Myanmar : फरवरी में तख्तापलट के बाद म्यांमार का सबसे बड़ा खूनी दिन, 38 लोगों की मौत

न्यूज़
Myanmar: Myanmar's biggest bloody day since the coup in February,
Advertisement
Myanmar: Myanmar’s biggest bloody day since the coup in February,

 फरवरी में तख्तापलट के बाद म्यांमार का सबसे बड़ा खूनी दिन, सेना लोगों को गोला बारूद,  आंसू गैस और बंदूक से चुप करा रही 

Myanmar : फरवरी में तख्तापलट के बाद म्यांमार का सबसे बड़ा खूनी दिन, अब तक 38 लोगों की मौत हो गयी है। सेना गोला बारूद, आंसू गैस और बंदूक से लोगों को चुप करा रही है।

म्यांमार में एक फरवरी को तख्तापलट के बाद से प्रदर्शनकारी लगातार सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे हैं. लोग, आंग सान सू की समेत अन्य नेताओं को रिहा किए जाने की मांग कर रहे है।

म्यांमार (Myanmar) में तख्तापलट के बाद से विरोध प्रदर्शन बहुत तेज हो गए हैं. जिसके बाद से सेना हिंसक तरीकों का इस्तेमाल लोगों की आवाज को दबाने में लगी है।

म्यांमार (Myanmar) में तख्तापलट के विरोध में प्रदर्शन पहले से हो रहे थे परन्तु बुधवार को उग्र होता देखा प्रदर्शन के दौरान सुरक्षा बलों ने गोलीबारी सुरु क्र दी जिसमे में कम से कम 40 लोगों की मौत हो गई है।

सोशल मीडिया और स्थानीय खबरों में मृतकों की संख्या के बारे में अभी तक यह जानकारी दी गई है। मृतकों की संख्या कम ज्यादा भी हो सकती है।

कई मामलों में मृतकों के नाम, उम्र और शहर का ब्योरा भी दिया गया है. स्प्ष्ट रूप से इन खबरों की पुष्टि नहीं हो पाई है. म्यांमार में संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत क्रिस्टीन श्रानेर बर्गनर (Christine Schraner Burgener) ने इसे तख्तापलट के बाद से सबसे बड़ा खूनी दिन बताया है.

क्रिस्टीन ने कहा है, ‘1 फरवरी को तख्तापलट होने के बाद आज सबसे बड़ा खूनी दिन है. केवल आज ही 38 लोगों की मौत हुई है. तख्तापलट के बाद से अब तक 50 से अधिक लोगों की मौत हो गई है और कई लोग घायल हुए हैं.’

विभिन्न शहरों में प्रदर्शनकारियों पर कार्रवाई के अनेको वीडियो सामने आए हैं. पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले और रबड़ की गोलियां छोड़ने के साथ आग्नेयास्त्रों का भी इस्तेमाल किया है.

देश के दूसरे सबसे बड़े शहर मांडले में प्रदर्शन के दौरान गोलीबारी में दो लोगों की मौत हो गयी। मोनयावा में प्रदर्शन के दौरान सुरक्षा बलों की गोलीबारी में तीन लोगों की मौत हो गई। मिंगयान में प्रदर्शन में एक 14 वर्षीय लड़के की मौत हो गयी।

हिंसा बढ़ने के बीच म्यांमार में अब राजनीतिक संकट के समाधान के लिए कूटनीतिक प्रयास भी किए जा रहे हैं. जिसके लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में शुक्रवार को बैठक होने की संभावना है. ब्रिटेन ने इस बैठक का अनुरोध किया है.

Leave a Reply