Benefits Of Eating Raw Paneer In Daily | Paneer khane ke fayde in hindi | Paneer has many benefits | Indian cottage cheese in hindi | Health Benefits of Paneer in Hindi | कच्चे पनीर के फायदे

हेल्थ
Health Benefits of Paneer
Health Benefits of Paneer

Table of Contents

Benefits Of Eating Raw Paneer In Daily | Paneer khane ke fayde in hindi | Paneer has many benefits | Indian cottage cheese in hindi | Health Benefits of Paneer in Hindi | कच्चे पनीर के फायदे

पनीर क्या है? – What is cottage cheese in Hindi

panira : यह (panira)भारत में लोकप्रिय डेयरी उत्पाद में से एक है। इसे कई तरह के दूध से तैयार किया जाता है, जैसे – गाय का दूध, भैंस का दूध, सोया दूध और बकरी का दूध। पनीर को पोषक तत्वों का खजाना माना जाता है, इसमें प्रोटीन, कैल्शियम, फास्फोरस, विटामिन-ए व डी होता है । इसे अंग्रेजी में कॉटेज चीज़ (cheese)या सॉफ्ट चीज़ भी कहते हैं।

Advertisement

पनीर (Indian cottage cheese) एक दुग्ध-उत्पाद है। यह चीज़ (cheese)का एक प्रकार है जो भारती में खूब उपयोग किया जाता है। भारत में पनीर का प्रयोग सीमित मात्रा में ही होता है। कश्मीर आदि जैसे ठंढे प्रदेशों में अपेक्षाकृत अधिक पनीर खाया जाता है।

पनीर के फायदे – Health Benefits of Paneer in Hindi

पनीर के फायदे एवं गुण की बात करें तो यह पोषक तत्वों का भंडार माना जाता है। पनीर सामान्य से लेकर गंभीर शारीरिक समस्याओं में लाभकारी हो सकता है। हालांकि, हम यह स्पष्ट है कि पनीर किसी बीमारी का संपूर्ण इलाज नहीं है, यह सिर्फ समस्याओं से बचाव और उनके प्रभाव को कुछ हद तक कम करने में उपयोगी हो सकता है :

Paneer khane ke fayde: स्वस्थ रहने के लिए आपको हेल्दी नाश्ता करना जरूरी होता है. अगर आप नाश्ते में तला भुना खाने से बचना चाहते हैं तो पनीर आपके लिए अच्छा विकल्प है. पनीर एक हाई प्रोटीन डाइट है. इसलिए नाश्ते में पनीर खाने से आप दिनभर एनर्जी फील करेंगे. पनीर खाने से लंबे समय तक भूख नहीं लगती, क्योंकि इसे पचाने में काफी समय लगता है

पनीर से कई फायदे मिलते हैं (Paneer has many benefits)

ब्रेकफास्ट में पनीर खाने का एक और फायदा है कि इससे आपकी हार्ट हेल्थ सुधरती है. पनीर में मिलने वाले आयरन, कैल्शियम और मैग्नीशियम आदि मिनरल्स ना केवल शरीर का पोषण करते हैं. बल्कि, इसके हेल्दी फैट्स शरीर में बैड कोलेस्ट्रॉल को कम करते हैं और गुड कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ाता है. जिससे, दिल की बीमारियों का खतरा कम होता है.

कच्चा पनीर खाने के फायदे ( benefits of eating raw paneer)

सेहत के लिए क्यों जरूरी है पनीर (Why cheese is important for health)
पनीर में विटामिन डी भरपूर मात्रा में पाया जाता है, जो हमारी बॉडी के लिए बेहद उपयोगी है. इसके इस्तेमाल से कोलेस्ट्रॉल और ब्लड प्रेशर नॉर्मल रहता है. शुगर के मरीजों के लिए ये बेस्ट डाइट है. इसमें मौजूद कैल्शियम,प्रोटीन,फॉस्फोरस,फोलेट जैसे न्यूट्रीएंट्स प्रेग्नेंट लेडी और बच्चे की हेल्थ बेहतर रखते हैं.

health benefits of paneer

दांत और हड्डियों की मजबूती के लिए पनीर- बढ़ती उम्र के साथ दांत और हड्डियों का ध्यान रखना भी जरूरी होता है, क्योंकि उम्र बढ़ने के साथ-साथ ये कमजोर होने लगते हैं। ऐसे में दांत व हड्डियों को स्वस्थ रखने के लिए कैल्शियम जरूरी पोषक तत्वों में से एक है

प्रोटीन के लिए पनीर – शरीर के लिए प्रोटीन जरूरी पोषक तत्व माना जाता है। प्रोटीन शरीर को न सिर्फ ऊर्जा देता है, बल्कि मांसपेशियों के लिए भी महत्वपूर्ण होता है। साथ ही प्रोटीन वजन को संतुलित रखने में भी सहायक हो सकता है । ऐसे में प्रोटीन युक्त आहार की बात करें, तो कॉटेज चीज़ यानी पनीर अच्छा विकल्प हो सकता है।

यह भी पढ़े : Nakli Paneer kaise banta hai | Paneer banane ka method | मिलावटी पनीर कैसे बनाया जाता है ?

Paneer khane ke fayde
Paneer khane ke fayde

पाचन तंत्र के लिए पनीर – पनीर पाचन तंत्र के लिए लाभकारी भी हो सकता है। पाचन को ठीक करने के लिए कई बार प्रोबायोटिक की जरूरत पड़ती है। प्रोबायोटिक्स सूक्ष्मजीव होते हैं, जिनका सेवन फर्मेंटेड खाद्य पदार्थों या सप्लीमेंट्स के जरिए किया जा सकता है।

इन्हीं प्रोबायोटिक्स में लैक्टोबैसिलस नाम का एक बैक्टीरिया होता है, जिसे स्वास्थ्य के लिए अच्छे बैक्टीरिया की श्रेणी में रखा गया है। यह बैक्टीरिया पेट और पाचन के लिए लाभकारी हो सकता है । यह बैक्टीरिया पनीर में भी पाया जाता है

डायबिटीज में सहायक – डायबिटीज की समस्या से परेशान रहने वाले लोगों में डाइट को लेकर काफी उलझन रहती है। ऐसे में डायबिटीज के मरीज डाइट में पनीर को बेझिझक शामिल कर सकते हैं। हालांकि, कई बार डॉक्टर भी मधुमेह मरीजों को पनीर खाने की सलाह देते हैं

वजन कम करने के लिए पनीर – पनीर के फायदे के इस लेख में अब बात करते हैं वजन कम करने के लिए पनीर के फायदे की। पनीर वजन कम करने में सहायक हो सकता है। दरअसल, पनीर प्रोटीन का एक अच्छा स्त्रोत है। प्रोटीन वजन नियंत्रण में मदद कर सकता है, क्योंकि प्रोटीन युक्त आहार के सेवन के बाद काफी देर तक व्यक्ति को पेट भरा हुआ महसूस हो सकता है, जिस कारण बार-बार भूख नहीं लगती

मूड को बेहतर करने के लिए पनीर – पनीर में ट्राइटोफैन नामक प्रोटीन पाया जाता है, जो सेरोटोनिन नामक केमिकल में बदल जाता है। यह व्यक्ति के मूड में बदलाव के लिए जरूरी केमिकल होता है, जो खाद्य पदार्थों से ही प्राप्त हो सकता है। ऐसे में मूड को बेहतर करने के लिए पनीर का सेवन ओट्स के साथ किया जा सकता है

डिप्रेशन से बचाव के लिए पनीर – अगर तनाव को कम करना हो, तो स्वस्थ खाना मददगार साबित हो सकता है। एक संतुलित आहार अवसाद की परेशानी से कुछ हद तक बचाव कर सकता है । ऐसे में पनीर को डाइट में शामिल करना अच्छा विकल्प हो सकता है

ऑस्टियोपोरोसिस के जोखिम को कम करे – पनीर का सेवन हड्डियों के लिए भी लाभकारी हो सकता है। दरअसल, कैल्शियम की कमी से ऑस्टियोपोरोसिस नामक हड्डी के रोग का जोखिम बढ़ सकता है । ऐसे में इसके जोखिम को कम करने के लिए कैल्शियम युक्त पनीर का सेवन उपयोगी हो सकता है ।

हालांकि, सीधे तौर पर अभी इससे जुड़े शोध की आवश्यकता है, लेकिन मान सकते हैं कि पनीर में मौजूद कैल्शियम हड्डियों को स्वस्थ रखने में सहायक हो सकता है। बता दें, ऑस्टियोपोरोसिस की समस्या में हड्डियां पतली व कमजोर होने लगती है । साथ ही हड्डियों के टूटने का जोखिम भी बढ़ जाता है

गर्भवती महिलाओं के लिए लाभदायक – गर्भावस्था के दौरान प्रोटीन व आयरन जैसे पोषक तत्व जरूरी होते हैं। ऐसे में पोषक तत्वों से भरपूर पनीर गर्भवती के लिए लाभकारी हो सकता है । तो गर्भवती आधे से एक कप तक पनीर डाइट में शामिल कर सकती हैं । हालांकि, इसकी मात्रा गर्भवती की शारीरिक स्थिति के अनुसार अलग-अलग हो सकती है।

इस बात का ध्यान रहे कि गर्भवती जिस पनीर का सेवन कर रही हों वो पॉश्चरीकृत दूध से बना हो, क्योंकि अनपॉश्चरीकृत दूध से बने पनीर में हानिकारक बैक्टीरिया होते हैं, जो गर्भवती महिलाओं में गर्भपात का कारण बन सकते हैं

रोग-प्रतिरोधक क्षमता में सहायक – प्रोटीन न सिर्फ मांसपेशियों के लिए लाभकारी है, बल्कि इम्यूनिटी के लिए भी जरूरी है। शोध की मानें तो कम वसा वाले दूध व दूध से बने उत्पाद इम्यूनिटी बूस्ट करने में सहायक हो सकते हैं। ऐसे में माना जा सकता है कि पनीर का सेवन इम्यूनिटी के लिए प्रभावकारी हो सकता है।

यह भी पढ़े : Health Tips: पनीर खाने के फायदे और नुकसान एवंनकली पनीर की पहचान

पनीर खाने के नुकसान – Side Effects Of Eating Paneer in Hindi

  • किसी भी चीज के अधिक सेवन से उसके दुष्प्रभाव भी हो सकते हैं। ठीक उसी तरह पनीर के फायदे तो कई हैं, लेकिन अधिक उपयोग से कुछ नुकसान भी हो सकते हैं। ऐसे में अत्यधिक सेवन से पनीर के नुकसान क्या हो सकते हैं, इसकी जानकारी हम नीचे दे रहे हैं:
  • जिन्हें लैक्टोज इंटॉलेरेंस की समस्या है, उनके लिए पनीर का सेवन एलर्जिक हो सकता है। हालांकि, पनीर में कम मात्रा में लैक्टोज होता है, लेकिन फिर भी सावधानी के तौर पर कम सेवन बेहतर है।
  • पनीर प्रोटीन का एक अच्छा स्त्रोत है, ऐसे में प्रोटीन का अधिक सेवन मितली, सिरदर्द, भूख में कमी व थकान की समस्या का कारण बन सकता है।
  • अनपॉश्चरीकृत दूध से बने पनीर का सेवन न करें, इसमें हानिकारक बैक्टीरिया होते हैं, जो गर्भवती महिलाओं में गर्भपात का कारण बन सकते हैं।
  • कुछ लोगों को दूध युक्त खाद्य पदार्थों से कील-मुंहासों की समस्या हो सकती है। ऐसे में पनीर का सेवन भी एक्ने का कारण बन सकता है ।
  • अत्यधिक पनीर का सेवन माइग्रेन और सिरदर्द का कारण बन सकता है
Benefits of Paneer
Benefits of Paneer

FAQ :

Q : पनीर और दही में से क्या ज्यादा हेल्दी है?

Ans : दोनों ही बेहतर हैं और दोनों के ही अपने-अपने फायदे हैं। अगर किसी को लैक्टोज इंटोलेरेंस है तो वे दही का सेवन कर सकते हैं। फिर भी ध्यान रहे कि लैक्टोज इंटोलेरेंस से परेशान रहने वाले लोग इनका सावधानी से या डॉक्टर से परामर्श के अनुसार ही करें।

Q : क्या पनीर खाने से वजन बढ़ता है?

Ans :पनीर वजन को कम करने या संतुलित रखने में सहायक हो सकता है। हालांकि, यह व्यक्ति के वर्तमान वजन और शारीरिक स्थिति पर भी निर्भर करता है। साथ ही संतुलित मात्रा में लो फैट पनीर का सेवन बेहतर हो सकता है।

Q : क्या पनीर शरीर को डिटॉक्सीफाई कर सकता है?

Ans : पनीर में फास्फोरस होता है । ऐसा माना जाता है कि फास्फोरस शरीर को डिटॉक्सीफाई कर सकता है। हालांकि, इस संबंध में अभी शोध की आवश्यकता है।

Q : 1 किलो दूध में कितना पनीर बनता है?

Ans :1किलो (1000 ml) दूध में 300-330 ग्राम पनीर निकलता है ।

Q : पनीर में नमी कितनी होती है?

Ans : पनीर में नमी की मात्रा 36 से 40 प्रतिशत तक पायी जाती है।

Q : पनीर खाने से क्या नुकसान है?

Ans :पनीर का ज्यादा सेवन सेहत के लिए हानिकारक भी साबित हो सकता है. शरीर में प्रोटीन की ज्यादा मात्रा होने से दस्त की समस्या हो सकती है.

Q : पनीर और सामान्य चीज़ में कौन ज्यादा बेहतर है?

Ans : दोनों ही अपनी-अपनी जगह हेल्दी हैं और दोनों के ही अपने फायदे हैं। यह व्यक्ति की जरूरत और स्वास्थ्य स्थिति पर निर्भर करता है कि वो किसका सेवन करना चाहता है।

Q : किसी प्रकार का पनीर ज्यादा बेहतर हो सकता है?

Ans : लो फैट पनीर बेहतर हो सकता है।

Q : पनीर के लिए एक अच्छा विकल्प क्या हो सकता है?

Ans : पनीर के विकल्प के तौर पर कई अन्य खाद्य पदार्थों का सेवन भी किया जा सकता है जैसे: अंडे का सफेद भाग, टोफू, दही।

Q : सुबह खाली पेट पनीर खाने से क्या होता है?

Ans: नहीं, पनीर के अधिक सेवन से इसके नुकसान भी हो सकते हैं, ऐसे में इसका हर रोज सेवन करने से बचें।
क्या पनीर हर रोज खा सकते हैं?

Q :क्या पनीर में फैट होता है?

Ans : हां, पनीर में फैट और प्रोटीन होता है

Q : क्या खाने में पनीर को शामिल करना स्वस्थ है?

Ans : हां, पनीर एक पोषक तत्वों से भरपूर खाद्य पदार्थ है। इसलिए, डाइट में पनीर को शामिल करना अच्छा विकल्प हो सकता है।

Q : एक दिन में कितना पनीर खा सकते हैं?

Ans : एक दिन में एक छोटी कटोरी पनीर की सब्जी खाई जा सकती है। अगर क्यूब्स की बात की जाए तो 4-5 पनीर के छोटे क्यूब का सेवन किया जा सकता है। हालांकि, यह व्यक्ति की उम्र और शारीरिक स्थिति पर भी निर्भर करता है। ऐसे में बेहतर है कि इस बारे में आप डॉक्टर या डायटीशियन की सलाह लें।

Leave a Reply