kishmish ke fayde | raisins benefits in hindi | kishmish aur munakka mein antar | मुनक्का और किशमिश में ज्यादा बेहतर क्या है

हेल्थ
kishmish ke fayde | raisins benefits in hindi | kishmish aur munakka mein antar | मुनक्का और किशमिश में ज्यादा बेहतर क्या है
kishmish ke fayde | raisins benefits in hindi | kishmish aur munakka mein antar | मुनक्का और किशमिश में ज्यादा बेहतर क्या है

Table of Contents

kishmish ke fayde | raisins benefits in hindi | kishmish aur munakka mein antar | मुनक्का और किशमिश में ज्यादा बेहतर क्या है

मुनक्का या किशमिश (Raisins)- मुनक्का अर्थात किशमिश को पुराने ज़माने से स्वास्थ्य के लिए लाभदायक बताया गया है. किशमिश को भूमध्यसागरीय क्षेत्रों में ज्यादातर उगाया जाता है. इसको हम ऐसे भी खा सकते है, या पका के भी खा सकते है, इसका इस्तेमाल खाना बनाने में भी किया जाता है. इसको प्राप्त करने के लिए अंगूरों को सुखाकर तैयार किया जाता है। इस प्रक्रिया में अंगूरों को लगभग तीन हफ्तों तक धूप में सुखाकर उसका मॉइस्चर निकाला जाता है। और यही अंगूर सूखने के बाद किशमिश या मुनक्का में परिवर्तित हो जाता है और बाद में यही सुखा हुआ फल उर्जा का प्रमुख स्रोत है.

Advertisement

यह भी पढ़ें : What is Raisins Advantages and disadvantages of eating

जब ऊर्जा के स्तर और शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने की बात आती है तो मुनक्का या काली किशमिश बहुत फायदेमंद होते हैं।किशमिश या मुनक्का लोगो का पसंदीदा ड्राई फ्रूट है। हालांकि मुनक्का और किशमिश दोनों अलग-अलग तरह के अंगूरों को सुखाकर बनाए जाते हैं, और दोनों के अपने-अपने स्वास्थ्य लाभ हैं।

तो आइए आज की इस पोस्ट में जानेंगे की मुनक्का और किशमिश में ज्यादा बेहतर क्या है। और इसका उपयोग एवं फायदे नुकसान क्या क्या है ? साथ ही जानेंगे की क्या मुनक्का और किशमिश को एक दूसरे के स्थान पर इस्तेमाल किया जाता है। क्या यह दूसरे से ज़्यादा हेल्दी है?

मुनक्का और किशमिश दोनों अलग-अलग तरह के अंगूरों को सुखाकर बनाए जाते हैं, लेकिन दोनों के अपने-अपने स्वास्थ्य लाभ हैं। आइए देखें कि क्या बेहतर है।लेकिन उससे पहले जानते है की मुनक्का और किशमिश कितने प्रकार की होती है ?

मुनक्का और किशमिश कितने प्रकार की होती है ?

किशमिश मुख्य रूप से अनेक प्रकार की होती है। परन्तु तीन प्रकार की किशमिशो का अत्यधिक प्रयोग किया जाता है
भूरी किशमिश (Brown Raisins)

गोल्डन किशमिश (Golden Raisin)

करंट या काली किशमिश (Current or Black Raisins)

भूरी किशमिश (Brown Raisins) – यह किशमिश अंगूरों को तीन हफ्तों तक सुखाकर बनाई जाती है। सूखने के बाद इनका रंग भूरा हो सकता है।
अलग-अलग जगहों पर इसे बनाने के लिए विभिन्न तरह के अंगूरों का इस्तेमाल किया जाता है। इनका रंग, आकार और स्वाद अंगूर के प्रकार पर निर्भर करता है।

गोल्डन किशमिश (Golden Raisin) – यह Seed free अंगूरो को सुखाकर बनाई जाती । यह किशमिश अंगूरो की सुल्ताना किस्म से उत्पन्न होता है।
Golden Raisin मुख्य रूप से तुर्की में उत्पादित होते हैं। इस उत्पादन प्रक्रिया में, Golden Raisin को सल्फर डाइऑक्साइड के साथ मिलाया जाता है।और कृत्रिम रूप से गर्म किया जाता है। यह इसकी सुखाने की प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए है।

Golden Raisin वास्तव में बहुत नरम है। Golden Raisin रंग सुनहरा होता है और वे बड़े और रसदार होते हैं। उस मामले के लिए Golden Raisin एक बेरी से मिलता जुलता नहीं है।

Golden Raisin का उपयोग स्नैक फूड के रूप में किया जाता है। तथा Golden Raisin का उपयोग फलों के केक और बाथ बन जैसे व्यंजनों में भी किया जाता है।

अमेरिका में, Golden Raisin को “सुल्तान किशमिश” (Sultan Raisin) कहा जाता है। तथा सुल्ताना किशमिश में अंगूर के हल्के रंग को बनाए रखने के लिए इन अंगूरों को सल्फर डाइऑक्साइड नामक एक संरक्षक में मिलाया जाता है।

ऑस्ट्रेलिया में, कुछ Golden Raisin सूखने वाले घोल के बिना बनाए जाते हैं। ये अंगूर सूखने में तीन सप्ताह तक समय लेते हैं। और गहरे भूरे रंग के होते हैं। उन्हें अक्सर “प्राकृतिक” Golden Raisin के रूप में जाना जाता है।

kishmish ke fayde | raisins benefits in hindi | kishmish aur munakka mein antar | मुनक्का और किशमिश में ज्यादा बेहतर क्या है
kishmish ke fayde | raisins benefits in hindi | kishmish aur munakka mein antar | मुनक्का और किशमिश में ज्यादा बेहतर क्या है

करंट या काली किशमिश (Current or Black Raisins) – इन्हें काले अंगूर से बनाया जाता है।और इस प्रकार की किशमिश को जांटे करंट भी कहा जाता है। करंट किशमिश सिकुड़ा हुआ होता है। इसके अलावा, सूखे करंट बेहद मीठे और सुगंधित होते हैं।

यदि आप उनका उपयोग करते हैं, तो करंट का उपयोग स्नैक फूड के रूप में और विभिन्न प्रकार के व्यंजनों में किया जाता है जैसे कि करंट केक, करंट स्लाइस, स्कोनस, क्रिसमस केक, कीमा, क्रिसमस का हलवा,

एक शोध से पता चलता है कि काली किशमिश (Black Raisins) खाने से रक्तचाप (blood pressure) को संतुलित बनाए रखने में सहायता मिलती हैं। इस शोध के मुताबिक, काली किशमिश पोटैशियम का अच्छा स्रोत होती है, जो रक्तचाप (blood pressure) को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

मुनक्का या किशमिश (Raisins)दोनों में से क्या है ज्यादा हेल्दी, एक्सपर्ट से जानिए

बहुत सारे सूखे मेवे कई भारतीय व्यंजनों, शेक, स्मूदी और डिप्स में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। मुनक्का और किशमिश सभी को पसंद होते हैं, लेकिन लोगों के लिए उनमें अंतर कर पाना मुश्किल है।

“मुनक्का और किश्मिश दोनों अंगूर को सुखाकर बनाए जाते हैं, फिर भी कई अलग-अलग विशेषताएं हैं जो उन्हें अलग करती हैं।”

यह भी पढ़ें : Pista Ke Upyog | Pista ke Fayde Aur Nuksan | Pista uses benefits and side effects | पिस्ता के उपयोग |फायदे और नुकसान

क्या मुनक्का और किशमिश में कोई अंतर है?

किशमिश, का स्वाद मीठा होता है और आमतौर पर इसका सेवन अनाज, मीठे व्यंजन या चीनी के विकल्प के रूप में किया जाता है। दूसरी ओर, मुनक्का का स्वाद भी मीठा होता है लेकिन व्यंजनों में इसका इस्तेमाल बहुत कम होता है। दोनों के बीच सबसे महत्वपूर्ण अंतर आकार और रंग है।

किशमिश पीले-हरे रंग की, आकार में छोटी और बीजरहित होती है। जबकि मुनक्का बड़ा और भूरे रंग का होता है। स्वाद में भी अंतर है क्योंकि मुनक्का की तुलना में किशमिश अधिक अम्लीय होती है।

लेकिन जब स्वास्थ्य लाभ की बात आती है, तो दोनों सूखे मेवों के एक-दूसरे से अलग-अलग स्वास्थ्य लाभ होते हैं।

किशमिश एक ऐसा सुपरफूड है जो सेहतमंद, स्वादिष्ट और पोषक तत्वों से भरपूर है। पोषक तत्वों के इन छोटे चमत्कारों में विटामिन, खनिज, फाइटोन्यूट्रिएंट्स, पॉलीफेनोल्स, एंटीऑक्सिडेंट और कई अन्य आहार फाइबर होते हैं।

“किशमिश को आंखों की रोशनी में सुधार, रक्तचाप को नियंत्रित करने, प्रतिरक्षा को बढ़ावा देने, वजन घटाने में मदद, हड्डियों की ताकत में सुधार, दांतों की सड़न को रोकने, पाचन में सहायता और यौन स्वास्थ्य में सुधार के लिए जाना जाता है। ”

दरअसल, किश्मिश अस्वास्थ्यकर चॉकलेट का एक बेहतरीन विकल्प हो सकता है।

मुनक्का के लाभ

मुनक्का आज भी अपने औषधीय गुणों के कारण किशमिश की तुलना में एक स्वास्थ्यवर्धक विकल्प माना जाता है। डॉक्टर मुनक्का को रात भर भिगोने की सलाह देते हैं ताकि इसे पचाना आसान हो जाए।

“यह अपने शीतलन गुण के कारण अम्लता या अपच को प्रेरित नहीं करता है और आपके हीमोग्लोबिन को बढ़ाने के लिए उत्कृष्ट है। यह सूखी खांसी और श्वसन पथ की सूजन के इलाज में भी प्रभावी माना जाता है।”

मुनक्का का उपयोग इसके एंटीइंफ्लेमेटरी और रोगाणुरोधी गुणों के कारण घावों को ठीक करने के लिए भी किया जाता है।

उन्हें अपने दैनिक आहार में शामिल करके आप उनकी गुडनेस का लाभ ले सकती हैं।

raisins benefits in hindi | kishmish aur munakka mein antar
raisins benefits in hindi | kishmish aur munakka mein antar

वेट लॉस के लिए क्या है ज्यादा बेहतर – किशमिश या मुनक्का?

किशमिश और मुनक्का दोनों ही कैलोरी से भरपूर होते हैं। मगर उनमें मौजूद चीनी प्राकृतिक है और जब तक आप इनका अधिक मात्रा में सेवन नहीं करते हैं, तब तक आपके वजन पर कोई बड़ा प्रभाव नहीं पड़ता है। वास्तव में, यदि आप भीगे हुए किशमिश और मुनक्का का सेवन करते हैं तो वे आपके मीठे की क्रेविंग्स को कम करने, रक्तचाप को बनाए रखने और आपको भरपूर ऊर्जा प्रदान करने में मदद कर सकते हैं।

janiye kishmish aur munakka mein antar

“मुनक्का फाइबर का एक बड़ा स्रोत है, जो आपको भरा हुआ महसूस करने में मदद करता है और अधिक खाने से रोकता है। इस प्रकार मुनक्का वजन घटाने में किशमिश की तुलना में बेहतर भूमिका निभा सकता है।

याद रखें कि यदि आप वेट लॉस डाइट पर हैं, तो इन दोनों का कम मात्रा में सेवन करें।

तो क्या बेहतर है: मुनक्का या किशमिश?

“यदि आप अपने आहार में शामिल करने के लिए मुनक्का और किशमिश के बीच एक स्वस्थ विकल्प की तलाश कर रहे हैं, तो आप इसके औषधीय गुणों के कारण मुनक्का के साथ जा सकते हैं।” मुनक्का में आयरन और मैग्नीशियम जैसे महत्वपूर्ण खनिज भी होते हैं।

हालांकि, आपको हमेशा याद रखना चाहिए कि किशमिश और मुनक्का में उच्च कैलोरी सामग्री और चीनी होती है और इसलिए आपको कम मात्रा में सेवन करना चाहिए।

अगर आपको https://sangeetaspen.com/ का यह लेख पसंद आये तो इसे सभी लोगो के साथ शेयर जरुर करे।

यदि आपका कोई भी प्रश्न है तो हमें कमेंट कर के जरुर बताये। आपके सवालो का जवाब देने में sangeetaspen.com आपकी पूरी मदद करेगा । ऐसे ही जानकारी पड़ने के लिए हमारे साथ जुड़े रहे

धन्यवाद

Leave a Reply