andolanjivi : पीएम मोदी ने कहा देश में नई जमात पैदा हुई है’आंदोलनजीवी’ देश को इन परजीवियों से बचने की जरूरत

Top News
Pm used a new jamaat of andolanjivi in india who are present in every protest
Advertisement
Pm used a new jamaat of andolanjivi in india who are present in every protest

#andolanjivi : पीएम मोदी ने कहा देश में नई जमात पैदा हुई है‘आंदोलनजीवी’ देश को इन परजीवियों से बचने की जरूरत

पीएम मोदी ने राज्यसभा में अपने संबोधन के दौरान कई मुद्दों पर अपनी बात रखी। पीएम ने विपक्ष पर जमकर तंज कसा। इस दौरान पीएम ने एक ऐसा शब्द कहा जो अब सोशल मीडिया में ट्रेंड कर रहा है,

Pm used a new jamaat of andolanjivi in india are present in every protest

जो है आंदोलनजीवी (#andolanjivi) । उन्होंने कहा कि हमने बुद्धिजीवी सुना था, लेकिन देश में एक नया समुदाय आंदोलनजीवी पैदा हो गया है जो हर आंदोलन में दिखाई देता है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को राज्यसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव का जवाब देते हुए विपक्ष पर कई बार तंज कसा। पीएम ने कहा कि कुछ लोग किसानों को गुमराह करने की कोशिश कर रहे हैं।

पीएम मोदी ने कहा, ‘हम लोग कुछ शब्दों से बड़े परिचित हैं, जैसे श्रमजीवी, बुद्धिजीवी ये सभी शब्दों से परिचित हैं लेकिन पिछले कुछ समय से मैं देख रहा हूं कि देश में एक नई जमात पैदा हो गई है,

एक नई बिरादरी पैदा हुई है और ये आंदोलनजीवी। ये जमात आप देखोगे.. वकीलों का आंदोलन हैं वहां नजर आएंगे, स्टूडेंट का आंदोलन है वो वहां नजर आएंगे..मजदूरों का आंदोलन है वो वहां नजर आएंगे।

Pm used a new jamaat of andolanjivi in india who are present in every protest

कभी पर्दे के पीछे तो कभी पर्दे के आगे.. ये पूरी टोली है, जो आंदोलन जीवी है। यह आंदोलन के बगैर जी नहीं सकती हैं और आंदोलन के जरिए जीने के लिए रास्ते खोजते हैं। हमें ऐसे लोगों को पहचानना होगा।

ये हर जगह पहुंचकर गुमराह करते हैं. देश आंदोलनजीवी लोगों से सावधान बचे इसके लिए हम सबको.. वो खुद खड़ा नहीं कर सकते हैं चीजें. किसी का चल रहा हो तो जाकर बैठ जाते हैं वहां पर.. ये सारे आंदोलन जीवी परजीवी होते हैं।’

ने कहा कि कुछ लोग खासकर पंजाब के सिख भाईयों के दिमाग में गलत चीजें भरने में लगे हुए हैं, ये देश हर सिख के लिए गर्व करता है। कुछ लोग उनके लिए जो भाषा बोलते हैं, उनको गुमराह करने की कोशिश करते हैं

इससे कभी देश का भला नहीं होगा। उन्होंने कहा कि भारत को अस्थिर, अशांत करने के लिए कुछ लोग लगातार कोशिश कर रहे हैं हमें इन लोगों को जानना होगा।

आंदोलन के संबंध में बात करते हुए मोदी जी ने कहा कि किस बात को लेकर आंदोलन है उस पर सब मौन रहे। उन्होंने सलाह दी कि जो मूलभूत बात है, अच्छा होता कि उस पर भी चर्चा होती। उन्होंने पूछा कि खेती की मूलभूत समस्या क्या है, उसकी जड़ कहाँ है?

उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह को याद करते हुए कहा कि वो छोटे किसानों की दयनीय स्थिति पर हमेशा चिंता करते थे। पीएम मोदी ने सवाल दागा कि पहले की सरकारों की सोच में छोटा किसान था क्या? जब हम चुनाव आते ही एक कार्यक्रम करते हैं कर्जमाफी,

ये वोट का कार्यक्रम है या कर्जमाफी का ये हिन्दुस्तान का नागरिक भलीभाँति जानता है।मोदी जी ने कहा कि जब कर्जमाफी की जाती है, तो छोटा किसान उससे वंचित रहता है,

Pm used a new jamaat of andolanjivi in india are present in every protest

पीएम ने कहा: “पहली बार हमने किसान रेल की कल्पना की। छोटा किसान जिसका सामान बिकता नहीं था, आज गाँव का छोटा किसान रेल के माध्यम से मुंबई के बाजार में अपना सामान बेचने लगा,

इससे छोटे किसान को फायदा हो रहा है। ‘किसान उड़ान’ के द्वारा हवाई जहाज से जैसे हमारे नॉर्थ-ईस्ट की कितनी बढ़िया-बढ़िया चीजें जो ट्रांसपोर्ट सिस्टम के अभाव में वहाँ का किसान लाभ नहीं उठा पाता था,

Pm used a new jamaat of andolanjivi in india are present in every protest

आज उसे किसान उड़ान योजना का लाभ मिल रहा है। हर कानून में अच्छे सुझावों के बाद कुछ समय के बाद बदलाव होते हैं। इसलिए अच्छा करने के लिए अच्छे सुझावों के साथ, अच्छे सुधारों की तैयारी के साथ हमें आगे बढ़ना होगा।”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी को मिल कर चलने की सलाह दी और निमंत्रण दिया कि हम देश को आगे बढ़ाने के लिए, कृषि क्षेत्र के विकास के लिए, आंदोलनकारियों को समझाते हुए, हमें देश को आगे ले जाना होगा।

उन्होंने कहा कि हमें एक बार देखना चाहिए कि कृषि परिवर्तन से बदलाव होता है कि नहीं। कोई कमी हो तो उसे ठीक करेंगे, कोई ढिलाई हो तो उसे कसेंगे। साथ ही विश्वास दिलाया कि मंडियाँ और अधिक आधुनिक बनेंगी। उन्होंने कहा, “एमएसपी है, एसएसपी था और एमएसपी रहेगा।”

पीएम मोदी ने सभी को सदन की पवित्रता का ख्याल रखने की सलाह देते हुए आश्वासन दिया कि जिन 80 करोड़ लोगों को सस्ते में राशन दिया जाता है, वो भी लगातार रहेगा। उन्होंने कहा कि एक बड़े परिवार में ऐसा होता है कि शादी-ब्याह में फूफा नाराज़ हो जाते हैं कि हमें नहीं पूछा, नहीं बुलाया, लेकिन मिल-बैठ कर सभी समस्याएँ सुलझा ली जाती हैं। पीएम के इस बयान पर सदन में माहौल काफी हल्का हो गया।

Leave a Reply