Mango Benefits and Side Effects in Hindi | Aam ke Fayde Upyog aur Nuksan in Hindi | Side Effects of Mango in Hindi | आम के फायदे और नुकसान

हेल्थ
Mango Benefits
Mango Benefits

Mango Benefits and Side Effects in Hindi | Aam ke Fayde Upyog aur Nuksan in Hindi | Side Effects of Mango in Hindi | आम के फायदे और नुकसान

Mango Benefits :  शायद ही कोई ऐसा होगा, जिसे गर्मियों में आम (Mango Benefits) खाना पसंद नहीं होगा। आम का नाम सुनते ही, आपको इससे जुड़े अपने कई पुराने किस्से याद आ गए होंगे, जो आम के इर्द-गिर्द घूमते हैं। इसमें कोई दो राय नहीं कि आम सिर्फ फलों का राजा नहीं है, बल्कि आम के गुण कई हैं

Advertisement

स्वाद के साथ फायदों की खान है आम (Mango Benefits)

आम (Mango Benefits) को फलों का राजा माना जाता है। फलों का राजा लगभग हर जगह प्रसिद्ध है।गर्मियां तो बिना आम के सेवन अधूरी है। आप कोई भी फल खा लें लेकिन आम को अपनी फ्रूट बास्केट में शामिल करना न भूलें। स्वाद के साथ आम खाने के कई फायदे (Mango Benefits) हैं।

भले ही गर्मी का मौसम चुभन भरा हो, फिर भी सभी को इस मौसम का इंतजार रहता है।आम का वैज्ञानिक नाम मेंगीफेरा इंडिका है और संस्कृत में आम को आम्रः कहते हैं।

आम (Mango Benefits) उत्पादन के मामले में भारत नंबर-1 है।अल्फांसो (Alphonso) सबसे महंगे और चर्चित आमों में से एक है। अल्फांसो (Alphonso) की खेती मुख्य रूप से भारत के पश्चिमी भाग में की जाती है, जिसमें रत्नागिरी, रायगढ़ और भारत का कोंकण क्षेत्र शामिल है।

आम की लगभग 100 से भी ज्यादा किस्में पाई जाती हैं।

आम कई रंगों में आते हैं जैसे – हरा, लाल, पीला आदि। इतना ही नहीं, आम अलग-अलग आकार के भी होते हैं।आपको जानकर हैरानी हो सकती है कि आम के साथ-साथ आम के पत्ते और छिलके भी फायदेमंद होते हैं। आम के पत्तों को न सिर्फ पूजा में और घर के द्वार में लगाने के लिए उपयोग किया जाता है, बल्कि कई प्रकार की दवाइयां बनाने में भी इसका उपयोग किया जाता है।

आम के प्रकार – Types of Mango in Hindi

अल्फांसो – महाराष्ट्र के रत्नागिरी में उत्पन्न होता है।
हिमसागर – पश्चिम बंगाल में उत्पन्न होने वाला आम।
बंगनपल्ली – आंध्र प्रदेश में उत्पन्न होने वाला आम।
दसेहरी – लखनऊ और मलिहाबाद में होने वाला आम।
बादामी – कर्नाटक में उत्पन्न होने वाला आम। इसे कर्नाटक का अल्फांसो भी कहा जाता है।
केसर – गुजरात के सौराष्ट्र में उत्पन्न होने वाला आम।
तोतापुरी – आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, तमिलनाडु और कर्नाटक में उत्पन्न होने वाला आम।
लंगड़ा – वाराणसी, उत्तर प्रदेश में उगाया जाने वाला आम।
मनकुरद और मुसरद – यह आम गोवा में पाया जाता है।
मालदा – इसकी खेती बिहार के दीघा में होती है।
जर्दालू – यह भी बिहार में पाया जाने वाला आम है।
नीलम – यह आम हैदराबाद में पाया जाता है।

क्या आम आपकी सेहत के लिए अच्छे हैं?

एक ऑस्ट्रेलियाई अध्ययन में आम (Mango Benefits) को स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद माना गया है, क्योंकि इसमें कुछ बायोएक्टिव यौगिक होते हैं, जो सेहत के लिए फायदेमंद होते हैं आम में बीटा-कैरोटीन की मात्रा अधिक होती है, जो शरीर को कई बीमारियों से बचाने में कारगर है।

आम में लगभग 20 विभिन्न खनिज और विटामिन होते हैं, जो इसे सबसे अधिक पोषक तत्व युक्त फलों में से एक बनाते हैं आम कई बीमारियां जैसे – कैंसर, सूजन, ह्रदय संबंधी समस्याएं और अन्य तरह की परेशानियों से बचाव कर सकता है

Aam ke Fayde
Aam ke Fayde

आम के फायदे – Benefits of Mango in Hindi

कैंसर से बचाव – आम में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट कोलोन कैंसर, ल्यूकेमिया और प्रोस्टेट कैंसर से बचाव में फायदेमंद है। इसमें क्यूर्सेटिन, एस्ट्रागालिन और फिसेटिन जैसे ऐसे कई तत्व होते हैं जो कैंसर से बचाव करने में मददगार होते हैं।

आंखें रहती हैं चमकदार – आम में विटामिन ए भरपूर होता है, जो आंखों के लिए वरदान है। इससे आंखों की रौशनी बनी रहती है।

कोलेस्ट्रॉल नियमित रखने में – आम में फाइबर और विटामिन सी खूब होता है। इससे बैड कोलेस्ट्रॉल संतुलन बनाने में मदद मिलती है।

त्वचा के लिए है फायदेमंद – आम के गुदे का पैक लगाने या फिर उसे चेहरे पर मलने से चेहरे पर निखार आता है और विटामिन सी संक्रमण से भी बचाव करता है।

पाचन क्रिया को ठीक रखने में – आम में ऐसे कई एंजाइम्स होते हैं जो प्रोटीन को तोड़ने का काम करते हैं। इससे भोजन जल्दी पच जाता है। साथ ही इसमें उपस्थित साइर्टिक एसिड, टरटैरिक एसिड शरीर के भीतर क्षारीय तत्वों को संतुलित बनाए रखता है।

मोटापा कम करने में – मोटापा कम करने के लिए भी आम एक अच्छा उपाय है। आम की गुठली में मौजूद रेशे शरीर की अतिरिक्त चर्बी को कम करने में बहुत फायदेमंद होते हैं। आम खाने के बाद भूख कम लगती है, जिससे ओवर ईटिंग का खतरा कम हो जाता है।

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में – आम खाने से शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता में भी इजाफा होता है।

सेक्स क्षमता बढ़ाने में – आम में विटामिन ई अधिक पाया जाता है और इससे सेक्स क्षमता बढ़ती है। साथ ही ये पौरुष बढाने वाला फल भी माना गया है।

स्मरण शक्ति में मददगार – जिन लोगों को भूलने की बीमारी हो उन्हें आम का सेवन करना चाहिए। इसमें पाया जाने वाला ग्लूटामिन एसिड नामक एक तत्व स्मरण शक्ति को बढ़ाने में उत्प्रेरक की तरह काम करता है। साथ ही इससे रक्त कोशिकाएं भी सक्रिय होती हैं। इसीलिए गर्भवती महिलाओं को आम खाने की सलाह दी जाती है।

गर्मी से बचाव – गर्मियों में अगर आपको दोपहर में घर से बाहर निकलना है तो एक गिलास आम का पना पीकर निकलिए। न तो आपको धूप लगेगी और न ही लू। आम का पना शरीर में पानी के स्तर को संतुलित बनाए रखता है।

आम के नुकसान – Side Effects of Mango in Hindi

फायदे और नुकसान हर चीज के होते हैं। उसी प्रकार आम के अगर फायदे हैं, तो उसके अधिक उपयोग से कुछ नुकसान भी हैं।

  • ज्यादा कच्चे आम खाने से गैस या पेट दर्द की समस्या हो सकती है।
  • आम के अधिक सेवन से शरीर में गर्मी बढ़ सकती है।
  • आम के अधिक सेवन से पेट खराब और उल्टी की परेशानी भी हो सकती है।
  • संवेदनशील स्वास्थ्य वाले लोगों को इसके सेवन से एलर्जी या गले में खराश की समस्या हो सकती है। गले में खराश तब होती है, जब आम के ऊपरी हिस्से को ठीक से साफ नहीं किया जाता या काटते वक्त उसका दूध नहीं निकाला जाता है। इससे खुजली या सूजन की समस्या भी हो सकती है।
  • जिनको गठिया की समस्या है, वो आम का सेवन डॉक्टर से पूछकर करें।
  • गर्भवती महिलाएं, खासतौर पर जिन्हें गर्भकालीन मधुमेह है, वे आम का सेवन डॉक्टर की सलाह लेकर ही करें।
  • जरूरत से ज्यादा आम के सेवन से वजन और डायबिटीज दोनों बढ़ सकते हैं।
  • कच्चा आम खाने के बाद भूलकर भी दूध न पिएं।आयुर्वेद के अनुसार यह कॉम्बिनेशन सही नहीं है।
  • केमिकल से पके आम को खाने से नुकसान हो सकता है।

आम को लंबे वक्त तक सुरक्षित कैसे रखें?

सिर्फ खूबसूरत आम खरीदना सब कुछ नहीं होता है, बल्कि आम को लंबे वक्त तक सही और ताजा रखना भी जरूरी है। 

  • देखा जाए तो आम एक से दो हफ्तों तक ठीक रह सकता है और इसे तीन दिन तक फ्रिज में रखा जा सकता है।
  • अगर आम कठोर और हरे रंग का है, तो उन्हें पकने के लिए कुछ दिनों के लिए भूरे रंग के पेपर बैग में रखा जाना चाहिए। उन्हें कमरे के तापमान पर और धूप से दूर तब तक संग्रहीत किया जाना चाहिए, जब तक कि वो पक न जाएं। एक बार पकने के बाद, उन्हें रेफ्रिजरेटर में रखा जा सकता है।
  • आम को जमाकर भी खाया जा सकता है। उन्हें फ्रीज करने से उनकी त्वचा काली हो जाती है, लेकिन अंदर से वो ठीक होते हैं।
  • आप आम को पूरा या टुकड़ों में काटकर जमा सकते हैं।
  • आम के फायदे अनेक हैं, लेकिन आम के गुण के साथ-साथ कुछ अवगुण भी हैं।

Leave a Reply