Herbal Leaves Benefits On Empty Stomach In Hindi | benefits of eating herbal leaves

हेल्थ
Herbal Leaves Benefits On Empty Stomach In Hindi | benefits of eating herbal leaves
Herbal Leaves Benefits On Empty Stomach In Hindi | benefits of eating herbal leaves

Herbal Leaves Benefits On Empty Stomach In Hindi | benefits of eating herbal leaves | herbal leaves for gas in hindi | सुबह खाली पेट चबाएं ये पत्तियां

आयुर्वेद हमेशा से ही हमारी कई बीमारियों का नैचुरल इलाज रहा है। ऐसे में गैस , बदहजमी और ब्लॉटिंग आदि की समस्या से आप नेचुरल तरीके से ही निपट सकते हैं। जैसे कि हमारे घर में कुछ पौधे और उनकी पत्तिया कई बीमारियों से बचाने में हमारी मदद कर सकते हैं। साथ ही इनका इस्तेमाल करना भी आसान होता है।

Advertisement

चाहे आप इससे चटनी बना लें या फिर इसका जूस पिएं। आज sangeetaspen.com के माध्यम से आपको ऐसी ही 10 पत्तियों के बारे में बताएंगे, जो पेट से जुड़ी समस्याओं को कम करने में मदद कर सकते हैं। इन पत्तियों की खास बात ये है कि ये गैस और एसिडिटी को कम करता है और शरीर को डिटॉक्स करता है। तो, आइए विस्तार से जानते हैं इन पत्तियों के बारे में।

यह भी पढ़े :  Mint Natural Medicine : पुदीना के फायदे और उपयोग

अजवाइन की पत्तियां (Celery leaf benefits) – अजवाइन की पत्तियों को सुबह खाली पेट चबाना आपको पेट से जुड़ी दूसरी समस्याओं से बचा सकता है। अजवाइन की पत्तियों का अर्क एसिडिटी कम करता है और गैस की समस्या से बचाता है। साथ ही ये एंटीबैक्टीरियल की तरह भी काम करता है और पेट के कीटाणुओं को मारता है। इस तरह से पेट को स्वस्थ रखता है।

यह भी पढ़े :  Oregano uses, best health Benefits and Side Effects in Hindi |ऑरिगेनो के फायदे व उपयोग…

Neem leaves
Neem leaves

नीम की पत्तियां (Neem leaves benefits) – नीम की पत्तियां अपने आप में एंटीबैक्टीरियल और एंटी एलर्जिक गुणों से भरपूर हैं। रोजाना इनका खाली पेट सेवन करने से आपको पेट में कीड़े नहीं होंगे। साथ ही जिन लोगों लगातार फोड़े-फूंसी निकलते हैं उनके लिए नीम की पत्तियां रामबाण इलाज की तरह काम करती हैं। ये खून की साफ करती हैं और त्वचा को अंदर से स्वस्थ बनाती हैं। साथ ही नीम की पत्तियों का खाली पेट सेवन करने से ब्लड वेसेल्स हेल्दी रहती हैं और आपको दिल की बीमारियां नहीं होतीं। साथ ही ये बुखार, डायबिटीज, मसूड़ों की बीमारी और लिवर की समस्याओं से भी बचाव में मदद करती हैं।

यह भी पढ़े :  नीम के पत्तों से कैसे बनाये अपनी Immunity को स्ट्रॉन्ग

धनिया (Dhania leaves benefits) – धनिया ब्लड शुगर को कम करने में मदद करता है। ये कुछ ऐसे एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर है जो कि इम्यूनिटी बढ़ाता है। साथ ही धनिया के पत्ते कोलेस्ट्रॉल को भी कम करने में मददगार है। ये दिल की सेहत बनाता है। इसके अलावा ये वेट लॉस करने वाले के लिए भी मददगार है क्योंकि ये बॉवेल मूवमेंट तेज करता है और फैट पचाने में मददगार है।

करी पत्ता (Curry leaf benefits) – करी पत्ता में कई खास गुण होते हैं। इसके एंटीऑक्सीडेंट पाचन तंत्र और पेनक्रियाज के लिए बहुत फायदेमंद है। ये डायबिटीज में मददगार है ही बल्कि, पेट को हेल्दी रखने में भी मदद करता है। ये पेट के काम काज को तेज करता है और मेटाबोलिक फंक्शन को तेज करता है। इसके अलावा करी पत्ता चबाने से आपका शरीर भी डिटॉक्स होता रहेगा और आप शरीर से स्वस्थ
रहेंगे।

यह भी पढ़े : Curry leaves : Use of curry leaves, health benefits and loss

जामुन की पत्तियां (Jamun leaves benefits) –जामुन की पत्तियां को चबाने से पहले तो ये आपके मेटाबोलिक रेट को बढ़ाता है और पाचन तंत्र को तेज कर देता है। इससे आपको ब्लॉटिंग और एसिडिटी की समस्या नहीं होगी। इसके अलावा इन पत्तियों का अर्क इंसुलिन के प्रोडक्शन को बढ़ावा देता है और शुगर पचाने में मदद करता है। इसलिए ये डायबिटीज के मरीजों के लिए भी अच्छा है।

यह भी पढ़े : Black Berry benefits :जामुन के फायदे और नुकसान

Betel leaf juice benefits
Betel leaf benefits

पान के पत्ते (Benefits of Betel leaf benefits) – पान के पत्ते एंटी डायबिटीक गुणों से भरपूर है। साथ ही ये हाई कोलेस्ट्रॉल के स्तर को भी कम करने में मदद करता है। पान के पत्ते एंटी बैक्टीरियल से भी भरपूर है जो कि इंफेक्शन को रोकने में मदद करता है। पान के पत्ते माउथ फ्रेशनर की तरह काम करते हैं और मुंह को साफ रखते हैं। जिन लोगों को मूड स्विंग्स होते हैं उनके लिए भी ये काफी फायदेमंद है। ये डिप्रेशन को कम करने में मदद करते हैं।

यह भी पढ़े : हर मौसम में सेहत के लिए फायदेमंद पान का जूस

अजवाइन की पत्तियां (Celery leaf benefits) – अजवाइन की पत्तियों को सुबह खाली पेट चबाना आपको पेट से जुड़ी दूसरी समस्याओं से बचा सकता है। अजवाइन की पत्तियों का अर्क एसिडिटी कम करता है और गैस की समस्या से बचाता है। साथ ही ये एंटीबैक्टीरियल की तरह भी काम करता है और पेट के कीटाणुओं को मारता है। इस तरह से पेट को स्वस्थ रखता है।

यह भी पढ़े :  Oregano uses, best health Benefits and Side Effects in Hindi |ऑरिगेनो के फायदे व उपयोग…

Basil leaves benefits
Basil leaves benefits

तुलसी की पत्तियां (Basil leaves benefits) – तुलसी का उपयोग पेट में ऐंठन, सर्दी-जुकाम, आंतों की समस्या और एसिडिटी को दूर करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। पर खाली पेट तुलसी की पत्तियां चबाने से आपको कई लाभ मिल सकते हैं। दरअसल, तुलसी की पत्तियों में एंटीवायरल गुण होते हैं जो कि आपको मौसमी बीमारियों से बचाव में मदद करती हैं।

साथ ही इसकी एंटी इंफ्लेमेटरी गुण शरीर में सूजन को कम करने में मदद करती है। यहां तक कि जोड़ों के दर्द से भी इसकी पत्तियां आपको बचाती हैं। इसके अलावा इसके एंटीबैक्टीरियल गुण श्वसन रोगों, मूत्र रोगों, पेट और त्वचा के संक्रमण से भी लड़ने में मदद करते हैं। साथ ही रोजोना तुलसी की 4 पत्तियों को खाना आपकी इम्यूनिटी बढ़ाने का काम करते हैं।

यह भी पढ़े : amazing benefits of holy basil

सौंफ की पत्तियां (fennel leaves benefits )- सौंफ की पत्तियों को सुबह खाली पेट चबाने से आप कई समस्याओं से बच सकते हैं। सौंफ मे एंटीबैक्टीरियल गुण है जो पेट के कीड़ों को मारता है और हेल्दी पीएच बैलेंस में मदद करता है। साथ ही ये प्रेग्नेंसी में होने वाली एसिडिटी की समस्या को भी दूर कर सकता है और मॉर्निंग सिकनेस के लक्षणों को कम कर सकता है। इसके अलावा आपको खाली पेट गैस और एसिडिटी की समस्या होती है तो भी आप इन पत्तियों का सेवन कर सकते हैं।

Mint leaves benefits
Mint leaves benefits

पुदीना (Mint leaves benefits)- पुदीना हर घर में लगभग होता है या लोग इसे तरह-तरह से खाना बनाने में इस्तेमाल करते हैं। पुदीने के खास गुण की बात करें तो, ये एंटीबैक्टीरियल है और पेट में बैक्टीरियल इंफेक्शन से बचा सकता है। इसके अलावा पुदीना एंटाएसिड भी है जो कि एसिडिटी को कम करता है और गैस व बदहजमी से बचाव में मदद करता है। ऐसे में पेट को ठंडा रखने के लिए और बदहजमी आदि से बचने के लिए आप पुदीने की पत्तियों को सुबह-सुबह चबा सकते हैं।

जिन्कगो (Gingko leaves benefits) – जिन्कगो लीफ एक्सट्रेक्ट का उपयोग अस्थमा, ब्रोंकाइटिस, थकान और टिनिटस जैसी विभिन्न स्थितियों के इलाज के लिए किया जाता है। इसका उपयोग स्मृति में सुधार और मेमोरी लॉस जैसे अन्य मस्तिष्क विकारों को रोकने के लिए भी किया जाता है। पर ध्यान रहे कि इसके ज्यादा इस्तेमाल से बचें नहीं तो ये नुकसानदायक हो सकता है।

Leave a Reply