Election West Bengal 2021

न्यूज़
Election West Bengal 2021
Election West Bengal 2021

इस बार कोलकाता चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने अपनी पूरी ताकत झोक दी है। अब इस चुवाव पर पुरे देश की नजर है।

294 seats in the West Bengal state assembly and  148 seats needed for a majority. (West Bengal state assembly 294 सीट है और बहुमत के लिए 148 सीटों की जररूत है)

लेफ्ट के गढ़ कहे जाने वाले वेस्ट बंगाल में 30 April 1977 से 20 June 1977 (51 days) President’s rule के बाद इंडियन नेशनल कांग्रेस को हरा कर बंगाल में 21 June 1977 Communist Party of India (Marxist) (Left Front) ने Jyoti Basu के नेतृत्व में वेस्ट बंगाल में सरकार बनाई इसके बाद 5 November 2000

Advertisement
तक Jyoti Basu west bangaal के मुख्यमंत्री रहे।

ऐसा कहा जाता है की इंद्रा गांधी ने Communist Party of India (Marxist) (Left Front) को हटाने के लिए बंगाल में पूरी ताकत झोक दी थी पर वह Left Front को उखाड़ फैकने में असफल रही लगभग 34 सालो तक Left Front ने बंगाल में राज किया। 

Election West Bengal 2021

20 May 2011 में  Mamata Banerjee माँ माटी मानुष के नारे के साथ Left Front को उनके ही गढ़ में हराने में सफल हुई । Mamata Banerjee की पार्टी Trinamool Congress (TMC) 38.93% वोट परसेंट के साथ 184 सीट जितने में सफल रही थी इस जीत में की सिंगुर मूवमेंट बड़ी भूमिका थी। 

Communist Party of India (Marxist) (Left Front) (CPI) को इस इलेक्शन बड़ा झटका लगा वह केवल 40 सीटों पर सिमट गयी उसका वोट परसेंट 7.05% घट कर केवल 30.08% ही रहा गया था  इस 7.05% परसेंट का असर ऐसा था की उसको 136 पर हार का सामना करना पड़ा था।

इससे पहले साल 2006 के बंगाल प्रदेश इलेक्शन में वह 37.13% के साथ 143 सीट जितने में सफल रही थी।

2011 तक बीजेपी का West Bengal में कोई जनाधार नहीं था और 2016 में बीजेपी का जनाधार 10% था अब ABP-C-Voter poll के अनुसार 38% पर पहुंचने की सम्भावना है। 

मैं यह वोट परसेंट आपको इसलिए बता रही हूँ क्योकि ABP-C-Voter poll ने अपने एग्जिट पोल में Trinamool Congress (TMC) को 294 विधान सभा सीटों में 148 से 164 सीटों पर जीत हासिल हो सकती है वही भारतीय जनता पार्टी को 92 से 108 सीट मिलने का अनुमान है।

अगर आप वोट परसेंट की बात करे तो Trinamool Congress (TMC) को ABP-C-Voter poll के अनुसार 43% मिलने का अनुमान है। TMC को पिछले चुवाव के मुकाबले लगभग २% वोट शेयर के नुक्सान की बात कही गयी है 2016 में TMC का वोट पर्सेंटेज 44.91% था और उसने 184 सीटों पर जीत हासिल की थी।

ABP-C-Voter poll के अनुसार भारतीय जनता पार्टी को केवल 38% वोट मिलने की संभावना है। और सीटों की बात करे तो 92 से 108 सीट पर जीत सकती है। इस Exit poll के बाद मेरी बात west bengal के एक वोटर से हुई उनके अनुसार इस बार बंगाल चुवाव में साइलेंट वोटर्स पूरी राजनीत को बदल सकता है।  

उनकी बात काफी हद तक सही भी लगती है जिस तरह Trinamool Congress (TMC) के नेता पार्टी छोड़ रहे है वह इसी तरफ इशारा करते है कि इन अवसरवादी नेताओ को अब Trinamool Congress (TMC) में अपना भविष्य नहीं दिख रहा है।

इस सूचि में जो नया नाम जुड़ा है वह मिथुन चक्रवर्ती का है Left (CPI) से अपनी राजनीती की सुरुवाद करने वाले मिथुन TMC होते हुए आज BJP में शामिल हो रहे है।

Silent voters ?

अब समझते है उस साइलेंट वोटर्स को जो अपने मताधिकार को सबके सामने उजागर नहीं करते है। इस में हम  महिलाओ का वोट बहुत मायने रखता है जिस पर राजनितिक पार्टिया ज्यादा ध्यान नहीं देती है।

ECI (Election Commission of India) के अनुसार 8,32,94,960 वोटर आने वालो West Bengal चुनाव में मतदान करेंगे इसमें 3.39 करोड़ महिला मतदाता है।

Election West Bengal 2021

इसका असर हम विहार इलेक्शन में देख चुके है जहां पर Anti Incompetence के बाद भी NDA विहार विधान सभा में अपनी सरकार बचाने में सफल हो पायी थी महिलाओ ने मीडिया से वोटिंग पर खुल कर विचार रखे थे।

इसका मुख्य कारण महिलाओ के लिए लायी गयी योजनाए और कानून है। इस सूची में  तीन तलाक कानून, शौचालयों का निर्माण और उज्जवला योजना मुख्य है।

तीन तलाक कानून – (यह कानून मुस्लिम महिलाओ के लिए किसी वरदान से कम नहीं है) 19 सितबंर, 2018 से  देश में तीन तलाक कानून लागू हुआ था इस कानून के अस्तित्व में आने के बाद से अगर कोई व्यक्ति एक बार में अपनी पत्नी को मौखिक, लिखित या किसी अन्य माध्यम से तीन तलाक देता है तो वह अपराध की श्रेणी में आता है।

उज्जवला योजना – (उज्जवला योजना सरकार द्वारा सभी आर्थिक रूप से कमजोर ग्रहणीयों को गैस सिलेंडर उपलब्ध करवाने के लिए आरंभ की गई थी।)

वही दूसरी ओर बंगाल कि CM ममता बनर्जी भी एक महिला है। और इस बार उनकी सीधी टक्कर बीजेपी के साथ है अन्य पार्टिया जैसे कांग्रेस, लेफ्ट इस लड़ाई में पिछड़ते नजर आ रहे है।

Polls will be held in 8 phases in West Bengal, on the following dates:

1st phase – March 27
2nd phase – April 1
3rd phase – April 6
4th phase – April 10
5th phase – April 17
6th phase – April 22
7th phase – April 26
8th phase – April 29

आपको को ये पोस्ट कैसे लगी मुझे जरूर कमेंट कर बताये

Leave a Reply