बथुआ की सब्जी के फायदे और नुकसान

हेल्थ
बथुआ की सब्जी के फायदे और नुकसान

बथुआ की सब्जी एवं बथुआ के फायदे और नुकसान – Loss and Benefits of bathua vegetable .
Advertisement

बथुआ (Bathua) एक हरी सब्जी है,जो भारत में रवि के फसलों के साथ उगाई जाती है। इसका वानस्पतिक नाम Chenopodium album। बथुए का साग जितना अधिक से अधिक सेवन किया जाए, स्वास्थ्य के लिए उपयोगी है। इसका उपयोग कम मसाले डालकर करें। इसमें स्वाद के लिए नमक की जगह सेंधा नमक मिलाए, और गाय या भैंस के घी से छौंक लगाएं।

बथुआ का रायता भी स्वादिष्ट होता है। साथ ही आप बथुआ के पूरी या पराठे भी बना कर खा सकते है।इसकी पत्तियों में विटामिन ए की सर्वाधिक मात्रा पाई जाती है।यह हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही फायदेमंद सब्जी या साग है, जो गुणों की खान होने पर भी बिना किसी विशेष परिश्रम और देखभाल के खेतों में स्वत: ही उग जाती है।

बथुआ नाइट्रोजन युक्त मिट्टी में फलता-फूलता है। सर्दियों से इसका उपयोग कई बीमारियों को दूर करने में किया जाता है। एशिया समेत यह अमेरिका, यूरोप और ऑस्ट्रेलिया में पाया जाता है।

बथुआ की लम्बाई एक डेढ़ फुट की होती है जितना हो सके बथुआ नित्य सेवन करे।आप इसके चमत्कारी फायदे जानकर, इसे खाए बिना नहीं रह पाएंगे। आइये जानते है बथुआ के क्या क्या फायदे और नुकशान है (What are the Loss and Benefits of bathua vegetable)

बथुआ खाने के फायदे – Benefits of Bathua

सर्दी में बथुआ खाने के ये चमत्कारी फायदे जानकर, इसे खाए बिना नहीं रह पाएंगे आप

सर्दी में कुछ चीजों का सेवन करने से न सिर्फ आप मौसमी बीमारियों से बचे रहते हैं बल्कि इससे आपका शरीर भी ठंड झेलने के लिए मजबूत बनता है। खासतौर पर हरी साग-सब्जियां किसी आयुर्वेदिक औषधि से कम नहीं है। सर्दियों में बथुए का सेवन भी काफी लाभदायक है।

बथुए में विटामिन और खनिज तत्वों की मात्रा आंवले से ज्यादा होती है। इसमें आयरन, फॉस्फोरस और विटामिन ए और डी काफी मात्रा में पाए जाते हैं। आज हम आपको बथुए के फायदे बता रहे है 

दांतों की समस्या

बथुए की पत्तियों को कच्चा चबाने से सांस की बदबू, पायरिया और दांतों से जुड़ी अन्य समस्याये नहीं होती साथ ही बथुए की पत्तियों को कच्चा चबाने से मुंह का अल्सर भी नहीं होता है ,।

कब्ज करे दूर

कब्ज से राहत दिलाने में बथुआ बेहद कारगर है। आथ्र्राइटिस, पैरालिसिस,गैस की समस्या आदि किसी भी शाररिक परेशानी में यह काफी फायदेमंद है।

बढ़ाता है पाचन शक्ति

भूख में कमी आना, खाना देर से पचना, खट्टी डकार आना जैसी स्वास्थ्य समस्याओं के लिए भी बथुआ खाना फायदेमंद माना गया है।

पीलिया में फायदेमंद

बथुआ और गिलोय का रस लेकर एक सीमित मात्रा में दोनों को मिलाएं, फिर इस मिश्रण का 25-30 ग्राम रोज दिन में दो बार लें। फायदा होगा।

खून साफ करे

बथुए को 4-5 नीम की पत्तियों के रस के साथ खाया जाए तो खून अंदर से शुद्ध हो जाता है। साथ ही ब्लड सर्कुलेशन भी ठीक रहता है।

खत्म करता है कीड़े

बच्चों को कुछ दिनों तक लगातार बथुआ खिलाया जाए तो उनके पेट के कीड़े मर जाते हैं। बथुआ पेट दर्द में भी फायदेमंद होता है।

स्किन एलर्जी को करता है दूर

बथुए को उबालकर इसका रस पीने और सब्जी बनाकर खाने से चर्म रोग जैसे सफेद दाग, फोड़े-फुंसी, खुजली में भी आराम मिलता है। इसके अलावा बथुए के पत्तों को पीसकर इसका रस निकालें। अब 2 कप रस में आधा कप तिल का तेल मिलाएं और इसे धीमी आंच पर पकाएं। इसके पानी को पिएं।

बथुआ से बालों को बनाए सेहतमंद

बथुआ में विटामिन और खनिज तत्वों की मात्रा आंवले से ज्यादा पायी जाती है। इसमें आयरन, फॉस्फोरस और विटामिन ए व डी प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। इस कारण बथुआ बालों का वास्तविक रंग बनाए रखने में सहायक होता है

Loss and Benefits of bathua vegetable .

बथुआ के नुकसान – Loss of bathua

बथुआ का सेवन करने से पहले हमेशा यह ध्यान रखें कि इसे लिमिटेड ही खाना चाहिए.क्योंकि इसमें ऑक्जेलिक एसिड का स्तर बहुत ज्यादा होता है। इसे ज्यादा खाने से डायरिया भी हो सकता है।साथ ही यह आपको अन्य नुकसान भी दे सकता है.

  • गर्भवती महिलाये बथुआ ना खाये क्युकी आयुर्वेद में गर्भवती महिलाओं को बथुआ ना खाने की सलाह दी गई है, क्योंकि इससे गर्भ का नुकसान हो सकता है।

  • बथुआ का कम मात्रा में सेवन करें, क्योंकि इसके ज्यादा इस्तेमाल से शरीर में एसिड लेवल बढ़ सकता है।

  • बथुआ की तासीर गर्म होती है इसको संतुलित रखने के लिए बथुआ रायता बनाकर या पराठे,पुरिया, या रोटियों में डालकर उपयोग करें।

  • बथुआ बनाते समय इसके साथ अदरक-लहसुन जैसे गर्म तासीर वाले पदाथोंर् का इस्तेमाल ना करें।

Leave a Reply