Side Effects of drinking water in standing position जाने कब, कैसे और कितना पानी पीना चाहिए 

हेल्थ
Side Effects of Drinking Water in Standing position. Do Not Drink Water In Standing Position जाने कब, कैसे और कितना पानी पीना चाहिए 
Side Effects of Drinking Water in Standing position

Side Effects of Drinking Water in Standing position. Do Not Drink Water In Standing Position जाने कब, कैसे और कितना पानी पीना चाहिए 

हमारे शरीर के सभी अंग ठीक से काम करते रहें इसके लिए बॉडी में पानी का होना बहुत जरूरी है। खासतौर पर गर्मियों में पसीना ज्यादा निकल जाने से डिहाइड्रेशन की समस्या हो सकती है। इससे कई तरह की परेशानियां हो सकती हैं। शरीर में बैक्टीरिया, वायरस जैसे इन्फेक्शन होने पर भी डॉक्टर्स ज्यादा से ज्यादा पानी पीने की सलाह देते हैं।

Advertisement

हर दिन कम से कम 8 से 10 गिलास पानी जरूर पीना चाहिए। पर्याप्त मात्रा में पानी पीने से शरीर का मेटाबॉलिज्म अच्छा रहता है, जिससे आपका पाचन सही तरीके से होता है। पानी पीते रहने से शरीर में फैट जमा नहीं होता। हमारा शरीर 75 प्रतिशत पानी से बना है और पानी ही शरीर के अलग-अलग हिस्सों तक पोषक तत्वों को पहुंचाने में मदद करता है। साथ ही पानी पीते रहने से आप ज्यादा खाने की आदत से खुद को दूर रख सकते है।

आज की लाइफ स्टाइल में खड़े होकर पानी (Water)पीने का चलन हो गया है, तो कुछ के लिए ये मजबूरी भी है. किसी को काम की जल्दबाज़ी है तो किसी को पानी पीने के लिए बैठने में आलस आता है. केवल ऑफिस या पब्लिक प्लेस ही नहीं बल्कि घरों में भी लोग खड़े होकर ही पानी पीने को महत्त्व (Importance) देते हैं.

अगर आप भी उनमें से हैं, तो संभल जाइए, माना की पानी हमारे शरीर के लिए बहुत जरूरी है बिना पानी हम खाने में से न्यूट्रिएंट् को भी Observe नहीं कर सकते मगर पानी इतना जरूरी और फायदेमंद है तो इसका मतलब यह नहीं कि इसको जब चाहे जैसे चाहे पी ले खासकर खड़े होकर पानी (Water) पीने सेहत के लिए नुकसानदेह (Harmful)साबित हो सकता है.

इसका सबसे ज्यादा बुरा प्रभाव आपके लिवर पर बुरा असर पड़ता है।अभी तक आपने केवल पानी पीने के फायदे ही सुने होंगे लेकिन आज sangeetaspen.com के माध्यम से आप खड़े होकर पानी (Water) पीने के हमारी सेहत पर क्या – क्या नुकसानदेह (Harmful) है जानेगे साथ है कब और कितना पानी पीना चाहिए इन सभी विषयो पर भी जानेगे

यह बात कम लोगों को पता होती है कि व्यक्ति जिस पोजीशन में पानी पीता है उसका भी अच्छा और बुरा असर उसकी सेहत पर पड़ता है। आयुर्वेद में खड़े होकर पानी पीने की मनाही है। इस तरह पानी पीने से एक तो व्यक्ति की प्‍यास पूरी तरह नहीं बुझती और दूसरा उसके शरीर के कई महत्‍वपूर्ण अंगों पर भी बुरा असर पड़ता है। आइए जानते हैं खड़े होकर पानी पीन के ऐसे ही कई बड़े नुकसान।

Side Effects of Drinking Water in Standing position. Do Not Drink Water In Standing Position जाने कब, कैसे और कितना पानी पीना चाहिए 
जाने कब, कैसे और कितना पानी पीना चाहिए 
हर किसी के शरीर के हिसाब से पानी की जरूरत सबकी अलग-अलग हो सकती है लेकिन पानी पीने का सही तरीका जानना बेहद जरूरी है ताकि आप बीमार न पड़ें।

बैठकर पिएं पानी

हालांकि इस बात का कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है लेकिन आयुर्वेद में ऐसा माना जाता है कि खड़े होकर पानी पीने के नुकसान हो सकते हैं। बताया जाता है कि जब हम खड़े होकर पानी पीते हैं तो शरीर में तरल पदार्थों का बैलेंस बिगड़ जाता है। ऐसा होने पर जोड़ो से जुड़ी समस्या जैसी समस्याएं हो सकती हैं। हालांकि डॉक्टर्स की सहमति इस बात पर नहीं है।

ग्लास से पिएं पानी

अक्सर लोग बॉटल से डायरेक्ट पानी पी लेते हैं। घर के बड़े इसको लेकर टोकते भी हैं पर कोई ध्यान नहीं देता। बोतल से पानी पीना ठीक नहीं। हमें हमेशा ग्लास में पानी लेकर घूंट-घूंट करके पीना चाहिए। इसकी एक वजह यह बताई जाती है कि जब हम बॉटल से डायरेक्ट पानी पीते हैं

तो एक-दो घूंट में उस वक्त के लिए गला तर हो जाता है और हम पानी कम पीते हैं। अगर आप ग्लास में लेकर पानी पीते हैं तो पूरा ग्लास खत्म करते हैं और शरीर में ज्यादा पानी पहुंचता है। पानी का एक छोटा सिप लें, इसको निगल लें फिर सांस लें। आयुर्वेद में पानी पीने का ये सही तरीका माना जाता है।

ना पिएं ज्यादा ठंडा पानी

बहुत ठंडा पानी पीने से आपके डाइजेशन की प्रक्रिया डिस्टर्ब होती है। गुनगुना पानी पीने के कई फायदे हैं। पानी ना ज्यादा ठंडा, ना ज्यादा गर्म बल्कि कमरे के तापमान जितना होना चाहिए। जब आपको प्यास लगे तब पानी पिएं। रोजाना ढाई से तीन लीटर पानी पीने का लक्ष्य रखें।

खाना खाने के तुरंत बाद क्यों नहीं पीना चाहिए पानी

माना जाता है कि खाना खाने के तुरंत बाद पानी पीने से व्यक्ति की पाचन क्रिया पर बुरा असर पड़ता है। खाना खाने के तकरीबन आधे से एक घंटे तक पानी नहीं पीना चाहिए। दरअसल, गर्म खाने के बाद आप जैसे ही ठंडा पानी पीते हैं, शरीर में खाया हुआ आयली खाना जमने लगता है। ऐसा करने से पाचन क्रिया कमजोर होती है

और ये सेहत के लिए नुकसानदेह होता है। वहीं अगर तीखा खाना खा रहे हैं तो घूंट-घूंटकर पानी पिएं। इससे आपकी पाचन शक्ति भी कम हो जाती है। बाद में यह फैट में भी तबदील हो जाता है। इसलिए खाने के बाद गर्म पानी पीने की सलाह दी जाती है

घुटने में हो दर्द हो सकता

खड़े होकर पानी पीने से आपके घुटनों में दर्द की शिकायत हो सकती है. जब आप खड़े होकर पानी पीते हैं तो पानी आपके शरीर से होकर घुटनों की ओर जाता है और वहां जमा हो जाता है. जिसकी वजह से घुटने की हड्डी पर बुरा बुरा असर पड़ता है. इसके साथ ही शरीर के अन्य जोड़ों में भी दर्द की शिकायत हो सकती है.

हर्निया की शिकायत हो सकती

खड़े होकर पानी पीने की आदत की वजह से हर्निया की शिकायत हो सकती है. खड़े होकर पानी पीने से पेट के निचले हिस्से में दबाव बनता है. इसकी वजह से पेट के आस-पास के अंगों को नुकसान होने की संभावना होती है.

किडनी पर असर हो सकता

खड़े होकर पानी पीते समय पानी बिना फिल्टर हुए पेट के निचले हिस्से की ओर तेजी से बढ़ता है. इस वजह से पानी में जमा अशुद्धियां पित्ताशय में जमा होने का खतरा रहता है. जो किडनी के लिए नुकसानदेह हो सकता है.

शरीर से एसिड नहीं निकल पाता

शरीर में एसिड बनना सामान्य बात है. लेकिन खड़े होकर पानी पीने से एसिड शरीर से बाहर नहीं निकल पाता है और शरीर में इसका स्तर कम नहीं होता है. जबकि बैठ कर और धीरे-धीरे पानी पीने से ख़राब एसिड शरीर से बाहर निकल जाता है और शरीर में एसिड का स्तर बढ़ता भी नहीं है.

अपच की समस्या हो सकती

अपच की समस्या भी खड़े होकर पानी पीने की वजह से हो सकती है. दरअसल जब पानी बैठ कर पिया जाता है तो मसल्स और नर्वस सिस्टम रिलैक्स हो जाती हैं और पानी आसानी के साथ पच जाता है. साथ ही पानी सही तरीके से पचकर शरीर के सभी सेल्स तक पहुंचता है. जबकि खड़े होकर पानी पीने से ऐसा नहीं होता है.

ऑक्सीन सप्लाई रुक जाती है

खड़े होकर पानी पीने से फूड और विंड पाइप में होने वाली ऑक्सीजन की सप्लाई रुक जाती है। जिसका असर न केवल फेफड़ों पर बल्कि दिल पर भी पड़ता है।

प्यास नहीं बुझती

खड़े होकर पानी पीने से भले ही पेट भर जाए लेकिन व्यक्ति की प्यास नहीं बुझती है। प्यास बुझाने के लिए बैठकर पानी के छोटे-छोटे घूंट पिएं।

Side Effects of Drinking Water in Standing position. Do Not Drink Water In Standing Position जाने कब, कैसे और कितना पानी पीना चाहिए 
Do Not Drink Water In Standing Position

बैठकर पानी पीने के फायदे

  • पानी बैठकर पीने से पानी सही तरीके से पचकर शरीर के सभी सेल्स तक पहुंचता है।
  • व्यक्ति की बॉडी को जितने पानी की अवश्यकता होती है उतना पानी सोखकर वह बाकी का पानी और टॉक्सिन्स यूरीन के जरिए शरीर से बाहर निकल देता है।
  • गरम पानी पीने से अतिरिक्त चर्बी नहीं बनती और वजन घटता है।
  • बैठकर पानी पीने से खून में हानिकारक तत्व नहीं घुलते बल्कि ये खून साफ करते हैं।
  • घूंट-घूंटकर पानी पीने से पेट में एसिड का स्तर नहीं बढ़ता बल्कि खराब एसिड शरीर से बाहर निकल जाता है।

आयुर्वेद के अनुसार व्यक्ति जिस पानी को पीने के लिए उपयोग करें उसका तापमान शरीर के तापमान से ठंडा नहीं होना चाहिए। गर्मियों में बाहर से आते ही फ्रिज का ठंडा पानी पीने से शरीर को नुकसान पहुंच सकता है। ऐसे में व्यक्ति को हमेशा न ज्यादा ठंडा और न बर्फ वाला पानी पीना चाहिए। पीने के लिए हमेशा नॉर्मल पानी का ही उपयोग करें।

Side Effects of Drinking Water in Standing position. Do Not Drink Water In Standing Position जाने कब, कैसे और कितना पानी पीना चाहिए 
Drink Water In Standing Position

सुबह उठने के बाद 2 गिलास पानी पीना चाहिए। आयुर्वेद के मुताबिक सुबह खाली पेट पानी पीना काफी फायदेमंद होता है। ऐसा करने से बॉडी से टॉक्सिन्स बाहर निकल जाते हैं और शरीर की सफाई अच्छी तरह हो जाती है। साथ ही सुबह खाली पेट पानी पीने से कब्‍ज में भी राहत मिलती है।

इसके अलावा खाना खाने से करीब 30 मिनट पहले पानी पीना चाहिए, इससे खाना आसानी से पचता है। खाने के साथ खाने के तुरंत बाद पानी न पिएं। खाना खाने के आधे घंटे बाद ही पानी पीना सेहत के लिए फायदेमंद है।

साथ ही साथ पानी को एक बार गट-गट करके पीने की बजाए सिप-सिप कर धीरे-धीरे पीना चाहिए। इसका कारण यह है कि जब हम पानी पीते हैं, तो हमारी लार भी पानी में मिलकर अंदर जाती है। पानी को धीरे-धीरे पीने से पाचन तंत्र को मजबूत करने में मदद मिलती है।

पानी तो आप किसी भी बर्तन में पी सकते हैं लेकिन यदि आप तांबे के किसी भी बर्तन में रखे हुए बासी पानी को पी सकते हैं तो उसके फायदे बहुत अच्छे होते हैं इसीलिए तांबे के बर्तन में आप रात को पानी डालकर अपने पास रख कर सोए और सुबह उठकर उसको पिए और इस तांबे के बर्तन का पानी किसी और धातु के बर्तन में डालकर मत पिए हैं

इससे कोई फायदा नहीं होगा आयुर्वेद में तांबे के बर्तन में रखा बासी पानी अमृत के समान माना गया है तांबे के बर्तन में आप 3 महीने तक लगातार पानी पिए और एक महीना बंद करके देखें इसे आप का बहुत फायदा होगा

यह भी पढ़े : Copper water uses health benefits and side effects of in hindi | Tambe Ke Bhartan Ka Pani

क्या स्वस्थ इंसान को भी दिन में 8 गिलास पानी पीना चाहिए ?

रोज 8 गिलास पानी पीने के पीछे कोई वैज्ञानिक तथ्य नहीं है। यह जरूरी नहीं कि आप 8 गिलास पानी 8 बार ही पिएं। अनेक बुद्धिजीवियों ने इस बात को प्रामाणिकता के साथ कहा जा सकता है कि जो लोग स्वस्थ हैं, उन्हें जरूरत से ज्यादा पानी नहीं पीना चाहिए।

हम रोज तरल पदार्थ के रूप में चाय, कॉफी या कोल्ड ड्रिंक लेते हैं। इसमें कैफीन की मात्रा अधिक होती है। शरीर में कैफीन की मात्रा अधिक होने पर ब्लड की मात्रा कम हो जाती है। ब्लड में कैफीन की मात्रा कम करने के लिए पानी बेहद जरूरी है। अगर आप दिन में 4 कप चाय या कॉफी पीते हैं तो कम से कम 8 गिलास पानी जरूर पिएं। इससे शरीर का सिस्टम सही रहता है।

वयस्क लोगों को दिन में 2.5 लीटर पानी पीना चाहिए। कैलोरी को शरीर में घुलने के लिए पर्याप्त पानी का होना जरूरी है। शरीर से पसीना निकलने, एक्सरसाइज करने, डायरिया और किडनी में स्टोन होने पर पानी की कमी हो जाती है। ऐसे में, जीवन को भी खतरा हो सकता है। शरीर में पानी की कमी होने पर सबसे ज्यादा प्रभाव ब्लैडर पर पड़ता है।

FAQ :

Q : 24 घंटे में कितना पानी पीना चाहिए

Ans : कम से कम 2 लीटर पानी पीने की बात कही जाती है।

Q : सुबह कितना पानी पीना चाहिए

Ans : सुबह 2 गिलास पानी पीना चाहिए

Q : टॉयलेट या शौच करने के कितने देर बाद पानी पीना चाहिए?

Ans : पेशाब या शौच करने के बाद आपको किडनी और पेशाब से जुड़ी बीमारियों का शिकार होने से बचने के लिए लगभग 10 से 15 मिनट तक पानी नहीं पीना चाहिए

One thought on “Side Effects of drinking water in standing position जाने कब, कैसे और कितना पानी पीना चाहिए 

  • Thanks , I have just been looking for information about this topic for a
    while and yours is the best I have discovered till now. But,
    what concerning the conclusion? Are you positive concerning the supply?

Leave a Reply