Moringa (Sahajan): सहजन के हैं कई जादुई लाभ

हेल्थ
Sahajan
Sahajan

Moringa : सहजन (Drumstick tree)  वानस्पतिक नाम : “मोरिंगा ओलिफेरा” (Moringa oleifera) है। एक बहु उपयोगी पेड़ है। इसे हिन्दी में सहजना, सुजना, सेंजन और मुनगा आदि नामों से भी जाना जाता है। इस पेड़ के विभिन्न भाग पोषक तत्वों से भरपूर पाये गये हैं इसलिये इसके विभिन्न भागों का उपयोग किया जाता है।

Advertisement

सहजन की कच्ची पत्तियों

इसकी पत्तियों और फली की सब्जी बनती है। इसका उपयोग जल को स्वच्छ करने के लिये तथा हाथ की सफाई के लिये भी उपयोग किया जा सकता है। इसका कभी-कभी जड़ी-बूटियों में भी उपयोग होता है।

सहजन के पौधे का वर्णन

इसका पौधा लगभग 10 मीटर उँचाई वाला होता है किन्तु लोग इसे डेढ़-दो मीटर की ऊँचाई से प्रतिवर्ष काट देते हैं ताकि इसके फल-फूल-पत्तियों तक हाथ सरलता से पहुँच सके। इसके कच्ची-हरी फलियाँ सर्वाधिक उपयोग में ली जातीं हैं।सहजन के लगभग सभी अंग (पत्ती, फूल, फल, बीज, डाली, छाल, जड़ें, बीज से प्राप्त तेल आदि) खाये जाते हैं।

एशिया और अफ्रीका में सहजन की कच्ची फलियाँ (ड्रम स्टिक) खायी जाती हैं।
कम्बोडिया, फिलीपाइन्स, दक्षिणी भारत, श्री लंका और अफ्रीका में पत्तियाँ खायी जाती हैं।

आपने कई बार मोरिंगा (Moringa) यानी ड्रमस्टिक (Drumstick) साउथ इंडियन डिश सांबर में ज़रूर खाया होगा। ये दिखने में किसी गोल डंडी के आकार की दिखती हैं और इनका स्वाद लाजवाब होता है।

ड्रमस्टिक (Drumstick) क्या है?

सहजन दुनिया के कुछ हिस्सों में खाया जाने वाला एक महत्वपूर्ण पौधा है। यह उगने के लिए बहुत आसान है और इसीलिए यह अत्यंत सस्ता भी होता है। सहजन एंटीऑक्सिडेंट (Antibiotic) से भरपूर एक बायोएक्टिव प्लांट है,

जिसकी मात्र पत्तियों में ही बहुत सारे विटामिन (Vitamin) और मिनरल (Mineral) मिल जाते हैं। डॉक्टरों द्वारा इसे कुपोषण से लड़ने के लिए भी सिफारिश की जाती है। वैज्ञानिकों ने रिसर्च द्वारा ड्रमस्टिक में कई स्वास्थ्यवर्धक तत्व पाएं हैं। ड्रमस्टिक को पालक की तरह पकाया जाता है और उसका पाउडर की तरह भी उपयोग किया जाता है

मोरिंगा विटामिन्स का खजाना है। Moringa vitamines ka khajana hai

मोरिंगा (Moringa) विटामिन और खनिजों से भरपूर होते हैं। इसके अलावा ये स्वस्थ एंटीऑक्सीडेंट और बायोएक्टिव प्लांट कंपाउंड से भी भरपूर होते हैं। कैल्शियम और फास्फोरस से भरपूर मोरिंगा, गठिया और जोड़ों के दर्द से पीड़ित लोगों के लिए अच्छे होते हैं।

इतना ही नहीं, ड्रमस्टिक में पाए जाने वाले आइसोथियोसाइनेट और नियाज़िमिनिन यौगिक धमनियों को मोटा होने से रोक सकते हैं और स्ट्रोक और दिल के दौरे के जोखिम को रोक सकते हैं।

पौष्टिक है सहजन, रोज करें सेवन

ड्रमस्टिक (Moringa) के पेड़ के लगभग सभी हिस्सों को हर्बल दवाओं में सामग्री के रूप में खाया या उपयोग किया जाता है। विशेष रूप से, सहजन (Moringa) की पत्तियां और फली पौष्टिक तत्वों से भरपूर होती है। भारत के अलावा अफ्रीका के कुछ हिस्सों में भी इसको खाया जाता है।

ड्रमस्टिक में मिलता है भरपूर एंटीऑक्सिडेंट

एंटीऑक्सिडेंट ऐसे कम्पाउंड होते हैं जो हमारे शरीर में फ्री रैडिकल्स से लड़ने का काम करते हैं। फ्री रैडिकल्स के उच्च स्तर से किसी को हृदय रोग और टाइप 2 का डायबिटीज (Type 2 Diabetes) जैसी बीमारियां तक हो सकती हैं। इतना ही नहीं ड्रमस्टिक्स में विटामिन-सी (Vitamin C) और बीटा-कैरोटीन (Beta carotin) के अलावा ये गुनकारी तत्व भी पाए जाते हैं।

कुएरसेटिन (Quercetin) : यह शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट है जो ब्लड प्रेशर (Blood pressure) को घटाने में मदद कर सकता है। क्लोरोजेनिक एसिड (Chlorogenic acid) खाने के बाद शरीर में बढ़ने वाले ब्लड शुगर (Blood sugar) के स्तर को कम करने में क्लोरोजेनिक एसिड बहुत मदद करता है


ब्लड शुगर लेवल की न ले टेंशन

हाय ब्लड शुगर एक गंभीर स्वास्थ्य समस्या है। वास्तव में, यह मधुमेह (Diabetes) का प्रमुख लक्षण है। समय के साथ, हाय ब्लड शुगर का स्तर हृदय रोग (Heart disease) सहित कई गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं का खतरा बढ़ाता है। इस कारण से आपको अपने ब्लड शुगर को सामान्य रेंज में रखना बहुत महत्वपूर्ण है।

सहजन करे सूजन कम

शरीर पर कभी भी चोट या संक्रमण के बाद सूजन होना बहुत ही नैसर्गिक है। लेकिन अगर आपको लगातार सूजन जैसी समस्या होती है तो यह कई स्वास्थ्य समस्याओं से जुड़ी हो सकती है। ऐसे में ड्रमस्टिक्स में पाए जाने वाले एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण इंफ्लेमेशन को घटाने में बहुत सहयोग करते हैं।

मोटापे के लिए सहजन के फायदे

आज हर दूसरा इंसान मोटापा और बढ़ते वजन की समस्या से परेशान हैं। मोटापे को कम करने के लिए अपनी डायट में सहजन को शामिल कर आप बढ़ते वजन की परेशानी को कुछ हद तक नियंत्रित कर सकते हैं।

आपको बता दें कि इसमें क्लोरोजेनिक एसिड (Chlorogenic Acid) पाया जाता है, जिसमें एंटी-ओबेसिटी गुण मौजूद होते हैं। इस वजह से वजन कम (Weight loss) करने के लिए इसका इस्तेमाल किया जा सकता है।

drumstick ke fayde ड्रमस्टिक को अपनी डाइट में शामिल करें और इसके स्वास्थ्य लाभों का आनंद लें।

हम जानते है की कि मोरिंगा स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है, मगर क्या आप जानते हैं कि यह आपकी वेट लॉस जर्नी में भी फायदेमंद साबित होता है ? चालिए पता करते हैं कैसे –

यह भी पढ़ें

वजन कम करने की कोशिश कर रहे लोगों के लिए मोरिंगा फायदेमंद है। जानवरों पर किए गए विभिन्न अध्ययनों से पता चलता है कि मोरिंगा (Moringa) शरीर में वसा के गठन को कम कर सकता है और फैट ब्रेकडाउन में सुधार कर सकता है। यहाँ तक कि मोरिंगा के पत्तों में भी एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद हैं।


पबमेड सेंट्रल द्वारा किए गए एक अध्ययन के अनुसार – मोरिंगा, हल्दी और करी युक्त सप्लिमेंट के 900 मिलीग्राम लेने वाले लोगों ने 10.6 पाउंड तक लूज किए। कुछ शोधकर्ताओं के अनुसार, मोरिंगा के पत्तों, फली और बीजों में पाए जाने वाले मुख्य एंटी-इंफ्लेमेटरी यौगिक आइसोथियोसाइनेट्स, भी वजन घटाने में मुख्य भूमिका निभाते हैं।

drumstick soup recipeये ड्रमस्टिक सूप रेसिपी।
वज़न घटाने के लिए कैसे इस्तेमाल करें मोरिंगा

मोरिंगा की चाय

ड्रमस्टिक का सेवन चाय के रूप में भी किया जा सकता है। आप मोरिंगा की पत्तियों को जड़ी-बूटियों – जैसे कि दालचीनी या तुलसी के साथ उबाल सकती हैं। यह स्वाभाविक रूप से कैफीन मुक्त है, इसलिए आप इसे सोने से पहले या सुबह पी सकती हैं।

पाउडर के रूप में

मोरिंगा लीफ पाउडर एक लोकप्रिय विकल्प है। कहा जाता है कि इसका स्वाद कड़वा और थोड़ा मीठा होता है। आप अपने पोषण सेवन को बढ़ावा देने के लिए आसानी से पाउडर को शेक, स्मूदी और दही में मिला सकती हैं।

यह भी पढ़ें :

सहजन का उपयोग कैसे करें ? (How to use drumstick?)

Sahajan
Sahajan
  • सहजन के फायदे (Benefits of Drumstick) पाने के लिए सहजन की सब्जी को लंच में शामिल करें।
  • आप सहजन की पत्तियों की भी सब्जी बना सकते हैं।
  • सहजन का सूप भी ट्राई कर सकते हैं।
  • सहजन के नुकसान (Side effects of drumstick)

  • सहजन के पाउडर का इस्तेमाल सलाद के रूप में भी कर सकते हैं।
  • सहजन के फायदे तो बहुत हैं। लेकिन इसका इस्तेमाल गलत तरीके या ज्यादा मात्रा में किया जाए तो उसके नुकसान भी हो सकते हैं। 

प्रेग्नेंसी के दौरान सहजन का प्रयोग करने से बचना चाहिए या इसके सेवन से पहले डॉक्टर की सलाह ले लेनी चाहिए। सहजन की छाल या सहजन के सेवन से गर्भपात होने की संभावना बढ़ सकती है।

सहजन के पत्ते हाय ब्लड प्रेशर में राहत दिलाने में मदद कर सकते हैं। लेकिन, ध्यान रहे कि जिनका ब्लड प्रेशर कम (Low Blood Pressure) हो, वो सहजन का उपयोग सेवन न करें।

इसमें इसोथियोसीयानेट (Isothiocyanate) और ग्लाइकोसाइड सायनाइड (Glycoside Cyanides) नामक विषैले तत्व होते हैं। इस वजह से सहजन का ज्यादा उपयोग तनाव (Tension) को बढ़ा सकता हैं। इसलिए, इसका सेवन संतुलित मात्रा में करें।

नोट – सहजन के नुकसान से डरने की जरूरत नहीं है, क्योंकि इसकी सही मात्रा में उपयोग स्वास्थ्य के लिए लाभकारी हो सकता है।

अगर अभी तक आप सहजन से दूर भागते थे तो ऊपर बताये गए सहजन के फायदे (Benefits of Drumstick) जानने के बाद आप इसे अपने आहार में जरूर शामिल करेंगे। ड्रमस्टिक्स कई प्राकृतिक गुणों से भरपूर है जिसका इस्तेमाल हम अपनी स्वास्थ्य समस्याओं के लिए कर सकते हैं।

Leave a Reply