omicron variant |covid 19 omicron variant cases|Symptoms of Weak Immune System

हेल्थ
omicron variant of coronavirus lifestyle and diet changes for strong immunity
omicron variant of coronavirus lifestyle and diet changes for strong immunity

omicron variant : कोरोना वायरस का नया वेरिएंट ओमिक्रॉन भारत में भी पहुँच चुका है। स्वास्थ्य विभाग के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेस में इसकी जानकारी दी। इसके बाद से स्वास्थ्य मंत्रालय और सभी राज्य सरकारें सतर्क हो गई हैं। उन्होंने बताया कि ये दोनों मरीज कर्नाटक राज्य से मिले हैं, और इनकी रिपोर्ट देर रात आई थी। संक्रमित व्यक्ति में एक 66 साल के और दूसरे 46 साल का व्यक्ति है।

Advertisement

यह भी पढ़े : Omicron Corona Variants।कोरोना के नए वैरिएंट ने मचाई दहशत

अब तक दुनिया भर के 29 देशों में 373 ओमिक्रॉन वेरिएंट (omicron variant) के मामले सामने आ चुके हैं। अमेरिका, इजरायल, जापान जैसे बड़े देश इस लिस्ट में शामिल हैं। अब भारत भी इसमें शामिल हो गया है। बीते कई दिनों से भारत में इसे लेकर सतर्कता बरती जा रही हैं।

कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन (omicron variant) से दुनियाभर के लोग डरे हुए हैं। इससे पहले दूसरी लहर लोगों के लिए बहुत बड़ा झटका थी। साउथ अफ्रीका से आए कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन (omicron variant) के बढ़ते मामलों को देखते हुए तीसरी लहर की आशंका लग रही है। हालांकि तीसरी लहर आएगी या नहीं, कुछ नहीं कहा जा सकता, लेकिन हम सभी को कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते रहना चाहिए।

अब तक के अध्ययनों के आधार पर इतना कहा जा सकता है कि कोरोना के यह नया वैरिएंट सबसे खतरनाक हो सकता है। चूंकि इसमें 30 से भी अधिक म्यूटेशन हैं जोकि इसे अति संक्रामक बनाते हैं। इस खतरे को देखते हुए वैक्सीन की दोनों डोज ले चुके लोगों को भी विशेष सावधानी बरतने की आवश्यकता है। आपको याद हो, तो पहले और दूसरी लहर में वायरस ने उन लोगों पर सबसे पहले हमला किया, जिनकी प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर थी।

ओमिक्रॉन से बचाव के लिए हमें हमेशा खुद को तैयार करके रखना होगा।ओमिक्रॉन वैरिएंट (omicron variant) से संक्रमित एक व्यक्ति 18 से 20 लोगों को कोरोना पॉजिटिव कर सकता है. डॉक्टर त्रेहान ने इसके पीछे का कारण बताया कि ओमिक्रॉन का R नॉट वैल्यू अन्य वैरिएंट की तुलना में कहीं ज्यादा है.हमारे पास वैक्सीनेशन के अलावा कोई विकल्प नहीं है क्योंकि इससे न्यूनतम सुरक्षा बनी रहेगी. 

ऐसे में सभी लोगों को लगातार प्रतिरक्षा को बढ़ाने वाले हर मुमकिन उपाय करते रहने चाहिए। हालात अब पहले जैसे ही दिखाई रहे हैं, इसलिए हम सभी को सावधानी बरतनी चाहिए।

Immune Boosting Habits : ओमिक्रॉन से सुरक्षित रहने के ल‍िए तुरंत अपना लीजिए ये आदतें

Immune Boosting Habits : हमें इम्यूनिटी को स्ट्रांग बनाने के लिए जीवनशैली में फिर कई बदलाव करने होंगे और आहार में स्वस्थ खाद्य पदार्थों को शामिल करना होगा।काढ़ा, मौसमी फलों का सेवन, पौष्टिक आहार, व्यायाम जैसे उपाय इम्यूनिटी को बढ़ावा देते हैं,

शराब-धूम्रपान से दूरी इनका विशेष ध्यान रखें। जिन लोगों को वैक्सीनेशन हो चुका है साथ ही प्रतिरक्षा को बढ़ाने वाले उपाय कर रहे हैं, उन्हें कोरोना से काफी हद तक सुरक्षित माना जा सकता है।  कोविड प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन करने के अलावा यहां कुछ तरीके दिए गए हैं, जिनसे आप अपनी प्रतिरक्षा प्रणाली को एक्टिव कर सकते हैं। हमें यह समझना होगा कि इम्यूनिटी एक दिन या एक सप्ताह में मजबूत नहीं हो सकती।

Symptoms of weak immunity: कमजोर इम्युनिटी के खतरनाक लक्षण

जिस व्यक्ति के शरीर की इम्युनिटी कमजोर होती है, उसके अंदर निम्न लक्षण दिख सकते हैं. जैसे

सर्दी-जुकाम या खांसी — सर्दी-जुकाम या खांसी होना रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने का सबसे आम लक्षण है. क्योंकि, इम्युनिटी कमजोर होने से शरीर बैक्टीरिया व वायरस के खिलाफ ढंग से लड़ नहीं पाता और बार-बार बीमार पड़ने लगता है. इस बीमारी में सर्दी-जुकाम होना सबसे आम है.

ठंडे हाथ रहना — एक्सपर्ट्स के मुताबिक, हाथ ठंडे रहने के पीछे कई वजहों में से एक कमजोर इम्यून सिस्टम भी होता है. जिसके कारण नसों में सूजन आ जाती है और उनमें ढंग से ब्लड फ्लो नहीं हो पाता है. ऐसे में स्किन पीली पड़ने लगती है और हाथ ठंडे रहने लगते हैं.

पेट की दिक्कतें — इम्यून सिस्टम कमजोर होने के कारण पेट से जुड़ी दिक्कतें भी हो सकती हैं. जिन लोगों को लो-इम्युनिटी की परेशानी होती है, उन्हें बार-बार कब्ज, डायरिया, पेट दर्द आदि दिक्कतों से जूझना पड़ सकता है. क्योंकि, शरीर पेट में पहुंचे हानिकारक सूक्ष्मजीवों से ढंग से लड़ नहीं पाता है.


थकान रहना — इम्युनिटी कम होने के कारण शरीर में हरदम थकावट रहती है. क्योंकि, कमजोर इम्यून सिस्टम कई बार हेल्दी ब्लड सेल्स को नष्ट कर देता है. जिसके कारण शरीर में खून की कमी व एनीमिया हो सकता है. यह खून की कमी सिरदर्द, थकान, सांस फूलने जैसी समस्याओं का कारण बन सकती है.

Immunity booster tips: इम्युनिटी बढ़ाने के आसान तरीके

शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता या इम्युनिटी बढ़ाने के लिए निम्नलिखित टिप्स को जरूर अपनाएं. ताकि ओमिक्रॉन जैसे वायरस से भी बचे रह सकें. वहीं, बच्चों में इम्युनिटी (how to improve immunity in kids) कम होती है, जिस कारण उन्हें भी ये तरीके सीखाएं.

यह आहार और जीवनशैली में बदलाव के लिए लाइफलांग कमिटमेंट है। तो आए जानते हैं तीसरी लहर से बचने के लिए अपनी जीवनशैली में क्या-क्या बदलाव किए जा सकते हैं।

शरीर को हमेशा तर रखें – शरीर के अंग ठीक तरह से तब ही काम कर सकते हैं, जब शरीर में पानी की अच्छी मात्रा मौजूद हो। चूंकि सर्दियों के मौसम में प्यास जरा कम लगती है, ऐसे में हममें से बहुत लोग कम पानी पीने की गलती कर बैठते हैं, लेकिन याद रखें भले ही हाइड्रेशन सीधे तौर पर आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली से जुड़ा न हो, लेकिन यह आपके शरीर को ठीक से काम करने में सक्षम बनाता है इसलिए सर्दी के मौसम में भी पानी पीते रहें।

​हेल्थ चेकअप जरूर करवा लें – इम्यूनिटी को स्ट्रांग बनाने के लिए अपने शरीर पर ध्यान देना बहुत जरूरी है। शरीर में विटामिन डी, कैल्शियम, आयरन का स्तर जांचने के लिए हेल्थ चेकअप जरूर कराएं। खराबी मिलने पर आप इसके अनुसार इलाज करें और उसी के अनुसार अपनी डाइट प्लान करें।

​तनाव से दूर रहें – तनाव सीधे तौर पर आपके इम्यून फंक्शन से जुड़ा है। कई अध्ययनों में यह बात साबित हुई है कि तनाव के स्तर में वृद्धि और चिंता आपके शरीर की इम्यूनिटी को कमजोर करने का कारण बनती है। इसलिए घबराएं नहीं और ऐसी एक्टिविटीज में शामिल होने की कोशिश करें, जो तनाव कम करने में आपकी मदद कर सकें।

​अपनी नींद खराब न करें – खराब नींद का असर आपकी इम्यूनिटी पर पड़ सकता है। कई अध्ययनों से पता चला है कि नींद का सीधा संबंध इम्यून सिस्टम से होता है। इसलिए यदि आप ठीक से सो नहीं रहे हैं, तो इसे ठीक करने के उपाय करें। यदि इसके बाद भी आपको नींद नहीं आती, तो आपको ज्यादा देर तक न करते हुए डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।रात में बेहतर नींद के लिए ट्राय करें काजू का दूध, इस देसी नुस्‍खे से 2 मिनट में आ जाएगी गहरी नींद

​हेल्‍दी चीजों का सेवन करें – फल, सब्जियां, नट्स, फलियां, बीज जैसे खाद्य पदार्थ पोषक तत्वों से भरपूर हैं। ये सभी आपके शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाने में मदद करेंगे। दरअसल, इन खाद्य पदार्थों में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट सूजन को कम करने का काम करते हैं। इतना ही नहीं यह कई स्वास्थ्य स्थितियों से जुड़ी पुरानी सूजन को भी रोकने में मददगार हैं।

​आलस को कहें गुड बाय और एक्‍टिव रहें – पिछले कुछ महीनों में लोगों ने बिना किसी गाइडेंस के हैवी वर्कआउट किया है और इसके दुष्प्रभाव भी देखे हैं। यही कारण है कि अब कई डॉक्टर्स लोगों को हार्ड वर्कआउट रूटीन को शुरू करने से पहले उनसे सलाह लेने के लिए कह रहे हैं। डॉक्टर्स का कहना है कि सुरक्षित रहने के लिए आप मॉडरेट एक्सरसाइज करें और पूरे दिन फिजिकली एक्टिव रहें। जितना हो सके, उतना चलें। इससे प्रतिरक्षा में सुधार होगा।

यह भी पढ़े : Immunity Booster : कोरोना वायरस के खिलाफ Immunity Boost के टिप्स

​आयुर्वेद पर विश्‍वास जगाएं – तीसरी लहर आए या नहीं, लेकिन इम्यूनिटी को स्ट्रांग बनाए रखना आपकी जिम्मेदारी है। इम्यूनिटी अच्छी है, तो आप किसी भी संक्रमण से बचे रहेंगे। आप इसके लिए आयुर्वेद का सहारा ले सकते हैं। अपने नियमित आहार में इम्यूनिटी बूस्टर जैसे अश्वगंधा और गिलोय को शामिल करें। इसके अलावा दिन में एक बार तुलसी की चाय बनाकर पीएं और एक बार गर्म पानी के गरारे करें।

हमें भूलना नहीं चाहिए कि कोरोना अभी भागा नहीं है, इसलिए कोरोना प्रोटोकॉल को फॉलो करें और अपनी जीवनशैली में यहां बताए गए छोटे-छोटे बदलाव करके प्रतिरक्षा को मजबूत बनाएं

  • हाथों की साफ-सफाई का ध्यान रखें.
  • दिन में दो बार दांतों को साफ करें.
  • ताजे फल व हरी सब्जियां खाएं.
  • शारीरिक गतिविधि ज्यादा से ज्यादा करें.
  • पर्याप्त नींद लें.
  • तनाव मैनेज करें.
  • बीमार व्यक्तियों से उचित दूरी बनाएं व मास्क, हैंड सैनिंटाइजर जैसे सेफ्टी तरीके अपनाएं.
  • डॉक्टर से सलाह लेकर जरूरी टीके लगवाएं.

डिस्क्लेमर: यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

Leave a Reply