Healthy Cooking Oils : कौन सा तेल स्वास्थ्य के लिए अच्छा माना जाता है

हेल्थ
healthy cooking oils
healthy cooking oils
image by : recipecritique

नारियल का तेल – Benefits of Coconut Oil : नारियल तेल (Coconut Oil) को अगर कम मात्रा में इस्तेमाल किया जाए तो यह सभी स्किन टाइप के लिए अच्छी होती है। इसमें फैटी एसिड होते हैं जो स्किन को हाइड्रेट करने कर सुरक्षित रखने के काम आते हैं। इसमें लिनोलेइक एसिड, विटामिन F और एंटीबैक्टीरियल प्रॉपर्टीज होती हैं।

इसे रात भर चेहरे पर लगाने से कई फायदे होते हैं। नारियल का तेल (Coconut Oil)

Advertisement
आपकी स्किन के लिए नाइट सीरम का काम करता है। आप नारियल के तेल को रात भर लगाने से पहले इसे मेकअप रिमूवर के तौर पर भी इस्तेमाल कर सकती हैं।

कई लोग नारियल के तेल (Coconut Oil) को स्पॉट ट्रीटमेंट यानी कि चेहरे के दाग-धब्बे दूर करने के लिए भी इस्तेमाल करते हैं। इसे आंखों के नीचे और स्किन पर ड्राई पैचेज को हटाने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

मूंगफली का तेल
मूंगफली का तेल

मूंगफली का तेल – Benefits of peanut oil : मूंगफली के तेल (peanut oil) का उपयोग बहुत पुराने समय भोजन बनाने के लिए किया जाता है। इसमें अच्छी मात्रा में मोनो-असंतृप्त और पॉलीअनसेचुरेटेड होता है। यह कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है।

इसके अलावा विटामिन इ की अच्छी मात्रा पाई जाती है। मूंगफली का तेल मुंहासे को कम करने के लिए फायदेमंद होता है। यह त्वचा की समस्या से बचाव करता है क्योंकि इसमें एंटीऑक्सीडेंट के गुण उपस्तिथ है। भोजन में मूंगफली के तेल का उपयोग करने से दिल को सेहतमंद और तंदरुस्त बना रहता हैं।

तथा मूंगफली का तेल मेटाबॉलिज्म बढ़ाने में बेहद असरदार होता हैं। और वजन कम करने में मददगार साबित होता हैं। अतः अपने खाने में मूंगफली का तेल अवश्य उपयोग करे

सरसों का तेल – Benefits of mustard oil : सरसों का तेल का अधिकतर उपयोग उत्तर प्रदेश, बिहार के राज्य में करते है। इसके अलावा अन्य राज्यों के लोग भी करते हैं। क्योंकि सरसों का तेल (mustard oil) भोजन के जायका को बढ़ाता हैं। इसके साथ भोजन को स्वादिष्ट (Healthy Cooking Oils) बनाता है। भारत में सरसों के तेल को पारंपरिक तेल के रूप में जानते है।

यह तेल पाचन क्रिया को मजबूत करता है। दांत के दर्द को कम करता है व किटाणु को कम करता है इसमें एंटी बैक्टीरियल गुण होता है। शरीर की आम समस्या जैसे सर्दी जुखाम को सरसों के तेल (mustard oil) का उपयोग कर ठीक कर सकता है।सरसों का तेल रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए

ताड का तेल – Benefits of palm oil : ताड का तेल (Palm oil) मुख्य रूप से कुछ तलने के लिए किया जाता है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट, विटामिन इ कैरोटीन के अच्छा स्त्रोत पाया जाता है। ताड का तेल (Palm oil) खासतौर पर गठिया व हड्डियों से जुडी समस्या को कम करता है। इसके अलावा कैंसर मरीज के लिए अच्छा होता है। मस्तिष्क के रोग अल्जामइर और एंटी एजिंग से ग्रस्त व्यक्ति के उपचार में अच्छा माना गया हैं।

Read this :Palm oil bad for the environment|Health

palm oil
palm oil

सोयाबीन का तेल – Benefits of soybean oil : विटामिन, खनिज और प्रोटीन से भरपूर सोयाबीन सेहत का खजाना तो हैं। ही पर कम ही लोगों को पता होगा कि ये बालों से जुड़ी लगभग हर समस्या को दूर करने में भी कारगर हैं। इतना ही नहीं इसमें मौजूद तत्व त्वचा को पोषण देने का काम करते हैं।

सोयाबीन तेल (soybean oil) डाइट में शामिल करके अच्छी सेहत पायी जा सकती हैं। वहीं इसके इसके नियमित इस्तेमाल से बेहतर त्वचा और बाल भी पाए जा सकते हैं। सोयाबीन तेल में उच्च मात्रा में पॉली और मोनो अनसैचुरेटेड वसा होता है।

इसमें ओमेगा 3 भी अच्छी मात्रा में होता है। यह हृदय संबंधित बीमारियों के जोखिम को कम करता है। अपने आहार में सोयाबीन तेल (soybean oil) का उपयोग करना चाहिए। सोयाबीन का इस्तेमाल हर तरह की त्वचा के लिए किया जा सकता हैं। ये त्वचा को पोषण देने का काम करता हैं। और त्वचा पर मौजूद एक्स्ट्रा ऑयल को भी दूर करने में मदद करता हैं।

बढ़ती उम्र के लक्षणों को बढ़ने से रोकने के लिए भी सोयाबीन का इस्तेमाल करना फायदेमंद रहता हैं। त्वचा पर मौजूद बारीक रेखाओं, दाग-धब्बे और झुर्रियों को दूर करने के लिए भी सोयाबीन का इस्तेमाल किया जा सकता हैं।

डेड स्क‍िन को दूर करके नई कोशिकाओं को बनने में मदद करता हैं। जिससे त्वचा निखरी और जवान नजर आती हैं। सोयाबीन में पर्याप्त मात्रा में विटामिन ई पाया जाता हैं।

Healthy Cooking Oils : सोयाबीन का तेल
Healthy Cooking Oils : सोयाबीन का तेल
imag by :Alibaba

कनोला ऑयल – Benefits of canola oil : कैनोला प्राकृतिक पौधा नहीं है, बल्कि रेपसीड पौधे में आनुवंशिक बदलाव करके लगाया जाने वाला पौधा है। बायोटेक्नोलॉजी प्रक्रिया के बाद इस पौधे को खाद्य योग्य बनाया जाता है। फिर इसमें से निकाले गए तेल का इस्तेमाल खाना बनाने में किया जा सकता है ।

एक शोध के मुताबिक, कैनोला तेल (canola oil) स्तन कैंसर से बचाव कर सकता है । कैनोला तेल का सेवन आपको ऊर्जावान बनाए रखने में भी मदद कर सकता है। विटामिन-ई शरीर में बतौर एंटी-इंफ्लेमेटरी काम करता है।

ऐसे में कहा जा सकता हैं। कि इस तेल (canola oil) की मदद से चोट के कारण होने वाली सूजन और दर्द को कम करने के लिए तेल का एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण मदद करता हैं।

एवोकैडो ऑयल – Benefits of avocado oil : एवोकैडो ऑयल में विटामिन-ई, विटामिन-ए, विटामिन-बी1, विटामिन-बी2, विटामिन-डी और बीटा कैरोटीन से समृद्ध होता है। साथ ही यह तेल एंटीऑक्सीडेंट, एंटीइंफ्लेमेटरी और एंटीहाइपरटेंसिव गुण से भरपूर होता है।

इस तेल (avocado oil) में पाए जाने वाले ये पोषक तत्व और गुण हृदय रोग और मधुमेह जैसी कई स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के साथ ही त्वचा और बालों की परेशानी को दूर करने में भी फायदेमंद साबित हो सकते हैं।

तेल को त्वचा और बालों के लिए भी फायदेमंद माना गया है। एवोकैडो तेल (avocado oil) हमें स्वस्थ (Healthy Cooking Oils) रखने में मदद करता है और अगर कोई बीमार है, तो बीमारी के लक्षणों को कुछ कम कर सकता है।

ऑलिव ऑयल – Benefits of Olive oil : जैतून का तेल (Olive oil) खाने की सलाह तमाम डॉक्‍टर्स देते हैं। इसका कारण हैं। इसमें मौजूद पोषक तत्‍व. यह तेल विटामिन, मिनरल, एंटीऑक्सीडेंट और कई अन्य गुणों से भरपूर होता है. जैतून के तेल को जैतून के फलों से निकाला जाता हैं।

प्रमुख ऑलिव ऑयल में एक्स्ट्रा वर्जिन ऑलिव ऑयल, वर्जिन ऑलिव ऑयल, प्योर ऑलिव ऑयल, ऑलिव ऑयल और लैम्पेंट ऑयल शामिल हैं। ये सभी ऑलिव ऑयल बनाने और इसे प्‍योर करने के कारण वैरायटी में बांटे गए हैं।

अलसी का तेल – Benefits of flax seeds : अलसी के बीज से बनने वाला तेल में औधषीय गुणों से भरपूर होता हैं। सेहतमंद (Healthy Cooking Oils) के साथ-साथ यह कई गंभीर बीमारियों को दूर करने में मदद करता है। कई लोग याददाश्त बढ़ाने के लिए अलसी के बीज का सेवन करते हैं।

अलसी में ओमेगा-3 फैटी एसिड, मैग्नीशियम और विटामिन बी जैसे गुण पाए जाते हैं, जिससे कई स्वास्थ्य लाभ होते हैं। अलसी के तेल में मछली से 50 प्रतिशत ओमेगा 3 फैटी एसिड पाया जाता है, जिसका इस्तेमाल कई तरीके से किया जाता है।

वजन घटाने के लिए अलसी के तेल काफी फायदेमंद होते हैं। ब्लड प्रेशर कंट्रोल करने और पाचन क्रिया को दुरुस्त करने के लिए अलसी के तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं। अलसी के तेल कई बीमारियों के लिए रामबाण इलाज है।

Read this : अलसी क्या है,अलसी के फायदे और नुकसान

Benefits of flax seeds
Benefits of flax seeds

चावल की भूसी से बना तेल – Benefits of rice bran : राइस ब्रैन ऑयल एक सेहतमंद तेल के रूप में पहचान बना रहा हैं। यह तेल (rice bran) चावल की भूसी से तैयार किया जाता हैं। यह चावल के अंदर के छिलकों से निकाला गया तेल होता हैं। इसके गुणों के कारण बहुत से एशियाई देशों में इसका प्रयोग (Healthy Cooking Oils) कुकिंग ऑयल के तौर पर किया जाने लगा हैं।

चावल की भूसी (rice bran) से तैयार में पॉलीअनसैच्युरेटेड फैट पाया जाता हैं।साथ ही इसमें विटामिन्स, एंटीऑक्सीडेंट भी पाए जाते हैं। यह कोलेस्ट्रॉल को कम करता हैं। और शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता हैं। हॉर्मोन को संतुलित रखने में मदद करते हैं। ऐसा माना जाता हैं।

कि राइस ब्रैन ऑयल (rice bran oil )का सेवन करने से ह्रदय रोग के खतरे को कम किया जा सकता हैं। इस तेल में ओरिजेनॉन नामक पदार्थ होता हैं। जो दिल से संबंधित परेशानियों से राहत दिलाता हैं। दरअसल इसके सेवन से कोलेस्ट्रॉल लेवल भी ठीक रहता हैं। इसलिए ये हार्ट के लिए फायदेमंद माना जाता हैं।

तिल का तेल – Benefits of sesame oil : तिल का तेल (sesame oil) स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा माना जाता है। इसमें बहुत से औषधीय गुण मौजूद होता है जो डायबिटीज के मरीजों के लिए किसी जड़ीबूटी की तरह काम करता है। यह रक्त शर्करा के स्तर को कम करता है और शुगर को नियंत्रण में करता है।

साथ ही त्‍वचा, बालों और शरीर के लिए भी तिल का तेल का बहुत फायदेमंद होता है। इस तेल की खास बात यह भी हैं। कि इसे लगाने से त्‍वचा के रोमछिद्र बंद नहीं होते हैं। तिल का तेल तनाव की समस्या को कम करने में मदद करता है। यदि व्यक्ति अवसाद की समस्या से गुजर रहा हैं।

तो तिल का तेल उपयोग करें।तिल के तेल में एंटीऑक्‍सीडेंट होते हैं। जिनकी वजह से इसमें त्‍वचा की कोशीय संरचना को फ्री रेडिकल्‍स और असंतुलित अणुओं से नुकसान पहुंचने से रोकने की क्षमता होती है।

Healthy Cooking Oils : तिल का तेल
Healthy Cooking Oils : तिल का तेल
image by :getty images

Leave a Reply