Multani Mitti Benefits In Hindi | fuller’s earth in hindi | Multani Mitti ke fayde aur nuksan | Multani Mitti Uses, Benefits & side effects in hindi |

हेल्थ
Multani Mitti Benefits In Hindi | fuller’s earth in hindi
Multani Mitti Benefits In Hindi | fuller’s earth in hindi
Advertisement

Multani Mitti Benefits In Hindi | Multani Mitti ke fayde aur nuksan | Multani Mitti Uses, Benefits & side effects in hindi |

Multani Mitti : मुल्तानी मिट्टी का कई युगों से भारत में इस्तेमाल किया जा रहा है, इसे त्वचा के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है। मुल्तानी मिट्टी हमारी स्किन ग्लोइंग बना देता है और साथ ही मुल्तानी मिट्टी के घरेलू नुस्खे की मदद से आप बेदाग त्वचा भी पा सकती हैं।

मुल्तानी मिट्टी (Multani Mitti) हाइड्रेटड ऐल्युमिनियम सिलिकेट्स का रूप है। मुख्य रूप से यह पाउडर के रूप में मिलती है और बालों व स्किन को निखारने में इसका प्रयोग किया जाता है। यह चोट आदि पर लगाने में भी फायदेमंद है। पुराने ज़माने में जब और कोई बहुत अधिक उपचार उपलब्ध नहीं था, तब उस वक़्त लोग घाव पर यही लगाते थे और घाव ठीक हो जाते थे।

मुल्तानी मिट्टी क्या है ?

इससे पहले कि हम मुल्तानी मिट्टी (Multani Mitti)  के फायदे जाने , आपके लिए यह जानना जरूरी है कि मुल्तानी मिट्टी क्या है। मुल्तानी मिट्टी को इंग्लिश में फुलर्स अर्थ (fuller’s earth in hindi) कहते हैं। मुल्तानी मिट्टी मुख्य रूप से हाइड्रेटेड एल्यूमीनियम सिलिकेट्स का रूप हैं, जिसमें मैग्नीशियम, सोडियम और कैल्शियम जैसे धातु के अणु होते हैं। इस मिट्टी में मोंटमोरिल्लोनाइट (Montmorillonite) के अलावा एटापुलगाइट (attapulgite) और पैलगोरोसाइट (palygorskite) जैसे प्रमुख खनिज भी शामिल हैं

मुल्तानी मिट्टी (Multani Mitti) की खास बात यह है कि यह ऑयली स्किन के लिए बहुत अच्छी होती है। इसके लिए मुल्तानी मिट्टी में गुलाब जल और थोड़ा चंदन पाउडर मिलाकर फेस पर लगाएं और 10 से 15 मिनट के बाद गुनगुने पानी से चेहरा धो लें। हफ़्ते में एक बार ऐसा ज़रूर करें।

  • मुल्तानी मिट्टी डेड स्किन को हटाने में भी कारगर साबित होती है।
  • जो लोग मुंहासों और एक्ने से परेशान हैं, उन्हें मुल्तानी मिट्टी का पैक लगाना चाहिए। यह बंद पोर्स को खोलने में मदद करती है। इसे नीम के पत्तों के साथ मिलाकर फ़ेस पर लगाने से मुंहासों के समस्या खत्म होती है।
  • यह स्किन को टाइट और टोन करने के साथ स्मूद भी बनाती है। इसके लिए आप मुल्तानी मिट्टी में अंडा, शहद और ग्लिसरीन मिलाकर फ़ेस पर लगाएं। 10 मिनट के बाद पानी से धो लें।
  • यदि आपके चेहरे पर जलने के निशान हैं, तो मुल्तानी मिट्टी (Multani Mitti) लगाएं। इसके लिए आप इसे नींबू के रस और विटामिन ई के साथ मिलाकर लगाएं, निशान थोड़े दिनों में हल्का पड़ने लगेगा।
  • मुल्तानी मिट्टी (Multani Mitti) का उपयोग पेडिक्योर और मेनिक्योर के बाद के पैक के लिए भी किया जाता है, इससे पैरों और हाथों की थकान दूर हो जाती है।
  • अगर आपको ग्लोइंग स्किन चाहिए, तो मुल्तानी मिट्टी के साथ टमाटर का रस, चंदन पाउडर, हल्दी पाउडर मिला कर लगाएं। इसे आप हफ़्ते में दो बार लगा सकती हैं।
  • अगर आपकी स्किन ड्राय है, तो मुल्तानी मिट्टी (Multani Mitti) में शहद और तीन अंगूर के दाने का रस मिला कर लगाना चाहिए। यह स्किन को मोइश्चराइज़ करेगा, साथ ही इसमें मौजूद एंटी बैक्टीरियल गुण, स्किन से जुड़ी समस्याओं से छुटकारा दिलाने में मदद करेगा। यह आपकी स्किन में मोइश्चर को लॉक करने का काम करता है।

मुल्तानी मिट्टी स्किन के लिए क्लींज़र का भी काम करता है

  • यह स्किन के लिए क्लींज़र का भी काम करता है। इसके लिए इसे दलिया, नीम पाउडर, चंदन, बेसन और हल्दी पाउडर के साथ मिला कर फ़ेस पर लगाना चाहिए, इससे स्किन पर जमी सारी गंदगी दूर हो जाती है।
  • अगर मुल्तानी मिट्टी में नारियल पानी मिला कर लगाया जाए तो सन टैन की परेशानी से छुटकारा मिलता है। मुल्तानी मिट्टी का स्पा काफी प्रचलित है, इससे सन टैन दूर होता है।
  • चेहरे पर अगर, ब्लैकहेड्स या की परेशानी है, तो मुल्तानी मिट्टी लगाएं।
  • इसको लगाने के बाद मॉइस्चराइजर लगाना नहीं भूलना चाहिए, इससे स्किन मॉइस्चराइज्ड रहेगी।
  • मुल्तानी मिट्टी (Multani Mitti) का उपयोग हफ्ते में दो बार से ज़्यादा नहीं करना चाहिए।
  • बालों में रूसी हो गई है तो मुल्तानी मिट्टी इस्तेमाल करें। इसके लिए मुल्तानी मिट्टी में मेथी दाना का पेस्ट और नींबू का रस मिलाकर बालों और स्कैल्प पर लगाएं और आधे घंटे बाद धो लें। चाहें तो इसके बाद शैम्पू करें और फिर कंडीशनर लगा लें।

आपको अत्यधिक गर्मी लग रही है, तो अपने शरीर पर इसका पेस्ट लगाएं। यह त्वचा को ठंडक देती है।

  • यह स्किन के लिए क्लींज़र का भी काम करता है। इसके लिए इसे दलिया, नीम पाउडर, चंदन, बेसन और हल्दी पाउडर के साथ मिला कर फ़ेस पर लगाना चाहिए, इससे स्किन पर जमी सारी गंदगी दूर हो जाती है।
  • अगर मुल्तानी मिट्टी में नारियल पानी मिला कर लगाया जाए तो सन टैन की परेशानी से छुटकारा मिलता है। मुल्तानी मिट्टी का स्पा काफी प्रचलित है, इससे सन टैन दूर होता है।
  • मुल्तानी मिट्टी रक्त प्रवाह को तेज़ करती करती है। इसके लिए मुल्तानी मिट्टी के पैक को पूरे शरीर पर लगा कर 15 मिनट के लिए छोड़ दें और फिर धो लें।

मुल्तानी मिट्टी (Multani Mitti) का इस्तेमाल ड्राई स्किन वालों के लिए भी नुकसानदेह साबित हो सकती है, क्योंकि मुल्तानी मिट्टी आपकी स्किन को बहुत अधिक बेजान औ रुखा बना देती है. ऐसे में अगर आप इसका इस्तेमाल करते हैं तो इससे आंखों के आसपास के हिस्से पर इसे लगाने से ड्राईनेस बढ़ सकती है और स्किन को कई तरह के नुकसान हो सकते हैं.

मुल्तानी मिट्टी (Multani Mitti) के नुकसान

सर्दी जुकाम – अगर किसी को सर्दी-खांसी की समस्या रहती है या किसी को जल्दी से सर्दी हो जाती है तो उन्हें मुल्तानी मिट्टी (Multani Mitti) से दूर हो रहना चाहिए क्योंकि मुल्तानी मिट्टी की तासीर ठंडी होती है जिससे सर्दी-खांसी की समस्या बढ़ जाती है.

नियमित इस्तेमाल – अगर आप आए दिन मुल्तानी मिट्टी का सेवन कर सकते हैं, तो ऐसे में आप ये करना तुंरत ही बंद कर दें क्योंकि रोजाना चेहरे पर इसके इस्तेमाल से झुर्रियां आ सकती हैं, साथ ही रैशेज भी पड़ सकता है, इसलिए मुल्तानी मिट्टी का इस्तेमाल करने से पहले आप इसके होने वाले नुकासनों के बारे में भी अच्छे से जाने लें.

कब लगाएं?

आप हफ्ते में एक या दो बार इसे लगा सकते हैं।

कैसे फायदेमंद है?

यह फेस पैक न केवल आपकी त्वचा से मृत कोशिकाओं को हटाएगा, बल्कि चेहरे पर तुरंत चमक भी लाएगा। यह आपकी त्वचा के रोमछिद्र को खोलकर त्वचा की अशुद्धियों को साफ करता है। इसके बाद आप जो भी लोशन या क्रीम त्वचा पर लगाएंगे, वो अच्छे से आपकी त्वचा में समा जाएगी।

Leave a Reply