COVID-19 Home Isolation : होम आइसोलेशन में Oxygen लेवल मेंटेन कैसे करे

न्यूज़
COVID-19 Home Isolation : होम आइसोलेशन में Oxygen लेवल मेंटेन कैसे करे


COVID-19: Home Isolation -देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) की दूसरी लहर से संक्रमित लोगों का आंकड़ा बढ़ता ही जा रहा है। हालांकि इसमें से कुछ लोग ठीक भी हो गए हैं। सच तो यह है कि 80 परसेंट केस में पेशेंट्स को सीरियस प्रॉब्लम नहीं होती और वहीं 45 परसेंट रोगी में माइल्ड सिम्टप्स होते हैं या फिर वे बिना सिम्टप्स के ही जांच में पॉजिटिव आ जाते हैं। मेडिकल एक्सपर्ट्स के अनुसार ऐसे लोग सामान्य आइसोलेशन प्रक्रिया से ही ठीक हो जाते हैं। 

Advertisement

Read this : Steam Side Effects: Coronavirus : भाप लेने से कोरोना खत्म

अगर आप खुद या आपका कोई अपना करीबी होम आइसोलेशन ( Home Isolation) में है तो यह खबर आपके लिए सबसे महत्वपूर्ण है। पूरे देश में होम आइसोलेशन को लेकर सबसे ज्यादा जोर दिया जा रहा है।

COVID-19 Home Isolation : होम आइसोलेशन ( Home Isolation) में COVID-19 पेशेंट (patient) की केयर कैसे की जाती है। में मरीजों के प्राथमिक उपचार संबंधी दवाएं और मरीजों के के गिरते हुए ऑक्सीजन लेवल को ऑक्सीजन सिलेंडर के सहारे बढ़ाने की तमाम जानकारियां केंद्र सरकार से लेकर राज्य सरकारों ने सोशल मीडिया के माध्यम से प्रचारित और प्रसारित भी की हैं।

लेकिन इस प्रचार प्रसार में बहुत सी अधूरी जानकारियों की वजह से लोग होम आइसोलेशन ( Home Isolation) में अपने मरीज की जान जोखिम में डाल रहे हैं। आज की इस पोस्ट में हम आज होम आइसोलेशन ( Home Isolation) के विषय में जानेगे होम आइसोलेशन ( Home Isolation) में COVID-19 पेशेंट (patient) की केयर कैसे की जाती है।

COVID-19: होम आइसोलेशन ( Home Isolation) में Oxygen लेवल मेंटेन करने के लिए इस तरह करें अपना इलाज

COVID-19 Home Isolation :  कोरोना वायरस (Coronavirus) की दूसरी लहर ने देशभर में तांडव मचा रखा है। ऐसे में खुद को संक्रमण से बचाने के लिए एक मात्र उपाय सावधानी बरतना है। लेकिन इसके लिए कोरोना के संभावित लक्षण, उपचार का तरीका, होम आइसोलेशन ( Home Isolation) में निगरानी के लिए जरूरी टूल आदि के बारे में जानना बहुत जरुरी है। तभी हम सभी कोरोना वायरस (Coronavirus) से सर्तक रह पाएंगे।

कोरोना वायरस के लक्षण क्या क्या है ?

बुखार, खांसी, सिर दर्द, गले में खराश, शरीर में दर्द, सांस फूलना, सूघने की क्षमता में कमी आना, स्वाद न आना, आंखें का लाल होना, ज्यादा थकान होना, पेट से जुड़ी समस्या होना, होंठो का नीला पड़ना आदि कोरोना वायरस के संभावित लक्षण हैं. अगर आपके किसी दोस्त या रिश्तेदार में इसी तरह के एक-दो लक्षण दिखाईं दे तो उसे जल्द से जल्द कोरोना जांच कराने की सलाह दें।डॉक्टरर्स के अनुसार, अगर कोरोना मरीजों की सही समय पर पहचान कर इलाज शुरू कर दिया जाए तो कोरोना की रफ्तार को रोका जा सकता है।

Read this : Coconut Water Benefits In Covid-19: कोरोना काल में जानें नारियल पानी फायदे

कोरोना मरीज के संपर्क में आने पर क्या करें ?

बिना लक्षण वाले परिवार के सदस्य यदि अनजाने में किसी कोरोना संक्रमित के संपर्क में आ जाते हैं तो सबसे पहले अपने स्वास्थ्य की देखभाल करते हुए खुद को क्वारंटीन कर लें और जल्द से जल्द अपना कोरोना टेस्ट कराएं। ध्यान रहे कि जिस कमरे में आप क्वारंटीन हों उसमें ताजी हवा के लिए एक खिड़की जरूर होनी चाहिए।

डॉक्टर्स के अनुसार, कुछ मरीजों में कोरोना के लक्षण दिखने में 2-3 दिन का समय लग सकता है। ऐसे में अगर आपकी कोरोना जांच रिपोर्ट नेगेटिव आए तो भी आप कम से कम 5 दिन होम क्वारंटीन में रहें ।और लगातार अपना चेकअप करते रहें। इसके लिए आप कुछ गैजेट्स की मदद ले सकते हैं। जो ज्यादा महंगे भी नहीं है. इसके अलावा परिवार के सभी सदस्य घर में भी मास्क जरूर पहनें।

होम आइसोलेशन ( Home Isolation) में कैसे रखें अपना ध्यान

COVID-19 Home Isolation :  केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी गाइडलाइन के अनुसार, होम आइसोलेशन (Home Islolation) में रह रहे मरीजों को हर 4 घंटे में अपना ऑक्सीजन लेवल और शरीर का तापमान चेक करते रहना चाहिए। इसके लिए वे बाजार से पल्स ऑक्सीमीटर (Pusle Oximeter) और इंफ्रारेड थर्मामीटर (Infrared Thermometer) खरीदकर ला सकते हैं।

डॉक्टर्स के अनुसार, ऑक्सीजन लेवल 94 से ऊपर रहने तक आप घर पर ही अपना इलाज जारी रख सकते हैं. लेकिन ऑक्सीजन लेवल 94 से नीचे आने पर आपको तुरंत ऑक्सीजन सपोर्ट के लिए हॉस्पिटल में एडमिट होना होगा.

COVID-19 Home Isolation :  होम आइसोलेशन (Home Islolation) में अपना इलाज करा रहे कोरोना मरीजों के लिए प्रोनिंग काफी मददगार है। ये एक तरह की प्रक्रिया होती है, जिस पेट के बल लेटकर पूरा किया जाता है। इस तरह लेटने से फेफड़ों तक ज्यादा ऑक्सीजन पहुंचती है, और सांस लेने में सुधार होता है।

दुनियाभर के डॉक्टर्स इस प्रक्रिया का उस वक्त इस्तेमाल करते हैं। जब किसी मरीज को सांस लेने में परेशानी होने लगती है, और उसका ऑक्सीजन लेवल (SpO2) घटकर 94 से कम होता है। इस प्रक्रिया के लिए गर्दन के नीचे एक तकिया रखें। फिर एक या दो तकिया छाती के नीचे रखें (ऊपरी थाइज के जरिए) और दो तकिया पैर के अगले भाग के नीचे रखना होता है।

अगर आप खुद से प्रोनिंग (Self Proning) कर रहे हैं। तो आपको 4-5 तकिये की जरूरत होगी। इसमें उपयुक्त मुद्रा में 30 मिनट से ज्यादा नहीं रहना है। ध्यान रहे, खाना खाने के कम से कम एक घंटे बाद ही यह प्रक्रिया अपनाएं।

प्रेगनेंसी, कार्डिएक कंडीशन, शरीर में स्पाइनल से जुड़ी कोई समस्या या फ्रैक्चर हो तो इस प्रक्रिया को न अपनाएं. इससे आपको नुकसान हो सकता है.

COVID-19 Home Isolation : घर पर कैसे करें कोरोना मरीजों का इलाज ?

  • कोरोना से लड़ने के लिए इम्यूनिटी का स्ट्रांग होना बेहद जरूरी है। इसलिए कोरोना मरीजों को रोजाना सूप, नारियल पानी, अनार का जूस या मोसी का जूस आदि का सेवल जरूर करना चाहिए ।
  • नए कोरोना वैरिएंट की चपेट में आए मरीजों के गले में खराश की शिकायत होती है और खांसी भी आती है। इसे जल्द ठीक करने के लिए दिन में तीन बार भाप लेनी चाहिए. साथ ही आप नमक के पानी के गरारे भी कर सकते हैं. इससे आपको काफी राहत महसूस होगी ।
  • बुखार ठीक करने के लिए हर 6 घंटे के अंतराल पर पैरासेटामॉल की एक गोली लेना जरूरी है । इसके अलावा आप चाहें तो कफ सिरप भी ले सकते हैं।
  • कोरोना मरीजों को पर्याप्त मात्रा में मल्टीविटामिन्स और खनिज पदार्थों का सेवन करना चाहिए . इससे आपकी इम्यूनिटी को बूस्ट मिलेगा और आप जल्द रिकवर हो सकेंगे

सांस लेने में तकलीफ हो तो करें ये एक्सरसाइज – Do Proning exercise if you have trouble breathing

COVID-19 Home Isolation :  होम आइसोलेशन (Home Islolation) में अपना इलाज करा रहे कोरोना मरीजों के लिए प्रोनिंग काफी मददगार है।ये एक तरह की प्रक्रिया होती है, जिस पेट के बल लेटकर पूरा किया जाता है। इस तरह लेटने से फेफड़ों तक ज्यादा ऑक्सीजन पहुंचती है, और सांस लेने में सुधार होता है।

इस प्रक्रिया के लिए गर्दन के नीचे एक तकिया रखें. फिर एक या दो तकिया छाती के नीचे रखें (ऊपरी थाइज के जरिए) और दो तकिया पैर के अगले भाग के नीचे रखना होता है। इसमें उपयुक्त मुद्रा में 30 मिनट से ज्यादा नहीं रहना है। ध्यान रहे, खाना खाने के कम से कम एक घंटे बाद ही यह प्रक्रिया अपनाएं।

COVID-19 Home Isolation : होम आइसोलेशन  में Oxygen लेवल मेंटेन कैसे करे
COVID-19 Home Isolation : होम आइसोलेशन में Oxygen लेवल मेंटेन कैसे करे

COVID-19 Home Isolation :  कोरोना संक्रमित होने पर क्या ना करें ?

अगर आप कोरोना संक्रमित हैं और इलाज के लिए घरेलू नुस्खों को अपना रहे हैं तो ऐसी स्थिति में भूलकर भी रेमडेसिवीर का इस्तेमाल न करें। इसके अलावा अगर आपको सांस लेने में तकलीफ हो रही है तो पहले डॉक्टर को दिखाएं। बिना चिकित्सा सलाह के ऑक्सीजन सिलेंडर का उपयोग न करें। क्योंकि ये हानिकारक हो सकता है। वहीं बुड़ेसोनाईड के लिए नेब्यूलाईसर का उपयोग भी ना करें।

COVID-19 Home Isolation : डॉक्टर की सलाह पर अपनाएं ये इलाज

  • अगर कोरोना के लक्षण आपको 5 दिनों के बाद भी दिखाई देते हैं । तो आप डॉक्टर की सलाह पर मापिक खुराक इन्हेलर (MDI)से बुडेसोनाईड ले सकते हैं।
  • वहीं कोरोना के लक्षण 7 दिन से ज्यादा रहने पर आप डॉक्टर से सलाह लेते हुए कम खुराक में स्टीरोइड भी ले सकते हैं।
  • इसके अलाव आप आइवरमेक्टिन या हाइड्रोऑक्सीक्लोरोक्वीन का इस्तेमाल भी कर सकते हैं।
  • एंटीबायोटिक्स भी कोरोना इलाज में उपयुक्त है ।

COVID-19 Home Isolation : कोरोना पेशेंट क्या करे

  • पेशेंट दूसरे कमरे में रहें, औरों से अलग और बुजुर्ग लोगों से खासकर।
  • मरीज हर समय ट्रिपल लेयर मास्क पहनें। मेडिकल अफसर के निर्देश मुताबिक मास्क को हर आठ घंटे में चेंज कर दें।
  • इस यूज्ड मास्क को एक परसेंट सोडियम हाइपोसॉल्यूशन में आधे घंटे के लिए डालकर उसे विसंक्रमित करेंगे और फिर इसे डिस्कार्ड किया जाएगा।
  • लिक्विड चीज़ें लेते रहें और हाइड्रेटेड रहें। समय-समय पर तापमान चेक करते रहें। साथ ही बीकॉम्प्लेक्स और विटामिन सी की टेब्लेट्स लेते रहें।
  • मरीज समय-समय पर साबुन और पानी से हाथ धोते रहें।
  • घर के किसी भी सदस्य के साथ अपना कोई सामान शेयर न करें।
  • अपनी बॉडी का टेम्प्रेचर और अन्य जांच दिन में दो बार करके केयर टेकर या चिकित्सा अधिकारी को बताते रहें।
  • रोगी कमरे में सोडियम हाइपोसॉल्यूशन रखेंगे और इससे कमरे की सफाई, खासकर डोर हैंडल, फर्श आदि साफ करेंगे।9. कम्प्लीट रेस्ट करना होगा।

COVID-19 Home Isolation : केयर टेकर रखें इन बातों का ध्यान

  • केयर टेकर को मरीज के साथ ट्रिपल लेयर मास्क पहनना चाहिए और इस्तेमाल के बाद इसे फेंक देना चाहिए। मुंह और नाक को छूने से बचें।
  • मरीज के साथ होने पर ग्लव्स का इस्तेमाल करें। ग्लव्स पहनने और उतारने के बाद हैंड हाइजीन रूटीन का पालन करें।
  • मरीजों के यूज किए बर्तनों को साफ करते हुए ग्लव्स का इस्तेमाल करें। इसके बाद ग्लव्स को विसंक्रमित करके हाथों को धोना होगा।
  • मरीज के कमरे की सतहों जैसे हैंडल, डोर नॉब को 1 परसेंट हाइपोक्लोराइट सॉल्यूशन से साफ करें।
  • हैंड हाइजीन का हमेशा ध्यान रखें और हाथ धोने के बाद सुखाने के लिए डिस्पोजेबल पेपर टॉवल का इस्तेमाल करें।
  • मरीजों का ध्यान रखने वाले भी समय-समय पर अपना तापमान चेक करते रहें और लक्षण दिखने पर तुरंत टेस्ट कराएं।
  • मरीज को खाना उसके कमरे में ही दिया जाए।
  • कोरोना पेशेंट का ऑक्सीजन लेवल का ऐसे रखें ध्यान
  • 95 से 100 प्रतिशत तक ऑक्सीजन का सामान्य है स्तर।
  • 95 से अधिक ऑक्सीजन का स्तर है तो काई दिक्कत नहीं।
  • 94 से कम ऑक्सीजन स्तर होने पर फेफड़ों में होती है परेशानी।
  • 85 प्रतिशत से कम ऑक्सीजन होने पर वेंटिलेटर की होती है जरूरत।

ऑक्सीजन लेवल को लेकर पैनिक न हों मरीज

COVID-19 Home Isolation : कोविड-19 के मरीज होम आइसोलेशन के दौरान ऑक्सीजन लेवल को लेकर पैनिक नहीं हो। कुछ आसान उपाय है जिसे अपनाकर ऑक्सीजन लेवल मेंटेन कर सकते हैँ। मरीज को छह घंटे पर अपना ऑक्सीजन लेवल मापते रहना चाहिए। 94 से कम ऑक्सीजन स्तर होने पर प्रोनिंग पोजीशन अपनाना चाहिए। यह काफी कारगर उपाय है। इससे ऑक्सीजन लेवल मेंटेन रहता है। अगर मरीज 40 मिनट तक लेटे रहते हैं तो ऑक्सीजन लेवल में काफी हद तक सुधार होता है।

इमेज : ज़ी न्यूज़
न्यूज़ : ज़ी न्यूज़, jagran.

Leave a Reply