Neem Leaves for Immunity: कोरोना में नीम के पत्तों से कैसे बनाये अपनी Immunity को स्ट्रॉन्ग

न्यूज़, हेल्थ
Neem Leaves for Immunity
Neem Leaves for Immunity

Neem Leaves for Immunity: कोरोना में नीम के पत्तों से कैसे बनाये अपनी Immunity को स्ट्रॉन्ग

भारत देश में नीम एक बहुत बड़ी औषधि है, जिसे कई हजारों सालों से उपयोग किया जा रहा है. आज के समय में बहुत सी अंग्रेजी दवाइयां नीम की पत्ती व उसके पेड़ से बनती है। नीम के पेड़ की हर एक चीज फायदेमंद होती है, बहुत सी बड़ी बड़ी बीमारियों का इलाज इससे किया जाता है।

Advertisement

इम्यूनिटी को बढ़ाने (Neem Leaves for Immunity) के लिए नीम सबसे फायदेमंद है। आप नीम के पत्तों (Neem Leaves for Immunity) को अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं जिससे आपको कई तरह के फायदे मिलते हैं। भारत देश में नीम का पेड़ घर में होना शुभ माना जाता है। लोग अपने घर में इसे लगाते है ताकी इसके फायदे उठा सके

Read this : Indor Plant Benefits: कोरोना काल में शुद्ध हवा के लिए घर पर लगाएं Indor Plant,इतने मिलेंगे फायदे

एक शोधा में कहा गया है। कि नीम से 40 प्रकार की गंभीर बीमारियों का इलाज किया जा सकता है। नीम खाने से शरीर का खून भी साफ होता है। भारत से नीम के पत्तों का निर्यात 34 देशों में किया जाता है। नीम का स्वाद कड़वा होता है, लेकिन ये जितनी कड़वी होती है, उतनी ही फायदे मंद होती है।

नीम का पावडर, नीम का तेल या नीम का पेस्ट बनाकर किसी भी तरह के संक्रमण पर लगा सकते हैं।नीम की पत्ती, छाल, नीम की गोलियां, नीम का तेल और नीम के दातुन का उपयोग संक्रमण रोकने के लिए किया जा सकता है,

जिस पर फिलहाल कई प्रयोग चल रहे हैं। इसी तर्ज पर कोरोना महामारी के संक्रमण से बचने के लिए आयुर्वेदिक औषधियों पर भी कई तरह के शोध किए जा रहे हैं।

नीम की ये है खासियत

नीम में तीन कम्पोनेंट्स – हाइप्रोसाइड, मिम्बाफ्लेवोन और रूटीन होते हैं, जिसमें से हाइप्रोसाइड कम्पोनेंट कोरोना वायरस से लड़ने में सबसे अधिक सक्षम माना जा रहा है। जो लोग नीम का अब तक अधिक उपयोग नहीं करते आए हैं, उन्हें नीम का सेवन शुरू कर देना चाहिए, क्योंकि नीम मे एंटीबैक्टीरियल गुण मौजूद होते हैं। नीम से इम्यूनिटी (Neem Leaves for Immunity) भी बढ़ती है।

इम्युनिटी बढ़ाने के लिए रोज पिएं नीम का काढ़ा

इम्यूनिटी बढ़ाने (Neem Leaves for Immunity) के लिए नीम का काढ़ा पिया जा सकता है। यह हर प्रकार से शरीर के लिए स्वास्थ्यवर्धक होगा। नीम की पत्ती के सेवन से कैंसर जैसी बीमारियां भी ठीक की जा सकती हैं। कोरोना एक आरएनए वायरस है, जो रिसेप्टर के जरिए इंसानों में प्रवेश करता है।

नीम में मौजूद मुख्य तत्व हाइप्रोसाइड शरीर की कोशिकाओं में मौजूद रिसेप्टर को खत्म करने का काम करता है। इससे कोरोना वायरस के फैलने की आशंका कम हो जाएगी। नीम के काढ़े के सेवन से कोरोना वायरस संक्रमण शरीर में फैलने में सक्षम नहीं हो पाएगा, साथ ही स्वस्थ कोशिकाओं पर इसका कोई असर नहीं हो पाएगा।

घर पर ऐसे बनाएं नीम की पत्तियों का काढ़ा

नीम का काढ़ा बनाने के लिए एक कटोरे में दो कप पानी डालकर 15 से 20 नीम की पत्तियां डालकर उबालें, जब तक यह पानी आधा नहीं हो जाता। यह ज्यादा कड़वा होता है इसलिए बेहतर स्वाद के लिए उबालते समय इसमें थोड़ा नमक भी डाल सकते हैं।

इस काढ़े को यदि कोरोना संक्रमित व्यक्ति को पिलाया जाए तो उसके जल्दी ही ठीक होने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं, इसके अलावा डायबिटिक मरीज के लिए भी यह एक असरदार औषधि है।

आयुर्वेदिक डॉक्टरों के मुताबिक कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति को यदि शुरुआत से ही नीम की पत्तियों का काढ़ा पिलाते हैं, तो बीमारी गंभीर रूप नहीं लेगी।

Read this : Essential Oil : मच्छरों से बचाव का रामबाण उपाय

हम आपको इस पोस्ट के माध्यम से Neem Leaves for Immunity: कोरोना में नीम के पत्तों से कैसे बनाये अपनी इम्यूनिटी (Immunity) को स्ट्रॉन्ग एवं नीम खाने का सही तरीका बता रहे हैं।

Neem Leaves for Immunity
Neem Leaves for Immunity

Neem Leaves for Immunity

नीम के पत्तों के के लाभ – Benefits Of Neem Leaves
नीम से खांसी में राहत – अगर आप लंबे समय से खांसी से परेशान है तो नीम के पत्तों का सेवन शक्कर या मिश्री के साथ करें. आपको जल्द ही खांसी में आराम मिलेगा.

मुंहासे का इलाज करता है – मुंहासे होने पर नीम की पत्तियों को पीस कर अगर त्वचा पर लगाया जाए, तो मुंहासों से निजात पाई जा सकती है और त्वचा पर मुंहासे होना बंद हो जाते हैं. इसके अलावा इस पेड़ की पत्तियों का सेवन करके भी मुंहासों को खत्म किया जा सकता है.

टैनिंग को करे खत्म – धूप में ज्यादा देर खड़े होने से त्वचा पर बुरा प्रभाव पड़ता है और त्वचा पर टैनिग आ जाती है. वहीं धूप से काली पड़ी त्वचा पर नीम की पत्तियों का फेस पैक लगाकर टैनिग को दूर किया जा सकता हैं.

यह फेस पैक बनाने के लिए आपको बस इन पत्तियों को सूखा कर उनका पाउडर बनाना होगा और इस पाउडर में आपको दही मिलाना होगा

चेहरे का निखार – नीम की पत्तियों के पाउडर के संग अगर हल्दी को मिलाकर चेहरे पर लगाया जाए, तो चेहरे का निखार और बढ़ जाता है. हल्दी के अलावा आप नीम के पीसे हुए पत्तों में खीरे के रस को भी मिला सकते हैं.

डार्क सर्किल को करे गायब – आंखों के नीचे डार्क सर्किल होने पर आप नीम के पत्तों का पेस्ट बना कर (पत्तियों को पीसकर), उस पेस्ट को इनपर लगा दें और कुछ मिनट तक इस पेस्ट को लगे रहने दें. कुछ समय के बाद आप इस लेप को पानी की मदद से साफ कर दें. हफ्ते में तीन बार ये पेस्ट डार्क सर्किल पर लगाने से ये जल्द ही कम हो जाएंगे.

खून को करे साफ – नीम के पत्तों में कवक और जीवाणु को खत्म करने की ताकत होती है. इसलिए अगर इसकी पत्तियों को खाया जाए, तो शरीर का खून साफ हो जाता है और शरीर के गंदे जीवाणु भी खत्म हो जाते हैं.

मधुमेह को करे नियंत्रित –  नीम के पत्तों पर किए गए कई अनुसंधानों में पाया गया है कि ये पत्ते मधुमेह के मरीजों के लिए फायदेमंद होते हैं और जिन लोगों को भी अधिक मधुमेह की शिकायत है, अगर वो इसके पत्तों को नियमित रूप से खाएं तो इस बीमारी से राहत पा सकतें है.

मलेरिया की बीमारी में लाभ दायक – कई देशों में जिन लोगों को मलेरिया हो जाता है, उन लोगों के इलाज के दौरान नीम का इस्तेमाल भी दवा के रूप में किया जाता है. दरअसल इसके पत्तों में पाए जाने वाला गेंडनिन (gedunin) घटक इस बीमारी के इलाज में कारगर साबित होता हैं और तेज बुखार को कम करने में मदद करता हैं. इसलिए जिन लोगों को मलेरिया होता है उन्हें नीम के पत्ते खाने की राय दी जाती है.

पेट के लिए लाभदायक – पेट की कई समस्यों पर भी नीम के पत्तों का कारगर असर पड़ता है और इसके पत्तों को खाने से ऐसिडिटी की समस्या, कब्ज, पेट दर्द की समस्या से राहत पाई जा सकती है. इसलिए अगर आप किसी पार्क में कसरत करने जाते हैं, तो करसत करते समय नीम के पेड़ से उसकी दो तीन पत्तियों को तोड़कर खा लें. हालांकि पत्तों को खाने से पहले उसे साफ जरूर कर लें.

यूरिन संक्रमण – यूरिन संक्रमण होने पर भी अगर इसका सेवन किया जाए, तो इस संक्रमण से राहत पाई जा सकती है और इस संक्रमण से ग्रस्त लोग अगर रोज सुबह उठाकर इसके पत्ते चबाएं, तो इस संक्रमण से उन्हें जल्द राहत मिल जाएगी.

फुंसी की समस्या में लाभदायक – जिन भी लोगों को काफी अधिक फूंसी होती है, वो नीम की पत्तियों को खाना शुरू कर दें या फिर इसकी पत्तियों को पीस कर उसका जूस निकाल कर उसका सेवन कर लें. लेकिन याद रहे कि इसका जूस बेहद कड़वा होता है, इसलिए आप केवल थोड़ी मात्रा में ही इसके जूस का सेवन करें.

कोलेस्ट्रॉल को करें नियंत्रित – कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ने पर अगर नीम के पत्तियों को खाया जाए, तो कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित कर सकते हैं. इसलिए जिन लोगों का कॉलेस्ट्रोल लेवल अधिक है, वो कुछ दिनों तक नीम की पत्तियों का सेवन कर अपने इस लेवल को नियंत्रित कर सकते हैं.

फफूंद संक्रमण – शरीर के किसी हिस्से में फफूंद यानी फंगल संक्रमण होने पर अगर उस हिस्से पर नीम की पत्तियों का लेप लगाया जाए, तो संक्रमण जल्द ही ठीक हो जाता है.

रोग प्रतिरोधक शक्ति – नीम शरीर की रोग प्रतिरोधक शक्ति (Neem Leaves for Immunity)  बढाने में भी काफी लाभदायक साबित होता है और इसके पत्ते या फिर इसके कैपसूल खाने से शरीर की रोग प्रतिरोधक शक्ति को मजूबत किया जा सकता है.

जले हुए हिस्से को करे सही – जले हुए हिस्से पर अगर नीम का लेप लगाया जाए, तो उस हिस्से को जल्द ही ठीक किया जा सकता है और साथ में ही उस हिस्से में किसी तरह का संक्रमण होने की उम्मीद भी कम हो जाती है.

कीड़े के जहर के असर को करे कम – किसी व्यक्ति को यदि कोई कीड़ा काट लेता हैं तो कीड़े की काटी हुई जगह पर अगर इसके पत्तों को पीस कर लगाया जाए तो कीड़े के जहर के असर को कम किया जा सकता है. हालांकि पत्तों की जगह आप इसके तेल का इस्तेमाल भी कीड़े द्वारा काटी गई जगह पर कर सकते हैं.

नीम के  पत्तियों को खाया जाए, तो कैंसर होने का खतरा कम हो जाता है और साथ में ही ये गर्भनिरोधक की दवा के तौर पर भी कार्य करती है.

नीम के पत्तों से बालों को फायदा

बालों में लाए चमक – रूखे बालों पर अगर नीम की पत्तियों का पेस्ट बनाकर लगाया जाए, तो बालों का रूखापन दूर हो जाता है और बालों में चमक आ जाती है.
बालों के लिए इसका पेस्ट बनाने के लिए, आपको नीम की पत्तियों के पाउडर में शहद मिलाना होगा और इस पेस्ट को अपने बालों पर लगाना होगा.

बालों को बनाएं मजबूत – जिन लोगों के बाल काफी कमजोर है और आसानी से टूट जाते हैं, वो लोग अपने बालों को नीम की मदद से मजबूत कर सकते है. बालों को मजबूत करने के लिए आपको नीम की पत्तियों को पीसकर एक पेस्ट तैयार करना होगा और उस पेस्ट को अपने बालों पर लगाना होगा. आप चाहे तो इस पेस्ट को बनाने के लिए इसमें नारियल का तेल भी डाल सकते हैं. वहीं ये पेस्ट बालों पर लगाने के दस मिनट बाद आप साफ पानी से बालों को धो लें.

जूं को करे खत्म – जूं होने पर अगर नीम की पत्तियों का पेस्ट बालों पर लगाया जाए, तो जूंएं खत्म हो जाती हैं. आप चाहें तो इसके पेस्ट की जगह इसकी पत्तियों को पानी से उबालकर उस पानी से बालों को धोकर भी जूंओं को खत्म कर सकते हैं. हालांकि ये याद रहे की पानी ठंडा होने पर ही आप उससे अपने बाल धोंए

Neem Leaves for Immunity
Neem Leaves for Immunity

नीम के फल के फायदे

कई प्रकार की दवा बनाने में नीम के फल का इस्तेमाल किया जाता है और इसके फल में कई प्रकार के पोषण तत्व भी होते हैं. इसके फलों से नीम का तेल भी प्राप्त किया जाता है जो कि जीवाणु से लड़ने में मददगार होता है.

नीम में मौजूद पोषण तत्व – Nutritional Value of Neem Fruit

विटामिन के नाम कितने प्रतिशत होता है
विटामिन के 12.4%
कैल्शियम 32.8%
मैगनीशियम 25%
सोडियम 23.7%
फास्फोरस 17.24%
नाइट्रोजन 20%

Neem Leaves for Immunity

नीम के तेल के फायदे – Neem Oil Benefits

नीम की पत्तियों की तरह ही इसके तेल का इस्तेमाल भी कई प्रकार की बीमारियों से लड़ने के लिए जाता है. नीम के तेल को नीम के बीज से प्राप्त किया जाता है और इस तेल की मदद से बालों और त्वचा से जुड़ी हुई कई समस्या को भी खत्म किया जा सकता है

ब्लैकहेड्स को करे खत्म – ब्लैकहेड्स और वाइटहेड्स होने की समस्या अधिकतर लोगों को रहती है और ब्लैकहेड्स को चेहरे से साफ करना काफी मुश्किल भी होता है.
चेहरे पर ब्लैकहेड्स और वाइटहेड्स होने पर अगर नीम के तेल को थोड़े से पानी से साथ मिलाकर इनपर लगाया जाए तो इन्हें चेहरे से साफ किया जा सकता है.

कान के दर्द में लाभदायक – कान में संक्रमण या फिर कोई तकलीफ होने पर अगर इसके तेल की कुछ बूंदे कान में डाली जाएं, तो कान की इन परेशानियों से राहत मिल सकती हैं. हो सके तो तेल का प्रयोग गर्म करके करें.

बालों के झड़ना करे कम – अगर आपके बाल काफी टूटते हैं तो आप अपने बालों पर इसके तेल से मालिश करना शुरू कर दें. क्योंकि इस तेल को नियमित रूप से बालों पर लगाने से बाल झड़ने की समस्या खत्म हो जाती है, साथ में ही स्कैल्प भी साफ रहते ही.

रूसी को करे खत्म – सिर पर रूसी होने की समस्या को भी नीम के तेल की मदद से खत्म किया जा सकता है. दरअसल इसके तेल में जीवाणुरोधी, एंटीफंगल गुण मौजूद होते हैं जो कि रूसी को खत्म करने का कार्य करते हैं.

मच्छरों से करे रक्षा – मच्छरों से बचाए रखने के लिए भी इसका तेल गुणकारी होता है आपको बस इसके तेल में कुछ बूंदे नारियल के तेल की मिलानी होगी और फिर इस अपने हाथों, पैरों और शरीर के खुले हिस्से पर लगाना होगा. तेल लगाने से मच्छर आपके शरीर के खुले हिस्सें को नहीं काट पाएंगे और आप अपनी रक्षा डेंगू और मलेरिया वाले मच्छरों से कर सकेंगे.

नीम के तेल की बदबू काफी कड़वी होती है और इस तेल की बदबू से मच्छर दूर भागते हैं और यही वजह है कि मच्छर से रक्षा करने के लिए बनाए जाने वाले कई प्रकार के लॉशन्स में नीम के तेल का इस्तेमाल किया जाता है.

पानी के साथ नीम के लाभ -Benefits Of Neem Leaves In Water

आंखो के लिए लाभदायक –  आंखों को अगर नीम के पानी से साफ किया जाए तो आंखों को राहत मिलती और इनमें मौजूदा कचरा भी निकल जाता है.
आंखों को नीम के पानी से धोने के लिए, आपको बस पानी में कुछ नीम की पत्तियों को उबालना होगा और इस पानी को ठंडा कर इस पानी से अपनी आंखों को धोना होगा. ऐसा करने से ना केवल आंखो को ठंडक मिलेगी साथ ही आंखे अच्छे से साफ भी हो जाएंगी.

दानों को करे कम – गर्मी के मौसम में अक्सर शरीर में काफी दाने हो जाते हैं और इन दानों में काफी खुजली भी होती है. इसलिए जिन लोगों को ये समस्या होती है वो स्नान करने के पानी में नीम की कुछ पत्तियां डाल लें. ऐसा करने ये दाने जल्द खत्म हो जाएंगे और इनमें किसी प्रकार की खुजली की समस्या भी नहीं होगी.

चेचक – चेचक की बीमारी होने पर नीम के पानी से नहाने की सलाह डॉक्टरों द्वारा भी दी जाती है. क्योंकि इसके पानी से नहाने से चेचक के दाने शरीर में फैलते नहीं हैं और इन दानों में खुजली भी नहीं होती है.

पथरी को करे कम – पथरी की बीमारी होने पर अगर नीम के पानी का सेवन किया जाए, तो पथरियों से निजात मिल सकती है. नीम का पानी तैयार करने के लिए आप बस कुछ नीम की पत्तियों को पीने के पानी में कुछ समय तक उबालना होगा और जब ये अच्छे से उबल जाएं, तो पानी को छान लें और ठंडा होने के लिए रख दें. जब पानी ठंडा हो जाए तो उसको पी लें, बेहतर नतीजों के लिए आप इस पानी को कुछ दिनों तक लगातार पीएं.

नीम की लकड़ी का इस्तेमाल – Neem Stick Benefits

दांतों के लिए लाभदायक – अभी भी कई गांवों में लोगों द्वारा दांतों की सफाई के लिए नीम की लकड़ी का प्रयोग किया जा जाता है.क्योंकि इसकी लकड़ी को दांतों पर घीसने से मसूड़ों के दर्द, मुंह की बदबू, पीले दांतों की समस्या से निजात पाई जा सकती है और यही कारण है कि टूथ पेस्ट बनाने वाली कंपनियों द्वारा अपने टूथ पेस्ट में नीम की लकड़ियों और पत्तियों का इस्तेमाल किया जाता है.

नीम की चाय – Neem Tea Recipes

नीम की चाय का सेवन भी लोगों द्वारा किया जाता है और इसकी चाय पीने से बुखार को कम भी किया जा सकता है और शरीर की थकावट को भी दूर भगाया जा सकता है. नीम की चाय बनाने के लिए आपको पानी में नीम के पाउडर या कुछ पत्तियों का डालना होगा और इस पानी को कम से कम दस मिनट तक उबालना होगा. आप चाहें तो इस पानी में शहद, इलायची और लौंग जैसी चीजो भी डाल सकते हैं.

नीम से जुड़े नुकसान – Side Effects

अधिक ना करें सेवन – इसके पत्तों को अधिक समय तक खाना शरीर के लिए सही नहीं होता है. इसलिए आप इसके पत्तों का सेवन ज्यादा लंबे समय तक ना करें और हो सके तो एक दिन छोड़कर इसी पत्तियों को खाएं. क्योंकि लंबे समय तक इसकी पत्तियों को खाने से गुर्दे और लीवर पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है.

बच्चे ना करें सेवन – छोटे बच्चों को नीम की पत्तों का सेवन नहीं करना चाहिए, क्योंकि इसकी पत्तियों का सेवन करने से छोटे बच्चों की सेहत पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है और उनको कई तरह की बीमारियां भी हो सकती हैं साथ ही छोटे बच्चों में किडनी और लीवर की समस्या हो सकती है।

गर्भवती महिला के लिए हानिकारक – गर्भवती महिलाओं के लिए भी इसके पत्तों का सेवन करना हानिकारक हो सकता है और इसका बुरा प्रभाव बच्चे पर भी पड़ सकता है. इसके अलावा जो औरतें बच्चों को अपना दूध पिलाती हैं वो भी नीम के पत्तों का सेवन ना करें.

मधुमेह – नीम की पत्तियों को खाने से उच्च मधुमेह को कम किया जा सकता है, लेकिन अगर इसकी पत्तियों का सेवन अधिक कर लिया जाए तो मधुमेह का स्तर कम होने का भी खतरा बना रहता है.

इसलिए अगर आप इन पत्तियों का सेवन मुधमेह के स्तर को कम करने के लिए कर रहे हैं तो ,समय समय पर अपने मधुमेह के स्तर की जांच भी करते रहें। डायबिटीज के मरीजों को ब्लड शुगर नियंत्रित करने के लिए नीम के तेल के सेवन की सलाह दी जाती है।

क्या आप जानते हैं अधिक मात्रा में इसका इस्तेमाल करने से मरीज का शरीर सुन्न भी पड़ सकता है। वहीं जिन लोगों का मधुमेह स्तर कम रहता है वो इनको ना खाए।

Neem Leaves for Immunity

नीम खाने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Eat

कई लोगों द्वारा नीम के पत्तों का सेवन सुबह के समय किया जाता है तो कई लोग शाम के वक्त इसके पत्ते खाते हैं. हालांकि जो लोग नीम के पत्तों का सेवन सुबह खाली पेट करते हैं, उनके शरीर पर इनके पत्तों का ज्यादा अच्छा प्रभाव पड़ता है. इसलिए हो सके तो आप सुबह के समय इसका सेवन करें.

नीम के पत्तों का इस्तेमाल कई प्रकार की दवा और साबुन को बनाने के लिए किया जाता है और इस बात ये चीज सिध्द होती है कि इस पेड़ की पत्तियां बहुत लाभदायक होती है।

News Source : deepawali and livehindustan

Leave a Reply