wood apple juice :बेल के शरबत के फायदे, बेल का शरबत बनाने का तरीका

न्यूज़
wood apple juice
wood apple juice

wood apple juice :बेल के शरबत के फायदे और नुकसान, बेल का शरबत बनाने का बेहद आसान तरीका

 wood apple juice : गर्मियों का मौसम आते ही कई तरह की बीमारियों जैसे कि लू लगना, पेचिश,डिहाइड्रेशन, पेट की समस्या आदि का खतरा काफी बढ़ जाता है। ऐसे मौसम में बेल (Bael fruit juice

Advertisement
) के जूस या शरबत की भरमार हो जाती है। इसे अंग्रेजी में (वूड एप्पल wood apple juice) के नाम से जाना जाता है। बेल का शरबत स्वादिष्ट तो होता ही है। साथ ही इसमें कई तरह के पोषक तत्व भी पाए जाते हैं। यह भी पढ़े : गर्मी से बचने के घरेलु उपाय

प्रोटीन, बीटा-कैरोटीन, थायमीन, राइबोफ्लेविन और विटामिन C जैसे तत्वों से भरपूर होने के कारण ये शरीर के लिए काफी फायदेमंद होता है। इसका शरबत पीने से शरीर को ठंडक मिलती है और ये इम्युनिटी को बढ़ाने में भी मददगार होता है।

 wood apple juice : आयुर्वेद में इसे महत्वपूर्ण औषधि माना गया है जो पाचन संबंधी कई बीमारियों में फायदेमंद है। इस फल का हर हिस्सा ही सेहत के लिए के लिए गुणकारी है, बाहर से यह फल जितना कठोर होता है अंदर से उतना ही मुलायम और गूदेदार होता है। इसके गूदे में मौजूद बीज भी कई बीमारियों के इलाज में फायदा (Bael / wood apple juice benefits in hindi)पहुंचाते हैं।

बेल में पाए जाने वाले पोषक तत्व 

बेल के फल में विटामिन और पोषक तत्वों की भरमार होती है। बेल (Bael) में मौजूद टैनिन और पेक्टिन मुख्य रुप से डायरिया और पेचिश के इलाज में अहम भूमिका निभाते हैं। इसके अलावा बेल के फल में विटामिन सी, कैल्शियम, फाइबर, प्रोटीन और आयरन भी अधिक मात्रा में मिलते हैं। बेल के नियमित सेवन से शरीर के लिए आवश्यक पोषक तत्वों की आपूर्ति होती है साथ ही शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है।यह भी पढ़े : Summer fruit benefits : ये फल गर्मियों में शरीर में पानी की कमी नहीं होने देते हैं

बेल का शरबत बनाने की सामग्री

1 मध्यम आकार का बेल
1/2 कप चीनी
3-4 कप ठंडा पानी
आइस क्‍यूब जरूरत अनुसार

बेल जूस बनाने का तरीका beal /wood apple juice

  • सबसे पहले बेल को तोड़कर उसका सारा गूदा निकाल लें।
  • अब एक बड़े बर्तन में बेल का गूदा और पानी मिलाकर करीब एक घंटे के लिए रख दें।
  • भीगने के बाद गूदे को अच्छी तरह मैशर की सहायता से अच्‍छी तरह मैश कर लें ताकि रेशे और बीज निकल जाएं।
  • इसके बाद छानने वाली छ्लनी बेल के जूस को छान लें।
  • अब आप इसमें आइस क्‍यूब और चीनी मिलाएं।
  • बेल का शरबत तैयार है (wood apple juice)। फ्रिज में रखकर ठंडा-ठंडा सर्व करें।

बेल के सेवन का तरीका -How to take bael fruit

बेल को आप कई तरीकों से खा सकते हैं। आमतौर पर बेल का रस या बेल के शरबत का इस्तेमाल सबसे ज्यादा किया जाता है लेकिन आप इस फल को तोड़कर सीधे खा भी सकते हैं।

इसका बाहरी हिस्सा काफी कठोर होता है उसे तोड़ दें और अंदर के लिसलिसे गूदे में से बीज को निकालकर खाएं या रात भर इस गूदे को पानी में भिगोकर रखें और अगली सुबह इसे खाएं।

कई लोग इसके गूदे को सुखाकर उसका चूर्ण बनाकर सेवन करते हैं जिसे बेलगिरी चूर्ण कहा जाता है। इसके अलावा बेल की पत्तियों का रस भी बहुत गुणकारी है और कई बीमारियों में इसका इस्तेमाल किया जाता है। आप घर पर ही बेल का मुरब्बा (Bel murabba) बनाकर उसका सेवन कर सकते हैं। यह स्वाद में भी मीठा होता है और लाभकारी भी है।

बेल का शरबत पीने के फायदे – Bael juice benefits

लू की चपेट से बचाता है
गर्म हवा के झौंके लोगों को आसानी से लू की चपेट में ला देते हैं, ऐसे में बेल का शरबत मददगार साबित हो सकता है। ये शरबत शरीर को ठंडा रखता है और इम्युनिटी बढ़ाने में भी कारगर है। साथ ही किडनी की कार्य क्षमता को बढ़ाने में भी बेल काफी असरकारक है।

पेट की समस्याओं को करता है खत्म
बेल का शरबत पेट की समस्याओं को कम करने में मदद करता है। इसमें गैस, कब्ज और अपच जैसी समस्याएं शामिल हैं। बेल के शरबत में फाइबर की मात्रा बहुत अधिक होती है।

डायरिया और पेचिश में आराम दिलाये
डायरिया और पेचिश के इलाज में बेल का सेवन करना सबसे ज्यादा फायदेमंद माना जाता है। अक्सर खाना ठीक से ना पचने के कारण लूज मोशन और डायरिया आदि समस्याएं होने लगती है। ऐसे में बेल का सेवन करने से जल्दी आराम मिलता है और डायरिया अगले 2-3 दिनों में ठीक हो जाता है। अगर आप गंभीर रुप से डायरिया से पीड़ित हैं तो बेल के सेवन के साथ साथ डॉक्टर की सलाह भी ज़रुर लें

खून साफ करने में मदद
बेल के जूस (bael juice/wood apple juice) में ऐसे गुण पाए जाते हैं जो खून को साफ़ करने में मदद करते हैं। इसके नियमित सेवन से खून शुद्ध होता है और खून में संक्रमण की वजह से होने वाली कई तरह की बीमारियों से बचाव होता है।

किडनी के लिए फायदेमंद 
बेल का सेवन किडनी के लिए भी फायदेमंद है और यह किडनी की कार्यक्षमता को और बढ़ाती है। एक शोध के अनुसार बेल की जड़ों और पत्तियों में डायूरेटिक गुण होते हैं जो मूत्र का उत्पादन बढ़ाती हैं। यह ख़ास तौर पर वाटर रिटेंशन की समस्या से आराम दिलाने में बहुत कारगर है।

लीवर के लिए फायदेमंद
ऐसा देखा गया है कि बेल की पत्तियां लीवर को स्वस्थ रखने में मदद करती हैं। लीवर से जुड़ी बीमारियां अक्सर तभी होती हैं जब शरीर में टॉक्सिन या हानिकारक विषैले पदार्थ बढ़ जाते हैं या किसी तरह का संक्रमण हो। शोध के अनुसार बेल (Bael in hindi) में एंटी-फंगल, एंटी बैक्टीरियल और एंटी माइक्रोबियल गुण होते हैं साथ ही इसमें बीटा-कैरोटीन भी पाया जाता है जो लीवर को किसी भी तरह के संक्रमण और चोट से बचाने में मदद करते हैं।

डिहाइड्रेशन करेगा दूर
गर्मियों के मौसम में बेल के शरबत का सेवन करना काफी फायदेमंद माना जाता है। इसके सेवन से शरीर में पानी की कमी नहीं हो पाती। इसके अलावा ये डिहाइड्रेशन से भी बचाने में मदद कर सकता है।

wood apple juice
wood apple juice

बेल के नुकसान – bael side effects

वैसे देखा जाए बेल फल के फायदे (Bel ke fayde) बहुत ज्यादा हैं और सीधे तौर पर इससे कोई ख़ास नुकसान नहीं होते हैं लेकिन अगर आप ज़रुरत से ज्यादा मात्रा में इसका सेवन कर रहे हैं तो आपको बेल के नुकसान (bael side effects) झेलने पड़ सकते हैं। आइये जानते हैं कि बेल के सेवन से क्या नुकसान हो सकते हैं और किन परिस्थितियों में इसका सेवन नहीं करना चाहिए।

डायबिटीज रोगी करें परहेज
अगर आप डायबिटीज के मरीज हैं और बाज़ार में मिलने वाले बेल का शरबत का सेवन कर रहे हैं तो जान लें कि उस शरबत में मौजूद शुगर की अधिक मात्रा आपके लिए नुकसानदायक हो सकती है। बेल खुद भी एक मीठा फल है और इसका शरबत बनाने में लोग अक्सर थोड़ी मात्रा में चीनी मिला देते हैं। इसलिए डायबिटीज के मरीजों को बेल के शरबत से परहेज करना चाहिए या चिकित्सक की सलाह के अनुसार इसका सेवन करें।

थायराइड रोगी करें परहेज
कुछ मामलों में ऐसा पाया गया है कि बेल, थायराइड हार्मोन पर और थायराइड की दवाइयों के प्रभाव पर असर डालती है। इसलिए थायराइड के मरीजों को बेल के सेवन से परहेज करना चाहिए या चिकित्सक की सलाह के अनुसार इसका सेवन करें।

Disclaimer:बेल फल के फायदे और नुकसान जानकारी आयुर्वेदिक नुस्खों के आधार पर लिखी है। sangeetaspen.com इसकी सत्यता की पुष्टि नहीं करता है। इनके इस्तेमाल से पहले चिकित्सक का परामर्श जरूर लें।

Leave a Reply