ज्वैलरी ब्रांड तनिष्क ने विवादों के चलते विज्ञापन को हटाया

न्यूज़
Tanishq removed advertisement
Tanishq removed advertisement

ज्वैलरी ब्रांड तनिष्क ने विवादों के कारण लव जिहाद पर बने अपने ज्वैलरी विज्ञापन को हटा दिया है । जिसमे एक हिन्दू महिला की मुस्लिम परिवार में हिन्दू रीती रिवाज़ से गोदभराई की रस्म की जा रही है। इस विज्ञापन में मुस्लिम परिवार को एकदम ‘सहिष्णु’ दिखाने का प्रयास किया गया था।

Advertisement

इस विज्ञापन को देखने के बाद सोशल मीडिया से लेकर तमाम दर्शकों और ग्राहक वर्ग ने तनिष्क ज्वैलर्स की खूब आलोचना की थी।ट्विटर पर तनिष्क ज्वैलर्स के बहिष्कार का हैशटैग भी ट्रेंड में रहा था। विज्ञापन (वीडियो) तनिष्क के आधिकारिक यूट्यूब चैनल पर साझा किया गया था जिसे विवादों के कारण फ़िलहाल प्राइवेट कर दिया गया है।

यह वीडियो कुछ इस प्रकार था

अनेको लव जिहाद’ की खबरों के बीच आए इस वीडियो में महिला को पारम्परिक साड़ी, बिंदी और गहने पहने हुए दिखाया गया है। हालाँकि, उसके साथ परिवार में जो अन्य लोग हैं, वो मुस्लिम हैं।


उसके साथ जो बुजुर्ग महिला दिख रही है, उसने बिंदी भी नहीं लगाई है। परिवार के लोग गहनों से लदी हिन्दू महिला को सरप्राइज (Surprise) के लिए बगीचे में लेकर जा रहे होते हैं। बैकग्राउंड में दीपमालाएँ हैं और नटराज (Natraj) की प्रतिमा भी है। मुस्लिम परिवार को एकदम ‘सहिष्णु’ दिखाने का प्रयास किया गया है।

साथ ही मुस्लिम परिवार का बुजुर्ग भी साज-सजावट में व्यस्त रहता है। बैकग्राउंड में एक महिला कहती है, “रिश्ते हैं कुछ नए-नए, धागे हैं कुछ कच्चे-पक्के। अपने बल से इन्हें सहलाएँगे, प्यार पिरोते जाएँगे। एक से दूजा सिरा जोड़ देंगे, एक बँधन बनते जाएँगे।”

इस वीडियो में भरा-पूरा मुस्लिम परिवार दिखता है, जहाँ बुजुर्गों से लेकर बच्चों तक गर्भवती महिला को सरप्राइज देने के लिए बगीचे में इन्तजार कर रहे हैं।

अंत में वो महिला अपनी सास से पूछती है, “ये रस्म तो आपके घर में होती भी नहीं है न?” इस पर उसकी सास उसे जवाब देती है, “पर बिटिया को खुश रखने की रस्म तो हर घर में होती है न?“इसके बाद ‘एक जो हुए हम, तो क्या ना कर जाएँगे।‘ के साथ इस वीडियो में ‘एकता’ (Unity) की बात की गई है।

हालाँकि, ध्यान देने वाली बात है कि इसमें दिखाया गया है कि एक हिन्दू महिला की मुस्लिम परिवार में शादी हुई है, जहाँ लोग उसे खासा प्यार कर रहे हैं।

हालाँकि, इससे पहले भी प्रचार वीडियो में इस प्रकार की चीजें को दिखाया गया है फिर चाहे वह शबाना आजमी की आवाज़ में बना ‘सर्फ एक्सेल’ के

‘रंग लाए संग’ इस टैग लाइन वाला हिन्दू-मुस्लिम ( इस वीडियो में हिन्दू बच्ची अपने साइकिल के पीछे एक मुस्लिम बच्चे को बैठाकर मस्जिद छोड़ने जाती है।)सेंटीमेंट का विज्ञापन ही क्यों ना हो

ठीक इसी प्रकार रेड लेबल चाय (Red label tea) के द्वारा बनाये गए अधिकतर ऐड हिन्दू-मुस्लिम सेंटीमेंट उछालने की कोशिश करते रहे है। और वही काम आज तनिष्क ज्वेलरी (Tanishq Jewelery) के ऐड में किया गया है

Leave a Reply