Food Politics

न्यूज़
food politics

देश कोरोना वायरस से लड़ रहा है और इस स्थिति में भी दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल राजनीती कर रहे है  केजरीवाल अकसर मिडिया में अपने कामो की तारीफ करते नहीं थकते और दावा कर रहे है की वह दिल्ली में प्रतिदिन 10 से 12  लाख लोगो को खाना खिला रहे है।

Advertisement

आप कहंगे यह तो अच्छी बात है इस मुश्किल घड़ी में इससे बेहतर और क्या हो सकता है किन्तु केजरीवाल केवल मीडिया में यह अकड़े प्रचारित कर रहे है इसकी जमीनी हकीकत कही दिखाई नहीं देती है।

27 मार्च 2020 केजरीवाल दिल्ली के उपमुख्य मंत्री मनीष सिसोदिया का एक ट्वीट को रीट्वीट करते है जिसमे मनीष दावा करते है की उन्होंने 2 लाख लोगो के खाने की व्यवस्था की है।

उसके अगले दिन 28 मार्च 2020 को फिर केजरीवाल दावा करते है की हमारी दिल्ली में कोई भूखा नहीं सोएगा। आज से हम 568 स्कूल और 238 शेल्टरों द्वारा रोजाना 4 लाख लोगों को भोजन खिलाने के लिए तैयार है।

केजरीवाल सरकार के भोजन वितरण की घोषणा के बाद जिन स्थानों पर केजरीवाल सरकार भोजन उपलब्ध करा रही थी उन स्थानों पर Lockdown के कारण अचानक लोगो की संख्या बढ़ने लगी कई जगहों पर 1000 लोगो की खाने की व्यवस्था की गयी थी तो वहां पर 7000 तक लोग पहुंचने लगे थे। 

जानकारों के अनुसार यही वह कारण था जिसके चलते रात में लाउड स्पीकर में अनाउंसमेंट किया गया 28 मार्च को प्रवासी शहरियों ने दिल्ली से पलायन शुरू कर दिया था और लोगो को DTC की बसों में बैठा कर आनंद विहार में छोड़ा गया, 

दिल्ली से लाखो लोगो ने पलायन किया जिनमें उत्तर प्रदेश, हरियाणा, राजस्थान और बिहार के लोग शामिल थे जो सैकड़ो किलोमीटर पैदल ही भूखे प्यासे अपने घरो को चल पड़े।

https://twitter.com/Real__Akash/status/1246455548876222465

31 मार्च 2020 केजरीवाल दावा करते है हम भोजन वितरण केंद्रों की संख्या बढ़ा कर 2700 कर रहे हैं। अभी हम रोज़ 4 लाख लोगों को भोजन करा रहे है, कल से हम 10-12 लाख लोगों को दो वक्त का खाना खिला पाएँगे।

जब प्रवासी शहरियों का पलायन शुरू होता है तो लोग यह मांग उठाते है की आखिर 4 लाख लोगो का यह खाना कहाँ बनाया जा रहा है सोशल मीडिया पर इसकी मांग उठने लगती है ठीक इसके बाद आज तक पर एक न्यूज़ प्रकाशित होती है ” रोज बनता है 10 हजार लोगो का खाना कैसा है केजरीवाल कम्युनिटी किचन ?”

इस न्यूज़ के प्रकशित होने के बाद लोग इसके झूठ होने का दावा करते है यह सामने आता है की ये खाना झंडेवालान मंदिर ट्रस्ट और सेवा भारती के सदस्यों द्वारा कोरोना प्रभावित लोगो के लिए तैयार किया जा रहा था,जब लोग इसका विरोध करते है तो यह न्यूज़ आज तक द्वारा सही कर दी जाती है।

aap food kitchen

लोग इन दावों को भी दिल्ली में उनके पूर्व में किये गए वादे CCTV और पूरी दिल्ली को फ्री इंटरनेट जैसे वादे जो आज तक पुरे नहीं हुए से जोड़ कर देख रहे है  

केजरीवाल सरकार गलत आंकड़े देकर दिल्ली की आम जनता से एक बार फिर झूठ बोल रही है और जो खाना केजरीवाल सरकार द्वारा लोगो को उपलब्ध करवाया जा रहा है लोग उसकी क्वालिटी पर सवाल उठ रहे है।

हम संकट में है मजबूर है भिखारी नहीं 

अरविंद केजरीवाल से अनुरोध है की इस मुश्किल समय में देश की जनता की सेवा निस्वार्थ भाव से करे।

कई राज्य सरकारे राहत सामग्री में अपनी सरकार के विज्ञापनों के साथ लोगो तक पंहुचा रहे है इनमे हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी शामिल है। 

2 comments

Leave a Reply