किसानो से मोदी ने कि बात : MP में पीएम मोदी बोले हमारी सरकार MSP को लेकर गंभीर है

Top News
किसानो से मोदी ने कि बात : MP में पीएम मोदी बोले हमारी सरकार MSP को लेकर गंभीर है
Advertisement
किसानो से मोदी ने कि बात : MP में पीएम मोदी बोले हमारी सरकार MSP को लेकर गंभीर है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए रायसेन में किसान कल्याण कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि “हमारी सरकार MSP को लेकर इतनी गंभीर है।

स्वामीनाथन कमेटी की रिपोर्ट लागू करने का काम हमारी ही सरकार ने किया। अगर हमें MSP हटानी ही होती तो स्वामीनाथन कमेटी की रिपोर्ट लागू ही क्यों करते ?”

दिल्ली की सीमाओं पर किसानों का आज लगातार 23वें दिन प्रदर्शन जारी है। किसान केंद्र के तीन कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग कर रहे हैं। इस बीच बीजेपी ने कृषि कानूनों के बारे में किसानों को समझाने के लिए सभा आयोजित करने का फैसला लिया।

पीएम मोदी से संबोधन की खास बातें

किसानो से मोदी ने कि बात : MP में पीएम मोदी बोले हमारी सरकार MSP को लेकर गंभीर है
किसानो से मोदी ने कि बात : MP में पीएम मोदी बोले हमारी सरकार MSP को लेकर गंभीर है
  • जो काम पिछली सरकारों द्वारा 25-30 साल पहले हो जाने चाहिए थे, वो योजनाए अब कि जा रही है।
  • विश्व के बड़े-बड़े किसानों को जो आधुनिक सुविधा उपलब्ध है, वो सुविधा भारत के भी किसानों को मिले, इसमें अब और देर नहीं की जा सकती।
  • कृषि सुधार कानून रातों-रात नहीं आए। पिछले 20-22 साल से हर सरकार ने इस पर व्यापक चर्चा की है।
  • सचमुच में तो देश के किसानों को उन लोगों से जवाब मांगना चाहिए जो पहले अपने घोषणापत्रों में इन सुधारों की बात लिखते रहे, किसानों के वोट बटोरते रहे, लेकिन किया कुछ नहीं। सिर्फ इन मांगों को टालते रहे और देश का किसान, इंतजार ही करता रहा।
  • 7-8 साल पहले तक यूरिया के लिए रात-रात भर किसानों को कतारों में खड़े रहना पड़ता था या नहीं? कई स्थानों पर, यूरिया के लिए किसानों पर लाठीचार्ज की खबरें आती थीं
  • अगर पुरानी सरकारों को चिंता होती तो देश में 100 के करीब बड़े सिंचाई प्रोजेक्ट दशकों तक नहीं लटकते। सोचिए, बांध बनना शुरू हुआ तो पच्चीसों साल तक बन ही रहा है। बांध बन गया तो नहरें नहीं बनी, नहरे बन गई तो नहरों को आपस में जोड़ा नहीं गया।

35 लाख किसानों के खाते में 1600 करोड़ रुपये ट्रांसफर

मध्य प्रदेश के 35 लाख किसानों के खाते में 1600 करोड़ रुपये ट्रांसफर कर दिए गए हैं।

यह राशि कुल भुगतान की एक तिहाई है। किसान महासम्मेलन के दौरान प्रदेश के लगभग 2000 पशुपालक और मछली पालक को किसान क्रेडिट कार्ड का वितरण किया गया।

इसके अलावा 75 करोड़ रुपये की कृषि संरचना जैसे गोदाम, किसान सुविधा केंद्र इत्यादि का निर्माण कार्यो का भूमि पूजन और लोकार्पण भी किया जाएगा।

Leave a Reply