Cumin Seeds in Hindi | Cumin seeds (Jeera) Benefits and side effects | cumin seeds side effects | all you need to know about jeera | jeera water benefits in hindi

हेल्थ
Jeera Benefits and side effects
Jeera Benefits and side effects

Cumin Seeds in Hindi | Cumin seeds (Jeera) Benefits and side effects | cumin seeds side effects | all you need to know about jeera | jeera water benefits in hindi

Cumin Seeds : जीरा एक ऐसा मसाला है जो आपको हर भारतीय किचन में मिल जाएगा। यह सुगंधित बीज न केवल भारत में लोकप्रिय है बल्कि मध्य पूर्वी, उत्तरी मैक्सिकन, पश्चिमी अफ्रीकी और उत्तरी अफ्रीकी व्यंजनों में भी इसका व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है।

Advertisement

Jeera छोटे भूरे रंग के बीज अलग गंध और स्वाद के होते हैं जो न केवल व्यंजनों में स्वाद जोड़ते हैं, बल्कि इसके कई स्वास्थ्य लाभ भी हैं। कॉपर, आयरन, एंटीऑक्सीडेंट, विटामिन-ए, विटामिन-सी, जिंक और पोटैशियम से भरपूर जीरे (Cumin Seeds) का इस्तेमाल हेल्‍थ से जुड़ी कई समस्‍याओं को दूर करने के लिए किया जाता है।

इसे भी पढ़ें : खाने में शामिल करें गुड़, होंगे अनेक फायदे

पेट से जुड़ी कई समस्‍याओं से लेकर पीरियड्स पेन और ब्रेस्‍ट मिल्‍क बढ़ाने तक, जीरे (Jeera) के कुछ अविश्वसनीय उपयोग sangeetaspen.com इस आर्टिकल में दिए गए हैं।

इसे भी पढ़ें : अलसी क्या है,अलसी के फायदे और नुकसान

Cumin seeds (Jeera) Benefits 

Cumin Seeds (Jeera) in Hindi : जीरा सेहत के लिए बेहद जरूरी मसालों में से एक होता है. जीरा (Jeera)पोषक तत्वों से भरपूर होता है। इसमें कार्बोहाइड्रेट्स, प्रोटीन, हेल्दी फैट, डाइटरी फाइबर, नियासिन, फोलेट पाया जाता है। इसके अलावा जीरा (Cumin Seeds) विटामिन्स का भी अच्छा सोर्स होता है।

इसलिए जीरे का उपयोग हर घर में मसाले के रूप में किया जाता है। जीरा खाने का स्वाद बढ़ाता है, साथ ही शरीर के लिए भी फायदेमंद होता है। जीरा खाने से शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है, साथ ही पाचन में भी सुधार होता है।

पेट फूलने पर जीरे का सेवन (Cumin Seeds for Flatulence) – जीरा पेट की समस्याओं के लिए एक अच्छा उपचार है। जीरा या जीरा के पानी में आवश्यक तेल होते हैं जो आपकी लार ग्रंथियों को उत्तेजित करते हैं और भोजन के प्रभावी डाइजेशन में मदद करते हैं। यह (Cumin Seeds) गैस के दर्द के लिए सबसे फायदेमंद घरेलू उपचारों में से एक माना जाता है।

ब्रेस्‍ट मिल्‍क बढ़ाने के लिए जीरा (Cumin Seeds for Increase Lactation)- जीरा ब्रेस्‍ट मिल्‍क बढ़ाने में नई मांओं की बहुत मदद करता है। यह नुस्‍खा बहुत ही असरदार है और इसे मैंने भी आजमाया है। जी हां भारतीय व्यंजनों का एक अभिन्न हिस्‍सा जीरा, आपके ब्रेस्‍ट मिल्‍क को प्रोत्साहित करने के लिए एक बेहतरीन उपाय है। ये बीज आयरन से भरपूर होते हैं, जो नर्सिंग माताओं के लिए एक जरूरी मिनरल है।

पीरियड पेन के लिए जीरा (Cumin Seeds for Period Pain)-अगर आपको पीरियड्स में दर्द सताता है और आप दवाओं का सहारा नहीं लेना चाहती हैं तो जीरे (Cumin Seeds) का सेवन करें। एंटीस्पास्मोडिक और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों से भरपूर जीरा दर्द से राहत दिला सकता है।

इसे भी पढ़ें : amazing benefits of holy basil

खट्टी डकारों के लिए जीरा (Cumin Seeds for Indigestion)-जीरा डाइजेशन में भी मदद करता है, मल त्याग को उत्तेजित करता है और गैस्ट्रिक समस्याओं से राहत प्रदान करता है। खट्टी डकार, गैस या बदहजमी होने पर जीरे (Jeera)को भूनकर खाने से आराम मिलता है।

Cumin seeds (Jeera) Benefits and side effects
Cumin seeds (Jeera) Benefits and side effects

Cumin Seeds Side Effects in Hindi

पेट में जलन – गर्मी की वजह से पेट में जलन हो सकती है। जीरे (Cumin Seeds) की तासीर भी गर्म होती है, ऐसे में अगर आपको पेट में जलन महसूस हो तो जीरे को डाइट में शामिल करने से बचें। अधिक मात्रा में जीरा खाने से पेट में जलन बढ़ सकती है।

खट्टी डकार आने पर – खट्टी डकार आना गैस का लक्षण होता है। अगर आपको बार-बार खट्टी डकारे आ रही हैं, तो इसका मतलब है आपको गैस बनी हुई है। खट्टी डकार आने पर आप सिर्फ खाने में ही जीरे का उपयोग करें। इसके अलावा जीरे का सेवन करने से बचें, क्योंकि इससे समस्या बढ़ सकती है।

इसे भी पढ़ें : कलौंजी और प्याज के बीजों में क्या अंतर है

पीरियड्स के दौरान – पीरियड्स के दौरान जीरे का सेवन करना फायदेमंद होता है। लेकिन अगर इस दौरान आप जरूरत से ज्यादा जीरे का सेवन करते हैं, तो इस स्थिति में आपकी समस्या बढ़ सकती है। आपको उल्टी हो सकती है, हैवी ब्लीडिंग हो सकती है। इससे सेहत को नुकसान पहुंच सकता है।

प्रेगनेंसी में – प्रेगनेंसी या गर्भावस्था में भी जीरे का अधिक सेवन करने से बचना चाहिए। यह गर्भावस्था को प्रभावित कर सकता है। गर्भावस्था में अधिक जीरा खाना सेहत को नुकसान पहुंचा सकता है। इसलिए इसका सेवन सीमित मात्रा में ही करना चाहिए।

शुगर लेवल कम होने पर – डायबिटीज में चीनी से परहेज करने की सलाह दी जाती है। साथ ही जीरा खाने की सलाह दी जाती है। लेकिन अधिक मात्रा में जीरा खाने से शरीर में शुगर लेवल कम हो सकता है। अगर आपको पहले से ही शुगर लेवल कम है, तो एक्सपर्ट की राय पर ही जीरे का सेवन करें। जीरा खाने सीमित मात्रा में ही खाएं।

इसे भी पढ़ें : अलसी की चटपटी चटनी

पतले लोगों को – अगर आपको वजन काफी कम है, तो आपको जीरे का अधिक सेवन करने से बचना चाहिए। आप सिर्फ खाने में जीरा मिलाकर ले सकते हैं। लेकिन जीरा पानी या दही के साथ जीरा लेने से परहेज करें। क्योंकि जीरा वजन घटाता है, बॉडी से फैट को बर्न करता है। इसलिए अगर आप पहले से ही दुबले-पतले हैं, तो जीरे का सेवन आपको कम मात्रा में ही करना चाहिए।

जीरा की तासीर कैसी होती है? (Jeera ki Taseer Kaisi Hoti Hai)

जीरे का उपयोग सब्जी, दाल में तड़का लगाने के लिए किया जाता है। इसके अलावा जीरा कई छोटी-छोटी समस्याओं को दूर करने के लिए घरेलू उपाय के तौर पर इस्तेमाल में लाया जाता है। जीरे की तासीर गर्म होती है। सर्दियों में इसका सेवन करना काफी फायदेमंद होता है। लेकिन जिन लोगों की पित्त प्रकृति है, उन्हें जीरे का सेवन सीमित मात्रा में ही चाहिए।

jeera water benefits in hindi
jeera water benefits in hindi

FAQ :

Q : जीरा खाने से क्या नुकसान होता है?

Ans : अगर अधिक मात्रा में जीरे का पानी पिया जाए तो पाचन और गैस्ट्रिस से जुड़ी परेशानी शुरू हो सकती है.

Q : जीरा पानी पीने के नुकसान क्या है?

Ans : अधिक मात्रा में जीरे का पानी पीने से ब्लड शुगर लेवल कम होता है जिससे आपको कमजोरी और चक्कर आ सकते हैं. अधिक मात्रा में जीरे का पानी पीने से गर्भपात का खतरा हो सकता है. दरअसल इसकी तासीर गर्म होती है जो गर्भपात का कारण बन सकती है

Q : कच्चा जीरा खाने से क्या होता है?

Ans : कच्चा जीरा खाने से पाचन संबंधी विकार, अपच, गैस व पेट फूलने जैसी समस्या दूर होती है।

Q : जीरा अजवाइन सौंफ काला नमक खाने से क्या होता है?

Ans : जीरा, अजवाइन और काला नमक का मिश्रण शरीर में कार्बोहाइड्रेट और फैट के डाइजेशन में सहायता करता है। साथ ही इससे शरीर का मेटाबॉलिज्म भी बढ़ता है और पाचन तंत्र भी सही रहता है। काला नमक में एंटी-ओबेसिटी गुण होते है, जिससे वजन कम करने में भी मदद मिलती है।

Q : क्या जीरा को सुबह खाली पेट लिया जा सकता है?

Ans :सुबह उठकर खाली पेट इसका नियमित सेवन कई स्वास्थ्य समस्याओं को जड़ से खत्म कर सकता है. जीरे में पोटैशियम और आयरन जैसे पोषक तत्वों की भी उपलब्धता शरीर को लगातार काम करते रहने के लिए मदद करते हैं

Q : रोज जीरा खाने से क्या होता है?

Ans : जीरा एक बेहतरीन एंटी-ऑक्सिडेंट है और साथ ही यह सूजन को करने और मांसपेशियों को आराम पहुचांने में कारगर है.

Q : जीरा कब खाना चाहिए

Ans : कमजोर पाचन तंत्र वाले लोगों को बेहतर पाचन और पेट फूलना कम करने के लिए सुबह खाली पेट जीरे का सेवन जरूर करना चाहिए।

Q : जीरा ठंडा होता है या गरम

Ans :जीरे की तासीर गर्म होती है। सर्दियों में इसका सेवन करना काफी फायदेमंद होता है।

Q : जीरा खाने से क्या होता है

Ans :जीरा (benefits of cumin), शरीर के लिए कई प्रकार से फायदेमंद है। जीरा (jeera) एंटीऑक्सीडेंट और-इंफ्लेमेटरी गुणों से भरपूर है जो कि कई छोटी-मोटी बीमारियों से बचाव में मदद करता है।

जीरा सेहत के लिए काफी फायदेमंद होता है। जीरे में मौजूद पोषक तत्व शरीर के लिए काफी जरूरी होते हैं, इससे सेहत को कई लाभ भी मिलते हैं। लेकिन लोगों को जीरे का सेवन कम मात्रा में ही करना चाहिए।

ताकि वे हमेशा स्वस्थ और हेल्दी रहें। हालांकि, यदि आपको हेल्‍थ से जुड़ी अन्‍य कोई समस्‍या है तो इसे लेने से पहले एक बार एक्‍सपर्ट से सलाह जरूर कर लें। डाइट से जुड़ी ऐसी ही और जानकारी के लिए sangeetaspen.com से जुड़ी रहें।

Leave a Reply