असली और नकली शहद की पहचान के 6 तरीके

हेल्थ

शहद ज़रूरी पोषक तत्वों, खनिजों और विटामिन का भंडार है। शहद में मुख्य रुप में फ्रक्टोज पाया जाता है। इसके अलावा इसमें कार्बोहाइड्रेट, राइबोफ्लेविन, नायसिन, विटामिन बी-6, विटामिन सी और एमिनो एसिड भी पाए जाते हैं।

Advertisement

असली और नकली शहद की पहचान के 6 तरीके
असली और नकली शहद की पहचान के 6 तरीके

एक चम्मच (21 ग्राम) शहद (Honey) में लगभग 64 कैलोरी और 17 ग्राम शुगर (फ्रक्टोज, ग्लूकोज, सुक्रोज एवं माल्टोज) होता है। शहद में फैट, फाइबर और प्रोटीन बिल्कुल भी नहीं होता है।

शहद को आयुर्वेद में अमृत समान माना गया है। छोटे बच्चों से लेकर वयस्कों तक शहद सभी के लिए उतनी ही फायदेमंद है। नियमित रुप से शुद्ध शहद खाने से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है

Read this : Honey खा रहे है या शुगर, CSE ने किया शहद में मिलावट का खुलासा

जिससे कई तरह की संक्रामक बीमारियों से बचाव होता है। बाजार में अनेको नामो से शहद (Honey) 100 प्रतिशत नेचुरल बता कर बेचा जा रहा है पर यह वास्तव में नेचुरल होता नहीं है।

असली और नकली शहद की पहचान करने के कुछ तरिके

शुद्ध शहद की पहचान कैसे करे

सफेद कपडे से -एक सफेद कपड़ा ले उसमें शहद की कुछ बुँदे डाले अगर आपका शहद नकली होगा तो कपडा इसे शोक लेगा और जब आप इस कपडे को धोयेंगे तो भी नकली शहद अपना दाग छोड़ देगा।

कुत्ते के खिलाकर

आप किसी कुत्ते को शहद खाने को दे और वह झट से शहद खा ले तो शहद नकली है , शहद शुद्ध होने पर कुत्ता नहीं खायेगा

गर्म पानी द्वारा

एक कांच के गिलास में गर्म पानी और एक चम्मच शहद डालें। अगर शहद पानी में खुल जाता है। तो इसमें चीनी, गुड़, या सिरप मिलाया गया है। इसके विपरीत शहद एक मोटा तार सा बनता हुआ बर्तन की तली में बैठ जाता है तो यह असली शहद है।

अल्‍कोहल टेस्‍ट से 

शहद और शराब को एक बराबर मात्रा में ले कर गिलास में डालें। अगर शहद (Honey) शुद्ध होगा तो वह गांठ का रूप ले लेगा और अशुद्ध होने पर अल्‍कोहल में घुलजाएगा । यह एक्‍सपेरिमेंट खतम होने के बाद शहद मिल्‍की वाइट रंग का दिखने लगता है।

Read this : मधुमक्खी पालन कर शहद के साथ इनसे भी कर सकते है आमदनी

रुई और आग से परखे 

एक लकड़ी के किनारें में रूई लपेट कर उसमे शहद लगाए और फिर उसे जलाये । अगर रुई जलने लगे तो शहद शुदा है मिलावटी शहद से रुए नहीं जलेगी या जलने पर चिट -चिट की आवाज करेगी।

लेबल पड़ कर

बहुत सी कम्पनिया अपने बनाये शहद (Honey) में मिलायी जानी वाली चीजों के बारे में जानकारियों को बहुत ही छोटे छोटे शब्दों में दे देती है। इसलिए एक बार लेबल पढ़कर शहद खरीदे।

Honey:असली और नकली शहद की पहचान
Honey:असली और नकली शहद की पहचान

कैसे करे Honey का व्यवसाय

शहद  के लिए एक विशेष प्रकार की मशीन की आवश्यकता होती है. इस मशीन की सहायता से ही शहद (HONEY) को बनाने से लेकर पैकेजिग करने तक का काम किया जाता है. इस प्लांट की कुल लागत लगभग 1.5 से 20 लाख तक हो सकती है।

शुरूवाद में आप शहद को निकल कर किसी भी कम्पनी को बेच सकते है इसकी अधिक जानकारी आप स्थानीय सरकारी संस्थान से ले सकते है।

लाइसेंस शहद के व्यापार के लिए आपको विशेष लाइसेंस की आवश्यकता होती है?
अगर आप इसको सीधे उपभोक्ता तक नहीं पंहुचा रहे है तो आपको किसी लाइसेंस की अवसक्ता नहीं है है

आप किसी भी कंपनी से डायरेक्ट कांटेक्ट कर अपने प्रोडक्ट को बेच सकते है अपने प्रोडक्ट की गुणवत्ता की जांच कर वह कम्पनी कर आपको उचित मूल्य प्रदान कर देती है।

अगर आप स्वयं इन उत्पादों को उपभोक्ता तक पहुँचाना चाहते है तो आपको सबसे पहले अपने प्लांट का पंजीकरण उद्योग आधार के अंतर्गत कराना पड़ता है.

इसके उपरान्त आपको अपने फर्म के नाम का एक करंट बैंक अकाउंट और पैन कार्ड बनाने की आवश्यकता होती है।

आपको आपके द्वारा बनाए गये शहद की जांच सरकारी खाद्य विभाग में करा कर FSSAI से लाइसेंस प्राप्त करना होता है।

आपको अपने व्यापार के लिए ट्रेड लाइसेंस की भी आवश्यकता होती है। तात्कालिक समय में टैक्स के लिए आपको अपने फर्म का पंजीकरण जीएसटी के अंतर्गत भी कराना पड़ेगा.

और यह लाइसेंस की प्रक्रिया शहद के व्यापार के लिए ही नहीं अपितु आप अन्य कोई भी व्यापार करे आवश्यक होती है।

Honey मार्केटिंग

आपको शहद (Honey) का व्यापार बढ़ाने के लिए मार्केटिंग करने की आवश्यक होती है. मार्केटिंग के लिए आप अपने नजदीकी दुकानदारों की सहायता भी ले सकते है।

बाजार में बड़ी दुकानों से भी बात करके देखे उन्हें अपने शहद के बिषय में बताये बाजारों में विभिन्न स्थानों पर अपने ब्रांड के पोस्टर्स आदि लगाये साथ ही आप स्थानीय अखबारों में तथा लोकल टीवी चेनलो में भी ऐड दे सकते हैं।

इसके बाद आप अपने बनाए गये शहद को होलसेल के रूप में सरलता से बेच सकेंगे। अगर आपके बनाये शहद की क्वालिटी अच्छी हुयी तो लोग जरूर खरीदेगे।

पैकेजिंग (Honey Packaging)

पैकेजिंग (Honey Packaging ):शहद की पैकेजिंग करना ही इसके व्यापार का एक आवश्यक और ठोस कदम है। आज कल बाजार में बहुत सारे नए ब्रांड के शहद अलग-अलग पैकेट्स की सहायता से बेचे जा रहे हैं.

आपको पैकिंग के समय शहद की मात्रा और बोतल के डिजाईन का विशेष ध्यान रखना होगा। आप अपने बनाये शहद को 100 ग्राम, 500 ग्राम के छोटे-छोटे डिब्बों की सहायता से सरलता पूर्वक बेच सकते हैं।

आपको शहद के लिए खाली डिब्बे अलग-अलग डिजाईन के साथ होलसेल रेट में मिल जायेंगे।

क्या शहद ख़राब होता है
क्या Honey ख़राब होता है

क्या शहद ख़राब होता है ?

स्वास्थ्य के लिहाज से अच्छे माने जाने वाले प्राकृतिक तत्व शहद में एंटीबैक्टीरियल प्रोटीन और एंजाइम्स के साथ ही एंटीऑक्सीडेंट्स भी होते हैं। इसके कारण यह कभी खराब नहीं होता।आप बहुत लंबे समय से रखे शहद की आखिरी बूंद का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

नेशनल हनी बोर्ड के अनुसार, अगर इसे एयरटाइट कंटेनर में सील बंद करके रख दें, तो यह अनंत काल तक खराब नहीं होता है।फिर चाहें यह भले ही क्रिस्टल में बदल जाए या समय के साथ काला पड़ जाए, लेकिन इसे तब भी खाया जा सकता है।

किन्तु अगर आप शहद को बहुत अधिक नमी वाले स्थान पर रखेंगे तो इसके खराब होने की संभावना ज्यादा होती है।क्युकी शहद आर्द्र होता है तथा हवा से नमी सोख लेता है। शहद को नमी सोखने तथा सड़ने से बचाने के लिए ठीक संग्रहण करना चाहिए।

साल 2015 में मिस्र के एक मकबरे से आर्कियोलॉजिस्ट्स ने 3000 साल पुराना एक बर्तन खोजा था, जिसमें शहद भरा हुआ था। वह उस वक्त भी खाने की स्थिति में था।

आपकी जानकारी के लिए बता देते हैं कि शहद के अतिरिक्त नमक, शक्कर, चावल, वाइट वेनेगर, कॉर्न स्टार्च, सूखे बीन्स, प्योर वेनिला एक्सट्रेक्ट को यदि सही तरीके से स्टोर करके रखा जाए, तो यह कई सदियों तक खराब नहीं होते हैं।

ये कुछ तरिके है असली और नकली शहद की पहचान करने के अगर आपको ये तरिके पसंद आये हो तो इस पोस्ट को अन्य लोगो तक शेयर करे

3 comments

Leave a Reply