Ghaziabad : गाजियाबाद श्मशान घाट हादसे में 25 की मौत: एक्शन में UP पुलिस-प्रशासन, 3 गिरफ्तार, ठेकेदार अजय त्यागी अभी तक फरार

Top News
Ghaziabad cremation roof collapse

गाजियाबाद श्मशान घाट हादसे में 25 की मौत: एक्शन में UP पुलिस-प्रशासन, 3 गिरफ्तार, ठेकेदार अजय त्यागी अभी तक फरार

Advertisement

गाजियाबाद (Ghaziabad) के श्मशान घाट (Cremation Ground Tragedy) के गलियारे की छत गिरने से 25 लोगों की हुई मौत मामले में पुलिस (Police) ने तीन लोगों को गिरफ्तार किया है.इस गलियारे का निर्माण 2 महीने पूर्व (पहले) ही किया गया था।

इस घाट के लिए 50 लाख रुपए का टेंडर जारी किया गया था। 15 दिन पहले इसे आम लोगों के लिए खोला गया था. अब तक इसका लोकार्पण नहीं हो सका था।लेकिन इस हादसे ने अधिकारियों और ठेकेदारों की मिलीभगत की पोल खोल दी है.

सोमवार सुबह प्रशासन से नाराज मृतकों के परिजनों ने गाजियाबाद-मेरठ हाईवे को जाम कर दिया. मुरादनगर के पास हाईवे पर ही परिजनों ने मृतकों के शवों को सड़क पर रख कर हंगामा किया. प्रदर्शन के कारण दिल्ली-मेरठ हाईवे पर लंबा जाम लग गया है और गाड़ियों की लंबी कतार है.

 aajtak के अनुसार : प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि उसके दादा का अंतिम संस्कार चल रहा था और बाकी लोग दूर खड़े होकर देख रहे थे. इसी दौरान जोर की आवाज आई और जब वो उस तरफ दौड़े तो देखा छत के नीचे कई लोग दबे हुए थे.इस हादसे में उनके चाचा की भी मौत हो गई और उनके पिता को कंधे पर चोट आई है लेकिन वो हादसे में बाल बाल बच गए.

गाजियाबाद श्मशान घाट में ऐसे हुआ हादसा – Ghaziabad Cremation Ground Tragedy

Ghaziabad cremation roof collapse 25 dead executive officer, junior engineer and supervisor arrested up police .

दिल्ली से सटे उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में रविवार (जनवरी 4, 2020) को श्मशान घाट की छत गिरने से 25 लोगों की मौत हो गई। रविवार सुबह दयानंद कॉलोनी निवासी दयाराम (एक फल विक्रेता) के अंतिम संस्कार में कई लोग शामिल होने के लिए बम्बा श्मशान घाट पहुंचे थे. ये श्मशान घाट उखरानी/बम्बा रोड में स्थित है। मृतकों में अधिकतर उखलारसी गाँव के हैं। 

इसी दौरान बारिश की वजह से कई लोग लंबे गलियारे में खड़े थे. इसी दौरान नवनिर्मित गलियारे के लिंटर  गिर गया. इसकी चपेट में आकर 25 लोगों की मौत हो गई. इसके बाद पुलिस, पीएसी और राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की की टीम भी पहुंची और राहत बचाव कार्य शुरू किया.सभी घायलों का इलाज अस्पताल में चल रहा है।

स्थानीय लोगों ने निर्माण में घटिया समाग्री के इस्तेमाल की शिकायत नगरपालिका और प्रशासन ने भी की थी। पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष ने काम भी रुकवाया था। लेंटर का पिलर ही कमजोर था, जिस कारण नींव में पानी जाने से वो गिर गया। दयानंद कॉलोनी निवासी दयाराम की किसी बीमारी के कारण मौत के बाद लोग वहाँ पर जमा हुए थे

श्मशान घाट में भी भ्रष्टाचार
श्मशान घाट में भी भ्रष्टाचार

श्मशान घाट में भी भ्रष्टाचार

जहाँ अंतिम संस्कार के बाद लोगों को मोक्ष मिलता है, वहाँ भी भ्रष्टाचार है। जिन लोगों ने अपने मृत परिजन की आत्मा की शांति के लिए मौन रखा, वो हमेशा के लिए मौन हो गए।

गलियारे की छत गिरने के बाद हुई मौतों के बाद खुद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सक्रिय हैं और यूपी पुलिस ने 3 लोगों को गिरफ्तार किया है। सीएम योगी ने कहा कि वरिष्ठ अधिकारियों को रिपोर्ट सौंपने के लिए आदेशित कर दिया गया है।अब देखना होगा कि सरकार क्या कार्रवाई करती है.

अधिशाषी अधिकारी निहारिका सिंह, जूनियर इंजीनियर चंद्रपाल सिंह और सुपरवाइजर आशीष की धर-पकड़ में तो पुलिस को सफलता मिली, लेकिन ठेकेदार अजय त्यागी अब भी फरार चल रहा है।

उसकी गिरफ़्तारी के लिए दबिश दी जा रही है।आरोपी ठेकेदार अजय त्यागी की गिरफ्तारी पर एसएसपी ने 25000 रुपये का इनाम घोषित किया है. इधर, योगी सरकार ने ऐलान किया है कि प्रशासन आरोपियों की संपत्ति कुर्क करेगा. सरकार ने मृतकों के परिजनों को 10-10 लाख रुपये देने का आश्वासन दिया है. साथ ही परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी भी दी जाएगी.

 

इन सबके खिलाफ गैर-इरादतन हत्या का मामला दर्ज कर लिया गया है।इसके अलावा भ्रष्टाचार और लापरवाही सहित कई मामलों में FIR दर्ज की गई। मण्डलयुक्त अनीता शी मेश्राम मामले की समीक्षा कर रही हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस घटना पर शोक जताते हुए कहा, “उत्तर प्रदेश के मुरादनगर में हुए दुर्भाग्यपूर्ण हादसे की खबर से अत्यंत दुःख पहुँचा है। राज्य सरकार राहत और बचाव कार्य में तत्परता से जुटी है। इस दुर्घटना में जान गँवाने वालों के परिजनों के प्रति संवेदना प्रकट करता हूँ, साथ ही घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूँ।” 

प्रदेश सरकार को तत्काल रिपोर्ट उपलब्ध कराने जाने के बाद इस घटना के पीछे के कारणों पर मंथन होगा और इसके लिए जिम्मेदार लोगों की जवाबदेही सुनिश्चित की जाएगी। सांसद वीके सिंह भी अस्पताल पहुँचे और निष्पक्ष जाँच के बाद दोषियों पर कार्रवाई का आश्वासन दिया। ये श्मशान घाट उखरानी/बम्बा रोड में स्थित है। मृतकों में अधिकतर उखलारसी गाँव के हैं। मौके पर NDRF को भी लगाया गया था।

Leave a Reply