भारतीय सेना ने लॉन्च किया देशी मैसेजिंग ऐप SAI

Top News
भारतीय सेना ने लॉन्च किया देशी मैसेजिंग ऐप SAI
भारतीय सेना ने लॉन्च किया देशी मैसेजिंग ऐप SAI

भारतीय सेना ने लॉन्च किया देशी मैसेजिंग ऐप SAI

भारतीय सेना (Indian army) ने लॉन्च किया देशी मैसेजिंग ऐप SAI, यह ऐप WhatsApp और Telegram से भी ज्यादा सुरक्षित है

(Indian army launches indigenous messaging app sai)

इंडियन आर्मी (Indian army) ने आत्मनिर्भर भारत (Atmnirbhar Bharat) अभियान के तहत SAI (Secure Application for the Internet)

Advertisement

नामक एक सुरक्षित मैसेजिंग ऐप्लिकेशन को लॉन्च किया है, SAI ऐप WhatsApp और Telegram से भी ज्यादा सुरक्षित है

READ ALSO : 1971 में पाकिस्तान को हर मोर्चे पर शिकस्त देने वाले पूर्व आर्मी चीफ सैम मानेकशॉ

फिलहाल यह ऐप एंड्रॉयड प्लेटफॉर्म के लिए ही है. SAI (Secure Application for the Internet) ऐप को पूरे भारत भर में सेना द्वारा इस्तेमाल किया जाएगा.

आत्मनिर्भर भारत (Atmnirbhar Bharat) की दिशा में एक और कदम बढ़ाते हुए भारतीय सेना (Indian Army) ने अब खुद का मैसेजिंग ऐप तैयार किया है. आर्मी ने इस ऐप का नाम ‘सिक्योर एप्लीकेशन फॉर इंटरनेट’ SAI (Secure Application for Internet) रखा है.

READ ALSO : jammu and kashmir terrorist surrenders to indian army in budgam

यह ऐप वॉयस, टेक्स्ट और वीडियो कॉलिंग की सुविधा एंड-टू-एंड एनक्रिप्शन (End-To-End Encryption) के साथ देता है. यह ऐप एंड्रॉयड प्लेटफॉर्म के​ लिए ही तैयार किया गया है. रक्षा मंत्रालय (Ministry of Defence) ने गुरुवार (Thursday) को इसकी जानकारी दी थी।


खास क्यों  है एसएआई ऐप (Why is sai app special )

रक्षा मंत्रालय (Ministry of Defence) की तरफ से जारी बयान में कहा गया, ‘मैसेजिंग ऐप्लीकेशन (Messaging application) 6t का यह मॉडल WhatsApp, Telegram, SAMVAD और GIMS जैसा ही है.

इसमें एंड-टू-एंड एनक्रिप्शन (End-To-End Encryption) मै​सेजिंग प्रोटोकॉल को अपनाया गया है. सुरक्षा के मामलों यह ऐप बेहद शानदार है

क्योंकि इसे इन-हाउस सर्वर और कोडिंग (In-house server and coding) के जरिए उपलब्ध कराया जाएगा. जरूरत पड़ने पर इसमें आसानी से बदलाव किया जा सकता है.’

एसएआई ऐप iOS प्लेटफॉर्म पर भी होगा उपलब्ध

SAI ऐप्लीकेशन को CERT से संबद्ध ऑडिटर और आर्मी साइबर ग्रुप द्वारा वीटो किया गया है और बौद्धिक संपदा अधिकार (Intellectual Property Rights-IPR) पाने, NIC पर होस्टिंग और iOS प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध कराने की प्रक्रिया अभी जारी है.

रक्षा मंत्रालय (Ministry of Defence) द्वारा दी गई जानकारी से पता चलता है कि यह एसएआई ऐप पूरे भारत में सेना द्वारा इस्तेमाल किया जाएगा. इससे सेना को सुरक्षित मैसेजिंग का एक विकल्प मिल सकेगा.

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Defense Minister Rajnath Singh) ने ऐप की कार्यक्षमता की समीक्षा करने के बाद कर्नल साई शंकर (Colonel Sai Shankar) को

उनके कौशल और ऐप्लीकेशन डेवलप (Skills and Application Development) करने पर बधाई दी है और उनके काम की सराहना की है .

Leave a Reply