Malta: यह पहाड़ी फल है सेहत का अनमोल खजाना, मिलते है अनेक फायदे

हेल्थ, आस्था
benefits of malta
benefits of malta

यह पहाड़ी फल है सेहत का अनमोल खजाना इसके बीज और छिलको से मिलते है अनेक फायदे
Advertisement

Malta: benefits of malta of uttarakhand

Malta: हर कोई चाहता कि वो सेहतमंद रहे,खास कर शर्दियो में हम सभी अपनी स्किन ,हेल्थ और बालो के गिरने की प्रॉब्लम को लेकर बहुत परेशान रहते है। इसलिए सेहत मंद रहने के लिए हम सभी तरह के उपाय करते हैं। लेकिन हमे प्रकृति द्वारा दिए हुए कुछ ऐसे खजाने हैं, जो हर लिहाज से बेहतरीन हैं।

इसमें एक फल है माल्टा। माल्टा के सेवन से जहां त्वचा चममदार रहती है वहीं दिल भी दुरुस्त रहता है। बाल मजबूर होते हैं। माल्टा के सेवन से गुर्दे की पथरी दूर होती है, चिकित्सक पथरी के रोगियों को माल्टा का जूस पीने के सलाह देते हैं। भूख बढ़ाने, कफ कम करने, खांसी, जुकाम में यह कारगर होता है।

माल्‍टा इस पृथ्‍वी का सबसे सेहतमंद फल है। यह बात औषधीय सर्वे में भी पुष्‍ट हो चुकी है। प्रतिदिन महज एक गिलास माल्टा का जूश रोज सेवन कर खुद को काफी दुरुस्‍त रखा जा सकता है।माल्टा नींबू प्रजाति का खुशबूदार एंटी ऑक्सीडेंट और शक्तिवर्धक फल है। इसका रस ही नहीं बल्‍की छिलका भी कारगर है। छिलके से तैयार तेल बहुत फायदेमंद है।

माल्टा (Malta) जो उत्तराखंड के पहाड़ी इलाकों में होता है। माल्टे का स्वाद हर उत्तराखंडी जानता है और ये देश और दुनिया के लोगों को अपनी तरफ आकर्षित करता है। सर्दियों के वक्त विटामिन सी से भरपूर ये फल पैदा होता है। यह साइट्रस प्रजाति का फल है, जिसका वैज्ञानिक नाम सिट्रस सीनेंसिस है।

जो हमारी त्वचा को चमकदार बनाने, खाना पचाने और ना जाने कितने फायदे इस फल के हैं।इस फल में जलवायु की चरम सीमाओं का सामना करने की अद्भुत क्षमता होती है। इसलिए इसे सर्दियों के फलो का राजा कहा जाता है।

यह भी पढ़े : Skin care: सर्दियों में रखे अपना खास ख्याल

माल्टा (Malta) का रस सेहत के लिए बेहद ही फायदेमंद होता है। सर्दियों के मौसम में होने वाले माल्टे का सेवन शरीर लिए काफी लाभदायक है. प्रतिदिन जूस पीने से व्यक्ति के शरीर में तरावट रहती है साथ ही कोरोना के इस दौर में मनुष्य की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में भी यह काफी मददगार साबित हो रहा है. माल्टा से पहाड़ों में खटाई बनाई जाती है. इसमें घर के बने हुए मसालों को मिलाकर इसका सेवन किया जाता है. ये मनुष्य के शरीर के लिए काफी लाभदायक है.

उत्तराखंड के पहाड़ी क्षेत्रों में होने वाला फल माल्टा (Malta) औषधीय गुणों से भरपूर है. इसका जूस बनाया जाता है.माल्टा का पेड़ पहाड़ी इलाकों में सबसे ज्यादा उगाया जाता है।

यह भी पढें : Winters Superfood: सर्दीयो के मौसम में खाना शुरू कर दें ये सुपरफूड

माल्टा (Malta) के फायदे

  • डॉक्टर कहते हैं कि सर्दियों में हर दिन एक गिलास माल्टे का जूस पीना चाहिए। इसके सेवन से चयापचय दर और कैलोरी बर्न की क्षमता बढ़ती है। माल्टा (Malta) एक एंटीसेप्टिक, खुशबूदार, एंटीआक्सीडेंट और शक्तिवर्धक फल है।
  • इसके साथ ही माल्टे को एक टानिक के रुप में भी यूज किया जाता है । इसके छिलके के पाउडर से तैयार किया गया पेस्ट त्वचा के लिए फायदेमंद होता है। इसकी छाल से निकाला गया तेल शरीर को डिटाक्सिफाइ करता है। इसके साथ ही इसका तेल त्वचा में कोलेजन बनाता है।
  • माल्टा (Malta) काफी रोगों को दूर करता है, त्वचा को चमकदार बनाए रखता है, दिल को दुरुस्त रखता है और इसके साथ ही आपके बालों को मजबूत बनाता है।
  • औषधि विज्ञान के शोध के मुताबिक माल्टा (Malta) का रस गुर्दे की पथरी को दूर कर लेता है। इसलिए पथरी के मरीजों को इसका सेवन करना चाहिए। इसके साथ ही माल्टे का रस उच्च कोलेस्ट्राल, हाई बीपी, प्रोस्टेट कैंसर और दिल के दौरे जैसी बीमारियों का भी इलाज करता है।
  • इसके फल, छिलके, रस और बीज से कई तरह की दवाएं बनाई जाती हैं। इसके छिलके का इस्तेमाल भूख बढ़ाने की दवा के लिए किया जा रहा है। इसके अलावा कफ को कम करने, अपच, खांसी-जुखाम और स्तन कैंसर के घाव को कम करने के लिए भी माल्टे के छिलके बेहतरीन होते हैं।
  • इसके (Malta) बीज का इस्तेमाल सीने में दर्द और खांसी की दवा के लिए किया जा रहा है। इसे धरती का सबसे सेहतमंद फल कहें तो गलत नहीं होगा। यह स्वरोजगार का एक अच्छा विकल्प भी है। इससे जूस, अचार, चटनी और एनर्जी ड्रिंक्स तैयार की जाती है जिसकी बाजार में अच्छी मांग रहती है।

माल्टा के स्क्वैश में 32.96 मिलीग्राम विटामिन-सी होता है। इसकी 100 ग्राम की मात्रा में 8.60 ग्राम कैल्शियम, 43.91 ग्राम कार्बोहाइड्रेट, 7.22 ग्राम विटामिन-ए , 0.33 ग्राम प्रोटीन होता है, जो आपके स्वास्थ्य के लिए बेहतरीन है।

यह भी पढ़े : morning walk : सुबह टहलने के फायदे

पांच लोगों के लिये माल्टे (Malta) की खटाई बनाने की विधि

पांच माल्टा, हरी धनिया, हरी मिर्च और लहसुन के साथ पिसा दो चम्मच नमक आधा चम्मच जीरा पाउडर दो डली गुड़ या पांच से सात चम्मच चीनी दो से तीन चम्मच सरसों का तेल माल्टों को छीलते हैं और इनके छोटे-छोटे पीस बनाते हैं इसके बाद माल्टा के छोटे पीसों में नमक, जीरा पाउडर, गुड़ या चीनी और सरकों का तेल मिलाकर सानते हैं स्वादिष्ट और स्वास्थ्यवर्धक साना हुआ माल्टा तैयार है

Leave a Reply