Farmer Protest: किसान नेताओं ने दी थी हत्या करने की धमकी: योगेश सिंह का खुलासा

Top News
Farmer Protest: Farmer leaders had threatened to kill, Yogesh Singh nakabposh
Farmer Protest: Farmer leaders had threatened to kill, Yogesh Singh nakabposh
image by:opindia

Farmer Protest: किसान नेताओं ने दी थी हत्या करने की धमकी,योगेश सिंह का खुलासा पुलिस को बदनाम करने की रची गई थी साजिश

Advertisement

Farmer Protest : कृषि कानूनों को वापस कराने की जिद पर लगबगाग 2 माह से बैठे कुछ वामपंथी किसान संगठन इस धरने को छोड़ने के लिए त्यार ही नहीं है इसके पीछे की वजह अब सभी स्पस्ट रूप से जान चुके है इन कुछ किसान संगठनो का मकशद है किशानो की आड़ ले कर मोदी सरकार को घुटनो पर लाना लेकिन अब देस की जनता समझदार हो गयी है

और इन खालिस्तानियों को जान चुके है किसान आंदोलन में शामिल ये किसान एक के बाद एक इमोशनल ब्लॅकमेलिन प्रोपोगेंडा ले कर आ रहे है पर इनके स्क्रिप्ट राइटर की मिस्टेक से इन किशानो का प्रोपोगेंडा फेल हो जाता है सायद Script confuse रहता है की क्या करना है क्युकी इस बार भी कुछ वामपंथी किसान एक प्रोपोगेंडा सामने लाये और अब इसकी पोल सबके सामने खुल चुकी है

दरसल दिल्ली के सिंधु बॉर्डर पर कुछ लोगो ने एक व्यक्तित्व को सूटर बता कर मीडिया के सामने पेस किया पर अब उस व्यक्ति ने मीडिया को सारा सच बता दिया है साथ ही उस सूटर ने के सनसनीख़ेज़ आरोप भी लगाए है जबकि मिडिया से बात करते हुए कुछ किसानो ने ये कहा था

की सूटर ने दिल्ली पुलिस पर बहुत गंभीर आरोप लगाए है उसका कहना है की 26 जनवरी को कुछ गलत होने पर मंच पर बैठे 4 किसान नेताओ को गोली मारने के आदेश दिए है जिसके बाद लोगो ने कहा था की कथित सूटर को पुलिस 2,4 डंडे मारे तो सारा सच बाहर आ जाएगा पर इस कथित सूटर ने डंडे खाने से पहले ही साजिस रचने वालो का सारा कच्चा चिटठा खोल दिया

हरियाणा के सोनीपत के रहने वाले इस सक्श ने जिसका नाम योगेश सिंह ने बताया की वो 19 जनवरी दिल्ली में अपने रिस्तेदार के घर आया था । और दिल्ली में पैदल आते हुए । कुछ लोगो ने उसे अगवा कर लिया जहा पर उसकी पिटाई की गयी और उसमे अगवा किये लोगो ने दबाव बनाया की जैसा जैसा वो लोग बोले वही सब मिडिया के सामने बोलना है ।

Farmer Protest :  किसानों’ ने कथित तौर पर उसे चेतावनी भी दी कि यदि वह उनके आदेश का पालन नहीं करेगा तो उसे गंभीर परिणाम भुगतने होंगे। अगले दिन भी, ‘किसान’ नेताओं ने उसे बेरहमी से पीटा और धमकी दी कि अगर वह उनके निर्देशों का पालन करने के लिए सहमत नहीं हुआ तो उसे मार देंगे।


हालांकि योगेश सिंह का कहना है । कि उसके मन में किसान विरोध या हरियाणा पुलिस के खिलाफ कुछ भी नहीं है। योगेश ने खुलासा किया कि कुछ प्रदर्शनकारी दुर्व्यवहार करने का आरोप लगाकर उसे टेंट में ले गए, जहाँ उन्होंने उसे यह कहते हुए हरियाणा पुलिस को झूठा फँसाने के लिए मजबूर किया कि उसने चार नेताओं को मारने की साजिश रची थी

योगेश ने बताया की अगवा किय्रे लोगो ने उसे पीटा और शराब भी पिलाई योगेश ने दावा किया है की उसके साथ कुछ और युवक भी पकडे गए है। अब आप देखा लिजीये किशानो की आड़ ले कर कैसा खेल खेला जा रहा है ।

इससे भी बड़ी बात गुरूवार को किसान संगठनो ने ही खुद योगेश को मिडिया के सामने पेश किया और कहा की उसे किशानो की टेक्टर रैली में फायरिंग करने के लिए दिल्ली में भेजा गया था ।

किसान नेताओं ने अपने दावे को विश्वसनीय बनाने के लिए योगेश सिंह के फोन में उन चार ‘किसान’ नेताओं की तस्वीरें भी डाली, जिन्हें मारने की ‘नकाबपोश शूटर’ ने साजिश रची थी।

हरियाणा पुलिस ने उसके मोबाइल फोन से चार किसान नेताओं (Farmer Protest) बलबीर सिंह राजेवाल, बलदेव सिंह सिरसा, कुलदीप संधू और जगजीत सिंह की तस्वीरें बरामद की हैं। ये तस्वीरें ‘किसान नेताओं’ द्वारा डाली गई थी, जिन्होंने उसे प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान झूठ बोलने की धमकी दी और प्रताड़ित किया।


जिसके बाद योगेश ने कह की उसे राय थाने के S.H.O की और से ऐसा करने को कहा गया था हालांकि इसके बादराय थाने के पुलिस अधिकारियो ने कहा है की जिस प्रदीप नाम के S.H.O का नाम ले कर योगेश तमाम दावे कर रहा है । उस नाम का कोई S.H.O राय थाने में तैनात है ही नहीं ।

शुक्रवार देर रात सिंघु सीमा पर प्रेस कॉन्फ्रेंस में ‘नकाबपोश’ योगेश सिंह को मीडिया के सामने पेश करने के बाद ‘ किसान’ नेता उसे पुलिस के सामने पेश करने से हिचक रहे थे और इसके बजाय हरियाणा पुलिस से उसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं करने की माँग कर रहे थे। उन्होंने पुलिस से तथाकथित किसानों के खिलाफ हमले की कथित साजिश करने वाले के लिए किसी तरह के कठोर कदम उठाने से मना किया।

जिससे साफ़ होता है की कथित किसान नेता और वामपंथियों की फौज झूट की आड़ में अपना मकसद पूरा करने में लगी हुयी है हालांकि इन किसान नेताओ और वामपंथियों का यह मकसद कभी भी पूरा नहीं होगा ।

Leave a Reply