Mix dal pulses health benefits in hindi | mix pulse keep you healthy in rainy season | mix dal in every season | dal ke fayde in hindi | mix pulse ke fayde in hindi

हेल्थ
Mix dal pulses health benefits
Mix dal pulses health benefits

mix pulses health benefits in hindi | mix pulse keep you healthy in rainy season | mix dal in every season | dal ke fayde in hindi | mix pulse ke fayde in hindi | मिक्स दालों के अद्भुत लाभ

mix pulse : बदलते मौसम में कमजोर होते पाचनतंत्र के लिए वरदान है (mix pulse) मिक्स दाल. डायबिटीज और हार्ट की समस्या में भी फायदेमंद है ये mix pulse

Advertisement
हमारे शरीर के लिए प्रोटीन बहुत जरूरी है और ये प्रोटीन हमें दाल (dal) खाने से मिलता है. भारतीय थाली में जब तक दाल न हो खाना अधूरा सा लगता है. ज्यादातर घरों में खाने में रोज दाल और सब्जी बनती है.

ये भी पढ़ें : Importance Of Pulses In Diet | how to include pulses in diet | pulses benefits and side effect in Hindi |

सर्दी, गर्मी या बारिश हो लोग हर सीजन में दाल खाते हैं. वैसे तो सभी दालें स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होती हैं. दाल के नियमित सेवन से आप कई बीमारियों से खुद को कोसों दूर रख सकते हैं। दाल ( pulse) एक सुपरफूड है। यह प्रोटीन का सबसे भरोसेमंद स्रोत होती है।

  • प्रोटीन के किसी भी दूसरे माध्यम की तुलना में इसमें कम फैट होता है। इसके साथ ही इसमें भरपूर मात्रा में आयरन, मैग्नीशियम और जिंक पाया जाता है। इनकी मौजूदगी से कई प्रकार के संक्रामक रोगों से सुरक्षा होती है।
  • अच्छी सेहत के लिए हर रोज दाल खानी चाहिए। दाल खाने के बहुत देर तक पेट भरा रहता है जिससे भूख का एहसास नहीं होता है। इससे शरीर पर मोटापा हावी नहीं हो पाता।
  • दालें आसानी से पच जाती हैं। इनमें पाए जाने वाले डाइट्री फाइबर्स पाचन क्रिया को बेहतर बनाते हैं। इसके सेवन से कब्ज की समस्या नहीं होती। दालों में कई ऐसे तत्व भी पाए जाते हैं जो कैंसर जैसी खतरनाक बीमारी से बचाव में सहायक होते हैं।
  • आयरन हमारे शरीर के लिए एक आवश्यक तत्व है। हर दिन एक कप दाल खाने से आयरन की जरूरी मात्रा की पूर्ति हो जाती है। महिलाओं को खासतौर पर इसकी जरूरत होती है। ऐसे में उन्हें आवश्यक रूप से दाल को अपनी डाइट में शामिल करना चाहिए।

ये भी पढ़ें : Pulses in hindi | Pulses benefits in hindi |

अंकुरित दाल के फायदे

दाल खाने के अलावा इससे बनाए गए स्प्राउट्स (अंकुरित दाल) में आयरन, पोटेशियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम, फास्फोरस और मैगनीज प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। काफी मात्रा में एंजाइम होने के कारण स्प्राउट्स आसानी से पच जाते हैं। जिन लोगों का खाना ठीक से पचता नहीं है, उनके लिए स्प्राउट्स का सेवन बेहतरीन विकल्प है।

mix pulses health benefits in hindi |mix dal ke fayde in hindi | मिक्स दाल के फायदे

मिक्स दाल (mix pulses) बनाने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसमें दो या कई दालों का पोषण शामिल हो जाता है। जो सेहत के लिए तो अच्छाा है स्वा द भी बढ़ जाता है। इसके अलावा अगर आपको कोई दाल स्वाद में बिल्कुल भी पसंद नहीं है, तो आप इसे मिक्सर दाल (mix pulses)में शामिल कर सकते हैं। इससे आपके शरीर के लिए छूट रहा पोषण भी पूरा हो जाएगा और किसी दाल विेशेष से होने वाला नुकसान भी नहीं होगा।

अगर आप शाकाहारी हैं, तो मिक्स दाल (mix pulses) मिली जुली दालों से आपको वे सारे फायदे मिल सकते हैं, जो नॉनवेज खाने से प्राप्त होते हैं। इसके अलावा आप सर्दी, गले की समस्याओं से भी बचे रह सकते हैं। खास तौर से मसूर की दाल, चिकन और मटन के सभी गुणों से भरी होती है।

  • अरहर में प्रोटीन, विटामिन ए और बी, कार्बोहाइड्रेट, फास्फोरस होता है। यह दाल कफ और खून के विकार को दूर करती है।
  • उड़द में फास्फोरिक एसिड पाया जाता है। यह कब्ज को दूर रखने में सहायक होती है। हड्डी में दर्द होने पर इसे पीसकर लेप लगाने से फायदा होता है।
  • इसके अलावा मूंग में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट व फाइबर पाया जाता है। यह दाल कफ और पित्त के मरीजों के लिए काफी फायदेमंद होती है।

ये भी पढ़ें : Chana Side Effects in Hindi चना दाल फायदे

Mix dal pulses health benefits
Mix dal pulses health benefits

mix pulses health benefits in hindi | mix dal ke fayde

गर्भवती महिलाओं के लिए मिक्स दाल का सेवन करना बेहद लाभदायक होता है। इससे गर्भस्थ शिशु को सभी प्रकार के पोषक तत्व मिल जाते हैं।

मिली जुली दाल (mix pulses) को खाने में शामिल कर आप पाचन संबंधी समस्याओं से बच सकते हैं, और तबियत खराब होने पर शारीरिक कमजोरी को दूर कर यह दाल (dal) आपके शरीर को ताकत देने का काम करती हैं। सभी पोषक तत्व मिलकर पोषण प्रदान करते हैं।

यह भी पढ़े : fruit in rainy season:बरसात में कई बीमारियों से दूर रखते हैं ये फल

  • साबुत उड़द की दाल में राजमा मिला लेने पर यह आपके वजन को बढ़ने से रोकती है और कफ, पित्त जैसी समस्याओं को दूर करती है। इसमें राजमा होने पर यह किडनी के लिए भी फायदेमंद होती है।
  • मसूर की दाल में उड़द की दाल मिक्स करके भी बनाई जा सकती है। मसूर की दाल सौंदर्य बढ़ाने में सहायक होती है और उड़द दाल का प्रयोग आपको जवां बनाए रखता है।
  • धुली मूंग की दाल में यदि मसूर की दाल मिक्स् कर ली जाए तो यह रक्त के विकारों को दूर कर आपकी त्वचा को साफ बनाए रखने में मदद करती है। इसके अलावा आंखों की रोशनी को बेहतर कर बालों को मजबूती और चमक प्रदान करती हैं। यह आपके चेहरे पर चमक लाने का काम भी करती है।

दिल को स्वस्थ रखता है मिक्स दालों का सेवन

  • मिक्स दाल खाने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि इससे आपके शरीर को अलग-अलग दालों में मौजूद पोषक तत्व एक साथ मिल जाते हैं, जो आपकी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद है। यह दाल तबीयत खराब होने पर आपके शरीर को ताकत देने का काम करती हैं।
  • मिक्स दाल में चने की दाल को शामिल कर आप एनीमिया, पीलिया, कब्ज व बालों की समस्याओं से बच सकते हैं। इसमें फाइबर की मात्रा भरपूर होती है, जो आपके शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कम करती है।
  • अगर आप माइग्रेन, रक्तचाप, हृदय रोग या डायबिटीज के रोगी हैं तो मिक्स दालों का सेवन फायदेमंद होता है। इतना ही नहीं यह गर्भवती महिलाओं के लिए बेहद लाभदायक होता है। इससे गर्भस्थ शिशु को सभी प्रकार के पोषक तत्व मिल जाते हैं।

दिन में दाल खाने का ज्यादा फायदा

दालों का समूह गैस्ट्रिक होता है। रात के समय दाल खाने से इसमें पाए जाने वाले पोषक तत्व ठीक से एब्जॉर्ब नहीं होते और गैस की समस्या उत्पन्न करते हैं। ऐसे में डॉक्टर दिन में ही दाल के सेवन की सलाह देते हैं। हां अगर डिनर में दाल लेना है तो शाम 6 से 7 बजे तक खा लें। वहीं किडनी के मरीजों को डॉक्टर की सलाह से दाल खानी चाहिए।

यह भी पढ़े : fruit in rainy season:बरसात में कई बीमारियों से दूर रखते हैं ये फल

इस तरह बनाने से बढ़ जाता है स्वाद

दाल को बनाने से 5-6 घंटे पहले पानी में भिगो देना चाहिए। इससे उसके पोषक तत्व बढ़ जाते हैं। दाल को बनाते समय उसी पानी का इस्तेमान करने से उसका स्वाद भी बढ़ जाता है।

कौन सी दाल कब खानी चाहिए

कुछ दालों को अगर सीजन के हिसाब से खाया जाए तो इसका फायदा दोगुना हो जाता है. जैसे बारिश के मौसम में उड़द की दाल खाने से बचना चाहिए. उड़द दाल काफी हैवी होती है और बादी करती है इसलिए इसे मानसून के सीजन में कम खाना चाहिए. इसके अलावा गर्मी के सीजन में चना और मटर की दाल अपेक्षाकृत कम खानी चाहिए क्योंकि ये दालें काफी गरिष्ठ होती हैं. जिन लोगों को गैस की समस्या है उन्हें रात को अरहर दाल नहीं खानी चाहिए.

लेकिन मूंग और मसूर की दाल को सदाबहार दाल कहा जाता है. इन्हें आप किसी भी मौसम में खा सकते हैं. आप मूंग और मसूर की दाल को अगर मिक्स करके खाते हैं तो ये और भी फायदेमंद साबित होती है. मूंग मसूर की मिक्स दाल हमारे पेट और पाचनतंत्र के लिए बहुत फायदेमंद है. तभी तो बीमारी में भी डॉक्टर मूंग -मसूर की दाल खाने की सलाह देते हैं.

यह भी पढ़े : PREGNANCY में क्या खाये और क्या नहीं खाये

Leave a Reply