What is Corn Flour in Hindi | Corn flour benefits and side in hindi | कॉर्न फ्लोर | Corn Flour | Corn Starch| Maize Starch

हेल्थ
Corn Flour Corn Starch Maize Starch
Corn Flour Corn Starch Maize Starch

What is Corn Flour in Hindi | Corn flour benefits and side in hindi | कॉर्न फ्लोर क्या हैं | Corn Flour | Corn Starch| Maize Starch

Corn Flour : कार्न फ्लोर (corn flour) जिसे कॉर्न स्टार्च (corn starch) के नाम से भी जाना जाता है. इसे मक्के का स्टार्च, मेज स्टार्च (maize starch) भी कहते हैं. कॉर्नफ्लार का इस्तेमाल फिलर, बाइन्डर के रूप में और तरल पदार्थों को गाढ़ा करने के लिए किया जाता है.जिन्हें क्रिस्पी फ्राइड रेसिपी खाना पसंद है वह लोग कॉर्न फ्लोर को अच्छी तरह जानते हैं।

अगर आप कार्न फ्लोर (corn flour) क्या है (What is corn flour in Hindi) और Corn Flour कैसे बनता है? इस विषय पर नहीं जानते है। तो इन सभी चीजों के बारे आज के इस आर्टिकल में जाने। इसलिए इस आर्टिकल को आप पूरा पढ़ने का प्रयास कीजिएगा जिससे कि आपको पूरी तरह से समझ में आ जाए की Corn Flour क्या होता है ? जिन लोगों को ग्लूटेन से समस्या है या ग्लूटन से एलर्जी वे कॉर्न फ्लोर का इस्तेमाल कर सकते यह ग्लूटन फ्री होता है।

Advertisement

यह विभिन्न देशों में Corn Starch या Corn flour के रूप में भी जाना जाता है, यह मक्के की गुठली से निकाला गया सफेद स्टार्च पाउडर है। आटे को गुठली से पिसा जाता है, जबकि स्टार्च गिरी के भ्रूणपोष से प्राप्त किया जाता है। मक्के का आटा हल्के सफेद रंग का होता है और लगभग बेस्वाद होता है। तो चलिए अब हम आपको Corn flour क्या है के बारे में पूरी जानकारी देते हैं।

मक्का (वानस्पतिक नाम : Zea maize) एक प्रमुख खाद्य फसल हैं, जो मोटे अनाजो की श्रेणी में आता है। इसे भुट्टे की शक्ल में भी खाया जाता है। मक्का की फसल में नर भाग पहले परिपक्व हो जााता है।


भारत मे 7 प्रकार के मक्का पाए जाते है-

  • पॉप कॉर्न (जिआ मेज ईवर्टा)
  • स्वीट कॉर्न (जिआ मेज सेकेराटा)
  • फ्लिंट कॉर्न (जिआ मेज ईन्डूराटा)
  • वैक्सि कॉर्न (जिआ मेज सेकेराटा)
  • पॉड कॉर्न (जिआ मेज ट्यूनीकाटा)
  • फ्लोर कॉर्न (जिआ मेज ईमाईलेशिया)
  • डेंट कॉर्न (जिआ मेज ईन्डेनटाटा)

कॉर्न फ्लोर क्या हैं ? What is Corn Flour in Hindi?

Corn flour सूखे मकई के दानों (maize) को पीसकर बनाया गया एक अच्छा पाउडर है। Corn Flour स्वाभाविक रूप से लस मुक्त होता है, जिसका अर्थ है कि मकई के आटे की विशेषता वाले पके हुए माल में गेहूं के आटे के समान वृद्धि नहीं होगी, लेकिन वे निविदा (tender) और मकई के स्वाद से भरपूर होंगे।

Corn flour benefits and side in hindi
Corn flour benefits and side in hindi

कॉर्न फ्लोर का उपयोग क्या हैं – What is Corn Flour Use in Hindi

Corn Flour का उपयोग पुडिंग (puddings) और इसी तरह के व्यंजनों के लिए बाध्यकारी एजेंट (binding agent) के रूप में किया जाता है। यह आमतौर पर सूप, स्टॉज, सॉस और अन्य व्यंजनों के लिए मोटाई के रूप में प्रयोग किया जाता है। मकई के आटे का उपयोग इतालवी व्यंजनों में ब्रेडिंग (breading) के रूप में किया जाता है। Corn Starch, चीनी और दूध से आप हलवा बना सकते हैं।

गर्म व्यंजन बनाते समय मक्के के आटे और ठंडे पानी को मिलाने से पहले उसका पेस्ट बनाना बहुत जरूरी है। यह आटे की गांठ को रोकता है। मकई स्टार्च युक्त पके हुए नुस्खा को फ्रीज नहीं करना चाहिए। मकई का आटा डालने से पकवान की ताजगी से समझौता किया जाता है।

Corn Flour कैसे बनाया जाता है?

Corn Flour बारीक पिसे हुए मकई (maize) के दानों से बनाया जाता है। अधिकांश मकई का आटा सूखे पीले मकई से बना है, कर्नेल के उपरी में एक छोटे से दांत के साथ एक किस्म। मिलर पूरे मकई के दानों से सख्त बाहरी पतवार और पौष्टिक रोगाणु को हटाते हैं, फिर धातु के रोलर्स का उपयोग करके गुठली को बारीक पाउडर में पीसते हैं। स्टोन-ग्राउंड, साबुत अनाज मकई का आटा दुर्लभ है। इसमें अधिक पोषक तत्व और फाइबर होते हैं, लेकिन इसकी शेल्फ लाइफ कम होती है।

Corn Flour के 4 बेहतरीन उपयोग

Corn Flour के एक बैग का उपयोग करने के कुछ सबसे लोकप्रिय तरीके यहां दिए गए हैं या फिर आप इंटरनेट से कॉर्न फ्लोर के उपयोगों के बारे अधिक जानकारी ले सकते हैं-

Gluten free baking (लस मुक्त बेकिंग) – लस मुक्त आटे के रूप में, corn flour गेहूं रहित पके हुए माल के लिए ब्रेड से लेकर वफ़ल तक एक लोकप्रिय विकल्प है। कोई भी रेसिपी उपयोग करने से पहले मैं आपको बता दूं यदि आप Weight Loss करना चाहते हैं तो आपको अपनी डाइट अच्छी रखनी चाहिए।

Breading (ब्रेडिंग) – दक्षिणी संयुक्त राज्य अमेरिका में, corn flour लंबे समय से तले हुए खाद्य पदार्थों, जैसे कि झींगा (shrimp) को कोट करने के लिए उपयोग किया जाता है। यह कॉर्नमील की किरकिरी के बिना एक सुखद मकई स्वाद और कुरकुरा क्रंच जोड़ता है।

Cakes (केक) – स्टोन फ्रूट अपसाइड-डाउन केक में मैदा और मक्के का आटा (corn flour) मिलाकर देखें। इस तरह से भी आप कॉर्नफ्लोर को उपयोग में लाकर लाभ उठा सकते हैं।

Chess pie (शतरंज पाई) – Chess pie एक बेहतरीन Corn recipes है जिसे आप कई सारे इंक्रीडिया एंड जैसे वॉटर वाइट शुगर एक और कौन अनिल और अन्य चीजें मिलाकर बना सकते हैं यह क्लासिक दक्षिणी पाई और भी बेहतर है जब आप मकई के आटे के लिए कस्टर्ड में कॉर्नमील (cornmeal) की अदला-बदली करते हैं।

What is Corn Flour in Hindi
What is Corn Flour in Hindi

Corn flour benefits and side in hindi

एनीमिया रोगियों को कॉर्नफ्लोर के फायदे – हमे सेहतमंद रहने के लिए बहुत सी विटामिन्स और मिनरल्स की आवश्यकता होती है, इन्ही में से एक तत्व होता है आयरन। आपको बता दें कि आयरन के द्वारा ही हमारे शरीर में हीमोग्लोबिन पैदा होता है। जब भी शरीर में आयरन की कमी होती है तो इससे शरीर में खून की कमी होने लगती है। जब शरीर में खून की कमी होती है तो इसे ही एनीमिया कहा जाता है। एनीमिया की बीमारी के चलते ना केवल शरीर में खून की कमी होती है बल्कि इसके कारण कई भयंकर बीमारी शरीर में पैदा हो सकती हैं। एनीमिया के मरीज़ों को थकान एवं कमजोरी महसूस होती है। अगर आपको भी एनीमिया की शिकायत है तो आप भी कॉर्नफ्लोर का सेवन कर सकते हैं। बता दें कि इसके अंदर विटामिन बी12, फोलिक एसिड और आयरन पाया जाता है, जो एनीमिया के मरीज़ों के लिए फ़ायदेमंद माना गया है।

आंतो के लिए कॉर्नफ्लोर के लाभ – हमारे शरीर में आंत को दूसरा दिमाग भी कहते हैं। क्योंकि आंत भोजन पचाने के अलावा कई अन्य कार्य भी करते हैं। आंत शरीर का एकलौता ऐसा भाग है जिसे भोजन पचाने या मल को बाहर करने के लिए दिमाग के निर्देश की जरूरत नहीं होती। ऐसे में आंत को कॉर्न फ्लोर के फायदे होते हैं। कॉर्न फ्लोर के अंदर इंसोल्यूबल पाउडर होता है जो आंतों को स्वस्थय और मजबूत बनाए रखता है। इसके अलावा आंत के अंदर ही रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले 70 प्रतिशत तत्व मौजूद होते हैं। ऐसे में कहा जा सकता है कि आंत मजबूत तो शरीर स्वस्थय रहेगा।

सूजन कम करने में कॉर्न फ्लोर के फायदे – शरीर के अलग अलग अंग में लोगों को अक्सर सूजन की समस्या होने लगती है। सूजन की समस्या के कारण तो कई हैं, जैसे चोट लगना या ज्यादा मात्रा में खटाई खाना। लेकिन सूजन की समस्या को किसी भी तरह हल्के में आंकना बहुत खतरनाक भी हो सकता है। ऐसे में सूजन का इलाज या उपचार समय पर करना बेहद जरूरी हो जाता है। अगर आपको भी सूजन की समस्या रहती है तो आप भी कॉर्न फ्लोर का इस्तेमाल कर सकते हैं। क्योंकि कॉर्न फ्लोर के अंदर पॉलीफेनोल्स एंटी ऑक्सीडेंट तत्व मौजूद होता है, यह तत्व आपके शरीर से सूजन कम करने का काम करता है। ऐसे में कॉर्न फ्लोर कितना फायदेमंद हो सकता है आप समझ ही गए होंगे।

वजन बढ़ाने के लिए कॉर्न फ्लोर के सेवन के लाभ – आज के समय में जंहा एक तरफ ज्यादातर लोग अपने वजन को कम करना चाहते हैं वहीं दूसरी तरफ कुछ लोग ऐसे भी हैं जो वजन बढ़ाने के तरीके खोजते रहते हैं। आपको बता दें कि वजन अधिक होना ही एक समस्या नहीं है, बल्कि अगर वजन कम हो तो भी आप बहुत सी बीमारियों की चपेट में आ सकते हैं। वजन कम होने के बहुत से कारण हो सकते हैं। अगर आपके भोजन के अंदर प्रचूर मात्रा में पोषक तत्व और विटामिन्स ना हो, तो वजन कम होने लगता है। साथ ही कमजोरी और बीमारियां भी आपको अपनी गिरफ्त में लेने लगती है। लेकिन अगर आप कॉर्नफ्लोर का सेवन करते हैं तो आप अपना वजन तेजी से बढ़ा सकते हैं। कॉर्नफ्लोर के अंदर कार्बोहाइड्रेट और कैलोरी प्रचूर मात्रा में पाई जाती है। यह दोनो ही तत्व वजन बढ़ाने में बहुत असरदार साबित होते हैं।

स्किन डिसॉर्डर में कॉनफ्लोर है फायदेमंद – हमारे शरीर का सबसे सेंसेटिव हिस्सा होती है हमारी स्किन। इसलिए अक्सर देखा जाता है कि लोगों किसी भी उम्र के अंदर स्किन संबंधित समस्याएं होने लगती हैं। यह समस्याए चेहरे से लेकर पैरों तक कंही भी हो सकती है। यूं तो इन समस्याओं के लिए डॉक्टर की सलाह लेना बेहद जरूरी होता है, लेकिन कॉर्न फ्लोर का सेवन भी स्किन संबंधित समस्याओं का अंत कर सकता है। दरअसल कॉर्नफ्लोर के अंदर विटामिन ए, ई, और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं। जो ना केवल स्किन संबंधित समस्याओं से लड़ने में मदद करते हैं। बल्कि यह स्किन संबंधित समस्याएं पैदा ही नहीं होने देते।

गर्भावस्था में शिशु के विकास के लिए कॉर्न फ्लोर – गर्भावस्था के दौरान मां को अक्सर अपने खाने पीने पर ध्यान देना होता है। इस दौरान अगर खान पान बेहतर ना हो तो शिशु ना केवल कमजोर पैदा होता है बल्कि सामान्य शिशुओं के मुकाबले प्रसव के समय शिशु का वजन भी कम होता है। लेकिन इस समस्या को भी खत्म करने में कॉर्न फ्लोर आपके काम आ सकता है। दरअसल इसके अंदर फोलिक एसिड मौजूद होता है जो शिशु के विकास और उसके वजन बढ़ाने में कारगर साबित हो सकता है।

हाई ब्लड प्रेशर में कॉर्नफ्लोर होता है फायदेमंद – आज के समय में हाई ब्लड प्रेशर की समस्या होना बेहद आम हो गया है। इस बीमारी के कई कारण हो सकते हैं। इसका पहला और सबसे बड़ा कारण होता है खराब जीवनशैली। बेकार खान पान और मोटापा भी हाई ब्लड प्रेशर का कारण बन सकता है। ऐसे में जरूरी है कि अपनी जीवनशैली में तो बदलाव किए ही जाएं। साथ ही अपने खान पान को भी बेहतर बनाया जाए। अगर आपको भी हाई ब्लड प्रेशर की समस्या है तौ आप कॉर्नफ्लोर का उपयोग कर सकते हैं। आपको बता दें कि इसके अंदर प्रचूर मात्रा में फाइबर, ओमेगा-3 फैटी और एंटीऑक्सीडेंट तत्व पाए जाते हैं। यह सभी तत्व हाई ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में कारगर साबित हो सकते हैं।

फ्री रेडिकल्स को कम करने के लिए कॉर्न फ्लोर – हमारे शरीर के अंदर कई तरह की कोशिकाएं मौजूद होती है। शरीर को स्वस्थ्य रखने में इन कोशिकाओं का एक अहम रोल होता है। इन कोशिकाओं के अलावा हमारे शरीर में फ्री रेडिकल्स होती है और कुछ रेडिकल्स का निर्माण भोजन के बाद होता है। यह हमारे शरीर के लिए बेहद खतरनाक होती हैं। यह फ्री रेडिकल्स दूसरे अणु से एलेक्ट्रोन को लेने का कार्य भी करते हैं। ऐसे में शरीर को फ्री रेडिल्स से बचाने के लिए आपको कुछ चीजों का ध्यान रखना होता है।अगर आप फ्री रेडिकल्स को खत्म करना चाहते हैं तो आप कॉर्नफ्लोर का उपयोग कर सकते हैं। दरअसल इसके अंदर एंटीऑक्सीडेंट तत्व पाए जाते हैं जो इस समस्या से लड़ने में सक्षम है।

कोलेस्ट्रॉल में कॉर्न फ्लोर – कोलेस्ट्रॉल लेवल शरीर में सामान्य रहे इसके लिए लोग ना जाने कैसे कैसे उपाय अपनाते दिखाई देते हैं। लेकिन यह लोग यह नहीं जानते कि कॉर्न फ्लोर के अंदर मौजूद तत्व इसी काम में आते हैं। दरअसल कॉर्न फ्लोर में फाइबर होता है जो कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करने का काम करते हैं।

कमजोरी और थकान दूर करने में – आज कल की खराब जीवनशैली और बेकार के खान पान की वजह से लोगों को जरूरी पोषक तत्व और विटामिन्स नहीं मिल पाते। जिसकी वजह से शरीर कमजोर होता ही है साथ ही लोग बहुत जल्दी थकने लगते हैं। लेकिन कॉर्न फ्लोर के सेवन से इन दोनों समस्याओं को समाप्त करने का कार्य करते हैं। अगर आपको भी थकान या कमजोरी की समस्या है तो आप भी कॉर्न फ्लोर का सेवन कर सकते हैं।

आंखों की रोशनी के लिए – आंखे प्राकृति का दिया हुआ एक ऐसा उपहार है जिसकी वजह से हम दुनिया की सभी खूबसूरत और हैरान कर देने वाली चीजे देख पाते हैं। लेकिन अधिक गैजेट इस्तेमाल करने के कारण, बढ़ती उम्र के कारण और बेकार खान पान की वजह से आंखो की रोशनी कमजोर होने लगती है। लेकिन कॉर्न फ्लोर के सेवन से आपको इस समस्या से भी छुटकारा मिल जाता है। अगर आपकी भी आंखे कमजोर हैं तो आप भी इसका सेवन कर सकते हैं।

Corn flour benefits and side in hindi
Corn flour benefits and side in hindi

Corn flour और Corn starch में क्या अंतर है?

कुछ लोग मक्की के आटे (maize flour)को ही कॉर्न फ्लोर समझ लेते हैं. मक्की का आटा कॉर्नमील फ्लोर (cornmeal flour)होता है जबकि कॉर्न फ्लोर मक्की का स्टार्च होता है. इसे कॉर्न स्टार्च (corn starch)भी कहते हैं. खासतौर पर कॉर्नफ्लोर का इस्तेमाल चाइनीस रेसिपी में किया जाता है। वहीं इसका इस्तेमाल, गुलाब जामुन, रसगुल्ला और फ्राइड रेसिपी में भी किया जाता है।

कॉर्न फ्लोर बनाने के लिए पहले मक्के के दाने से उसका छिलका हटाया जाता है और फिर उसे पाउडर की तरह पीसकर तैयार किया जाता है जबकि मक्की का आटा मक्के के दानों को सुखाकर पीसकर तैयार हो जाता है. यह पीले या सफेद रंग का होता है. यह दरदरा या बारीक रूप में मिलता है जबकि कार्न फ्लोर सफेद या हल्के पीले रंग के पाउडर फार्म में मिलता है. यूनाइटेड किंगडम (United Kingdom) में, “Corn flour” शब्द वास्तव में corn starch को संदर्भित करता है।

कॉर्न फ्लोर कैसे बनाये

कॉर्न फ्लोर Corn flour in hindi में बनाने के लिए सबसे पहले मक्के को पानी से 2-3 बार धोले। अब एक कटोरे में मक्का और ऊपर तक पानी डालकर एक रात के लिए भिगोने रख दे। दूसरे दिन मक्का फुल चुका हूंगा तब पानी को अलग कर दें और मिक्सी जार में मक्का और थोड़ा पानी डालकर मिक्सर घुमा दे। पतली मिश्रण तैयार हो चुकी है।

अब कटोरे के ऊपर पतला कपड़ा रखें और मिक्सी वाला पतला मिश्रण को कपड़े से छान लें। कपड़े के ऊपर वाला मिश्रण को अलग कर दें और छाने हुए मिश्रण को ऐसी जगह रख दे ताकि कटोरा हिल ना सके। कुछ घंटों बाद गाढ़ा पेस्ट कटोरे के तले में जम जाएगा और पानी ऊपर रहेगा, सावधानी से पानी निथारदे।

अब गाढ़े मिश्रण को धूप में सूखने रख दे। जब मिश्रण अच्छी तरह सूख जाए तब मिक्सर में डालकर बारीक पाउडर बना लें। पाउडर को बारीक छलनी से छान लें और सूखे डिब्बे में भर दे। कॉर्न फ्लोर तैयार हो चुका है अब आप इसे रेसिपी के लिए इस्तेमाल में ले सकती है।

कॉर्न फ्लोर (corn flour) का उपयोग रेसिपी में

कॉर्न फ्लोर ग्रेवी को गाढा करने, फिलर और बाइन्ड करने के काम आता है. इसे टिक्की में इस्तेमाल कर सकते है. ये टिक्की को बाँध कर रखता है और टिक्की फटती नहीं है . साथ ही यह कोफ्ते बनाने, मंचूरियन की ग्रेवी को गाढ़ा करने, फ्रेन्च फ्राय को क्रिस्पी कोटिंग देने के काम भी आता है. साथ ही इसे मिठाइयां जैसे कि गुलाब जामुन (gulab jamun) , छैना (chena rasgulla), बांबे-कराची हलवा (bombay-karachi halwa) बनाने में उपयोग करते हैं.

कॉर्न फ्लोर का रख रखाव

  • कॉर्न फ्लोर को एयर टाइट कंटेनर में भरकर रखें.
  • कॉर्न फ्लोर में किसी भी प्रकार की नमी न जाने दें. नमी के संपर्क में आने पर यह खराब हो जाता है.
  • जब भी इसे उपयोग में लाएं तो साफ सफाई का ध्यान रखें.
  • जिस भी कंटेनर में इसे रखा गया हो उसे साफ सूखे हाथों से ही खोलें और इसे निकालने के लिए साफ सूखे चम्मच का ही उपयोग करें.

कॉर्न फ्लोर कहां से मिलेगा

कॉर्न फ्लोर किसी भी स्थानीय, किराना स्टोर या किसी बड़े ग्रोसरी स्टोर से भी प्राप्त कर सकते हैं. आप इसे अॉनलाइन (online) भी ख़रीद सकते हैं.

कॉर्न फ्लोर (corn flour) खरीदते समय सावधानियां

कॉर्न फ्लोर के नाम पर अन्य वस्तुओं को महीन पीसकर नकली कॉर्न फ्लोर बेचा जाता है इसलिए जब भी कॉर्न फ्लोर खरीदें तो विश्वसनिय ब्रांड की और जहां से खरीद रहे हों वह गुणवत्ता युक्त हो.

कॉर्न फ्लोर (corn flour) का विकल्प

अगर कॉर्न फ्लोर न मिले तो इसकी जगह अरारोट का उपयोग भी किया जा सकता है. साथ ही मैदा को भी कई चीजों में कॉर्न फ्लोर के बदले उपयोग में लाया जा सकता है.

Frequently Asked Questions About Corn Flour (FAQs)

Q : What is Corn Flour in Hindi?

Ans : Corn Flour एक प्रकार का आटा है जिसे सूखे साबुत मकई के दानों से बनाया जाता है। Corn Flour आमतौर पर पीला होता है, लेकिन यह सफेद या नीले रंग का भी हो सकता है जो मकई की विविधता के आधार पर उपयोग किया जाता है।

Q : अरारोट और कॉर्न फ्लोर में अंतर क्या है?

Ans : Corn flour मकई की गुठली और उसके स्टार्च के भीतरी सफेद भाग से बना पाउडर होता है, जबकि अरारोट को अरारोट के पौधे की जड़ों से निकाला जाता है।

Q : कॉर्न फ्लोर और मक्के के आटे में क्या अंतर है?

Ans : Corn flour मकई की गुठली और उसके स्टार्च के भीतरी सफेद भाग से बना पाउडर होता है, जबकि अरारोट को अरारोट के पौधे की जड़ों से निकाला जाता है।

इस आर्टिकल के माध्यम से आप को Corn Flour क्या है? (What is corn flour in Hindi) के बारे में सारी जानकारी प्राप्त हो गई होगी और साथ में हमे आसा है कि आपको यह लेख बहुत पसंद आया होगा अगर आप आगे भी ऐसे ही लेख पढ़ने में रुचि रखते है तो https://sangeetaspen.com/पर बने रहे और साथ इस इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें।

Leave a Reply