Mulberry fruit benefits | shahtoot ke bahmuly fayde | Side Effects of Mulberries

हेल्थ
Mulberry fruit benefits
Mulberry fruit benefits

Mulberry shahtoot fruit benefits | शहतूत खाने के फायदे और नुकसान

प्रकृति अपने आप में हर एक चीज से भरपूर है। खासकर नेचुरल तरीके से निर्मित खाद्य पदार्थ, जो कि कई तरह के पोषक तत्व और एंटीऑक्सिडेंट गुणों से भरपूर हैं। सेहत के लिए वैसे तो कई फल और सब्जियां लाभकारी हैं लेकिन आज मैं आपको एक खास फल के विषय में जानकारी दे रही हु ।

Advertisement

दरअसल, यह फल हमें अपने आस पास में भी मिल जाते हैं। इसका फल बहुत ही पौष्टिक है जो खाने में तो स्वादिष्ट है ही और इसके स्वस्थ्य लाभ ही हैं। हेल्थ एक्सपर्ट्स और डायटीशियन्स भी इस फल को खाने की सलाह देते हैं। इस फल की खासियत.इतनी है की इसके आगे फीके हैं सेब और अनार,

तो आइए, जानते हैं क्या है इस फल का नाम और इससे क्या क्या फायदे एवं नुकसान है। इसका नाम है शहतूत (Mulberry shahtoot fruit)शहतूत का फल खाने में स्वादिष्ट होने के साथ-साथ स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है। शहतूत में विटामिन ए, कैल्शियम और फॉस्फोरस जैसे पौष्टिक तत्व होते हैं जो कई स्वास्थ्य समस्याओं को दूर करने में मदद करते हैं।

लेकिन क्या आप जानते हैं कि न सिर्फ शहतूत का फल, बल्कि इसके पत्तों में भी कई औषधीय गुण होते हैं। इसके पत्तों का सेवन करने से डायबिटीज से लेकर मोटापे जैसी समस्याओं में लाभ होता है। आज के इस लेख में हम आपको शहतूत के पत्तों के फायदे बताने जा रहे हैं-

शहतूत हृदय, आंखों, हड्डियों, मानिसक स्वस्थ्य और आंत की सेहत के लिए फायदेमंद है। ये फल पाचन में सुधार और शुगर लेवल को कंट्रोल करने की क्षमता रखता है। इतना ही नहीं, बढ़े हुए कोलेस्ट्रॉल और लिवर की सेहत को सही रखने में भी मदददार है। दांत संबंधी बीमारियों से भी बचाव करता है।

शहतूत के पत्ते खाने से कंट्रोल होती है शुगर, जानें इसके अन्य चमत्कारी फायदे

शहतूत (वानस्पतिक नाम : Morus alba) एक फल है। इसका वृक्ष छोटे से लेकर मध्यम आकार का (10 मीटर से 20 मीटर ऊँचा) होता है और तेजी से बढ़ता है। इसका जीवनकाल कम होता है। इसे संस्कृत में ‘तूत’, मराठी में ‘तूती’, तुर्की भाषा में ‘दूत’, तथा फारसी, अजरबैजानी एवं आर्मेनी भाषाओं में ‘तूत’ कहते हैं

रेशम के कीड़ों को खिलाने के लिये सफेद शहतूत की खेती की जाती है। इसकी खेती भारत के अन्दर खासकर उत्तर भारत में उत्तर प्रदेश बिहार झारखण्ड मध्य-प्रदेश हरियाणा पंजाब हिमाचल-प्रदेश इत्यादि राज्यों में अत्यधिक खेती की जाती है।

शहतूत में विटामिन ए, कैल्शियम और फॉस्फोरस जैसे पौष्टिक तत्व होते हैं जो कई स्वास्थ्य समस्याओं को दूर करने में मदद करते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि न सिर्फ शहतूत का फल, बल्कि इसके पत्तों में भी कई औषधीय गुण होते हैं। इसके पत्तों का सेवन करने से डायबिटीज से लेकर मोटापे जैसी समस्याओं में लाभ होता है।

डायबिटीज कंट्रोल करे

डायबिटीज़ के मरीजों के लिए शहतूत की पत्तियों का सेवन बहुत फायदेमंद माना जाता है। इसके पत्तों में डीएनजे नामक तत्व पाए जाते हैं, जो शुगर को कंट्रोल करने में मदद करते हैं। इसके अलावा इसमें मौजूद एकरबोस नामक कंपाउंड ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने का काम करता है।

दिल को स्वस्थ रखे

शहतूत (Mulberry) की पत्तियों का सेवन हमारे दिल के स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद है। इनमें फेनोलिक्स और फ्लैवोनॉइड नामक तत्व मौजूद होते हैं जो दिल की बिमारियों के खतरे को कम करते हैं। शहतूत की पत्तियों में एंटीऑक्सीडेंट्स मौजूद होते हैं जो कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करते हैं।

खून साफ करे

खून साफ न होने के कारण कई तरह की त्वचा संबंधी परेशानियां होने लगती हैं। ऐसे में शहतूत की पत्तियों का सेवन आपके लिए फायदेमंद (Mulberry Benefits)साबित हो सकता है। शहतूत की पत्तियों से बनी चाय का सेवन करने से खून साफ होता है और त्वचा संबंधी समस्याओं से छुटकारा मिलता है। शहतूत की पत्तियों का सेवन करने से स्किन एलर्जी से भी छुटकारा मिलता है।

सूजन और घाव में फायदेमंद

घाव या सूजन होने पर भी शहतूत की पत्तियों का इस्तेमाल फायदेमंद होता है। अगर शरीर के किसी अंग में सूजन हो गई हो तो शहतूत की पत्तियों को पीसकर उसका रस निकाल लें और प्रभावित हिस्से पर लगाएं। ऐसा करने से सूजन से जल्द राहत मिलती है। इसके साथ ही शहतूत की पत्तियों को पीसकर इसका लेप लगाने से घा जल्दी भरता है।

मोटापा कम करने में मददगार

मोटापे से जूझ रहे लोगों के लिए शहतूत की पत्तियों का सेवन फायदेमंद होता है। शहतूत की पत्तियों का अर्क पीने से मोटापा कम करने में मदद मिलती है। इसके साथ ही यह लिवर को स्वस्थ रखने में मदद करती है। आप चाहें तो शहतूत की पत्तियों की चाय बनाकर पी सकती हैं।

शहतूत में कार्बोहाइड्रेट होता है, जो चीनी को ग्लूकोज में बदलता है और इसे कोशिकाओं को ऊर्जा मिलती है। शहतूत का सेवन आपके आयरन की मात्रा को बढ़ाता है और ऊतकों को ऑक्सीजन की पर्याप्त आपूर्ति करता है।

शहतूत पर क्या कहता है शोध

नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इंफॉर्मेशन (एनसीबीआई) में प्रकाशित एक शोध के मुताबिक, शहतूत में काफी अधिक मात्रा में पोषण मूल्य और एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं जो मानव स्वस्थ्य के लिए जरूरी हैं। स्टडी में पता चला है कि शहतूत में सायनायडिंग 3 ग्लूकोसाइड (cyanidin 3 glucoside) नाम का एक तत्व पाया जाता है, जो न सिर्फ ब्लड प्यूरीफाई करता है बल्कि ब्लड सर्कुलेशन की प्रक्रिया को भी सही रखता है। रोजाना एक छोटी कटोरी शहतूत का सेवन करने से हमें कई लाभ मिलते हैं

Mulberry fruit benefits
Mulberry fruit benefits

शहतूत के नुकसान – Side Effects of Mulberries in Hindi

गुर्दे की बीमारी वाले लोगों को जिन्हें पोटेशियम की कम मात्रा लेने की सलाह दी जाती है वे शहतूत के सेवन से पहले डॉक्टरी सलाह जरूर लें। अधिक मात्रा में पोटैशियम युक्त खाद्य पदार्थ के सेवन से किडनी से जुड़ी परेशानियां हो सकती है ।
यह ब्लड शुगर को कम करता है, इस कारण हाइपोग्लाइसेमिया (ब्लड शुगर कम होना) की समस्या हो सकती है। ऐसे में जिन्हें मधुमेह की समस्या है वे इसका सेवन करते वक्त अपनी शुगर की मात्रा की जांच करते रहें, ताकि रक्त शर्करा में उतार-चढ़ाव से बचा जा सके।
कुछ लोगों में यह त्वचा संबंधी एलर्जी पैदा कर सकता है।
वहीं, कच्चे सफेद शहतूत खाने से पेट दर्द और मतिभ्रम की शिकायत हो सकती है ।

Leave a Reply