Hijab Controversy in Hindi | Hijab Controversy Latest News | कर्नाटक हिजाब विवाद क्या है,

हेल्थ
Hijab Controversy Political Issue Hijab Controversy Political Issue
Hijab Controversy Political Issue Hijab Controversy Political Issue

Table of Contents

कर्नाटक हिजाब विवाद क्या है (Hijab Controversy in Hindi)

कर्नाटक हिजाब विवाद क्या है, हिजाब का मतलब क्या होता है, अर्थ, इतिहास (Hijab Controversy in Hindi)

आजकल कर्नाटक का माहौल हिजाब विवाद (Hijab Controversy)

Advertisement
से तनावपूर्ण हो चुका है। हिजाब विवाद ने धीरे धीरे राजनीति के गलियारों में भी गर्मागर्मी का वातावरण बना दिया है। सत्ताधारी पार्टी और विपक्ष एक दूसरे के समक्ष अपना अपना पक्ष रख रही है। अब ये मामला कर्नाटक हाई कोर्ट में पहुंच गया है। कोर्ट ने इस मामले में सुनवाई के लिए अगले सोमवार की तारीख तय की है । आइए इस आर्टिकल के माध्यम से जानते हैं आखिर ये हिजाब विवाद क्या है । साथ ही आपको ये भी बताएंगे कि हिजाब क्या है। तो इस जानकारी के लिए भी आर्टिकल को पूरा पढ़ें।

कर्नाटक हिजाब विवाद क्या है (Hijab Controversy in Hindi)

दरअसल कर्नाटक एक सरकारी स्कूल में पढ़ने वाली 6 मुस्लिम छात्राओं ने हिजाब (Hijab)पहनकर क्लास में आने की मांग की. जिसका विरोध जताते हुए हिंदू छात्र-छात्रा भगवा शॉल पहनकर स्कूल आने लगे.

लेकिन कुछ लोग मुस्लिम छात्राओं के कॉलेज में हिजाब (Hijab)पहन के जाने का विरोध कर रहे हैं जबकि कुछ का कहना है कि मुस्लिम छात्राओं का हिजाब पहनना वाजिब है। इसी को लेकर कर्नाटक में बहुत अधिक विवाद हो रहा है जोकि अब हाई कोर्ट तक पहुँच चूका है.

कर्नाटक हिजाब विवाद ताज़ा खबर (Hijab Controversy Latest News)

आपको बता दें कि कर्नाटक के एक कॉलेज में मुस्लिम छात्राओं के हिजाब पहनने से शुरू हुआ विवाद अब हाईकोर्ट में कल यानि गुरुवार को इस मामले में अंतरिम फैसला सुनाया गया था. जिसमें 3 जजों की बेंच ने यह कहा कि जब तक इस पर एक संतुष्टि से पूर्ण नतीजा नहीं निकलता है तब तक किसी भी स्कूल एवं कॉलेज में धार्मिक पहनावा नहीं पहना जायेगा. यानि कि हाईकोर्ट ने फिलहाल इस पर रोक लगा दी है.

फिर इस फैसले के खिलाफ जाकर कुछ याचिकाकर्ताओं ने इस मामले को सुप्रीमकोर्ट में पहुंचा दिया है, इन याचिकर्ताओं में विपक्ष के नेता भी शामिल हैं. और वहां पर इसके खिलाफ सुनवाई की मांग की है. हालांकि सुप्रीमकोर्ट ने इसकी सुनवाई करने से पहले ही यह कह दिया है कि इस पर सुनवाई तब होगी जब इस मामले में उनके दखल देने का सही वक्त आयेगा. इसका मतलब यह है कि अभी लोगों को हाई कोर्ट के फैसले को ही मानना होगा.

हिजाब का मतलब क्या होता है (What is Hijab, Meaning)

इस्लाम में हिजाब का अभिप्राय परदे से है। जानकारों की मानें तो कुरान में हिजाब कपड़े के तौर पर नहीं बल्कि परदे के तौर पर बताया गया है। औरत और मर्द दोनो को ढीले और शालीन कपड़े पहनने के लिए कहा गया है। अक्सर हिजाब और नकाब को एक ही समझा जाता है। पर नकाब चेहरे को ढांकने का कपड़ा होता है। हालाकि इस्लाम में चेहरे को ढांकने की बात नही की गई है। इसमें सर और बाल छुपाने का ज़िक्र आता है। कट्टरपंथी देशों में अक्सर महिलाओं को नकाब डालने के लिए कहा जाता है।

बुर्का क्या है (What is Burka)

भारत जैसे देशों में अक्सर मुस्लिम महिलाओं को बुर्के में देखा जा सकता है। बुर्का नकाब का ही एक अलग प्रारूप है। बुर्के में आंखे भी ढंकी होती हैं। आम तौर पर इसका रंग काला होता है। आपको बता दे कि एक बुर्के की बनावट लबादे की तरह होती है। इसे एक ही रंग का रखा जाता है जिससे उस महिला से कोई गैर आकर्षित न हो पाए।

हिजाब विवाद कैसे शुरू हुआ (Hijab Controversy Start)

हिजाब विवाद का जन्म कर्नाटक के उडुपी में हुआ था। इसकी शुरुआत पिछले साल दिसंबर में हुई थी।उडुपी के एक महाविद्यालय में इस घटना की शुरुआत हुई थी। यहां छात्राएं ड्रेसकोड को फॉलो न करके हिजाब में कॉलेज आई थीं। कर्नाटक में ऐसी घटनाएं कुंडापुर, बिंदूर जैसे इलाकों में भी देखने को मिली है। मुस्लिम छात्राओं को हिजाब पहन कर क्लासेज में प्रवेश नहीं मिला जिसके बाद ये सारा विवाद तूल पकड़ने लगा।

जब मुस्लिम छात्राएं हिजाब पहन कर कॉलेज आने लगीं तो हिंदू छात्राएं भगवा स्कार्फ लिए कॉलेज आने लगे। ऐसी घटना के बाद संस्थानों को सख्त रवैया अपनाना पड़ा। संस्थानों ने हिजाब और स्कार्फ दोनों पर ही अपनी असहमति जताई और इन दोनो पर रोक लगा दिया। यहां स्थिति गंभीर होने पर पुलिस की मदद ली गई।

हिजाब विवाद राजनीति की ओर रुख (Hijab Controversy Political Issue)

इस पूरे प्रकरण को हिंदू मुस्लिम विवाद का रंग दिया गया है। विपक्ष में बैठी कांग्रेस ने छात्राओं के हिजाब पहनने के मंतव्य का समर्थन किया है। बीजेपी पर सांप्रदियकता फैलाने का आरोप भी लगाया गया है। उनका मानना है कि हिजाब की आड़ में बेटियों के शिक्षा के अधिकार को खतरे में डाला गया है।

विपक्ष इसे लड़कियों के मौलिक अधिकारों पर संकट भी बता रहा है। वहीं सत्ताधारी बीजेपी का कहना है कि उनकी पार्टी शिक्षा का तालिबानीकरण नहीं होने देगी। उनका मानना है कि स्कूल कॉलेज में ऐसी चीजों का होना ज़रूरी नही। यहां विद्यार्थियों को पढ़ाई लिखाई पर भी केंद्रित होना चाहिए।

इस तरह से ये विवाद काफी अधिक बढ़ गया है जिसके चलते यह मामला कर्नाटक हाई कोर्ट में पहुंच गया है। कोर्ट ने इस मामले में सुनवाई के लिए अगले सोमवार की तारीख तय की है अब देखना यह होगा कि यह विवाद किस नतीजे पर पहुँच कर ख़त्म होता है.

क्या हिजाब (Hijab) पहनना मुस्लिम लड़कियों की खुद की च्वॉइस होती है या उन्हें इसे पहनने के लिए मजबूर किया जाता है. क्या हिजाब न पहनने वाली लड़कियों के साथ मुस्लिम परिवारों में भेदभाव और उत्पीड़न होता है.

‘हिजाब न पहनने वाली लड़कियों की होती है पिटाई’

Zee News के स्पेशल शो ‘ताल ठोक के’ में गुरुवार को हिजाब (Hijab) पर चर्चा हो रही थी. उसी दौरान हिजाब के नाम पर मुस्लिम लड़कियों के साथ होने वाले उत्पीड़न के बारे में बताते हुए बीजेपी प्रवक्ता शाजिया इल्मी (Shazia Ilmi) रो पड़ीं. शाजिया इल्मी ने कहा, ‘हिजाब न पहनने वाली लड़कियों को घरों में पता नहीं क्या-क्या सुनना पड़ता है. उनकी मांओं को सुनना पड़ता है. ऐसी लड़कियों की घरों में पिटाई तक होती है. उनके बारे में कहा जाता है कि वे कितनी बदतमीज हो गई हैं.’

‘छोटे शहरों- कस्बों में होता है ज्यादा उत्पीड़न’

शाजिया (Shazia Ilmi) ने कहा, ‘हिजाब पहनने वाली लड़कियों में एक सुप्रीमेसी होती है. नैतिक दबाव होता है. अरे हम तो कितनी अच्छी लड़की हैं. हम तो हिजाब पहनती हैं. जो लड़कियां हिजाब (Hijab) नहीं पहनना चाहतीं, उनका मजाक उड़ाया जाता है. उन पर सितम ढहाए जाते हैं. छोटे शहरों और कस्बों में जाकर देखिए.मुस्लिम लड़कियों की क्या हालत है.’

‘अपने मतलब के लिए लड़कियों को बना रहे मोहरा’

कट्टरपंथियों पर नाराजगी जताते हुए इल्मी (Shazia Ilmi) ने कहा, ‘ये सब लोग आगे बढ़ चुकी लड़कियों को फिर से उसी दिशा में क्यों ले जाना चाह रहे हैं. हम लोग इम सब चीजों के कितना लड़ें. मैं सिर्फ ये कह रही हूं कि पहले किताब, पहले किताब. अगर आपको मजहब सिखाना है तो उन्हें घर में सिखाइए. आप सब अपनी बातों को इन बच्चियों पर क्यों थोप रहे हैं. आप मुस्लिम लड़कियों के हक-हकूक को अपने मतलब के लिए इस्तेमाल क्यों कर रहे हैं.’

देखें वीडियो

Q : क्या हिजाब और नकाब एक ही हैं?

Ans : जी नहीं।

Q : अभी हिजाब मामले की मौजूदा स्थिति क्या है?

Ans : मामला कर्नाटक हाई कोर्ट में है।

Q : हिजाब पर विवाद किस राज्य में शुरू हुआ?

Ans : कर्नाटक

Q : हिजाब विवाद कब शुरू हुआ?

Ans : दिसंबर, 2021

Leave a Reply