सरकार ने OTT कंटेंट को सेंसर करने के लिए गाइडलाइन बनाई, आपत्तिजनक अंशों को हटायेंगी

न्यूज़

देर से ही सही पर सरकार की आँखे खुली है और अब वह पहली बार, OTT प्लेटफार्मों पर दिखाए जाने वाले Content से उन आपत्तिजनक अंशों को हटायेंगी जो किसी की भावनाओं को ठेस पहुँचाने की संभावना रखते है।

Advertisement

अब भारत में भी OTT तेजी से लोकप्रिय हो रहा है दिन प्रतिदिन OTT प्लेटफार्म  के यूजर बढ़ते ही जा रहे है। साथ ही OTT प्लेटफार्म पर दिखायी जाने वाली सामग्री को लेकर भी विवाद बढे है। गालियाँ, सेक्स, हिंसा, और हिन्दू देवी देवताओ को गलत तरीके से दिखाने को लेकर लोग लगातार OTT प्लेटफार्म पर लगाम लगाने की मांग कर रहे थे।

सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को चाइल्ड पोर्नोग्राफी, रेप, गैंगरेप से जुड़े कंटेंट को डिजिटल प्लेटफॉर्म्स से हटाने के लिए गाइडलाइन बनाने के निर्देश  2018 में ही दिए थे। 

Bollywood  पर कई सारे आरोप लगते रहे है Nepotism उनमें से एक है। Nepotism और एक जैसी फिल्मो से ऊब चुके दर्शक मनोरंजन के लिए  OTT प्लेटफार्म का रुख कर रहे है।

पर जिस तरह से गालियाँ,  Adult content, हिंसा दर्शको को परोसी जा रही है वह बेहद शर्मनाक है।

OTT प्लेटफार्म अपनी जिम्मेदारी के नाम पर एक Disclaimer देकर अपनी जिम्मेदारी से बचते नजर आते है यह Disclaimer भी उनके द्वारा किसी भी तरह की कानूनी कारवाही से बचने का जरिया होता है क्योकि उनको इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता है की उनके द्वारा प्रसारित Content का समाज पर क्या असर पड़ेगा उनको तो केवल पैसे कमाने से मतलब है।

आप अपने बच्चों को OTT प्लेटफार्म द्वारा परोसे जा रही हिंसा, Adult content, गलियों से बचाने के लिए Parental controls का इस्तेमाल कर सकते है और बच्चे द्वारा देखे जा रहे कंटेंट पर नजर रख सकते है।

अपने बच्चो के साथ समय बिताये और उनको Educational कहानी की किताबे पढ़ने को दे। हम या तो देखकर सीखते है या पढ़ कर और पढ़ कर सिखने के लिए किताबे एक अच्छा माध्यम है।  

अगर आप नए OTT Guidelines को विस्तार पूर्वक पढ़ना चाहते है यहां क्लिक करे

Leave a Reply