CoronaVirus:दिल्ली से हज़ारों मजदूरों का पलायन

न्यूज़
LOCKDOWN

कोरोना वायरस से 199 देश प्रभावित है और अब USA के सबसे ज्यादा लोग इस वायरस से संक्रमित है, इटली में अब तक सबसे ज्यादा मौत हुई है।

Advertisement

15 फ़रवरी से देश में कोरोना वायरस संक्रमित 3 मरीजों की पुष्टि की गयी और 16 मार्च को यह संख्या 114 को पार कर गयी तब केंद्र सरकार ने राज्य सरकारों के साथ आने वाली चुनौतियों से निपटने के लिए उचित व्यवस्था क्यों नहीं।

भारत में भी कोरोना वायरस फ़ैल रहा इसके संक्रमण को रोकने के लिए भारत सरकार ने पुरे देश में 21 दिनों के लिए Lockdown घोषित किया और लोगो से सोशल डिस्टन्सिंग की अपील की जा रही है सरकार ने लोगो से अपने यथा स्थान पर बने रहने की अपील की है

लोग भय और जरूरी संसाधनों के आभाव में अपनी जान जोखिम में डाल अब महिलाओ और बच्चो साथ अपने शहरो को पैदल लौट रहे है

भारत सरकार ने चीन, ईरान,और इटली जैसे देशो से अपने नागरिको को एयरलिफ्ट किया किन्तु उन्होंने देश में अपने नागरिको को उनके हाल पर छोड़ दिया उनको सुरक्षित उनके घर तक पहुंचना भारत सरकार और राज्य सरकारों की जिम्मेदारी थी जो उन्होंने नहीं निभाई इसके चलते आज लाखो लोग पैदल अपने घरो को जाने के लिए मजबूर है उनके साथ उनके छोटे – छोटे बच्चे है।

जिस तरह से दूसरे देशो से अपने नागरिको को एयरलिफ्ट किया गया उसी प्रकार राज्य सरकारें भी अपने अपने राज्य के लोगो को उनके घर तक पहुंचने की जिम्मेदारी क्यों नहीं ली।

आज भी राज्य सरकारों के बीच में कही कोई तालमेल नहीं दिखाई दे रहा है दिल्ली राज्य सरकार जो जरूरत मंदो को भोजन उपलब्ध करने के दावे सोशल मीडिया में कर रही है वही दूसरी ओर वह दूसरे राज्यों से आये लोगो को DTC के माध्यम से दिल्ली NCR के बॉर्डर तक पंहुचा रही है आगे वह कैसे जायँगे वह किसी को पता नहीं है।

केजरीवाल सरकार ने उत्तर प्रदेश सरकार से इन यात्रियों के विषय में संपर्क किया या दिल्ली की सीमा तक इन लोगो को पंहुचा कर केजरीवाल सरकार अपनी जिम्मेदारी से भाग रही है

किसी मजदूर का घर 400 किलोमीटर दूर है तो किसी का 500 किलोमीटर दूर है यह सभी उत्तर प्रदेश, बिहार, राजस्थान, और हरियाणा से है, केजरीवाल सरकार और केंद्र सरकार को इन लोगो की मदद करनी चाहिए।

आज जिस तरह से कुछ मीडिया चैनल पर यह खबरे चलने लगी की सरकार Lockdown की अवधि 21 दिन से बढाकर जून 2020 तक कर सकती है और उत्तर प्रदेश सरकार से यात्रियों के लिए दिल्ली बॉर्डर पर बसों की व्यवस्था की है इन अफवाहों के कारण भी लोग दिल्ली छोड़ कर अपने घरो को वापस जा रहे है।

अवसरवादी मीडिया जिसने CAA पर देश के लोगो को यह समजने की कोशिस नहीं की CAA किसी की नागरिकता नहीं छिनता है वह आज भी लोगो के बीच अफवाह फैला रहा है। मीडिया की नैतिक जिम्मेदारी है लोगो तक सही जानकारी पहुंचने की किन्तु मीडिया उसमे असफल रहा है।

2020 के शुरुवाद से ही कोरोना वायरस की खबरे आने लगी थी तब से आज तक सरकार ने इसको रोकने के लिए पुख्ता कदम नहीं उठाये उसके परिणाम स्वरूप आज राज्य सरकारों के बीच तालमेल की कमी साफ़ दिखती है।

हमारा लोगो से अनुरोध है की वह अपने स्थानों पर ही रहे अगर किसी प्रकार की सहायता आपको चाहिए तो आप हमे ट्वीट @pensangeeta कर सकते है आप तक मदद पहुंचने की हर संभव कोशिस की जाएगी।

Leave a Reply