Ganesh Chaturthi 2022 Puja Vidhi | Ganesh Chaturthi Muhurat in hindi | Ganesh Chaturthi 2022 me kab hai | Ganesh Chaturthi ka shubh muhurat | Ganesh Chaturthi Murti Sthapna Vidhi

आस्था
Ganpati Puja Vidhi in Hindi, गणेश पूजन विधि
Ganpati Puja Vidhi in Hindi, गणेश पूजन विधि

Ganesh Chaturthi 2022 Puja Vidhi | Ganesh Chaturthi Muhurat in hindi | Ganesh Chaturthi 2022 me kab hai | Ganesh Chaturthi ka shubh muhurat | Ganesh Chaturthi Murti Sthapna Vidhi

Ganesh Chaturthi 2022 : हिंदू धर्म में बप्पा को प्रथम पूजनीय देवता माना जाता है। इन्हें विघ्नहर्ता के नाम से भी पुकारा जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार बप्पा के खुश रहने पर व्यक्ति के ऊपर आई सारी परेशानियां हमेशा के लिए खत्म हो जाती है। इस बार गणेश चतुर्थी महोत्सव भारत में 31 अगस्त को मनाया जा रहा है।

Advertisement

मान्यता है, कि इसी दिन भगवान श्री गणेश का जन्म हुआ था। यानी आज से गणेशोत्सव (Ganesh Chaturthi) की शुरुआत हो गई है। वैसे तो ये पर्व पूरे भारत में मनाया जाता है लेकिन इसकी खास रौनक महाराष्ट्र में देखने को मिलती है।

गणेश चतुर्थी का शुभ मुहूर्त (Ganesh Chaturthi ka shubh muhurat)

पंचांग के अनुसार भाद्रपद शुक्ल पक्ष चतुर्थी तिथि की शुरुआत 30 अगस्त 2022 को दोपहर 03 बजकर 34 मिनट से शुरू होकर 31 अगस्त 2022 को दोपहर 03 बजकर 23 मिनट पर खत्म हो जाएगा।

हरतालिका तीज (Hartalika Teej) के अगले दिन से गणेश चतुर्थी (Ganesh Chaturthi 2022) पर्व की शुरुआत हो जाती है। ये पर्व पूरे 10 दिनों तक चलता है। साल 2022 में इस उत्सव की शुरुआत 30 अगस्त 2022 से होने जा रही है और इसका समापन Friday, 9 September को अनंत चतुर्दशी (Anant Chaturdashi) के दिन होगा। जिसे गणेश विसर्जन (Ganesh Visarjan) के नाम से भी जाना जाता है।

यह भी पढ़े :  Hartalika Teej 2022 Date | Hartalika teej Vrat2022 me kab hai 

Ganesh Chaturthi Murti Sthapna Vidhi गणेश स्थापना विधि

गणेश चतुर्थी के दिन सबसे पहले आप सूर्य उदय होने से पहले नित्यक्रिया से निवृत्त होकर स्वच्छ वस्त्र धारण कर लें। अब पूजा का संकल्प लेते हुए भगवान श्री गणेश का स्मरण करते हुए अपने कुलदेवता का मनन करें। अब पूजा स्थल के स्थान पर पूर्व की दिशा में मुंह करके आसन पर बैठ जाए।

Ganpati Puja Vidhi in Hindi, गणेश पूजन विधि
Ganpati Puja Vidhi in Hindi, गणेश पूजन विधि

अब एक चौकी पर लाल या सफेद कपड़ा बिछाकर उसके ऊपर एक थाली में चंदन, कुमकुम से स्वास्तिक का चिन्ह बनाएं। थाली पर बने स्वास्तिक के निशान के ऊपर भगवान श्री गणेश की मूर्ति स्थापित करते हुए पूजा शुरू करें। मान्यता है की,गणेश चतुर्थी (Ganesh Chaturthi 2022) पूजा के लिए मिट्टी से बनी गणेश प्रतिमा सबसे उत्तम मानी जाती है। गणपति जी को इस दिन गाजे बाजे के साथ घर लाएं। इस मंत्र से प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा करें-

अस्य प्राण प्रतिषठन्तु अस्य प्राणा: क्षरंतु च।श्री गणपते त्वम सुप्रतिष्ठ वरदे भवेताम।।


इसके बाद गंगाजल और पंचामृत से गणेश जी का अभिषेक करें। उन्हें नए वस्त्र अर्पित करें। फिर चंदन, धूप, दीप, सिंदूर, फूल, मोदक और फल चढ़ाएं। उसके बाद गणेश जी की आरती करें। आप इन 10 दिनों में से जितने दिन के लिए गणेश जी को रखना चाहते हैं उतने दिन रख उनकी विधि विधान पूजा करें और निश्चित अवधि में उनका विसर्जन कर दें।

Ganpati Puja Vidhi in Hindi गणेश पूजन विधि

स्थापित की गई गणेश प्रतिमा की रोजाना विधि विधान पूजा करें। इसके लिए सूर्योदय से पहले उठ जाएं। स्नान कर साफ वस्त्र धारण करें और भगवान श्री गणेश का आवाहन करते हुए चौकी पर रखें प्रतिमा के सामने ऊं गं गणपतये नम: का मंत्र का जाप करते हुए जल डालें। अब गणेश जी को हल्दी, चावल, चंदन, गुलाब, सिंदूर, मौली, दूर्वा,जनेऊ, मिठाई, मोदक, फल, माला और फूल अर्पित करें।

यह भी पढ़े : दूब घास के फायदे, उपयोग और नुकसान । Durva (Doob) Grass Benefits and Side Effects in Hindi

अब भगवान श्री गणेश के साथ-साथ भगवान शिव और माता पार्वती की भी पूजा करें। पूजा में धूप दीप करते हुए सभी की आरती करें। आरती करने के बाद 21 लड्डुओं का भोग लगाएं। जिसमें से 5 लड्डू भगवान श्री गणेश की मूर्ति के पास रखें। बाकी लड्डू को ब्राह्मण और अन्य लोगों को प्रसाद के रूप में दें वितरण कर दें। पूजा के अंत में ब्राह्मणों को भोजन कराएं और दक्षिणा देकर उनका आशीर्वाद लें। पूजा करने के बाद इस मंत्र का जाप जरूर करें।

विघ्नेश्वराय वरदाय सुरप्रियाय लम्बोदराय सकलाय जगद्धिताय ।
नागाननाय श्रुतियज्ञविभूषिताय गौरीसुताय गणनाथ नमो नमस्ते।।

अंत में आरती उतार गणेश जी के मंत्रों को जाप करना चाहिए। शाम के समय गणेश जी का फिर से पूजन करना चाहिए। गणेश चालीसा का पाठ करें।

FAQ :

Q : गणेश चतुर्थी कब है ?

Ans :30 अगस्त 2022 को दोपहर 03 बजकर 34 मिनट से शुरू होकर 31 अगस्त 2022 को दोपहर 03 बजकर 23 मिनट पर खत्म

Q : गणेश चतुर्थी कब मनाई जाती है ?

Ans : भाद्रपद माह की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को

Q : गणेश चतुर्थी 2022 में पूजा का मुहूर्त क्या है ?

Ans : अगस्त 2022 को दोपहर 03 बजकर 34 मिनट से 31 अगस्त 2022 को दोपहर 03 बजकर 23 मिनट

Q : गणेश चतुर्थी का त्यौहार कैसे मनाते हैं ?

Ans : इस दिन मिट्टी से बने गणेश की स्थापना घर पर करके 10 दिनों तक उनकी पूजा की जाती है.

Q : गणेश चतुर्थी पर गणेश जी की घर पर स्थापना करने की प्रथा कब शुरू हुई ?

Ans : यह बाल गंगाधर तिलक जी ने सारे हिन्दू समाज में फैली असामाजिकता को दूर करके लोगों को एक साथ लाने के उद्देश्य से शुरू की थी

Q : 2022 के चतुर्दशी कितने तारीख के हैं

Ans : 2022 में अनंत चतुर्दशी का त्योहार 9 सितंबर 2022 दिन शुक्रवार को मनाया जायेगा.

Leave a Reply