैट मिल सकता है।
  • अगर बादाम तेल का स्वाद पसंद है, तो इसे अन्य किसी भी डिश के ऊपर डालकर उपयोग कर सकते हैं।
  • बादाम का तेल त्वचा के लिए भी उपयोगी माना गया है। अपने चेहरे को जवां और मुलायम बनाने के लिए बादाम के तेल की मालिश चेहरे पर कर सकते हैं। इस तरह से बादाम तेल की मालिश के फायदे उठाए जा सकते हैं।
  • विटामिन-ई से भरपूर होने की वजह से बादाम तेल सेहतमंद साबित हो सकता है। बादाम का तेल मीठा और कड़वा दो किस्म का होता है। बिटर यानी कड़वे बादाम तेल का इस्तेमाल दवाई बनाने के लिए होता है ।

बादाम तेल घर में बनाने की विधि।

घर में बादाम तेल बनाने की विधि – Make Almond Oil At Home in Hindi

बादाम तेल के फायदे को देखते हुए हर कोई इसका इस्तेमाल करना पसंद करता है, लेकिन इसकी शुद्धता को लेकर लोग हमेशा असमंजस की स्थिति रहती है। ऐसे में बाजार के बादाम तेल के उपयोग से बचने के लिए कुछ आसान तरीकों से घर में ही बादाम का तेल बनाकर बादाम तेल के लाभ उठा सकते हैं।

सामग्री

दो कप बादाम
एक बड़ा चम्मच जैतून का तेल

बनाने की विधि

बादाम को एक ब्लेंडर में डालकर पीस लें।
जब बादाम आपस में चिपकने लगे तो ब्लेंडर बंद कर दें।
अब जार में चिपके हुए बादाम के टुकड़ों को चम्मच से हटाकर बीच में करें और फिर दोबारा ब्लेंडर चलाएं।
बादाम से जब हल्का-हल्का तेल निकलने लगे, तो इसमें एक बड़ा चम्मच जैतून का तेल मिला दें।
कुछ देर ब्लेंडर चलाने के बाद इस पेस्ट को एक बर्तन में निकालकर कमरे के तापमान में रख दें।
इस दौरान पेस्ट से तेल अलग हो जाएगा।
इस प्रकार आप बादाम का तेल निकाल सकते हैं।

बादाम तेल के नुकसान के बारे में जानते हैं।

बादाम तेल के नुकसान – Side Effects of Almond Oil in Hindi

  • बादाम रोगन तेल के फायदे और नुकसान दोनों ही हैं। भले ही बादाम तेल पोषक तत्वों से भरपूर होता है, लेकिन इससे होने वाले नुकसान को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है। नीचे जानिए बादाम तेल के अत्यधिक सेवन से होने वाले नुकसान
  • एक अध्ययन के मुताबिक, गर्भवती महिलाओं द्वारा बादाम तेल का अत्यधिक सेवन निर्धारित समय से पहले प्रसव का खतरा बढ़ा सकता ।
  • सीमित मात्रा में बादाम का तेल वजन घटाता है, लेकिन इसकी अधिकता से वजन बढ़ भी सकता है। दरअसल, महज 28 ग्राम बादाम में 164 कैलोरी पाई जाती है
    । जब इसका तेल बनाया जाता है, तो इसमें कैलोरी और फैट और ज्यादा बढ़ जाता है। इससे मोटापे का जोखिम हो सकता है।
  • बादाम का तेल रक्त में ग्लूकोज के स्तर को प्रभावित कर सकता है। ऐसे में मधुमेह के मरीज इसका सेवन डॉक्टरी सलाह पर ही करें ।

Leave a Reply