What is curd | Best Benefits and side effects of yogurt | Dahi khane ke fayde |what is curd, Dahi, yogurt, use

हेल्थ
Benefits of yogurt | Dahi khane ke fayde |what is yogurt,uses Benefits and side effects
Benefits of yogurt

Table of Contents

Benefits of yogurt | DAHI Khane Ke Fayde | what is curd, Dahi, yogurt, use Benefits and side effect of yogurt | दही खाने के फायदे चेहरे बालों के लिए

DAHI Khane Ke Fayde : भारतीय खानों में दही का अपना एक अलग स्थान है भारत में कोई भी खाद्य पदार्थों बिना दही के नहीं परोसा जाता है दही सबसे आम और बहुमुखी खाद्य पदार्थों में से एक है,

चाहे वह नाश्ते के रूप में, मिठाई के रूप में या किचन में, और एक स्वस्थ आहार में मुख्य है।दही के बहुत सरे फायदों के कारण ये पूरी दुनिया का पसंदीदा खाद्य पदार्थ है.

Advertisement

कहते है दूध से ज्यादा फायदेमंद दही होता है, दूध से एक समय के बाद ये शरीर में दुष्प्रभाव पड़ता है. लेकिन दही में फैट बहुत कम होता है, low फैट दूध से बने दही में तो बिल्कुल फैट नहीं होता है.दही हमारे शहरी के लिए बेहद लाभकारी इंग्रिडअंट है.स्वास्थ व सौन्दर्य दोनों के लिए दही बहुत अच्छा है.

आयुर्वेद के अनुसार गाय के दूध से बना दही बलवर्धक, शीतल, पौष्टिक, पाचक और कफनाशक होता है. भैंस के दूध से बना दही रक्त, पित्त, बल-वीर्यवर्धक, स्निग्ध, कफकारक और भारी होता है. मख्खन निकाला हुआ दही शीतल, हल्का, भूख बढानेवाला, वातकारक और दस्त रोकने वाला होता है.

हालांकि, सभी लोकप्रिय दैनिक खाद्य पदार्थों के साथ, इसके पोषण संबंधी लाभ पूरी तरह से ज्ञात नहीं हैं, यही कारण है की दही को लेकर चारों ओर मिथक उत्पन्न होते हैं दही एक दुग्ध-उत्पाद है जिसका निर्माण दूध के जीवाणुज किण्वन द्वारा होता है।

हमारे देश के अलावा इसे विदेश में भी लोग दिन के समय अपने खाने में जरुर लेते है.डॉक्टर और सभी डाईटीशियन लंच में 1 कटोरी दही खाने की सलाह देते है दूध में फैट व चिकनाई अधिक होता है

लैक्टोज का किण्वन लैक्टिक अम्ल बनाता है, जो दूध प्रोटीन से प्रतिक्रिया कर इसे दही मे बदल देता है साथ ही इसे इसकी खास बनावट और विशेष खट्टा स्वाद भी प्रदान करता है। खाने में दही का प्रयोग पिछले लगभग 4500 साल से किया जा रहा है। आज इसका सेवन दुनिया भर में किया जाता है।

जिससे एक समय के बाद ये शरीर में दुष्प्रभाव पड़ता है. लेकिन दही में फैट बहुत कम होता है, low फैट दूध से बने दही में तो बिल्कुल फैट नहीं होता है.दही हमारे शहरी के लिए बेहद लाभकारी इंग्रिडअंट है.यह एक स्वास्थ्यप्रद पोषक आहार है। यह प्रोटीन, कैल्शियम, राइबोफ्लेविन, विटामिन B6 और विटामिन B12 जैसे पोषक तत्वों से समृद्ध होता है।

दूध से दही कैसे बनता है

दूध से दही बनाने के लिए दूध को 72 से 75 डिग्री सेंटीग्रेड तापमान पर गर्म करके उसे 21 डिग्री सेंटीग्रेड (room temperature) ताप तक ठंडा करके उसमें 1 से 2% जामन (एक दो चम्मच दही) मिलाकर 8 से 10 घंटे बाद बना उत्पादक दही कहलाता है। लेकिन गर्मी के मौसम में दही 6 से 8 घंटे में जम जाता है।

आप दही को अपने अनुसार खट्टा दही, मीठा दही, गाड़ा दहि, पतला दही जिस रूप में चाहे अपने अनुसार बना सकते हैं।

दही (योगहर्ट या योगर्ट) - विकिपीडिया

खट्टा दही (sour curds)

अगर आप खट्टा दही पसंद करते हैं तो इसके लिए जवाबदेही जमाते हैं उस समय इस में अधिक मात्रा में जाम अंडा ले जा मन यानी कि जो दही को जमाने के लिए पोषण डालते हैं उसे ज्यादा मात्रा में डालें और जब आपको लगे कि दही जम चुका है तो ऐसे दो चार घंटे बाहर ही रहने दें उसके बाद फ्रिज में रखें

और जब आप खाने के लिए दही का यूज करें उससे एक या 2 घंटे पहले इस रिश्ते से बाहर निकालने जिससे आपको खट्टा नहीं मिलेगा उपयोग में लेने के बाद बचे हुए दही को आप वापस फ्रिज में रख दे अगर आप बाहर रखेंगे फिर खाने योग्य नहीं होगा और खट्टे दही से आप करी, दाल – ढोलकी आदि में यूज कर सकते

मीठी दही (sweet curds)

अगर आप मीठी दही खाना पसंद करते हैं तो आप दही को मुलायम होने तक का फैट ले उसके बाद इसमें चीनी पीसकर ऐड करे या चीनी को दरदरा होने के बाद मिलाये और उसके बाद दही को फ्रिज में रखें और अपने अनुसार यूज करें

गाढ़ा दही (thick curds)

दही हमारे खाने में डेली यूज़ किया जाता है खासतौर से गर्मियों के सीजन में तो दही का उपयोग और अधिक मात्रा में किया ही जाता है। और गाढ़ा दही खाना सभी पसंद करते हैं दही को गाढ़ा बनाने के लिए भैंस के दूध का उपयोग करना चाहिए।

स्वादिष्ट दही गाय के दूध से भी बनता है परंतु भैंस के दूध जितना गाढ़ा नहीं होता गाय के दूध से बना हुआ दही जेली के समान होता है गाढ़ा दही का उपयोग रायता या लस्सी बनाने के लिए किया जाता है इसका स्वाद भी पतले दही की अपेक्षा बहुत अच्छा होता है

फेंटा हुआ दही (whisked curds)

दही को फेंकने से उसमें हवा भरने के कारण दही की मात्रा बढ़ जाती है आप अपने उपयोग के लिए जितना दही चाहते उतना दही निकालने और उसको फैट ले फैटने के बाद सुषमा ने ऐड करें और अपने उपयोग में ले

दही के साथ मिलाकर खा ले इन 4 चीजों में से कुछ भी, होंगे बड़े-बड़े फायदे |  NewsTrack Hindi 1

हम दही का चुनाव किस प्रकार से कर सकते हैं – suggestion How can we choose curd,dahi yogurt,yoghurt

  • अगर आप दही मार्केट से ले रहे हैं तो पैकेट पर डाली हुई डेट का ध्यान दें पैकेट में दी गई हुई डेट तक दही का उपयोग कर सकते हैं
  • दही उपयोग में लेने के बाद बचे हुए दही को अच्छे से पैक कर फ्रिज में रखे चाहे दही आपका पैकेट में हो या फिर किसी बर्तन में अच्छे से पैक कर कर ही रखें
  • अगर आप दही घर पर तैयार कर रहे हैं तो आप रात को दही बनाने के लिए रखे और सुबह यूज़ करें सुबह बनाने के लिए रखे शाम यूज करें यानी कि आप दही का यूज बनने के 1 से 2 दिन के अंदर कर सकते हैं इससे आपको ताजा नहीं मिलेगा

कौन कौन से जानवरो के दूध से दही बनता है ।

ऊंट, बकरी, भैस और गाय के साथ साथ बाकी सभी दूध देने वालेजानवरो के दूध से दही बनाकर उपयोग में लाया जाता है। आजकल सोयाबीन और नारियल के दूध का दही कुछ रोगियो के लिये उपयोग करते है।

(use of yogurt in the kitchen
                                    or
Uses of curd, dahi, yogurt, yoghurt in Indian cooking रसोई में दही का उपयोग)

  • आप दही का उपयोग दही  चक्का, पनीर, छास, मठ्ठा, कढी इस रूप में, और साथ साथ रायता, दहीवडा, श्रीखंड आदि के जरीये हमारे भोजन में शामिल है।
  • आप दही को खाने के लिए उसमें कुछ ताजे फलों को काटकर भी उपयोग में ले सकते हैं इससे आपके दिन की शुरुआत भी अच्छी होगी और यह आपका एक हेल्दी ब्रेकफास्ट भी बन जाएगा
  • दही में कुछ ऐसे रासायनिक पदार्थ होते हैं, जिसके कारण यह दूध की अपेक्षा जल्दी पच (डाइजेस्ट हो जाता है) जाता है। जिन लोगों को पेट की परेशानियां जैसे- अपच, कब्ज, गैस जैसी बीमारियाँ घेरे रहती हैं, उनके लिए दही या उससे बनी लस्सी, मट्ठा, छाछ का उपयोग करने से आंतों की समस्या दूर हो जाती है। डाइजेशन अच्छी तरह से होने लगता है और भूख खुलकर लगती है।
  • जीरे के साथ दही अगर आपका वजन बढ़ गया है और आप उसे कम करना चाहते हैं तो दही में जीरा को मिलाकर खाएं
  • शहद के साथ दही अगर आपको मुंह में छाले हो जाते हैं तो आप दही में एक चम्मच शहद मिलाकर खाएं
  • दही में चीनी मिलाकर खाने से खून की कमी दूर होती है।
  • दही का सेवन चावल, पराठे, रायता और छाछ बनाकर भी सेवन कर सकते हैं

100 ग्राम दही में पौष्टिक तत्व

100 ग्राम दही में पौष्टिक तत्व
पानी (Water)
89%
प्रोटीन (Protien)3%
वसा (Fat)4%
खनिज (Minerals)1%
कार्बोहायड्रेड् (Carbo Hydrades)3%
कॅल्शियम (Calcium)149 मिली
लोह (Iron)0.2 मिली
विटामिन ए  (VitaminA)102 युनिट
विटामिन बी (Vitamin B)अल्प मात्रा में
विटामिन सी (Vitamin C)1 मिली
कॅलरोफिक60 मूल्य

 

Benefits of yogurt | Dahi khane ke fayde |what is yogurt,uses Benefits and side effects
Benefits of yogurt | Dahi khane ke fayde |what is yogurt,uses Benefits and side effects

रोज दही खाने के क्या-क्‍या फायदे हैं

दही के फायदे एवं गुण – Best Benefits Eating Curd Everyday. Dahi or Curd or Yogurt Benefits

भारत में किसी काम की शुरुआत से पहले मीठी दही खाना शुभ माना जाता है. दही का सेवन कई तरीकों से किया जाता है.दही में कई पोषक तत्व होते हैं, जो आपको स्वस्थ रखते हैं. इसके सेवन से पेट के साथ-साथ कई अन्य बीमारियां भी दूर होती हैं. आइए जानें दही खाने के क्या-क्‍या फायदे हैं.

दही आपके दांतों और हड्डियों को मजबूत बनाता है

दही में फॉस्फोरस और कैल्शियम की मात्रा भरपूर होती है. इससे आपके दांत और हड्डियां मजबूत बनती हैं. गठिया होने से भी रोकता है. इसलिए कोशिश करें कि आप हर दिन दही का सेवन करें. इससे आपके दांत और हड्डियां मजबूत रहेंगी.


दही इम्यूनिटी बढ़ाता है

दही सबसे अच्छे प्रोबायोटिक फूड्स में से एक है. इसमें मौजूद microorganism हमारे शरीर के लिए फायदेमंद होते हैं. दही एक एंटीऑक्सीडेंट की तरह काम करता है. ये हमारी इम्यूनिटी बढ़ाता है.दही खाने से शरीर में फूर्ती आती है व बहुत से रोग दूर रहते है

डाइजेशन सही करता है दही

दही में लैक्टोज होता है. इससे आपकी पाचन शक्ति बढ़ती है. ऐसे में जिन लोगों का डाइजेशन सिस्टम कमजोर होता है, उनके लिए ये बेहद फायदेमंद है क्योंकि दही को पचाना काफी आसान होता है.

हृदय के लिए अच्छा होता है दही

हर रोज दही का सेवन करने से कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम होता है. इससे ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहता है और हाइपरटेंशन का रिस्क भी कम होता है. ये आपके कोलेस्ट्रॉल के स्तर संतुलित रखता है. इससे आपका हृदय स्वस्थ रहता है.

दही वजन कम करने में मदद करता है

दही में कैल्शियम, विटामिन बी-2, बी-12, पोटैशियम और मैग्नीशियम होता है. ये आपकी सेहत के लिए बेहद लाभकारी है. दही में कैल्शियम भरपूर होता है जो कोर्टिसोल को कम करता है और वजन कम करने में मदद करता है. दही के सेवन के बाद आप लंबे समय तक भरा हुआ महसूस करते हैं. जिससे भूख कम लगती है ये कैलोरी की मात्रा को कम करके पेट को पतला रखने में भी मदद करता है.

दही अच्छे बालों और त्वचा के लिए दही का इस्तेमाल

दही का इस्तेमाल home remedy की तरह बालों और त्वचा को साफ करने के लिए भी होता है. इसके लिए आपको दही, बेसन और नींबू का पेस्ट बनाना होगा. इसे आप अपने चेहरे पर 15 मिनट तक लगा रहने दें. इसके बाद साफ पानी से चेहरा धो लें. दही ब्लीच का काम करता है, जिससे आपका चेहरा निखर जाता है. दही का इस्तेमाल आप चमकदार बालों के लिए भी कर सकते हैं. इसके लिए आप दही बालों में लगाने के बाद आधे घंटे तक छोड़ दें. इसके बाद पानी से धो लें.

दही स्किन के लिए –

  • दही से चेहरे में ग्लो आता है, टैनिंग व चेहरे की गन्दगी इससे दूर होती है| इससे कील मुहांसे, दाग धब्बे भी दूर होते है.
  • दही में बेसन, नीम्बू का रस मिलाकर चेहरे व गार्डन में 15 min तक लगायें| हफ्ते में 2 बार ऐसा करने से चेहरा साफ हो जायेगा.
  • 1 चम्मच ताजा दही रो ज नहाने से पहले चेहरे पर लगायें| रूखापन व टैनिंग दूर होगी.
    संतरे के छिलके का पाउडर व दही मिलाकर चहरे पर लगायें|
    हल्दी, दही व गुलाब जल मिलाकर चेहरे पर 10 min तक लगायें

दही बालों के लिए –

  • दही बालो के लिए नेचुरल कंडीशनर की तरह है, जो बालों को moisture देता है
  • ताजे दही को 30 min तक बालों में लगायें फिर पानी से धो लें, इसे आप मेहँदी व अंडे के साथ मिलाकर भी लगा सकते है. इससे बाल हेल्थी, लम्बे, काले होते है.
  • दही में बेसन व काली मिर्च पाउडर मिलाकर हफ्ते में 2 बार लगाने से बाल झड़ना भी कम होता है व रुसी भी ख़त्म हो जाती है.
  • मैथी पाउडर को दही में मिलाकर लगाने से बाल शाइन करते है .

दही अन्य फायदे –

  • गर्मी के दिनों में रोज दही का सेवन जरुर करना चाहिए| .इससे आप लू, गर्मी से बचे रहते है. इससे पेट की गर्मी शांत होती है .यह भी पढ़े :  गर्मी से बचने के घरेलु उपाय
  • छाछ से कुल्ला करने से मुहं के छाले ख़त्म होते है.

दही से जुडी अन्य बातें –

  • दही रात में खाने से स्वास्थ पर बुरा असर पड़ता है.
  • रात को अगर दही खा रहे है तो उसमें नमक, काली मिर्च या शक्कर मिलाकर खाएं| व सोने से पहले ब्रश करें.
  • ठण्ड में दही खाने से दुष्प्रभाव होता है.
  • खली पेट दही नहीं खाना चाइये.
  • धुप से तुरंत आकर दही नहीं खाना चाहिए.
  • दही को कभी गरम नहीं करना चाइये.
  • दही को बीफ के साथ नहीं खाना चाइये, ये दोनों अलग तरह के खाद्य है जिन्हें साथ में नहीं खाया जाता.
  • बवासीर के मरीज को दही से परहेज करना चाहिए
  • रोज दही वजन बढ़ा भी सकता है इसलिए वजन कम करने वालों को इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए की दही low फैट दूध से बना हो.
Benefits of yogurt | Dahi khane ke fayde |what is yogurt,uses Benefits and side effects
Dahi khane ke fayde |what is yogurt,uses Benefits and side effects

नोट – एक ख़ास बात ये की भारतीय नस्ल की गाय के दूध से प्राप्त सभी खाद्य पदार्थ पौष्टिक एवं रोग मुक्त होते है

सभी दूध देनेवाले जानवरो में‘भारतीय नस्ल की गाय’ दूध, दही के लिये स्वास्थ्य के तौर पर सर्वश्रेष्ठ है। विदेशी नस्ल की और संकरीत गाय सिर्फ A1 प्रोटीन युक्त दूध देती है। इस A1 प्रोटीन से मधुमेह, कैंसर, दिल की बिमारी और मानसिक तनाव, उदासीनता जैसी बिमारीया बढती है, यह बात सिद्ध हो चुकी है।

सिर्फ भारतीय नस्ल की गाय ही ए-2 प्रोटीन युक्त दूध देती है, जिससे इन बिमारियो का प्रतिरोध होता है। इन गायों का आहार प्राकृतिक होने की वजह से इनके दूध से रोग प्रतिरोधक शक्ति बढती है, ऊर्जा और शक्ति प्राप्त होती है। इसीलिये आयुर्वेदिक चिकित्सा में इस दूध (ए-2) के साथ काफी औषधीय ली जाती है।

ए-2 दूध का घी भी औषधी गुणों से परिपूर्ण है।भारतीय नस्ल की गाय के गोमुत्र एवं गोबर में भी रोग प्रतिरोधक शक्ति प्रचुर मात्रा में है।इसलिए इन गायों (भारतीय नस्ल की गायो) का पंच गव्य (दूध, दही, घी, गोबर और मुत्र) अपनी दैनिक गतिविधियो के लिये और कृषि के लिये बहुत ही उपयुक्त A1 और A2 मिल्क के बारे में विस्तार से जानने के लिए दिए गए लिंक पर क्लिक करे

यह भी पढ़े : A1 और A2 दूध में अंत

दही के नुकसान

अर्थराइटिस की हो सकती है समस्या

अर्थराइटिस की समस्या वाले लोगों के लिए जहर के समान होता है दही का सेवन। क्योंकि इन लोगों को दही खाने से जोड़ो में दर्द की समस्या और ज्यादा बढ़ जाती है। जिसके कारण कई दिक्कते होने का खतरा रहता है। इसलिए अगर इन्हें दही का सेवन करना है तो इन्हें डॉक्टर की सलाह पर करना चाहिए।

डायबिटिज मरीज ना करें दही का सेवन

अगर आप डायबिटिज के मरीज हैं तो आपको सावधान रहना बहुत जरूरी है क्योंकि अगर आप दही का सेवन अधिक मात्रा में कर रहे हैं तो इससे आपकी तबीयत बिगड़ सकती है जिसके कारण आपको परेशानी हो सकती है, हो सकता है की आपकी डायबिटिज बढ़ जाए। इसलिए सावधानी से आप दही का सेवन करें।

यह भी पढ़े : sugarcane juice : जानिए मधुमेह के रोगी और मोटे लोग पी सकते हैं या नहीं गन्ने का जूस

गले में हो सकते हैं टॉन्सिल्स

सर्दी हो या गर्मी दही का अधिक सेवन आपके गले के लिए हानिकारक हो सकता है क्योंकि इससे आपके गले की मांसपेशियों में सूजन आ सकती है जिसके कारण आपको गले में टॉन्सिल्स हो सकते हैं तो सेवन करें लेकिन कम मात्रा में।

ज्यादा खट्टा दही ना खाएं

ज्यादा खट्टा दही आपके लिए काफी नुकसानदायक हो सकता है क्योंकि इसके सेवन से आपको सीने में जलन और गैस की दिक्कत हो सकती है, इसलिए ज्यादा दिन के रखे हुए दही का सेवन कम मात्रा में या बिल्कुल भी ना करें।

दही कब खाना चाहिए

दही का सेवन आपको सुबह या फिर दोपहर के समय करना चाहिए क्योंकि इस समय दही आपको फायदा पहुंचाता है। इसमे जो भी प्रोटीन, जिंक, कैल्शियम आदि होता है वो आपकी बॉडी को अच्छे तरीके से प्राप्त होता है।

जिसके कारण आपको किसी तरह की कोई दिक्कत नहीं होती है। इसलिए हमारे बड़े भी कहते हैं कि दही का सेवन अगर आप दिन के समय करेगें तो आपको गले की दिक्कत या फिर अर्थराइटिस जैसे परेशानी नहीं होगी। साथ ही ये आपको ठंड़ा भी रखेगा

Benefits of yogurt | Dahi khane ke fayde |what is yogurt,uses Benefits and side effects
what is yogurt,uses Benefits and side effects

दही को खाते समय उससे जुड़ी सभी बातें ध्यान रखें. इसे एक सिमित मात्रा में ही खाएं, दही कि अत्यधिक मात्रा स्वास्थ के लिए हानिकारक है. दही हमेशा ताजा हो ये हमेशा ध्यान रखें.

FAQ

Q : दही को जमाने का सही तरीका क्या है ?

Ans : दही को जमाने के लिए आपको दूध को हल्का गर्म करना होगा उसमें थोड़ा सा दही डालना होगा और उसे रातभर रखना होगा दही जम जाएगा।

Leave a Reply