Chia Seeds in hindi | Sabja Seeds | Chia Seeds Health Benefits | Chia And Sabja Seeds Difference | चिया सीड्स क्या होता है

हेल्थ
Chia Seeds in hindi  | Sabja Seeds | Chia Seeds Health Benefits | Chia And Sabja Seeds Difference | चिया सीड्स क्या होता है
Chia Seeds in hindi

Chia Seeds in hindi | Sabja Seeds | Chia Seeds Health Benefits | Chia And Sabja Seeds Difference | चिया सीड्स क्या होता है

Chia Vs Sabja Seeds : जब बात इम्युनिटी बूस्ट करने वाले खाद्य पदार्थों (Immunity Boosting Foods) की बात आती है, चिया और सब्जा के बीजों (Chia And Sabja Seeds) का काफी उपयोग किया जाता है. ये बीज तेजी से इम्युनिटी बूस्ट (Immunity Boosting) करते है। साथ ही यह दोनों ही बीज आपको मोटापा सहित कई बीमारियों से बचा सकते हैं।

Advertisement

चिया बीज के स्वास्थ्य लाभों (Chia Seeds Health Benefits) को देखते हुए इन्हें सुपरसीड्स भी कहा जाता है.

वहीं सब्जा बीज के फायदे (Sabja Seeds Benefits) भी हैरान करने वाले हैं. दोनों का सेवन कई परेशानियों से राहत पाने के लिए किया जा सकता है। यहाँ पर एक बात स्पष्ट कर दूँ कीचिया के बीज और सब्जा सीड्स अलग होते हे दोनों में काफी अंतर पाया जाता है (Chia And Sabja Seeds Difference) अक्सर कई लोग दोनों में फर्क नहीं कर पाते हैं.

कई लोगों को लगता है कि चिया बीज और तुलसी बीज एक ही हैं ,क्योंकि दोनों एक जैसे ही दिखते हैं।. क्या आप भी चिया के बीज और सब्जा सीड्स में फर्क (Chia And Sabja Seeds Difference) करने में कभी कन्फ्यूज हुए हैं? तो आइये आज की इस पोस्ट में हम इन सभी विषयो पर बात करेंगे और जानेगे Chia Vs Sabja Seeds में क्या अंतर ह तथा इसके फायदे एवं नुकशान क्या क्या है 

Chia Seeds : आज कल अच्छी सेहत होना और फिट दिखना जबसे ज़रूरी है औरइसके लिए हर कोई अपनी डाइट में कुछ भी शामिल करने को तैयार है. लेकिन ज्यादातर लोगों की डाइट में जो चीज़ सेम दिख रही है वो फुल डाइटरी सप्लीमेंट्स है चिया सीड्स.इन दिनों हर कोई अपने दिन की शुरुआत चिया सीड पुडिंग के साथ कर रहा हैं।

बताया जा रहा है की चिया सीड्स वजन घटाने में बहुत कारगर है. ये याददाश्त को बढ़ाता है. खून बढ़ाने में भी सक्षम है. हड्डियों को मजबूत बनाता है. पाचन तंत्र को सही रखता है. त्वचा और बालों की चमक बढ़ाता है. शरीर में स्फूर्ति को बढ़ाता है. कमज़ोरी को मिटाता है.यानी की चिया सीड्स (Chia Seeds) पोषण से भरपूर हैं।

 चिया सीड्स हैं क्या ? क्या यह फूड सिर्फ एक ट्रेंड है या यह वाकई आपके स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद हैं?

अगर आप भी उन्हें डाइट में इसे एड करना चाहती हैं, तो आज के इस पोस्ट में मैं आपको sangeetaspen.com ब्लॉग के माध्यम से चिया सीड्स (Chia Seeds) के विषय में सम्पूर्ण जानकारी दूगी साथ ही बताऊगी की इन सीड्स को दूध में मिलाकर खाने के फायदे और साइड इफेक्ट्स क्या क्या है तथा हमें इन सीड्स का उपयोग कब और कितनी मात्रा में करना चाहिए

चिया बीज (Chia Seeds) साल्विया हिस्पैनिका (Salvia hispanica) पौधे के छोटे काले बीज होते हैं, जो पुदीने से संबंधित होते हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि एक मुट्ठी चिया सीड्स में 137 कैलोरीज होती हैं, जो अच्छी मात्रा में कार्बोहायड्रेट प्रदान करती हैं।

अपने छोटे आकार के बावजूद, चिया सीड्स सबसे अधिक पौष्टिक खाद्य पदार्थों में से एक हैं। ये फाइबर, प्रोटीन, ओमेगा -3 फैटी एसिड और विभिन्न सूक्ष्म पोषक तत्वों से भरे हुए होते हैं।विदेशी बाजारों में चिया सीड्स को ‘सुपर फूड’ के नाम से जाना जाता है, जो स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभकारी है.

Chia Seeds : अमेरिका और चीन के बाद अब भारत में भी चिया सीड्स (Chia Seeds) की फसल लहलहा रही है. उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिले में किसान अब ‘चिया सीड्स’ की खेती कर रहे हैं.कुछ समय पहलर पीएम नरेंद्र मोदी ने ‘मन की बात’ कार्यक्रम में चिया सीड्स की खेती करने वाले बाराबंकी के प्रगतिशील किसानो का जिक्र किया था. चिया की खेती में भी कम खर्च में अधिक आमदनी होती है, इसके बीज भी हजार रुपये तक बिकते हैं. 

Chia Seeds Health Benefits
Chia Seeds Health Benefits

चिया सीड्स के सेवन से फायदा | Chia Seeds Health Benefits | Chia And Sabja Seeds Difference

हमारे शरीर को रोजाना कई अलग-अलग प्रकार के पोषक तत्वों की जरूरत होती है। जिसकी पूर्ति के लिए हम दिनभर में कई अलग-अलग खाद्य पदार्थों का सेवन करते हैं जिनमें फल, अलग-अलग सब्जियां और अनाज भी शामिल होता है।

इन्हीं अनाज में में से एक खास अनाज का नाम Chia Seeds है जो हमें कई प्रकार के स्वास्थ्य लाभ पहुंचा सकता है। पोषक तत्वों से भरपूर होने के कारण यह हमारे लिए बहुत लाभदायक साबित होगा।

चिया सीड्स (Chia Seeds) में ओमेगा-3 फैटी एसिड से भरपूर होते हैं. इसके अलावा इसमें कैल्शियम, फाइबर, प्रोटीन और तमाम मिनरल्स जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं. चिया के बीजों का सेवन करने से दिल व शरीर को बीमारियों से लड़ने की शक्ति मिलती है. ऐसे में इसे अपनी डाइट में जरूर शामिल करें। इसे दूध या पानी के साथ लिया जा सकता है. कई प्रकार की बीमारियों से बचाए रखने का गुण रखता है.

चियासीड्स में भी प्रोटीन की पर्याप्त मात्रा पाई जाती है जो नई मसल्स को बनाने का गुण रखने के साथ-साथ शरीर में जरूरी प्रोटीन की मात्रा की भी पूर्ति करता है। इसलिए बेहतरीन प्रोटीन सोर्स के रूप में इस अनाज का सेवन किया जा सकता है। ये ऐसा डाइटरी सप्लीमेंट्स है

जिसमें कैल्शियम, विटामिन्स, प्रोटीन, फाइबर और एंटीऑक्सीडेंट जैसे सरे पोषक तत्व हैं. इसीलिए बुज़ुर्ग हो या युवा हर कोई इसका सेवन करने में इंटरेस्ट रखता है. इतना ही नहीं छोटे बच्चे जो स्कूल में पढ़ रहे हैं, इसके बारे में सुनकर खुद को फिट रखने के लिए इसे खाने की ज़िद करते हैं.

एनीमिया से बचाए रखने में मददगार – एनीमिया की समस्या ज्यादातर उन महिलाओं को होती है जो गर्भवती होती हैं। यह खून की कमी की एक ऐसी अवस्था होती है जिसे सही समय पर दूर किया जाना बहुत जरूरी होता है।

आमतौर पर खान-पान का विशेष ख्याल न रखने के कारण भी खून की कमी ज्यादातर लोगों को हो जाती है जिस से बचे रहने के लिए यह अनाज काफी मददगार साबित होगा। दरअसल, इसमें मौजूद आयरन की मात्रा आपके शरीर में खून की कमी को पूरा करने के लिए सक्रिय रूप से काम कर सकता है।

​हड्डियों की मजबूती के लिए – हड्डियों की मजबूती के लिए सबसे जरूरी पोषक तत्व कैल्शियम होता है और यह बात हम सभी जानते हैं। इस बीज को भी कैल्शियम का एक बेहतरीन सोर्स माना जाता है और हड्डियों के अच्छे स्वास्थ्य के लिए आप इसका सेवन कर सकते हैं। दूध के साथ चिया सीड्स का सेवन करने से आपको इसका फायदा खुद ही देखने को मिल सकता है।

​त्वचा के लिए लाभदायक – त्वचा के लिए भी इस अनाज का सेवन काफी फायदेमंद रहेगा। इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट की मात्रा आपकी त्वचा को एंटी-एजिंग प्रभाव देने के साथ-साथ इसमें कसाव भी उत्पन्न करता है। त्वचा संबंधित कई प्रकार के रोगों से बचे रहने के लिए भी यह अनाज एंटीऑक्सीडेंट मात्रा के कारण आपकी स्किन को प्रोटेक्ट करने में सक्रिय भूमिका भी निभा सकता है। इसलिए बेहतरीन त्वचा पाने के लिए आप इसका सेवन नियमित रूप से कर सकते हैं।

​मेमोरी पॉवर को मजबूत बनाने में – उम्र बढ़ने के साथ-साथ आजकल युवाओं में भी याददाश्त के कमजोर होने की समस्या देखने को मिल रही है। इसका कारण उचित खानपान और खराब आदतों का ही एक परिणाम है।

धूम्रपान और शराब आदि का सेवन करने के साथ-साथ पौष्टिक खाद्य पदार्थों का सेवन ना करना मस्तिष्क की याददाश्त क्षमता को कमजोर बना देता है। जबकि चिया सीड्स (Chia Seeds) के सेवन से मेमोरी पॉवर को बूस्ट करने में मदद मिलती है। इसलिए यदि आप इसका सेवन नियमित रूप से सेवन करते हैं तो यह आपकी याददाश्त को मजबूत बनाने में काफी सहयोग प्रदान करेगा।

​​वजन घटाने में – वजन बढ़ने के कारण कई प्रकार की स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती है जिसमें टाइप टू डायबिटीज का खतरा सबसे ज्यादा रहता है। इसलिए मोटापे की समस्या से बचे रहने के लिए भी इस अनाज का सेवन काफी लाभदायक साबित होगा, क्योंकि इसमें भूख को नियंत्रित करके वजन घटाने का गुण पाया जाता है। इसलिए यदि आप इसका सेवन रोजाना करते हैं तो यह आपकी भूख को कम करेगा जिससे आप कम मात्रा में खाना खाएंगे और इससे वजन को नियंत्रित करने में काफी मदद मिलेगी।

पाचन तंत्र के लिए – इस अनाज के सेवन से पाचन तंत्र को भी मजबूत बनाने में काफी मदद मिलती है जो कि इसमें फाइबर की पर्याप्त मात्रा पाई जाती है। फाइबर एक ऐसा पोषक तत्व है जो न केवल पाचन क्रिया को सक्रिय रूप से चलाता है बल्कि यह पूरे पाचन तंत्र की कार्य प्रणाली को भी सक्रिय रूप से कार्य करने के लिए प्रेरित करता है। इसलिए पाचन संबंधी समस्याओं से बचने के लिए भी यह अनाज काफी गुणकारी साबित होगा

बालों के लिए भी काफी उपयोगी – बालों के अच्छे स्वास्थ्य के लिए जरूरी है कि आप इनका विशेष ख्याल रखें ना केवल इन्हें अच्छे शैंपू और कंडीशनर से धोएं बल्कि अपने खानपान की आदत पर भी ध्यान दें। दरअसल, चिया सीड्स (Chia Seeds) में विटामिन बी की मात्रा पाई जाती है जो बालों के लिए बहुत जरूरी होती है। इसलिए यदि आप इसका सेवन करते हैं तो इसके जरिए आपके बालों को विटामिन बी की पूर्ति होगी। यह बालों को स्वस्थ और घने बनाए रखने के साथ-साथ उन्हें रूसी और झड़ने की समस्या से भी छुटकारा दिलाएंगे।

Chia Seeds side effects
Chia Seeds side effects

मॉडल्स भी कर रहे डाइट में शामिल

बहुत सारे फैशन मॉडल्स भी अपनी डाइट में इसको शामिल कर रहे हैं. इतना ही नहीं, चिया सीड्स यूज़ करके बनाई गयी, तरह-तरह की डिशेस के साथ फोटो क्लिक करवा के सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर शेयर कर रहे हैं.

चिया सीड्स और सब्जा सीड्स में दिखने में क्या है अंतर | What Is The Difference Between Chia Seeds And Sabza Seeds

  • जब चिया सीड्स और सब्जा सीड्स की तुलना करते हैं तो दोनों बीज वास्तव में काफी अलग दिखते हैं. तुलसी के बीज काले, छोटे और गोल होते हैं.
  • चिया बीज आकार में थोड़ा बड़ा, अधिक अंडाकार होता है, और ग्रे, भूरा, सफेद और काले सहित विभिन्न रंगों में आता है. दोनों बीज कुछ पोषण लाभ प्रदान करते हैं,
  •  आमतौर पर यह सोचा जाता है कि चिया बीज आपके लिए बेहतर हैं क्योंकि इनमें एंटीऑक्सिडेंट, फाइबर, कैल्शियम, प्रोटीन और कई अन्य प्रमुख खनिज होते हैं. हालांकि, तुलसी के बीजों में भरपूर आयरन होता है.
  • चिया के बीज शरीर में हेल्दी ब्लड प्रेशर और ब्लड शुगर लेवल को कम रखने में मदद कर सकते हैं, साथ ही कोलेस्ट्रॉल कम कर हृदय स्वास्थ्य में सुधार करने में मददगार माने जाते हैं.
  • चिया के बीज ओमेगा -3 फैटी एसिड का एक उत्कृष्ट स्रोत हैं, जबकि सब्जा बीज एक मूत्रवर्धक और पाचन को बेहतर करने के लिए फायदेमंद माना जाता है. आयरन से भरपूर तुलसी के बीज भी रक्त की गुणवत्ता में सुधार करने में मदद कर सकते हैं.
  • चिया ओमेगा 3 का एक अच्छा स्रोत है, जो ब्लड शुगर को स्थिर करने में मदद कर सकता है, ऊर्जा और धीरज को बढ़ावा देता है, 
  • सब्जा के बीज शरीर के लिए सबसे अच्छे कूलेंट में से एक हैं, जो आयरन का अच्छा स्रोत हैं और एसिडिटी और कब्ज से राहत दिलाने में मदद कर सकते हैं.

हालांकि दोनों बीजों में अनेक समानताये भी है जैसे की फाइबर की वजह से यह दोनों बीज आपको भरा हुआ महसूस कराते हैं. इस प्रकार ये दोनों बीज (Chia And Sabja Seeds) पूरे दिन स्नैकिंग से बचने में मदद कर सकते हैं. जब इन्हें पानी में मिलाया जाता है, तो चिया और तुलसी (Chia And Sabja Seeds) के बीज दोनों काफी फूल जाते हैं

जो पेट को भरने और शरीर को हाइड्रेटेड रखने में मदद कर सकते हैं. हालांकि, यह ध्यान रखना जरूरी है कि वे हेल्दी खाने के विकल्प नहीं हैं. तुलसी या चिया के बीजों का फायदा लेने के लिए आपको एक संतुलित आहार के रूप में लेने है

इनका सेवन कैसे किया जाना चाहिए? | How Should They Be Consumed ?

आपको रोजाना कितने चिया बीज खाने चाहिए, इस पर कोई एक्सपर्ट एडवाइस नहीं हैं। मगर कोलंबिया विश्वविद्यालय के डॉक्टर्स की मानें तो, आप प्रति दिन दो बार 20 ग्राम यानी 2 बड़े चम्मच से थोड़ा कम चिया सीड्स ले सकती हैं।

चिया सीड्स के सेवन बेस्ट तरीका है उन्हें रात भर दूध में भिगोकर रखना और सुबह उस दूध का सेवन करना। पानी में भिगोने से भी चिया सीड्स फूलकर फ्लफी हो जाते हैं और उसके बाद आप इसे दलिया या स्मूदी में एड कर सकती हैं।

चिया सीड्स को अपने आहार में शामिल करना बेहद आसान है। उन्हें कच्चा खाया जा सकता है, या किसी चीज़ में मिलाया जा सकता है। आप चिया सीड्स से दलिया, हलवा, स्मूदी बना सकती हैं। आप उन्हें, दही, सब्जियों या चावल के ऊपर भी छिड़क सकती हैं।

Chia Seeds in hindi | Sabja Seeds | Chia Seeds Health Benefits | Chia And Sabja Seeds Difference | चिया सीड्स क्या होता है
Chia Seeds in hindi

चिया सीड्स खाने के साइड इफेक्ट्स

चिया सीड्स को ज्यादा मात्रा में खाने के कुछ साइड इफेक्ट्स भी हैं. जिनके बारे में भी आपको पता होना चाहिए.

चिया सीड्स में फाइबर ज्यादा होता है जिससे पेट में दर्द, कब्ज़ और गैस की दिक्कत हो सकती है. फूड एलर्जी भी हो सकती है जिसके चलते दस्त, उल्टी जैसी परेशानी हो सकती है. आंखों से पानी आना, शरीर में सूजन और खुजली भी हो सकती है. अगर आपको डायबिटीज है तो इसको खाने से बचें, क्योंकि चिया सीड्स ग्लूकोज लेवल को बढ़ा सकते हैं.

डॉक्टर्स से लें सलाह

एक दूसरे के कहने पर या कहीं पढ़कर चिया सीड्स को लोग अपनी डाइट में शामिल कर लेते हैं. लेकिन इसे अपनी डाइट में शामिल करने से पहले ज़रूरी है कि डॉक्टर्स की सलाह ली जाये ताकि आपको किसी तरह की परेशानी न हो. क्योंकि इसे खाने के फायदे तो हैं, लेकिन नुकसान भी हैं.

कैसे करें चिया सीड्स की खेती

कृषि वैज्ञानिकों क कहना है कि इसकी खेती सभी तरह की भूमि में आसानी से की जा सकती है. हल्की-भुरभुरी मिट्टी में इसकी फसल ज्यादा अच्छी होती है. इसमें कीटनाशकों की ज्यादा आवश्यकता नहीं होती और गोबर की खाद भी इसमें काफी असरदार होती है.

एक एकड़ के लिए करीब 4-5 किलो बीज की आवश्यकता होती है. इसके बाद प्रति एकड़ 7 क्विंटल की पैदावार मिलती है.अक्टूबर और नवंबर महीने में इसकी बुवाई की जाए तो अच्छा परिणाम आता है. चिया सीड्स (Chia Seeds) की खेती तैयार होने में 90-120 दिन लगते हैं. पौध रोपण के 40-50 दिन के अंदर फसल में फूल आ जाते हैं.25-30 दिन में बीच ये बन कर तैयार हो जाते हैं.

चिया सीड्स की निराई-गुड़ाई

  • फसल को खरपतवार प्रकोप से बचने के लिए खेत में पहले 2 बार हाथ की मदद से निराई-गुड़ाई करें.
  • खेत में खाली स्थानों में पौधारोपण का कार्य भी रोपण के 10-15 दिन के अंदर कर लेना चाहिए.
  • फसल तैयार होते समय पौधे और बालियां पीली पड़ने लगती हैं.
  • फसल की कटाई-गहाई कर दानों की साफ-सफाई कर उन्हें सुखाकर बाजार में बेच दिया जाता है.
  • चिया फसल से प्रति एकड़ 600-700 किग्रा उपज प्राप्त हो जाती है.
  • खेती में प्रत्येक एकड़ में 30 हजार रुपये तक का खर्च आता है.

चिया सीड्स (Chia Seeds) की खेती करके किसान अधिक लाभ कमा सकते हैं, इसके लिए जरूरी है कि  जागरूकता और तत्परता के लिए कृषि विभाग से संपर्क करते रहें. अगर 6 क्विंटल की भी खेती होती है तो यह करीब 90 हजार रुपये में बिक जाता है.ऐसे में किसान को एक एकड़ में करीब 60 हजार रुपये तक की कमाई होती है.

Leave a Reply