Obesity |मोटापा कम करने आसान तरीके |Vajan Kam Karne Ke Tips In Hindi | Motapa ghatane Ke Tips|

हेल्थ
Obesity : मोटापा कम करने आसान घरेलु तरीके
Obesity : मोटापा कम करने आसान घरेलु तरीके

आजकल की लाइफस्टाइल में अनियमित खानपान और लोगों के रहन-सहन की आदतों के कारण मोटापा कई लोगों की एक आम समस्या बन चुकी है लोगों की जैसी दिनचर्या हो गई है, उसमें पेट निकलना तो आम बात हो गई है मोटापे की समस्या हमारे अस्वस्थ जीवनशैली के कारण भी उत्पन्न होती है।मोटापे के कारण हमारा शरीर बेडौल दिखने लगता है. खासकर कमर और पेट के पास चर्बी जमा होने से हमारे शरीर की बनावट खराब हो जाती है

Advertisement

और हमें उठने, बैठने, चलने तक में परेशानी होने लगती है.इसे कम करने के लिए लोग तरह तरह की दवाइयां खाते हैं, डॉक्टर्स के पास जाते हैं और व्यायाम आदि करते हैं.बहुत सारे लोग डाइटिंग करने लगते हैं. काफी देर तक भूखे रहने लगते हैं, लेकिन कई बार उचित जानकारी नहीं हो पाने के कारण लोग अपना वजन घटा नहीं पाते हैं मोटापे के कई कारण हो सकते हैं


भारत में अनेक लोग मोटापा के शिकार हैं। मोटापे के कारण शरीर में कई तरह की परेशानियां होने लगती हैं। जब परेशानियां बढ़ने लगती हैं तो लोग मोटापा कम करने के लिए उपाय (motapa kaise kam kare) खोजने लगते हैं। लेकिन आपके घर में ही इसके​ लिए कई तरह के उपाय हैं. क्या आप उन घरेलू नुस्खों उपाय के बारे में जानना चाहेंगे?यहाँ पर मोटापा के कारण एवं उसे कम करने के आसान और घरेलू उपाय दिए जा रहे हैं.

मोटापा क्या है –

Obesity : जब किसी व्यक्ति का शरीर का वजन, सामान्य से अधिक हो जाता तो उसे मोटापा (Obesity) कहते हैं। आप रोज जितनी कैलोरी भोजन के रूप में लेते हैं, जब आपका शरीर रोज उतनी खर्च नहीं कर पाता है, तो शरीर में अतिरिक्त कैलोरी फैट के रूप में जमा होने लगता है, जिससे शरीर का वजन बढ़ने लगता है।

मोटापा के कारण (Obesity Reasons)

मोटापा बढ़ने के कई सारे कारण हो सकते हैं. तत्कालिक समय में आधुनिक लाइफस्टाइल मोटापा बढ़ने का बहुत बड़ा कारण है. मोटापा बढ़ने के विभिन्न कारणों को नीचे दिया जा रहा है.

मोटापा बढ़ने का सबसे बड़ा कारण है फ़ास्ट फ़ूड. आये दिन बाजारों में नए नए तरह के फ़ास्ट फ़ूड आते रहते हैं. ऑफिस वगैरह में काम करते हुए लोग इन्हीं फास्ट फ़ूड पर अधिक आश्रित रहते हैं, जिसकी वजह से शरीर में फैट की मात्रा बढ़ते जाती है और लोग मोटे होते जाते हैं.

कभी कभी लोगों का मोटापा जिनेटिक होता है. यानि जिनके माता – पिता मोटे होते हैं तो जिनेटिकली वे भी मोटे हो जाते है.

अनियमित रूप से खाने से भी मोटापा बढ़ता जाता है. कुछ लोग अपने खाने पर कण्ट्रोल नहीं रखते और जब मन करता है कुछ न कुछ खाते ही रहते है. यही अनियमित रूप से खाना ऐसे लोगों के मोटापे के लिए उत्तरदायी होता हैं.
यदि आप आवश्यकता से अधिक सो रहे हैं अथवा किसी वजह से आपकी नींद पूरी नहीं हो पा रही है, तो मोटापा बढ़ने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं.

अपने गर्भावस्था के दिनों में स्त्रियों में पोलीसाईटिकओवरी सिंड्रोम 10 से 20 प्रतिशत तक एफेक्ट हो जाता है. इसकी वजह से स्त्रियों में टेस्टोस्टेरोन लेवल बढ़ जाता है, जो मोटापे का कारण हो जाता है.

मोटापे के लक्षण

मोटापा शारीरिक और मानसिक स्तर पर जीवन में कई सारे परिवर्तन लाता है। जिनके कारण व्यक्ति में इसके लक्षण परिलक्षित होते हैं। किन्तु कई बार लोग इन्हें महत्त्व नहीं देते और इसके बारे में कोई चिकित्सकीय परामर्श नहीं लेते जो आगे चलकर उनके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है।

मोटापे के प्रमुख्य लक्षण निम्न प्रकार से हैं। 

सांस फूलना – बार-बार साँस फूलने की समस्या का होना मोटापे का लक्षण है जो कई कारणों से हो सकता है और कई रोगों का कारण बनता है।

पसीना में वृद्धि – अचानक से बार-बार पसीना आना और वह भी बहुत, यह दर्शाता है कि व्यक्ति मोटापे से ग्रसित है।

खर्राटे – आमतोर पर मोटापे से बेहाल लोगों को नींद में बहुत खर्राटे लेते देखा जा सकता है मोटापा बढ़ने के साथ-साथ यह समस्या और भी बढ़ती जाती है।

शारीरिक गतिविधि के साथ सामंजस्य करने में अचानक असमर्थता का अनुभव करना – सामान्य रूप से कोई भी शारीरिक गतिविधि करने में असमर्थ होते जाने का संबध भी मोटापे से है और ये मोटापे का सबसे प्रमुख्य लक्षण भी हैं

प्रतिदिन बहुत थकान महसूस करना- आमतौर पर बिना किसी अतिरिक्त कार्यभार के लगातार थकान का अनुभव करना भी मोटापे का ही एक लक्षण है।

पीठ और जोड़ों में दर्द – मोटापे की समस्या से ग्रसित लोगों में पीठ और जोड़ों के दर्द सामान्य रूप से देखा जा सकता है।

आत्मविश्वास और आत्मसम्मान में कमी का अनुभव – शारीरिक समस्याओं के कारण किसी भी काम को करने की क्षमता में कमी आ जाती है और स्वयं पर विश्वास भी नहीं होता जिसके चलते आत्मसम्मान में भी कमी आ जाती है।

अकेला महसूस करना – मोटापे में अकेलापन अनुभव करना एक आम बात है। शारीरिक परिवर्तनों के चलते लोग स्वयं को सबसे अलग और एकाकी महसूस करते हैं।

जरुरत से ज्यादा या कम सोना- यदि हम जरुरत से ज्यादा सोते है तो यह भी हमारे मोटापे का बहुत बड़ा लक्षण होता है

मोटापा हर व्यक्ति की परेशानी है, मोटापा कम करने कुछ आसान घरेलु तरीके बतायेगे |Vajan Kam Karne Ke Tips In Hindi | Motapa ghatane Ke Tips|

नियमित एक्ससाइज़ –एक्ससाइज़ के द्वारा हम मोटापे (Obesity) को कम कर सकते है एक्ससाइज़ से हमारे शरीर में रक्त परवाह तेजी से होता है और पसीना भी तेजी से निकलता है जिससे हमारे शरीर में जमा कैलोरी ख़त्म हो जाती है और हमारा शरीर धीरे -धीरे अपनी सेप में आने लगता है

यह भी पढ़े : Benefits Of excercise

फलो का जूसफलो से हमारे शरीर को अनेको लाभ होते और इनमे से कुछा फल (संतरा,अंगूर ,नासपाती मौसमी,सेब,पपीता,तरबूज़,)आदि विटामिन c से भरपूर होते है इन फलो का जूस नियमित पिने से हमारे शरीर से मोटापा कम होता है

यह भी पढ़े : fruit in rainy season:बरसात में कई बीमारियों से दूर रखते हैं ये फल

करेले का जूस – करेला कड़वा जरूर होता है परन्तु फायदे भी अनेको देता है करेले में अनेको पोशक तत्व मौजूद होते है ( मेगनीसियम,पोटेसियम,आयरन ,विटामिन c )आदि यह हमारे शरीर में शुगर लेवल को बढ़ने नहीं देता है करेले में पानी की मात्रा अधिक होती है कहा जाता है की करेले में 89 %से 94% तक पानी होता है

शहद का सेवन – आप मोटापे (Obesity) को काम करने के लिए सुबह सबसे पहले एक गिलास गुनगुने पानी में एक चमच शहद डाल कर ले इससे भी इससे भी मोटापा नियंतिरित होता है और कब्ज़ की परेशानी भी नहीं होती है

नीबू पानी – अगर आपके पास शहद नहीं है तो आप सुबह गुनगुने पानी में नीबू का रस डाल कर भी पि सकते है इससे भी मोटापा नियंत्रित होता है और आपकी त्वचा भी खिली खिली रहती है

यह भी पढ़े : Immunity Booster : कोरोना वायरस के खिलाफ Immunity Boost के टिप्स

ग्रीन टी का सेवन – हम सब की सुबह की सुरुवात चाय से होती है अगर हम चाय की जगह ग्रीन टी (हरी चाय) का नियमित सेवन करे तो अनियंत्रित मोटापे को नियंत्रित किया जा सकता है आप कोई भी ग्रीन टी ले सकते है

यह भी पढ़े : कैमोमाइल एसेंशियल ऑयल क्या है ? इसके फायदे और नुकशान क्या क्या है

ओमेगा 3 खाये – कई रिसर्चो से पता चलता है की ओमेगा – 3 खाने से भी आपके मोटापे को नियंत्रित किया जा सकता है

यह भी पढ़े :

तला भुना नहीं खाये – मोटापा (Obesity) कम करने के लिए बाहर के बने तेलीय व्यंजनों और पैकेजिंग फ़ास्ट फ़ूड को नहीं खाना चाहिए

दालचीनी पावडर खाये – सुबह की चाय में चीनी की जगह अगर थोड़ा दालचीनी पावडर मिला के पिए तो भी मोटापा काम होता है

यह भी पढ़े : amazing benefits of cinnamon

लहसुन की कालिया खाये – सुबह उठते ही 2 से 5 लहसुन की कलिया खाये इससे आपका मोटापा कम होगा तथा एसिडिटी ,कब्ज़ की समस्या भी खत्म हो जाएगी

रस्सी कूदना – आपको एक्ससाइज़ के लिए या डाइट प्लान के लिए समय नहीं मिलता है तो आप रस्सी कूद सकते है नियमित मात्र 10 या 15 मिनट रस्सी कूदने से आप अपने मोटापे से निजात पा सकते है कहा जाता है की 10 मिनट रस्सी कूदना 8 मिनट जोगिग के बराबर होता है और इसके लिए आपको कही बहार भी नहीं जाना पड़ेगा

नमक का उपयोग – नमक के बिना खाना नहीं खाया जाता है परन्तु अधिक नमक का प्रयोग अनेको भीमरियो को जन्म देता है और मोटापे (Obesity) को भी बढ़ाता है आप अपने भोजन में नमक का कम उपयोग करे और कच्चा नमक ना खाये

यानि की जब खाना पक जाये और खाने में नमक कम हो जाये तो ऊपर से और नमक ना डाले यह मोटापे (Obesity) को बढ़ाता है इसकी जगह आप सीधा नमक डाल सकते है या नमक को पीस कर रक् ले उसे उपयोग में लाये

चीनी का उपयोग नहीं करे – चाय में चीनी का उपयोग होता है तथा अन्य स्वादिस्ट व्यंजनों में भी चीनी का उपयोग होता है अगर हो सके तो चीनी की जगह अन्य विकल्पों का उपयोग करे (गुड़ ,शहद, शुगर फ्री,आदि )

यह भी पढ़े : sugarcane juice : जानिए मधुमेह के रोगी और मोटे लोग पी सकते हैं या नहीं गन्ने का जूस

वजन घटाने व मोटापा कम करने के अन्य उपाय ( Vajan Kam Karne Ke Tips In Hindi)

1 – सबसे पहले रोज़ सुबह 1 कप गर्म पानी में नीम्बू डाल कर पीया करें. इसके बाद दिन भर में जब भी खाना खाएं उसके बाद खूब पानी पियें.

2- जब भी चाय वगैरह पीने का मन करे ग्रीन टी का ही सेवन करें. ग्रीन टी के फ़ायदे अनेक हैं. दूध की चाय में बहुत अधिक मात्रा में फैट मौजूद होता है. यदि कॉफ़ी पीनी हो, तो दिन भर में एक कप से अधिक न पियें.

3- यदि आप अपना मोटापा कम करना चाहते हैं, तो चीनी का प्रयोग किसी भी तरह से न करें. चीनी से फैट बहुत अधिक बढ़ता है. इसी के साथ पास्ता, चाइनिस आदि का सेवन बिलकुल भी न करें. गेहूं के आटे का प्रयोग अपने खाने में किसी भी तरह से इस्तेमाल न करें. इसके स्थान पर जाऊ और चने के आटे का इस्तेमाल करें.

4 – जितनी हरी सब्जी खा सकते हैं ज़रूर खाएं. इससे मोटापा नहीं बढ़ता है और साथ ही शरीर में विटामिन की पूर्ति होती है. गाजर खाने पर अहतियात बरते क्यों कि इसमें ग्लूकोस मौजूद होता है, जिससे शरीर में फैट बढ़ता है.

5- दिन भर में 4-5 बार से अधिक खाना न खाएं. इसी 4-5 बार में आपका नाश्ता वगैरह सब शामिल है. यानि 24 घंटे में 4-5 बार से अधिक नहीं खाना चाहिए.

6 – अपने खाने में जितने फाइबर युक्त चीज़ें खाएं उतना ही बेहतर है. फाइबर युक्त चीज़ों से पौष्टिकता भी प्राप्त होती है और फैट भी नहीं बढ़ता है.

7 – बाज़ार की चीज़ों के सेवन से जितना बचा जाए उतना ही बेहतर है. बाज़ार की तेल की बनी चीज़ों में बहुत अधिक मात्रा में कैलोरी मौजूद होती है. इसलिए इससे बचें.

8 – ऐसी चीज़ों का सेवन करें, जिसमे प्रोटीन अधिक मात्रा में हो और कार्बोहाइड्रेट जितना कम हो उतना ही बेहतर है. चिप्स, पॉपकॉर्न, कूकीज, केक आदि न खाएं तो ही बेहतर होगा क्यों कि इसमें कार्बोहायड्रेट पाया जाता है, जो कि चर्बी बढ़ाने के कई प्रमुख कारणों में एक है.

9 – शाम 7 बजे के बाद बिलकुल भी कुछ भी न खाएं. अतः एक तरह से डाइट का नियम बना लें.

10- काली मिर्च, अदरक, मोसमी आदि का जिस भी तरह से हो सके सेवन करें. सबसे बेहतर है गर्म पानी में काली मिर्च को पीस कर डालें और उसका सेवन करें.

11- विभिन्न तरह के स्ट्रेस सम्बंधित हरमोन्स की अधिकता शरीर में बढती जाती है. इस तरह के हारमोंस से भी मोटापा बढ़ने लगता है. इन हारमोंस को कम करने का एक उपाय है स्ट्रेस कम लेना. अतः स्ट्रेस से मुक्त रहें.

12- मांसाहारी खाना बिलकुल भी न खाएं. मांस वगैरह में फैट बहुत अधिक मात्रा में मौजूद होता है. अतः मांस के सेवन से फैट का बढ़ना बहुत स्वाभाविक हो जाता है. आप अंडा खा सकते हैं, लेकिन सिर्फ अंडे की जर्दी ही. अंडे के कुसुम में वसा अधिक मात्रा में मौजूद होता है.

13- अपने खाने मे दालचीनी, अदरक, काली मिर्च आदि डालें. इन चीज़ों से आपके बदन में इन्सुलिन रेजिस्टेंस बढ़ेगी और शुगर की मात्रा कम होगी. शुगर की मात्रा कम होने से फैट को घटाने में आसानी होती है.

14- मोटापा कम करने के लिए एक बहुत अच्छा उपाय है सप्ताह में एक से दो दिन उपवास करना. अपने हिसाब से एक दिन चुन लें जब आप उपवास रख सकें. इस दिन हल्का भोजन करें.

नियमित रूप से व्यायाम करें.

 आपको दिन में से कम से कम 40 मिनिट किसी न किसी शारीरिक क्रिया को देना आवश्यक हैं

आपने सुना होगा जिम, योग अथवा एरोबिक्स की आदत हो जाती हैं जिसे छोड़ते ही वजन बढ़ता हैं | यह कई मायनों में सही हैं पर इन सबकी आदत पड़ना गलत नहीं हैं यह कोई नशा नहीं अपितु शरीर को स्वस्थ्य रखने का आसान तरीका हैं | इस तरह की बातों से दूर रहे हैं |

अगर आप अपना वजन कम करना चाहते हैं तो खान पान के साथ साथ शारीरिक व्यायाम भी जरुरी हैं, जिसे सुबह या शाम किसी भी वक्त करें| दोपहर में भी कर सकते हैं अगर आप सुबह या शाम वक्त नहीं दे पा रहे हैं |

एरोबिक्स आप घर में डांस भी कर सकते हैं जिसे एक बार आप इन्टरनेट अथवा किसी प्रशिक्षक से सीखे |
कार्डियो जिम के साथ कार्डियो अर्थात वाक, रनिंग, साइकिलिंग करना अच्छा होता हैं इससे फेट बर्न तेजी से होता हैं |
योग
इसमें आप सूर्यनमस्कार कर सकते हैं या भी पॉवर योगा भी कर सकते हैं लेकिन योग पहले किसी प्रशिक्षक से सीखकर ही करें |
जिम वजनीय एक्सरसाइज़ भी लाभदायक हैं इसमें कोई नुकसान नहीं | इससे शरीर मजबूत और सुडोल बनता हैं |
प्राणायाम प्राणायाम में कपाल भारती, अन्नोमविलोम जैसे प्राणायाम कर सकते हैं पर इन्हें सावधानी से सीखे फिर करें |

Leave a Reply