Kale benefits uses side effects

हेल्थ
Kale benefits uses side effects
Kale benefits uses side effects

Table of Contents

 Kale benefits uses side effects

केल (Kale) ब्रोकली की तरह दिखने वाली हरे रंग की पत्तेदार सब्जी है। सभी हरी सब्जियों के मुकाबले केल में सबसे ज्यादा पौष्टिक आहार पाए जाते हैं। केल के फायदे लेने के लिए केल का उपयोग सही तरह से करना जरुरी है।

Advertisement

यह बात तो आप बचपन से सुनते आ रहे होंगे कि हरी सब्जियां सबसे ज्यादा पौष्टिक होती हैं। और इसमें कोई शक की बात नहीं है। इन्हीं हरी सब्जियों में से केल को सबसे ज्यादा पोषण से भरपूर माना जाता है। केल के फायदे कई सारे हैं जैसे कि एंटीऑक्सीडेंट और विटामिन सी से भरपूर, सामान्य कोलेस्ट्रॉल, ब्लड प्रेशर रखने में मददगार, डायबिटीज में लाभदायक आदि। इसलिए सेहतमंद डाइट में केल का होना जरुरी हो जाता है।

केल (काले) क्या होता है?

हरे रंग की पत्तेदार सब्जी केल (Kale) का इस्तेमाल विदेशों में काफी मात्रा किया जाता है। इसका बोटेनिकल नाम ब्रैसिका ओलेरासिया संस्करण सैबेलिका (Brassica oleracea var. sabellica) है, जो कि ब्रेसीकेसी (Brassicaceae) फैमिली से आता है। केल पालक की तरह ही एक हरी पत्तेदार सब्जी है.

इसे लीफ कैबेज भी कहा जाता है. ये हरे रंग के अलावा बैंगनी रंग में भी होती है. ये पत्तागोभी, फूलगोभी और ब्रोकली के परिवार से ही होती है. यह पत्तियां खाने में जितनी स्वादिष्ट होती हैं, उससे कहीं ज्यादा स्वास्थ्य के लिए लाभदायक मानी जाती है। इसका इस्तेमाल कई दवाओं का निर्माण करने के लिए भी किया जाता है।

इसमें विटामिन ए, के,सी,बी,मैंगनीज, कैल्शियम,कॉपर,पोटैशियम और मैग्नीशियम जैसे पोषक तत्व होते हैं. हालांकि, केल में विटामिन्स और खनिज की मात्रा बहुत ज्यादा होती है। जो सूजन, थायरॉइड और दिल की बिमारियों का कारण भी बन सकता है। इसके अलावा इसमें एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी जैसे गुण होते हैं.

हाल ही में हुए एक शोध में विशेषज्ञों ने इसके गुणों के साथ इसके अधिक सेवन से होने वाले गंभीर परिणामों के बारे में भी जिक्र किया है। अध्ययन के मुताबिक, केल के गहरे हरे रंग के पत्तों में मांस से कई गुना अधिक मात्रा में आयरन और कैल्शियम की मात्रा होती है। इसमें विटामिन ए, विटामिन सी और विटामिन के का भरपूर स्रोत होता है जो आंखों के लिए, रक्त और प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए लाभकारी भी होता है। हालांकि, इसका सेवन हमेशा उचित मात्रा में ही करना चाहिए।

यह भी पढ़ें: Spinach benefits and side effects : पालक के फायदे व नुकसान

केल (Kale) का इस्तेमाल (उपयोग) किसलिए किया जाता है?

केल (Kale)पर हाल ही में हुए शोध के मुताबिक, केल में कई तरह के एंटीऑक्सिडेंट पाए जाते हैं, जो मूत्राशय के कैंसर, स्तन कैंसर, हृदय रोग, कोलाइटिस, कब्ज, क्रोहन रोग, मधुमेह, हैंगओवर, हाई कोलेस्ट्रॉल, आंखों की रोशनी कमजोर होना और घाव भरने के लिए किया जाता है।

केल (Kale) कैसे काम करता है?

हर्बल सप्लीमेंट के उपयोग से जुड़े नियम, दवाओं के नियमों जितने सख्त नहीं होते हैं। इनकी उपयोगिता और सुरक्षा से जुड़े नियमों के लिए अभी और शोध की जरुरत है। इस हर्बल सप्लीमेंट के इस्तेमाल से पहले इसके फायदे और नुकसान की तुलना करना जरुरी है। इस बारे में और अधिक जानकारी के लिए किसी हर्बलिस्ट या आयुर्वेदिक डॉक्टर से संपर्क करें।

केल (Kale) पर हुए शोध में यह बात सामने आई है कि इसमें मौजूद एंटीऑक्सिडेंट कैंसर से लड़ने में सहायक होते हैं।

केल किन-किन रूपों में उपलब्ध है?

वर्तमान में केल बाजार में निम्नलिखित प्रकारों में उपलब्ध है:

रॉ केल
जूस पाउडर
जूस

 Kale benefits

हृदय स्वस्थ – केल को आप अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं. ये आपके हृदय को स्वस्थ रखता है.

पाचन तंत्र स्वस्थ – केल में फाइबर होता है. ये पाचन तंत्र को स्वस्थ रखता है. इससे पेट से जुड़ी समस्या जैसे कब्ज आदि दूर होता है.

हड्डियों के लिए केल – केल में कैल्शियम की मात्रा अधिक होती है. ये हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद करता है. केल में कई सारे पोषक तत्व होते हैं. ये हड्डियों को मजबूत बनाता है.

डायबिटीज कम कम करने के लिए – डायबिटीज के मरीजों के लिए इसका सेवन फायदेमंद है. ये आपको बीमारियों से दूर रखने में मदद करता है. इसमें एंटी-डायबिटिक गुण होते हैं. जो डायबिटीज के जोखिम से बचा सकते हैं.

डिप्रेशन के लिए केल के फायदे – केल में एंटी डिप्रेसेंट गुण होते हैं. ये तनाव और चिंता को दूर करता है.

स्किन और बालों के लिए लाभकारी – केल में विटामिन सी की मात्रा अधिक होती है. ये त्वचा और बालों के लिए स्वस्थ होता है.

कैंसर की रोकथाम – केल में एंटी कैंसर होते हैं. ये कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी के जोखिम को कम कर सकता है.

एनीमिया से लड़ने में मदद करता है – केल में आयरन की मात्रा भरपूर होती है. केल का सेवन करने से शरीर में खून की कमी पूरी होती है.

Kale benefits uses side effects
Kale benefits uses side effects

इसका सेवन कैसे कर सकते हैं

इसे उबालकर आप सलाद की तरह इसका सेवन कर सकते हैं. इसका सूप बनाकर पी सकते हैं. केल की स्मूदी भी बनाई जाती है. आप केल के पत्ते का सेवन भी कर सकते हैं. इसके जूस का सेवन कर सकते हैं. इसके अलावा आप इसकी चिप्स भी बना सकते हैं.

केल का उपयोग

केल के फायदे जानने के बाद यह जानना जरुरी है कि केल का उपयोग कैसे किया जा सकता है। केल को कई तरीके से खाया जा सकता है और इनमें से किसी भी तरीके को आप अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं। केल का उपयोग आसान तरीके से जुड़ी जानकारी नीचे से प्राप्त कर सकते हैं।

सलाद- केल सब्जी के पत्तों को सलाद के रूप में खाया जा सकता है। केल के पत्ते डायरेक्ट सलाद में खाना बेहद सेहतमंद होता है। केल के पत्ते सलाद में खाने से पहले इनको बहुत अच्छी तरह से धोएं और फिर सलाद में शामिल करें।

केल की सब्जी- केल की सब्जी आप कई तरह से बान सकते हैं। केल की सब्जी बनाते समय इस बात का ध्यान रखें कि आप ज्यादा मसालों का इस्तेमाल ना करें। ज्यादा मसालों के इस्तेमाल से केल के फायदे (kale ke fayde) नष्ट हो सकते हैं।

कम पकाएं- केल के फायदे (benefits of kale) असल में लेने के लिए इसको ऑलिव ऑयल, प्याज, लहसुन में पका सकते हैं। सोफ्ट होने के बाद इसका सेवन किया जा सकता है। कम पकाने से केल में पौष्टिक तत्व नष्ट नहीं होते हैं।

केल से लाजवाब डिश बनाएं

केल से बनने वाली डिश

केल का उपयोग कैसे किया जा सकता है से जुड़ी जानकारी आप प्राप्त कर चुके हैं। आइए अब बात करते हैं कि केल के फायदे (kale ke fayde) अलग- अलग डिश बानकर कैसे लिए जा सकते हैं। पोषण से भरपूर केल को डाइट में कई तरह से शामिल किया जा सकता है। केल से बनने वाली आसान डिश से जुड़ी जानकारी नीचे से ले सकते हैं।

केल की सब्जी

केल की सब्जी की सबसे सिंपल रेसिपी की जानकारी आप यहां से ले सकते हैं। अगर आप केल के फायदे (benefits of kale) लेने के लिए सब्जी खाना चाहते हैं तो केल की सब्जी आप ऐसे बना सकते हैं।

केल की सब्जी बनाने की रेसिपी

केल की सब्जी बनाने के लिए सबसे पहले पैन में ऑलिव ऑयल डालें।
अब इसमें जीरा, हींग और बारीक कटा हुआ लहसुन डालें और पकाएं।
अब इसमें कटी हुई केल की पत्तियां डालें और पकाएं।
5 मिनट तक पकाने के बाद केल की सब्जी तैयार है।

केल से स्वादिष्ट और सेहतमंद सब्जी बनाएं

केल स्मूदी

केल स्मूदी सबसे अच्छी बात यह है कि आप इसमें केल के साथ अपनी पसंद का कुछ भी मिल सकते हैं। जैसे कि केला, पालक, मूंगफली आदि। इनमें से आप किसी भी मिश्रण से केल स्मूदी बना सकते हैं जो सेहतमंद होने के साथ- साथ स्वादिष्ट भी है।

केल स्मूदी बनाने की रेसिपी

केल स्मूदी बनाने के लिए आपको केल, केला, बादाम का दूध चाहिए।
इन सभी को जूसर में डालें और मिक्स करें।
अच्छे से मिक्स होने के बाद केल स्मूदी तैयार है।

केल से जुड़ी सावधानियां एवं चेतावनी

केल के सेवन से पहले इसके बारे में क्या-क्या जानकारी होनी चाहिए?

अगर आप गर्भवती हैं या फिर छोटे बच्चों को स्तनपान करवा रही हैं तो इसका इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर की सलाह ले लीजिए। इस पर शोध करने वाले शोधकर्ताओं का कहना है कि गर्भावस्था और स्तनपान के दौरान महिलाओं को कुछ दवाइयों का सेवन करने की सलाह दी जाती है। इस दौरान किसी भी हर्बल सप्लीमेंट का सेवन करने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर ले लीजिए।

अगर आप किसी तरह की दवा का सेवन कर रहे हैं तो एक बार इसका सेवन करने से पहले डॉक्टर या चिकित्सक से सलाह अवश्य लें। बिना सलाह के केल का सेवन बिल्कुल भी न करें।

अगर आपको किसी तरह के हर्बल सप्लीमेंट से एलर्जी है तो इसका इस्तेमाल करने से बचें।

शोधकर्ताओं ने पाया कि केल का इस्तेमाल करने से उन लोगों को बचना चाहिए जिन्हें किसी तरह के फूड से एलर्जी हो।

हर्बल सप्लीमेंट के उपयोग से जुड़े नियम, दवाओं के नियमों जितने सख्त नहीं होते हैं। इनकी उपयोगिता और सुरक्षा से जुड़े नियमों के लिए अभी और शोध की जरुरत है।

यह भी पढ़ें : Healthy Food : स्वस्थ आहार क्या है, लाभ, आदतें, कैसे खाएं

केल (काले) के 16 फायदे, उपयोग और नुकसान - Benefits and Uses of Kale in Hindi

केल कितना सुरक्षित है?

इसका भोजन में इस्तेमाल करने से पहले इसके दुष्प्रभावों के बारे में जरूर जान लें। अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क करें। केल पर हुए शोध के मुताबिक, यह जरूरी नहीं है कि हर बार आयर्वेदिक औषधि का इस्तेमाल आपके लिए सुरक्षित ही हो। इसलिए इसके दुष्प्रभाव की जानकारी डॉक्टर से जरूर सलाह लें।

विशेषज्ञों के अनुसार, इसके पत्ते का अधिक सेवन करने से पाचन संबंधी समस्याओं, हाइपोथायरायडिज्म, अनियमित दिल की धड़कन और अचानक मौत होने का जोखिम भी बढ़ सकता है। इसमें मौजूद हाई पोटैशियम दिल की धडकनों को अनियमित कर सकता है जो अचानक मौत होने का कारण बन सकता है।

वहीं, यह हाई फाइबर का सबसे स्रोत होता है जिसकी वजह से लोग इसका सेवन अधिक करते हैं। लेकिन, इसके अधिक सेवन के लिए पेट दर्द, सूजन, कब्ज जैसे पेट संबधी समस्याओं का सामना भी करना पड़ सकता है।

गर्भावस्था और स्तनपान

केल पर हुए शोध में यह बात सामने आई है कि गर्भावस्था या स्तनपान के दौरान यह कितनी मात्रा में खाना चाहिए इसकी जानकारी स्पष्ट नही हैं। गर्भावस्था के दौरान किसी भी हर्बल सप्लीमेंट का इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर से संपर्क करें। शोधकर्ताओं का कहना है कि गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को कई तरह की दवाएं दी जाती हैं, इसलिए उन्हें किसी सप्लीमेंट का इस्तेमाल एहतियात के साथ करना चाहिए।

केल से पड़ने वाले प्रभाव

केल के सेवन से अन्य किन-किन चीजों पर प्रभाव पड़ सकता है?
इसके सेवन से आपकी बीमारी या आप जो वतर्मान में दवाइयां खा रहे हैं उनके असर पर प्रभाव पड़ सकता है। इसलिए सेवन से पहले डॉक्टर से इस विषय पर बात करें।

यह भी पढ़ेंः ब्रोकली के फायदे

केल की खुराक

यहां पर दी गई जानकारी को डॉक्टर की सलाह का विकल्प ना मानें। किसी भी दवा या सप्लीमेंट का इस्तेमाल करने से पहले हमेशा डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

आमतौर पर कितनी मात्रा में केल खाना चाहिए?

इस हर्बल सप्लीमेंट की खुराक हर मरीज के लिए अलग हो सकती है। आपके द्वारा ली जाने वाली खुराक आपकी उम्र, स्वास्थ्य और अन्य कई चीजों पर निर्भर करती है। हर्बल सप्लीमेंट हमेशा सुरक्षित नहीं होते हैं। इसलिए सही खुराक की जानकारी के लिए हर्बलिस्ट या डॉक्टर से चर्चा करें।

शोध के मुताबिक इसकी खुराक हर मरीज के लिए अलग हो सकती है। आपके द्वारा ली जाने वाली खुराक आपकी उम्र, स्वास्थ्य और कई अन्य स्थितियों पर निर्भर करती है। इसलिए एक बार इसका सेवन करने से पहले हर्बलिस्ट या डॉक्टर से चर्चा चर्चा अवश्य करें।

केल के नुकसान

केल के फायदे के साथ- साथ केल के नुकसान भी मौजूद हैं। सभी पौष्टिक आहार का सेवन सही मात्रा में ही करना चाहिए। अधिक मात्रा में किसी भी आहार का सेवन करने से नुकसान हो सकता है। इसलिए केल को डाइट में शामिल करने से पहले इसके नुकसान से जुड़ी जानकारी भी जाननी भी जरुरी हो जाती है। केल का सेवन सही तरीके से करें जिससे केल के नुकसान से दूर रहा जा सके।

केल में पोटेशियम भरपूर मात्रा में पाया जाता है। अधिक मात्रा में केल का सेवन करने से पोटेशियम की मात्रा बढ़ सकती है जिससे दिल की बीमारी से गुजर रह लोगों को परेशानी हो सकती है। दिल की बीमारी से गुजर रहे लोग केल का सेवन करने से पहले डॉक्टर से सलाह जरुर लें।

गर्भवती महिलाओं को अपनी डाइट का ध्यान खासतौर पर करना होता है। इसके लिए केल सेहतमंद ऑप्शन है लेकिन इसको खाने से पहले इसकी मात्रा का खास ध्यान रखें। या फिर डॉक्टर से सलाह जरुर लें।

केल का सेवन अच्छे से पका कर करें। ऐसा ना करने से सूजन होने के आसार बढ़ जाते हैं।
किडनी की बीमारी से गुजर रहे लोग केल का सेवन करने से पहले डॉक्टर से सलाह जरुर लें

आखिर में

केल के फायदे इतने सारे हैं कि आप इसे डाइट में शामिल करना चाहेंगे। और यह भी जरुरी है कि आप अपनी डाइट में ज्यादा से ज्यादा हरी सब्जियों को शामिल करें। हरी सब्जियों को डाइट में शामिल करने के लिए ऐसे ही नहीं कहा जाता है इसके पीछे कई सारे सेहतमंद कारण हैं।

इन्हें दिलचस्प तरीके से भी बनाया जा सकता है। केल से कई तरह की दिलचस्प डिश की जानकारी भी आप ऊपर से ले सकते हैं। केल को डाइट में शामिल करने से पहले केल के नुकसान से जुड़ी जानकारी भी प्राप्त कर लें।

इस आर्टिकल से आप केल बनाने के तरीके और डिश के बारे में भी आइडिया ले सकते हैं। यह सब्जी वेट सॉस में भी मदद कर सकती है। लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि बैलेंस डाइट फोलो करें और सेहतमंद दिनचर्या बनाएं।

Q : क्या केल रोजाना खा सकते हैं?

Ans : सही मात्रा में किसी भी चीज का सेवन करने से नुकसान नहीं होता है। लेकिन अगर आप कोई दवाई ले रहे हैं या फिर डाइट फोलो कर रहे हैं तो डॉक्टर से सलाह जरुर लें।

Leave a Reply