Health Benefits Of Turmeric Milk in hindi। Haldi Doodh pine ke fayde ।हल्दी दूध के सेवन के फायदे और नुकसान ।

हेल्थ
Health Benefits Of Turmeric Milk
Advertisement
Health Benefits Of Turmeric Milk

Table of Contents

1. हल्दी वाला दूध आपके के लिए क्यों अच्छा है?
1.1- हल्दी दूध का पौष्टिक तत्व – Turmeric Milk Nutritional Value in Hindi
1.2- हल्दी दूध का उपयोग – How to Drink Turmeric Milk in Hindi
1.3- हल्दी दूध के नुकसान – Side Effects of Turmeric Milk in Hindi

2. हल्दी वाला दूध बनाने का तरीका

2.1- हल्दी वाला दूध आपके के लिए क्यों अच्छा है?
2.2- हल्दी दूध के फायदे – Benefits of Turmeric Milk in Hindi
2.3- हल्दी दूध का पौष्टिक तत्व – Turmeric Milk Nutritional Value in Hindi
2.4- हल्दी वाला दूध बनाने का तरीका

3. हल्दी दूध का उपयोग – How to Drink Turmeric Milk in Hindi
4.हल्दी दूध के नुकसान – Side Effects of Turmeric Milk in Hindi

5. आपके द्वारा पूछे जाने वाले सवाल

6. हल्दी दूध का उपयोग – How to Drink Turmeric Milk in Hindi
हल्दी दूध का उपयोग सीधे-सीधे करना ही फायदेमंद होता है। वैसे इसे सुबह नाश्ते के समय भी ले सकते हैं और रात को सोने से पहले भी इसका सेवन किया जा सकता है।

Turmeric Milk : हल्दी का इस्तेमाल आमतौर पर खाने में किया जाता है. आयुर्वेद के अनुसार हल्दी में औषधीय गुण होते हैं. इसे दवाई की तरह भी इस्तेमाल किया जाता है. ये न केवल सेहत के लिए बल्कि ब्यूटी प्रोडक्ट के लिए भी खूब इस्तेमाल की जाती है. इसके अलावा हल्दी का दूध (Turmeric Milk) भी सेहत के लिए फायदेमंद होता है.

यह भी पढ़े : हल्दी के फायदे

दरअसल हल्दी में एंटीबायोटिक्स प्रॉपर्टीज होती हैं. इसलिए आजकल हर कोई येलो मिल्स यानी हल्दी वाले दूध (Turmeric Milk) की खूबियों की बात करता है. लेकिन भारतीय परंपरा में हल्दी वाले दूध (Turmeric Milk)  का जिक्र बहुत पहले से है. अब दुनियाभर में हल्दी दूध के वेरिएंट हो सकते हैं, जो अदरक, शहद, दालचीनी और अन्य मसालों के साथ अखरोट, नारियल या बादाम दूध के इस्तेमाल से तैयार किए जाते हैं.

हल्दी वाले दूध के फायदे 

सर्दी-खांसी (Cold and Cough) से रखे दूर हल्दी वाले दूध में मौजूद एंटीबायोटिक्स शरीर के फ्री रेडिकल सेल्स से लड़ते हैं.यही वजह है कि दूध में हल्‍दी मिलाकर पीने से बदलते मौसम में होने वाली सर्दी-खांसी, गले की खिचखिच और सीज़नल बुखार से छुटकारा मिल जाता है. कहते हैं कि हल्दी, हर रोग का इलाज होती है.

करक्यूमिन, हल्दी में उत्पन्न होने वाला पदार्थ है. यह अदरक के परिवार का हिस्सा है, जो खाने को रंग देने के लिए डाला जाता है. हल्दी के औषधीय गुण बहुत से लोगों को पता है. खरोंच के निशान, मोच, ज़ख्म और सूजन को ठीक करने के लिए हल्दी को सदियों से इस्तेमाल में लाया जा रहा है. भारत में लोगों द्वारा लिए जा रहे फास्ट फूड की वजह से करक्यूमिन (हल्दी) को लेने की मात्रा कम हो गई है.

यह भी पढ़े :  A1 और A2 दूध में अंतर

बुजुर्गों को बढ़ती उम्र के साथ हल्दी और दूध (Turmeric Milk) का अधिक मात्रा में सेवन करना चाहिए। यह उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाने के लिए प्रभावी रूप से तो कार्य करेगा ही, साथ ही साथ अन्य कई रोगों से भी बचाए रखने में मददगार साबित होगा।

जब भी कभी चोट लगती है या बॉडी में किसी प्रकार का दर्द होता है तो हमारे घर के बुजुर्ग हल्‍दी वाला दूध पीने की सलाह देते हैं। शरीर में अंधरूनी चोट लगने पर, घावों का इलाज करने, इम्‍यूनिटी बढ़ाने और थकावट को दूर करने के लिए हल्‍दी वाला दूध पीने की सलाह दी जाती है।

इसके अलावा खांसी-जुकाम से लेकर अच्‍छी नींद लाने तक हल्‍दी वाला दूध आपके लिए बहुत फायदेमंद होता है। लेकिन क्‍या आप जानती हैं कि हल्दी से टाइप-2 डायबिटीज़ तक ठीक की जा सकती है. साथ ही रात को सोने से पहले हल्‍दी वाला दूध आपके लिए बहुत फायदेमंद होता है।

यह भी पढ़े : carrot milk shake : ऐसे बनाएं कैरेट मिल्क शेक

हल्दी वाले दूध के बहुत फायदे हैं. सर्दी-खांसी से रखे दूर हल्दी वाले दूध में मौजूद एंटीबायोटिक्स शरीर के फ्री रेडिकल सेल्स से लड़ते हैं. यही वजह है कि दूध में हल्‍दी मिलाकर पीने से बदलते मौसम में होने वाली सर्दी-खांसी, गले की खिचखिच और सीज़नल बुखार से छुटकारा मिल जाता है. 

सोने से पहले हल्‍दी वाला दूध पीने से मेरे दिन-भर की थकावट छूमंतर हो जाती है, मेरे हड्डियों में होने वाला दर्द भी दूर होता है और मुझे बहुत अच्‍छी नींद आती है। मैं सभी को हल्‍दी वाला दूध पीने की सलाह देती हूं। लेकिन कई महिलाओं को इसे लेने का सही तरीका नहीं मालूम हैं, कुछ महिलाएं कच्‍ची हल्‍दी को दूध में मिलाकर ले लेती हैं

तो कुछ एक गिलास दूध में 1 बड़ी चम्‍मच हल्‍दी मिला लेती हैं। ऐसा करने से उन्‍हें फायदे की जगह नुकसान हो जाता है। लेकिन आप परेशान ना हो क्‍योंकि आज हम आपको हल्‍दी वाला दूध बनाने का सही तरीका और रात को इसे पीने के फायदों के बारे में बता रहे हैं, तो चलिए जानिए।

हल्‍दी वाला दूध बनाने का सही तरीका

दूध- 1 गिलास
हल्‍दी- 2 चुटकी
हल्‍दी का दूध बनाने के लिए 1 गिलास दूध में 2 चुटकी हल्‍दी मिलाकर अच्‍छे से उबाल लें।
फिर इसे थोड़ा ठंडा होने दें। और रात को सोने से कम से कम 1 घंटा पहले पी लें।

बॉडी में आते हैं ये बदलाव

दूध पीना हमारी बॉडी के लिए बहुत फायदेमंद होता है क्‍योकि इसमें कैल्शियम, आयरन, प्रोटीन और विटामिन जैसे पोषक तत्व होते है। जो बॉडी को जरूरी पोषण देते है और शारीरिक कमजोरी दूर करते है। शायद इसलिए भी दूध को संपूर्ण आहार भी कहा जाता है। और हल्दी भी एक प्राकृतिक एंटीबायोटिक है। जिसे लेने से अनेक रोग जड़ से खत्म हो जाते है। और अगर दोनों चीजों को मिला दिया जाए फिर तो सोने पर सुहागा हो जाता है। आज हम आपको हल्दी को दूध में मिलाकर पीने के फायदे के बारे में बताएंगे।

रात को हल्‍दी वाला दूध मिलाकर पीने से बॉडी से विषैले टॉक्सिन बाहर निकल जाते हैं। जिससे आपका डाइजेस्टिव सिस्‍टम सही रहता है और आप पेट की बीमारियां जैसे गैस, एसिडिटी, कब्‍ज आदि से छुटकारा मिलता है। अगर आप भी चाहती हैं कि आपको पेट रोजाना सुबह साफ हो जाए तो हल्‍दी वाला दूध पीएं।

एक अध्ययन में पाया गया है कि हल्दी भूलने की बीमारी का सामने करने वाले मरीजों के मस्तिक की गतिविधि को बेहतर बनाने में भी मदद करती है.

  • हल्दी में मौजूद एंटीबायोटिक्स और दूध में मौजूद कैल्शियम दोनों मिलकर हड्डियों को मज़बूत बनाते हैं. इसीलिए किसी भी तरह की बोन डैमेज या फ्रैक्चर होने पर इसे खास तौर पर पीने की सलाह दी जाती है.

हल्दी में वजन घटाने और डायबिटीज को कंट्रोल में रखने में मदद करती है.

  • हल्दी वाले दूध पीने से त्वचा में भी निखार आता है। जी हां, क्योंकि इसमें एंटीसेप्टिक व एंटीबैक्टीरियल जैसे गुण मौजूद होते हैं जो स्किन से संबंधित सभी रोगों जैसे इन्फेक्शन, खुजली, मुंहासे आदि को आपकी त्वचा से दूर भगाते हैं और उनके बैक्टीरिया को खत्म करते हैं, जिससे आपकी स्किन चमकदार होती है।
  • हल्दी का दूध पीरियड्स के दर्द को कम करता है. इसे डिलीवरी के बाद औरतों को जल्दी रिकवरी के लिए भी दिया जाता है. इसका एक और फायदा ये भी होता है कि डिलीवरी के बाद इससे ब्रेस्ट मिल्क भी इंप्रूव होता है.

यह भी पढ़े : home made remedies : चेहरे को गोरा व सुंदर बनाने के कुछ आसान घरेलु उपाय

  • इससे यह मुंहासों या दानों से आपको बचाकर रखता है. इसके साथ ही साथ यह घावों को भरने में भी कारगर है. एवं सर्दी-खांसी से रखे दूर हल्दी वाले दूध (Turmeric Milk) में मौजूद एंटीबायोटिक्स शरीर के फ्री रेडिकल सेल्स से लड़ते हैं.
  • हल्दी में मौजूद अमिनो एसिड अच्छी नींद में मदद करता है. आजकल की बिज़ी लाइफ में काम जितना बड़ा है नींद के लिए उतना ही कम समय मिलने लगा है. अगर आपके साथ भी ऐसा है तो हल्दी वाला दूध पीएं. ये अच्छी नींद लाने में मदद करता है.
  • हल्दी में एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं. अपने एंटीबैक्टीरियल और एंटीसेप्टिक गुणों के चलते ही हल्दी आयुर्वेद में औषधि के रूप में इस्तेमाल किया जाता है.

यह भी पढ़े : हेल्थ टिप्स : अच्छी नींद चाहिए तो रात में सोने से पहले करे ये काम

  • ऐसा माना जाता है कि हल्दी दूध (Turmeric Milk) में मौजूद कैल्शियम और दूसरे मिनरल्स शरीर में मौजूद फैट को कम करते हैं. इस वजह से हल्दी वाला दूध पीने से शरीर का वज़न कम होता है.
  • जैसा कि हम सभी जानते ही हैं कि दूध में कैल्शियम भरपूर मात्रा में होता है जिससे हड्डियां मजबूत होती है। अगर आप हल्दी वाला दूध पीती हैं तो इससे आपकी हड्डियों को मजबूती मिलेगी और आपकी इम्‍यूनिटी भी बढ़ जाएगी। साथ ही आपके दांत भी मजबूत होगें। और हल्‍दी वाला दूध पीने वाली महिलाओं को जोड़ों के दर्द की शिकायत दूर होती है। जी हां अगर आप रोजाना सोने से पहले हल्‍दी वाला दूध पीएंगी तो आपको अर्थराइटिस जैसी समस्‍याओं का सामना भी नहीं करना पड़ेगा।
  • जिन महिलाओं को रात में नींद नहीं आती उनके लिए हल्दी वाला दूध (Turmeric Milk) बहुत फायदेमंद है। कई बार तनाव या अन्‍य कई कारणों से हमें रात को नींद अच्छे से नहीं आती है। अगर आप को रात को नींद अच्छे से नहीं आ रही है तो बस यह घरेलू नुस्खा जरूर अपनाएं। जी हां हल्दी में अमीनो एसिड होता है। जिस कारण दूध के साथ इसके सेवन से नींद अच्छी आती है। अच्छी नींद के लिए रात को सोने से 30 मिनट पहले हल्‍दी वाला दूध लें।तो रात को हल्‍दी वाला दूध पीना आप कब से शुरू कर रही हैं?

    यह भी पढ़े : Clove or Laung Benefits: लौंग खाने से क्या फायदा और क्या नुकसान है

     

हल्दी दूध के फायदे और नुकसान दोनों ही हो सकते हैं। इसलिए अब हल्दी दूध के नुकसान जानते हैं।

हल्दी दूध के नुकसान – Side Effects of Turmeric Milk in Hindi

  • हल्दी और दूध का सेवन करने से कुछ संवेदनशील लोगों को एलर्जी की शिकायत हो सकती है।
  • गर्भावस्था के दौरान दूध में हल्दी के नुकसान हो सकते हैं। इस वजह से गर्भवती को डॉक्टर से परामर्श लेने के बाद ही इसका सेवन करना चाहिए
  • हल्दी का अधिक सेवन करने से सिरदर्द, दाने निकलने और पीले रंग के मल की समस्या हो सकती है
  • कई बार लोग हल्दी दूध का अधिक सेवन करने लगते हैं, जिससे मतली और दस्त हो सकते हैं।
  • कुछ दवाओं के साथ हल्दी का सेवन करने से दुष्परिणाम हो सकते हैं। अगर कोई एंटीकोगुलेंट्स जैसी एस्पिरिन दवा का सेवन कर रहे हैं, तो इसे न लें।
  • नॉन-स्टेरॉयडल एंटी इंफ्लेमेटरी दवा को भी हल्दी के साथ नहीं लेना चाहिए ।
  • कच्चे दूध में कई तरह के बैक्टीरिया होते हैं, जो पेट से जुड़ी बीमारियों के होने का जोखिम बढ़ा सकते हैं । ऐसे में हमेशा उबले हुए दूध हल्दी का ही सेवन करें।
  • ऐसे लोग जिनका शरीर पर्याप्त मात्रा में लैक्टोज का उत्पादन नहीं करता है, उन्हें लैक्टोज इंटॉलरेंस यानी दूध से एलर्जी हो सकती है। इसके कारण उन्हें पाचन से जुड़ी समस्याएं, जैसे – दस्त, पेट फूलना, गैस बनना, पेट में दर्द की समस्या हो सकती है । ऐसी स्थिति में भी हल्दी वाला दूध नहीं लेना चाहिए।
  • अधिक मात्रा में दूध का सेवन करने से कूल्हे के फ्रैक्चर व गंभीर स्थिति में मृत्यु होने का जोखिम बढ़ सकता है।

गाय के दूध में प्रोटीन हाइपरसेंसिटिविटी (Hypersensitivity) होती है, जो विशेष रूप से शिशुओं व छोटे बच्चों में कब्ज का कारण बन सकता है ।

  • हल्दी वाला दूध पीने के फायदे तो हैं, लेकिन हल्दी में ऑक्सालेट (एक प्रकार का एसिड) होता है, जो किडनी स्टोन का जोखिम बढ़ा सकता है। अगर अधिक मात्रा में हल्दी का सेवन किया जाए, तो यह मूत्र में ऑक्सलेट का स्तर बढ़ा सकता है, जो किडनी स्टोन का कारण बनता है ।
  • हल्दी का अधिक सेवन शरीर में आयरन के अवशोषण (घुलना) में बाधा बन सकता है । इस वजह से अधिक मात्रा में हल्दी वाले दूध के नुकसान के तौर पर एनीमिया (खून की कमी) का जोखिम भी हो सकता है।

हल्दी वाला दूध पीने के फायदे अनेक हैं, यह तो आप जान ही चुके हैं। बस अब जरूरत है, तो संयमित मात्रा में इस अचूक नुस्खे को आजमाने की, जिसकी पुष्टि कई शोध में भी हो चुकी है। अब बिना देर किए हल्दी के दूध के फायदे पढ़कर इसे अपनी स्वस्थ जीवनशैली का हिस्सा बनाएं और छोटी-छोटी परेशानियों से बचे रहें। बस यह ध्यान रखें कि हल्दी दूध के फायदे और नुकसान दोनों ही हैं। ऐसे में हल्दी वाले दूध के नुकसान से बचने के लिए इसका सेवन सुरक्षित मात्रा में ही करें।

निम्नलिखित स्वास्थ्य समस्याओं के लिए कितनी मात्रा में हल्दी दूध का सेवन कर सकते है ।

अस्थमा के लिए हल्दी और दूध – एक गिलास दूध में एक चम्मच हल्दी पाउडर मिलाकर दिन में दो से तीन बार सेवन कर सकते हैं।

खांसी और गले में जलन के लिए हल्दी और दूध – आधा चम्मच ताजा हल्दी पाउडर 30 मिलीलीटर (लगभग आधा कप) गुनगुने दूध में मिलाकर पी सकते हैं।

अब हल्दी और दूध दोनों की अलग-अलग सुरक्षित मात्रा जानिए।

हल्दी – रोजाना 6 ग्राम करक्यूमिन (हल्दी में मौजूद कंपाउंड) का सेवन किया जा सकता है। चार से सात हफ्ते तक इस मात्रा का सेवन करना सुरक्षित माना गया है। इस मात्रा में हल्दी का सेवन करने से किसी तरह का नुकसान नहीं पहुंचता है।अगर हल्दी दूध को अधिक मात्रा में लंबे समय तक लेते हैं, तो शरीर को नुकसान भी हो सकता है, वैसे दिनभर में कितनी हल्दी का सेवन करना चाहिए इसके लिए एक बार डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

दूध – प्रतिदिन डेयरी उत्पादों की 3 सर्विंग्स ली जाने की सलाह दी जाती है। उदाहरण के तौर पर एक गिलास दूध, एक टुकड़ा पनीर और एक कटोरी दही। इसके सेवन से पर्याप्त पोषक तत्व मिल जाते हैं । वहीं, एक दिन में दूध की सीमित मात्रा की बात करें, तो यह 500 मिलीलीटर है ।

FAQ :

Q: आप हल्दी दूध कब ले सकते हैं?
Ans: सोते समय या दिन में आप कभी भी हल्दी वाला दूध पी सकते हैं।हल्दी दूध का उपयोग सीधे-सीधे करना ही फायदेमंद होता है। वैसे इसे सुबह नाश्ते के समय भी ले सकते हैं


Q: क्या आप रोज हल्दी वाला दूध पी सकते हैं?
Ans: हां, प्रतिदिन सीमित मात्रा में हल्दी वाला दूध पी सकते हैं।

Q: क्या हल्दी वाला दूध बालों के लिए अच्छा है?
Ans: जी हां, हल्दी के सेवन से स्कैल्प सोरायसिस (सिर की त्वचा से संबंधित एक समस्या) का उपचार करने में मदद मिल सकती है (41)। यह स्कैल्प सोरायसिस बालों के विकास में बाधा बन सकता है। इस आधार पर हल्दी दूध को बालों के लिए अच्छा कहा जा सकता है।

Q: क्या हम हल्दी वाले दूध में शहद मिला सकते हैं?
Ans: जी हां, हल्दी शहद दूध फायदेमंद होता है। शोध के अनुसार, हल्दी के साथ शहद का सेवन करने से ओरल म्यूकोसाइटिस (Oral Mucositis – मुंह के कैंसर का प्रकार) के रोकथाम में मदद मिल सकती है।

Q: क्या रात में दूध पीने से वजन बढ़ सकता है?
Ans: रात में दूध पीने से वजन बढ़ सकता है या नहीं, इस विषय पर अध्ययनों की कमी है। हालांकि, दूध में मौजूद कैलोरी के आधार पर देखा जाए, तो इसका शारीरिक वजन पर मिश्रित परिणाम हो सकता है। इस वजह से अगर आप वजन नियंत्रित रखना चाहते हैं, तो आपको रात को सोते समय अन्य कैलोरी युक्त उत्पाद की मात्रा नियंत्रित करनी होगी।

Q: क्या हर रात हल्दी वाला दूध पीना अच्छा है?
Ans: हां, हर रात सोने से पहले हल्दी वाला दूध पी सकते हैं। बशर्ते, इसकी मात्रा सीमित हो और आपको दूध या हल्दी से एलर्जी न हो।

Q: हल्दी वाला दूध किसे नहीं पीना चाहिए?
Ans: जिन्हे किडनी स्टोन यानी गुर्दे की पथरी की शिकायत है उन्हें अधिक मात्रा में हल्दी वाला दूध पीने से बचना चाहिए।

Q: दूध में हल्दी के फायदे क्या है?
Ans: दूध में हल्दी के फायदे कई हैं। इसमें पाचन, जोड़ों के दर्द और अनिद्रा जैसी समस्या के साथ ही सर्दी-खांसी और मधुमेह से बचाव शामिल है।

Leave a Reply