Bottle Gourd : लौकी खाने के फायदे और नुकसान

हेल्थ
Bottle Gourd Juice(Lauki) Benefits and Side Effects in Hindi
Bottle Gourd Juice(Lauki) Benefits and Side Effects in Hindi

लौकी का परिचय – Introduction of Lauki

Bottle Gourd : अक्सर लोग सब्जी के रुप में ही लौकी खाना पसंद करते हैं लेकिन क्या आपको पता है कि लौकी के अनगिनत औषधीय फायदे भी है जिसके कारण आयुर्वेद में लौकी को उपचार के रुप में इस्तेमाल किया जाता है। आपको बता दें कि ब्लड प्रेशर को कंट्रोल में रखने से लेकर डायबिटीज और किडनी की बीमारियों के खतरे को कम करने में भी लौकी फायदेमंद है.

Advertisement

यह भी पढ़ें : गर्मी से बचने के घरेलु उपाय

कहते हैं कि लौकी का जूस (Bottle Gourd) पीने से फैटी लिवर की समस्या भी कम होती है. हालांकि, किसी भी चीज का ज्यादा इस्तेमाल हानिकारक साबित हो सकता है. कई बार लोग कुछ चीजों को शरीर के लिए अच्छा मानकार उसका अत्याधिक सेवन करने लगते हैं जो कि बिल्कुल सही नहीं है. आइए आपको बताते हैं कि लौकी के जूस का अधिक मात्रा में सेवन करने से आपको क्या नुकसान हो सकते हैंआगे जानते हैं कि लौकी कैसे और किन-किन बीमारियों के लिए उपयोग में लाई जाती है।


लौकी क्या होती है? – What is Lauki in Hindi?

  • शास्त्र में इसकी दो प्रजातियों (एक मधुर तथा दूसरी कड़वी) का उल्लेख मिलता है। मधुर प्रजाति को संस्कृत में अलाबु और तुम्बी तथा तिक्त प्रजाति को इक्ष्वाकु, कटुतुम्बी और महाफला के नाम से जाना जाता है। इसकी मधुर प्रजाति का प्रयोग मुख्यत शाक के रूप में किया जाता है
  • जबकि कड़वी प्रजाति का प्रयोग औषधि के रूप में किया जाता है। आधुनिक वानस्पतिक शात्र के अनुसार यह केवल एक ही पौधा (Lagenaria siceraria (Molina) Standl.) होता है, वस्तुत अन्तर केवल स्वाद भेद से है। इसकी कड़वी प्रजाति का प्रयोग केवल चिकित्सकीय परामर्श से करना चाहिए।
  • लौकी (मीठी लौकी) प्रकृति से मधुर, ठंडे तासीर की, गुरु, रूखी, कफ और पित्त को दूर करने वाली तथा वातकारक होती है।
  • इसका तना मधुर, शीत प्रकृति का होता है। यह कब्ज, वात और कफ दूर करने वाला तथा पित्तशामक होता है।
  • इसका साग कृमिनाशक होता है।
  • कड़वी लौकी (Bottle Gourd) की जड़ पेट साफ करने में फायदेमंद तथा सूजन कम करने में सहायक होती है। बीज का तेल जन्तुघ्न क्रिया को प्रदर्शित करता है।

Bottle Gourd : लौकी (Gourd) एक ऐसी सब्जी है जिसका सबसे अधिक सेवन गर्मियों (Summer)में किया जाता है क्योंकि लौकी शरीर को ठंडा रखने में मदद करती है.लौकी में लगभग 12 प्रतिशत तक पानी होता है और बाकी फाइबर होता है. गर्मियों में शरीर को ठंडा रखना बहुत ही जरूरी होता है ताकि बीमारियों से दूर रहा जा सके. लौकी को घीया के नाम से भी जाना जाता है.लौकी आपके शरीर में विटामिन बी, विटामिन सी, आयरन और सोडियम की कमी को पूरा करने में मदद करती है.

इतना ही नहीं लौकी के जूस (Bottle Gourd) में आयरन की मात्रा भरपूर पाई जाती है. जिन लोगों में हीमोग्लोबिन की कमी है उन्हें अपनी डाइट में लौकी के जूस को शामिल करना चाहिए. लौकी ऐसी ही एक हैरतअंगेज सब्जी है. उसका जूस अप्रत्याशित रूप से आपका स्वास्थ्य बदल सकता है और तीन महीने के समय में सुधार सकता है.

लौकी जूस (Bottle Gourd) पीने के अनगिनत स्वास्थ्य फायदे हैं. उसका शरीर पर प्रभाव ठंडा होता है, ये आपके ब्लड प्रेशर को काबू में रखता है. ये भूरे बाल और झुर्रियों से छुटकारा दिलाने में मदद कर सकता है लेकिन लौकी के इतने फायदे होने के बावजूद लौकी के जूस के कुछ नुकसान भी हैं. तो चलिए हम आपको बताते हैं लौकी के जूस से होने वाले फायदे और नुकसानों के बारे में.

लौकी के फायदे -Gourd Juice(Lauki) Benefits in Hindi

पेट की बीमारी (Stomach Problems) यानि एसिडिटी या अपच और डायरिया का इलाज भी करता है. फाइबर तत्व और 98 फीसद पानी होने के कारण, ये आपके पाचन तंत्र को साफ करता है और मल त्याग को आसान बनाने में मदद करता है .लौकी में मौजूद फाइबर, एंटी-ऑक्सीडेंट्स, विटामिन ए, विटामिन सी, कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम , जिंक, पोटैशियम और प्रोटीन शरीर को हेल्दी बनाए रखते हैं.

वजन कंट्रोल – लौकी के जूस (Bottle Gourd) में कैलोरी और फैट बहुत कम होता है। इसलिए ये वजन घटाने में कारगर है। सुबह के समय एक गिलास लौकी का जूस पीने से आपको सेहतमंद रहने में मदद मिलेगी।

दिल की सेहत को बढ़ाता है- 90 दिनों तक खाली पेट लौकी जूस पीने से आपका कोलेस्ट्रोल लेवल कम हो सकता है. इस सब्जी में ज्यादा घुलनशील डाइटरी फाइबर होता है, जो आपके ब्लड प्रेशर को काबू में भी रखेगा.

हेल्दी हॉर्ट के लिए – लौकी के जूस (Bottle Gourd) को दिल की सेहत के लिए काफी अच्छा माना जाता है। लौकी का जूस नियमित पीने से ब्लड प्रेशर रेगुलेट होता है, जिससे दिल से जुड़ी समस्‍याओं के खतरे को कम किया जा सकता है।

वजन कम करने में मददगार- लौकी जूस (Bottle Gourd) कैलोरी और फैट्स में कम होता है, जो उसे वजन कम करने के लिए प्रभावी ड्रिंक बनाता है. उसके अलावा, ये फाइबर में अधिक होता है जो देर तक आपको संतुष्ट रखता है, इस तरह भूख लगने से आपको रोकता है. उसमें जरूरी विटामिन्स और मिनरल्स जैसे विटामिन सी, विटामिन बी, विटामिन के, विटामिन ए, आयरन, पोटैशियम और मैग्नीज भी होते हैं.

बॉडी हीट दूर रखे – बॉडी हीट की वजह से सिरदर्द या अपच की समस्या हो सकती है। लौकी के जूस में अदरक मिलाकर पीने से शरीर की गर्मी को कम किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें : Diabetes manage tips : यह कुछ नटस मधुमेह के लिए अच्छे माने जाते है

तनाव और डिप्रेशन को करे दूर- लौकी में चोलिन की अधिक मात्रा होती है- ये एक न्यूरोट्रांसमिटर है जो दिमाग के सेल्स को उचित काम में मदद करता है, इस तरह दिमागी बीमारी को रोकता है.

बॉडी डिटॉक्स – खाली पेट एक ग्लास लौकी का जूस पीते हैं तो आपके शरीर में ताजगी और एनर्जी बनी रहती है। इस जूस में 98% पानी और एंटी ऑक्सिडेंट्स होते है जो शरीर से टॉक्सिन्स बाहर निकालते हैं। इसे पीने से आपके शरीर में ठंडक बनी रहती है।

Bottle Gourd Juice
Bottle Gourd Juice

लौकी का जूस घर पर कैसे बनाएं

2 मध्यम आकार की लौकी लें, छिलका उतार लें, बीज निकाल लें और काट लें. एक चम्मच जीरा, 15-20 पुदीने की पत्तियां, 2-3 चम्मच नींबू का जूस, स्वाद के बराबर नमक तैयार रखें. ब्लेंडर में लौकी, अदरक, पुदीने की पत्तियां और जीरा को पीसें. आगे, एक प्याला पानी मिलाएं और 3-4 मिनट के लिए मिश्रण करें. अब, नींबू का रस और नमक को अच्छी तरह मिलाएं. जूस को छान कर रोजाना सुबह पीएं. सुबह में सबसे पहले उसे पीने से पूरे दिन के लिए आपको सेट कर सकता है.

लौकी का हलवा कैसे बनाया जाता है

लौकी का हलवा (lauki halwa) बनाने की विधि-
लौकी का हलवा बनाने के लिए सामग्री-
1 किलो लौकी (दूधी कद्दूकस की हुई)
100 ग्राम ताजा मावा
2 बड़े चम्मच घी
150 ग्राम शक्कर
पाव चम्मच इलायची पाउडर
2-3 केसर के लच्छे

लौकी का हलवा बनाने की विधि

लौकी का हलवा बनाने के लिए सबसे पहले एक कड़ाही में घी गरम करके कद्दूकस की हुई लौकी डालकर उसे हल्का भूनकर अलग रख लें। अब कड़ाही में थोड़ा-सा पानी डालें, फिर चीनी डालें। जब शक्कर पूरी तरह घुल जाए, तब इसमें भूनी हुई लौकी डालकर चलाएं।जब शक्कर का पानी पूरी तरह खत्म हो जाए और चाशनी जैसा गाढ़ा दिखाई देने लगे तब इसमें मावा डालकर हिलाएं। फिर इलायची पाउडर डालें और अच्छी तरह चलाकर 2-3 मिनट तक चलाएं। अब केसर को हाथ से मसलकर ऊपर से बुरकाएं। आपका लौकी का हलवा बनकर तैयार है।

Bottle Gourd Juice Side Effects : लौकी के जूस के अधिक सेवन से पाचन तंत्र (Digestive System) खराब हो सकता है. इससे लूज मौशन और उल्टी (Vomiting) जैसी दिक्कतें हो सकती हैं.

लौकी का जूस पीने के साइड इफेक्ट्स – Bottle Gourd Juice Side Effects

  • कई बार लौकी को कृत्रिम विकास प्रदान करने के लिए लोग इसमें इंजेक्शन लगाते हैं. इन लौकियों के जूस को पीना शरीर के लिए हानिकारक साबित हो सकता है. इसके अलावा, कच्चे लौकी के जूस को पीने से पेट की समस्याएं कम होने की बजाय बढ़ सकती हैं.

यह भी पढ़ें : Beetroot benefits : चुकन्दर के फायदे और नुकसान

  • लौकी के जूस के अधिक सेवन से पाचन तंत्र खराब हो सकता है. इससे लूज मौशन और उल्टी जैसी दिक्कतें हो सकती हैं. इतना ही नहीं अगर जूस बनाते वक्त इसकी साफ-सफाई को अनदेखा किया गया हो तो इससे कई बार बैक्टीरियल इंफेक्शन भी हो सकता है.

यह भी पढ़ें :सर्दियों के मौसम में बच्चों को खिलाएं ड्राई फ्रूट और ये सब्जियां

  • कहते हैं जो लोग डायबिटीज और हाई ब्लड प्रशेर जैसी बीमारियों से ग्रस्त हैं उन्हें सीमित मात्रा में ही लौकी के जूस का सेवन करना चाहिए. अगर इस जूस को जरूरत से ज्यादा पिएंगे तो इससे शुगर और बीपी का स्तर असामान्य रूप से घट सकता है. इस गिरावट के कारण चक्कर आने, बेहोशी, आंखों के सामने अंधेरा छा जाने जैसी परेशानी भी हो सकती है.

यह भी पढ़े : Spinach benefits and side effects : पालक के फायदे व नुकसान

  • लौकी का जूस बहुत कड़वा होता है, ऐसे में इसे पीने से कई लोगों को एलर्जी भी हो जाती है. इसे पीने के बाद कई लोगों के चेहरे या हाथ-पैर में सूजन और फेस पर दाने निकल जाते हैं. इसके अलावा, रैशेज और खुजली जैसी परेशानी भी हो सकती है.

इसे भी पढ़ेंः

लौकी के कड़वेपन को करें दूर

जो लोग लौकी के जूस (Bottle Gourd) का सेवन करते हैं उन्हें इस बात का ख्याल रखना चाहिए कि जूस बिल्कुल कड़वा न हो. इसकी कड़वापन पेट में गैस जैसी दिक्कत पैदा कर सकता है. ऐसे में इसे हटाने के लिए आप जूस में काला नमक, काली मिर्च पाउडर, नींबू, पिसा हुआ जीरा और पुदीना के कुछ पत्तों को डालकर पी सकते हैं. लौकी का जूस सुबह खाली पेट पीना चाहिए. साथ ही, दिन भर में एक गिलास से अधिक इसका सेवन बिल्कुल न करें.

Q : लौकी का जूस कब पीना चाहिए
Ans : लौकी का जूस सुबह खाली पेट पीना चाहिए. साथ ही, दिन भर में एक गिलास से अधिक इसका सेवन बिल्कुल न करें

Q : लौकी का जूस कब और किसे नहीं पीना चाहिए?
Ans : लौकी का जूस रात में नहीं पीना चाहिए . जिन लोगों का शुगर लेवल लो रहता है उन्हें लौकी के जूस का सेवन कम करना चाहिए। जरूरत से ज्यादा इस जूस को पीना शरीर में शुगर की मात्रा को कम कर सकता है। जिसके कारण चक्कर आना और आंखों के सामने अंधेरा होने की परेशानियां हो सकती हैं। कई लोगों को लौकी का जूस पीने से एलर्जी हो सकती है।

Q : क्या लौकी का जूस?
Ans : लौकी में भरपूर पानी के साथ फाइबर व विटामिन बी होता है। इसके सेवन से शरीर को मेटाबॉलिक मिलता है लौकी के सेवन से भूख बढ़ता है उससे भूख नियंत्रित भी होता है।

Q : लौकी का जूस कब और कैसे पीना चाहिए?
Ans : खाली पेट एक ग्लास लौकी का जूस पीते हैं तो आपके शरीर में ताजगी और एनर्जी बनी रहती है। इस जूस में 98% पानी और एंटी ऑक्सिडेंट्स होते है जो शरीर से टॉक्सिन्स बाहर निकालते हैं। इसे पीने से आपके शरीर में ठंडक बनी रहती है।

Q : लौकी में कितनी कैलोरी होती है?
Ans : लौकी में 96 प्रतिशत पानी और 12 कैलोरी होती है।

Q : लौकी के जूस में कितनी कैलोरी होती है?
Ans : एक कप उबली हुई लौकी में सिर्फ 19 कैलोरी और 2 ग्राम फाइबर होता है। लेकिन एक कप लौकी का जूस तैयार करने में ढेरों लौकी का यूज होता है, जिससे इसमें कैलोरी की मात्रा अपने आम ही बढ़ जाती है।

Leave a Reply