Pineapple benefits and side effects in hindi | Ananas ke fayde aur nuksan in hindi | पाइनएप्पल जूस के फायदे और नुकसान | अनानास के फायदे

हेल्थ
Pineapple benefits and side effects
Pineapple benefits and side effects

Pineapple benefits and side effects in hindi | Ananas ke fayde aur nuksan in hindi | पाइनएप्पल जूस के फायदे और नुकसान | अनानास के फायदे
Advertisement

Pineapple : अन्य फलों की तुलना में अनानास का स्वाद अलग होता है। यही कारण है कि लोग अनानास को बहुत ही पसंद से खाते हैं। गर्मी और बारिश के मौसम में अधिक मिलने वाला अनानास कई तरह के पोषक तत्वों से भरपूर होता है। अनानास में विटामिन सी अधिक होता है,

अनानास (Pineapple)की तासीर ठंडी होती है, ऐसे में गर्मी के मौसम में इस फल को खाने या जूस पीने से शरीर को अंदर से ठंडक मिलती है। इसमें मौजूद अन्य पोषक तत्वों की बात करें, तो यह बीटा-कैरोटिन, फॉस्फोरस, पोटैशियम, फॉलिक एसिड, कैल्शियम, मैग्नीशियम से भरपूर होता है, साथ ही इसमें वसा की मात्रा कम होती है।

आयुर्वेद में अनानास के गुणों के बारे में बहुत ही उत्तम बातें लिखी गई हैं। खाने में रसीला और सेहत से भरपूर अनानास अपने आप में गुणों का खजाना है।अपच, पेट में कीड़े, बुखार, यौन रोग, पीलिया सहित कुष्ठ रोग में अनानास से लाभ पा सकते हैं।

अनानास क्या है? (What is Pineapple in Hindi?)

अनानास एक खट्टा-मीठा फल है, जिसे ए. सैटिवस(A. sativus), एनानासा सैटिवा (Ananassa sativa), ब्रोमेलिया एनानास (Bromelia ananas), बी. कोमोसा (B. comosa) आदि नामों से जाना जाता है। अनानास ब्रोमोलिसियाए प्रजाति का प्रमुख फल है, जो फिलीपींस, थाईलैंड, इंडोनेशिया, मलेशिया, केन्या, भारत और चीन सहित कई उष्णकटिबंधीय देशों में उगाया जाता है।

अनेक संस्कृतियों ने इसे औषधीय पौधा माना है। अनानास के इन औषधीय गुणों के लिए ब्रोमेलेन (Bromelain) नामक तत्व को जिम्मेदार ठहराया जाता है, जो अनानास का अर्क है। ब्रोमेलेन एक प्रकार का डाइजेस्टिव एंजाइम है जो कि प्रोटीन के डाइजेशन में मदद कर सकता है।

अनानास भूख को बढ़ाने, शक्तिवर्धक, रक्त-पित्त विकार में लाभ पहुंचाने वाला फल है। यह बुखार को कम करता है, कम पेशाब होने की समस्या में लाभ पहुंचाता है। पेट की गैस, दर्द, एसिडिटी और शारीरिक कमजोरी को दूर करता है। इसका पका फल रक्त स्त्राव से जुड़े रोगों को दूर (ananas ke fayde) करता है।

अनानास के फायदे – Benefits of Pineapple in Hindi

हड्डियों के लिए अनानास के फायदे – हड्डियों को लंबे समय तक मजबूत रखने के लिए खानपान में अनानास को शामिल किया जा सकता है। इसमें मैंगनीज होता है, जो हड्डियों को मजबूत रखने के लिए एक जरूरी खनिज माना जाता है।

स्किन के लिए फायदेमंद – त्वचा से संबंधित समस्याओं से परेशान हैं, तो अनानास खाएं या इसका जूस पिएं। मुंहासों के साथ ही इससे होने वाले दाग-धब्बों को भी कम करता है। अनानास जूस में मौजूद पोषक तत्व स्किन से डेड सेल्स को कम करते हैं, जिससे त्वचा पर निखार आता है।

वजन कम करने में सहायक हो सकता है अनानास – वजन कम करने में अनानास का रस सहायक हो सकता है। चूहों पर की गई स्टडी में पाया गया है कि अनानास का रस एंटी-ओबेसिटी तत्व की तरह काम कर सकता है। इसके सेवन से लिपोजेनेसिस (lipogenesis – वसा बनने की चयापचय प्रक्रिया) में कमी आ सकती है और लिपोलिसिस (lipolysis – फैट और अन्य लिपड टूटने की प्रक्रिया) में वृद्धि हो सकती है। अनानास के रस में पाया जाने वाला यह गुण वजन कम करने में सहायक हो सकता है

सर्दी-जुकाम में अनानास के फायदे- सर्दी और जुकाम में भी अनानास के सेवन के फायदे देखे जा सकते हैं। गले और नाक से जुड़ी स्वास्थ्य समस्या कैटर (Catarrh-सर्दी-जुकाम) के लक्षणों से यह राहत दे सकता है। इस समस्या में म्यूकस मेंब्रेन में सूजन आ जाती है और अधिक बलगम जमने लगता है। अनानास में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो इस समस्या से राहत दिलाने में मदद कर सकते हैं

बालों के लिए अनानास के फायदे – जैसा कि अभी लेख में ऊपर बताया गया है कि अनानास में सल्फर के कुछ यौगिक मौजूद होते हैं, इसलिए यह त्वचा के साथ- साथ बालों के लिए भी फायदेमंद हो सकता है। विशेषज्ञों का मानना है कि बालों की ऊपरी परत और नाखून केराटीन से बने होते हैं, यह एक मजबूत प्रोटीन होता है, जो लचीले सल्फर यौगिकों से बना होता है। ऐसे में, माना जा सकता है कि सल्फर युक्त अनानास इस प्रोटीन (केराटीन) का निर्माण करने में मददगार हो सकता है और बालों को सुंदर व मजबूत बना सकता है

Ananas ke fayde aur nuksan
Ananas ke fayde aur nuksan

अनानास के नुकसान – Side Effects of Pineapple in Hindi

  • इसमें कोई दो राय नहीं है कि अनानास के अनेक फायदे हैं, लेकिन अधिक सेवन से इसके कुछ नुकसान भी देखे गए हैं।
  • अनानास का सेवन करने से कई बार कुछ लोगों को एलर्जी हो जाती है और इससे खुजली, दस्त, उल्टी और पेट दर्द की समस्या हो सकती है।
  • इसके अलावा, अनानास खाने से कुछ लोगों के मुंह में खुजली, जीभ में सूजन, खांसी और डिस्फेगिआ (dysphagia-निगलने में परेशानी) जैसी समस्या भी हो सकती है
  • अनानास में अबोर्टिफैसियंट (abortifacient) गर्भपात कराने वाला गुण होता है, इसलिए गर्भावस्था में इसका सेवन न करना बेहतर है।
  • चीकू,आम और पपीते की तरह ही अनानास का सेवन ब्लड शुगर के स्तर को बढ़ा सकता है। ऐसे में, डायबिटीज के मरीजों को इससे परहेज करना चाहिए या बहुत कम मात्रा में सेवन करना चाहिए

अनानास का सेवन कब करें?

अगर किसी व्यक्ति का स्वास्थ्य सही है, तो वह अनानास का सेवन कभी भी कर सकता है। जैसा कि इस लेख में बताया गया है कि अनानास का सेवन करने से पाचन क्षमता में सुधार हो सकता है। ऐसे में इसका सेवन खाना खाने के बाद किया जा सकता है। इसके अलावा, सुबह नाश्ते के दौरान अनानास के जूस का सेवन किया जा सकता है, वहीं अनानास का सेवन हेल्दी स्नैक्स के रूप में कभी भी कर सकते हैं।

अनानास का सेवन कितनी मात्रा में करना सही है?

फलों के सेवन की दैनिक मात्रा उम्र, लिंग और शारीरिक गतिविधि के स्तर पर निर्भर करती है। प्रत्येक व्यक्ति दिन में 1 से 2 कप फलों का सेवन कर सकता है । अगर अनानास की बात की जाए तो स्वस्थ व्यक्ति दिन भर में 1 कप कटे हुए अनानास का सेवन कर सकता है।

अनानास कहां पाया या उगाया जाता है?

अनानास फल भारत में पश्चिम बंगाल, मेघालय, असम, ओडिशा, पश्चिमी घाट, महाराष्ट्र, गोवा, कर्नाटक में पाया जाता है। यह केरल के समुद्री तटों तथा अण्डमान द्वीपसमूह में प्रचुर मात्रा में उगाया जाता है। अनानास ब्राजील में पाया जाने वाला एक जंगली पौधा है।

Leave a Reply