Health Tips : तनाव क्या होता है, मानसिक तनाव कैसे दूर करे

न्यूज़
तनाव क्या होता है, मानसिक तनाव कैसे दूर करे
तनाव क्या होता है, मानसिक तनाव कैसे दूर करे

तनाव क्या होता है, मानसिक तनाव कैसे दूर करे

Health Tips : आज की इस भाग – दौड़ भरी आधुनिक जिंदगी में हर इंसान के पास तनाव बढ़ता जा रहा है, ज़िंदगी में हर कोई तनाव से घिरा हुआ हैं. एक छोटे से बच्चे से लेकर सेवा – निवृत्त व्यक्ति तक के जीवन में भी बहुत तनाव हैं. इस तनाव के अनेक कारण हो सकते हैं, जैसे : बच्चों के लिए पढाई, तो बड़ों के लिए उनकी परवरिश, घर संभालने की जिम्मेदारियाँ, परिवार में आपसी कलह या ऑफिस या व्यापार की चिंता, आदि. अर्थात् कोई भी इन्सान यह नहीं कह सकता कि वह चिंता मुक्त और तनाव रहित जीवन जी रहा हैं.

Advertisement

Health Tips : चिंता हमें तनाव देती है और अगर ये तनाव लंबे समय तक बना रहे, तो ये डिप्रेशन यानी अवसाद में तब्दील हो सकता है. विशेषज्ञों के अनुसार डॉक्टर्स के पास जाने वाले 90 प्रतिशत मरीज तनाव से संबंधित रोगों के कारण आते हैं। ऐसे में मेंटल हेल्थ (Mental Health) यानी मानसिक स्वास्थ्य के प्रति जागरुकता (Awareness) बहुत ज्यादा जरूरी हो जाती है.

यह भी पढ़े : women health : यहां जानें कुछ हर्ब्स जो महिलाओं की इम्युनिटी को बूस्ट करेंगे

वैसे भी मेंटल हेल्थ (Health Tips) शरीर के नजरअंदाज किये जाने वाले हिस्सों में से एक है.मानसिक समस्याओं के प्रति जागरुकता बढ़ाने के लिए हर वर्ष 10 अक्टूबर को वर्ल्ड मेंटल हेल्थ डे (World Mental Health Day) मनाया जाता है. तो आइये आपको बताते हैं कि इस दिन को मनाये जाने का महत्त्व, थीम और इतिहास क्या है.

Health Tips : आप जानते हैं कि ज्यादा सोचने, टेंशन लेने, तनाव, स्ट्रेस के कारण दिमाग पर बुरा असर पड़ता है, जिससे आप डिप्रेशन के शिकार हो सकते हैं। आप भी जिंदगी की मूलभूत जरुरतों को पूरा करने के लिए तनाव में रहते हैं तो अपनी इस परेशानी पर अंकुश लगाएं। हम आपको बताते हैं कि किन तरीकों को अपना कर आप मानसिक तनाव को कम कर सकते है

ये भी पढ़ें: Health Tips: पनीर खाने के फायदे और नुकसान एवंनकली पनीर की पहचान

ऐसे हुई थी इस दिन को मनाने की शुरुआत

Health Tips : वर्ल्ड मेंटल हेल्थ डे (World Mental Health Day)की शुरुआत वर्ष 1992 में हुई थी. इस दिन को पहली बार संयुक्त राष्ट्र के उप महासचिव रिचर्ड हंटर और वर्ल्ड फेडरेशन फॉर मेंटल हेल्थ की पहल पर मनाया गया था. इस दिन को मनाये जाने की सलाह वर्ष 1994 में संयुक्त राष्ट्र के तत्कालीन महासचिव यूजीन ब्रॉडी ने दी थी और इसे मनाये जाने के लिए एक थीम भी निर्धारित की गयी थी. तब से हर वर्ष यह दिन एक विशेष थीम के साथ मनाया जाता है.


वर्ष 2021 के लिए इस दिन की थीम

विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस मनाये जाने के लिए हर वर्ष एक थीम निर्धारित की जाती है. डब्ल्यूएफएमएच के प्रेसिडेंट डॉ इंग्रिड डेनियल ने विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस 2021 के लिए थीम की घोषणा की है. इस वर्ष की थीम निर्धारित की गयी है. ‘एक असमान दुनिया में मानसिक स्वास्थ्य’ (Mental Health in an Unequal World). इस दिन आयोजित होने वाली सभी कार्यक्रम इसी थीम पर आधारित होंगे.

ये भी पढ़ें: Health Care Tips: सरसों, चना और बथुआ का साग खाने के हैं गजब फायदे

 मानसिक तनाव से बचने के उपाय

Health Tips : इस चिंता या तनाव की हद तो तब हो जाती हैं, जब हम इसके कारण किसी रोग से ग्रसित हो जाये. इसके कारण होने वाली कुछ आम बीमारियाँ हैं -: अवसाद, ह्रदय रोग, शुगर का बढ़ना, स्वभाव में चिड़ – चिड़ापन, जल्दी गुस्सा आना,
मानसिक विकार, आदि.

तनाव को कम कर

दिनचर्या बनाये – हम सभी कभी न कभी ऐसी कठिनाइयों से घिर जाते हैं, जहाँ हमे उनका सामना तो करना ही हैं, साथ ही स्वयं को सर्वश्रेष्ठ भी सिध्द करना हैं, चाहे वो ऑफिस की कोई मीटिंग हो या कोई परीक्षा ; तो ऐसी परिस्थिति में उस कठिनाई के कारण तनाव से घिरने की बजाय हमे एक दिनचर्या का पालन करना चाहिए. एक सही दिनचर्या आपकी दिन भर की कई मुश्किलों का हल होती हैं और कई कामों को आसान कर देती हैं. आप उस कठिनाई का उसी प्रकार सामना कर पाने में सक्षम होंगे, जैसे कि आप कोई सामान्य परिस्थिति में कार्य कर रहे हैं.

Health Tips : दिन की शुरुआत शीघ्र करें – आप स्वयं में सुबह जल्दी उठने की आदत डालिए, जिससे आपकी दिनचर्या समय पर शुरू होगी और आपका अपने काम पर भी पूरा ध्यान होगा. साथ ही आप कई बिना वजह की परेशानियों, जैसे : ट्रेफिक, देर हो जाना, आदि समस्याओं से बच जाएँगे और तनाव आपको नहीं घेरेगा.

यह भी पढ़े : Clove or Laung Benefits: लौंग खाने से क्या फायदा और क्या नुकसान है

सूचि बनाना – आप उन सभी कार्यों की सूचि बनाइये, जिन्हें करने से आप खुश रहते हैं और जिनसे आपको एक सकारात्मक ऊर्जा प्राप्त होती हैं. साथ ही आप दिन भर में किये जाने वाले कार्यों की सूचि बनाकर उन्हें बिना भूले पूर्ण कर सकते हैं. यह तकनीक आपको तनाव से दूर रखने और इसे कम करने में मदद देगी.

सकारात्मक लोगों के साथ रहे – आप किन लोगों के साथ अपना अधिकतर समय बिताते हैं, तनाव – मुक्त रहने के लिए ये जानना भी बहुत जरुरी हैं क्योंकि यदि आप नकारात्मक सोच वाले लोगों के साथ रहते हैं तो आप भी उन्ही की तरह हो जाएँगे और नकारात्मक सोच के दुष्परिणाम भी आपको झेलने पड़ेंगे. परन्तु वही आप सकारात्मक रवैये वाले लोगों के साथ अपना समय बिताते हैं तो आप भी समस्याओं के प्रति सकारात्मक रवैया रखेंगे और उनका सामना करने के लिए तैयार रहेंगे, जिससे आपके जीवन की कई परेशानियाँ आसानी से हल हो जाएगी.

समस्या को स्वीकार करना सीखें – अगर आप किसी बुरी या कठिन परिस्थिति में फंस गये हैं तो उससे दूर भागने के बजाय उसे स्वीकार करें और उसका सामना करके उसे ख़त्म करने की कोशिश करे. इस प्रकार परेशानियों का सामना करने से आपके अन्दर कठिनाइयों से लड़ने की शक्ति आएगी, आपका आत्मबल बढ़ेगा और आपके अन्दर सकारात्मकता आएगी, जिससे भविष्य में आने वाली परेशानियों के प्रति आप अडिगता से खड़े रहेंगे और इनके प्रति आपका तनाव भी कम होगा.

स्वयं की देखभाल करें –अगर हम किसी तनाव पूर्ण स्थिति से घिरे हुए हो तो हम अपनी फ़िक्र करना छोड़ देते हैं और हर समय उस संकट के बारे में ही सोचते रहते हैं. इसी कारण हम कई बार खाना- पीना छोड़ देते हैं या ऐसा भोजन करते हैं, जो स्वास्थ्य के लिए उचित नहीं, हम रात को अच्छी नींद भी पूरी नहीं ले पाते हैं. जिससे वो समस्या तो हल नहीं होती, बल्कि हम अपना स्वास्थ्य बिगाड़ लेते हैं, इसलिए जरुरी हैं कि हम स्वस्थ रहे. यदि हम स्वस्थ रहेंगे, तनाव मुक्त रहेंगे, तभी तो उस समस्या को हल करने का उपाय खोज पाएँगे.

ध्यान साधना करना – मेडिटेशन (Meditation) करना तनाव दूर करने का सबसे बढ़िया तरीका हैं. प्रतिदिन मात्र 20 – 30 मिनिट का मेडिटेशन आपको तनाव – मुक्त जीवन देने के लिए काफी हैं. यह आपके गुस्से और चिड़ – चिड़ेपन को भी दूर करने में बहुत सहायक होता हैं, आपकी एकाग्रता शक्ति को भी बढाता हैं.

परिवार के साथ समय बिताएं – आज बहुत से लोग रोजी – रोटी के कारण अपने परिवार से दूर रहते हैं या साथ रहकर भी अपने बच्चों और परिवार को समय नहीं दे पाते. जिससे रिश्तों में दूरियां आती हैं और ये तनाव बढ़ने का भी कारण बनती हैं. अतः आवश्यक हैं कि आप परिवार को, अपने जीवनसाथी को समय दे, उनके साथ छुट्टियाँ बिताये, बच्चों के साथ समय बिताएं, उन्हें अपने बचपन के किस्से सुनाये, उनके साथ शरारतें करें, उनकी पढाई और दिनचर्या में रूचि दिखाए, उनकी समस्याए जाने. इस सब से आपके और आपके परिवार का रिश्ता मजबूत होगा और इससे तनाव होने पर भी आप इससे ज्यादा प्रभावित नहीं होंगे और खुश रहेंगे.

एक समय में एक कार्य – आप एक समय में एक ही कार्य करें, सभी कामों को करने की जिम्मेदारी स्वयं पर न ले अन्यथा एक भी काम समय पर नही होगा और अगर हो भी गया तो उसमे गलतियों की गुंजाइश ज्यादा होगी. एक काम हाथ में ले और उसे समय पर पूरा करें, इससे आपका काम भी जल्दी होगा और गलतियाँ भी नहीं होगी, साथ ही इस वजह से तनाव भी नहीं होगा और आप खुश रहेंगे.

पूरी नींद ले – सुबह होते ही काम पर ठीक प्रकार से विजय पाने के लिए ये आवश्यक हैं कि हम रात को ठीक तरह से और भरपूर मात्रा में नींद ले ताकि सुबह उठकर पूरी ताजगी और ऊर्जा के साथ दिन भर के काम कर पाए क्योंकि अगर दिन भर के काम ठीक ढंग से होंगे तो तनाव नहीं होगा और आप खुश रहेंगे.

यह भी पढ़े : हेल्थ टिप्स : अच्छी नींद चाहिए तो रात में सोने से पहले करे ये काम

ध्यान भंग करने वाली चीजों से दूर रहें – जब आप काम कर रहे हो, तब आप ई – मेल, नोटिफिकेशन, मोबाइल, आदि का प्रयोग न करें क्योंकि इनसे काम करते समय ध्यान बंटता हैं, जिससे काम करने में समय अधिक लगता हैं और आपको अपने अन्य कार्यों हेतु पर्याप्त समय नहीं मिल पता और आप तनाव ग्रस्त हो जाते हैं.

एकाग्रता – जब आप कोई काम कर रहे हो , तो आपका उद्देश्य उसे पूरी एकाग्रता से पूर्ण करने का होना चाहिए. जब आप अपना पूरा ध्यान किसी एक ही काम पर लगाते हैं तो वो कार्य जल्दी पूरा हो जाता हैं. साथ ही आपको बहुत सी चीजों या कामों को मिलाना [ मिक्स ]नहीं चाहिए, इससे एकाग्रता बनी रहती हैं.

स्वयं से प्रश्न करें – अगर आप किसी मसले पर तनाव ग्रस्त महसूस करें, तो उसे दूर करने के लिए स्वयं का साक्षात्कार [ इंटरव्यू ] ले. स्वयं से ऐसे प्रश्न करे जो उस समस्या के संबंध में उस समय आपके दिमाग में चल रहे हो. इन प्रश्नों के उत्तर आपको उस समस्या से बाहर लाने में मदद करेंगे और आप तनाव से दूर रह पाएँगे.

काम न टालें – काम को टालना बहुत बुरी आदत हैं और यह 100% सच हैं कि कल कभी नहीं आता. यह कोई नहीं जानता कि कल आपके पास कितना काम होगा, टालें गये काम को करने के लिए आप वक्त निकाल पाएँगे या नही और अगर आज का काम कल भी नहीं हो पाया तो यह स्थिति तनाव का रूप ले लेगी. इसलिए कभी भी बिल्कुल डेड – लाइन ख़त्म होने तक का इन्तेज़ार न करे.

गहरी सांस लें – आराम से और लम्बी साँस भरना, अपने आप में एक मजबूत हथियार हैं, जो आपको किसी भी प्रकार के मानसिक तनावों से लड़ने में सहायता करती हैं, तो जब भी आप किसी तनाव से घिरे तो सर्वप्रथम कुछ समय के लिए रुके और एक लम्बी साँस ले. यह तकनीक आपके दिमाग को तनाव रहित करने में बहुत कारगर सिध्द होगी.

नियमित व्यायाम करें – प्रतिदिन कसरत करना न केवल आपको शारीरिक रूप से स्वस्थ रखता हैं, बल्कि यह आपको मानसिक रूप से भी मजबूत बनाता हैं. नियमित व्यायाम करने से शरीर में बनने वाले स्ट्रेस हार्मोन्स की मात्रा कम हो जाती हैं और हम तनाव रहित होकर खुशहाल जीवन जी पाते हैं.

इस दिन को मनाये जाने का महत्त्व

Health Tips : मानसिक तनाव, चिंता और डिप्रेशन की वजह से दुनिया में बहुत सारे लोग सोशल स्टिग्मा, डिमेंशिया, हिस्टिरिया, एग्जाइटी, आत्महीनता जैसी कई तरह की दिक्कतों और मानसिक बीमारियों से जूझ रहे हैं. इन दिक्कतों की ओर लोगों का ध्यान आकर्षित करने और लोगों के बीच जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से वर्ल्ड मेंटल हेल्थ डे (World Mental Health Day) मनाया जाता है. जिससे लोग मानसिक दिक्कतों और बीमारियों के प्रति जागरूक हों और समय रहते अपना इलाज करवा सकें.

Health Tips: पनीर खाने के फायदे और नुकसान एवंनकली पनीर की पहचान

 home made remedies : चेहरे को गोरा व सुंदर बनाने के कुछ आसान घरेलु उपाय

 हेल्थ टिप्स : अच्छी नींद चाहिए तो रात में सोने से पहले करे ये काम

women health : यहां जानें कुछ हर्ब्स जो महिलाओं की इम्युनिटी को बूस्ट करेंगे

Leave a Reply