Pulses in hindi | Pulses benefits in hindi | you can get by eating pulses everyday in hind | types of pulses in hindi | pulses food in hindi |dal khane ke fayde in hindi

हेल्थ

Table of Contents

pulses are the source of protein in hind | pulses benefits in hindi | you can get by eating pulses everyday in hind | types of pulses in hindi | pulses food in hindi | जानें, दाल खाने से होने वाले लाभ क्या-क्या होते हैं

pulses : भारत में हर घर में हर दिन दाल (Dal Ke Fayde) जरूर बनती है। कोई भी दाल हो यह स्वाद से भरपूर होने के साथ ही सेहत में भी गुणों से भरपूर होती है। सब जानते हैं कि दाल प्रोटीन, फाइबर और आयरन का महत्वपूर्ण स्रोत है। इसलिए हेल्दी जीवन के लिए आवश्यक है एक कटोरी दाल।दाल में सबसे ज्यादा प्रोटीन की मात्रा होती है। इसके सेवन से शरीर को ऊर्जा मिलती है।

Advertisement

ये भी पढ़ें : Pulses in hindi | Pulses benefits in hindi |

दालें (pulses) इस मायने में परफेक्ट हैं कि वे प्रोटीन और फाइबर जैसे पोषक तत्वों से भरपूर होती हैं। इनमें फोलेट, आयरन, पोटेशियम और जिंक सहित महत्वपूर्ण विटामिन और खनिज भी होते हैं। भले ही दालें वसा में अधिक न हों, लेकिन इसमें कोई आश्चर्य नहीं है

कि हमारी दादी-नानी के समय के पहले से भी रोजाना दाल (Dal Ke Fayde) खाने के लिए जोर दिया जाता था। आपकी एक कटोरी दाल में वो सभी महत्वपूर्ण पोषक तत्व, विटामिन और खनिज होते हैं जिनकी आपको स्वस्थ रूप से कार्य करने के लिए आवश्यकता होती है।

इसलिए आपको दाल (pulses) पसंद हो या ना हो, लेकिन भारतीय भोजन बिना दाल के अधूरा होता है। मसूर, उड़द, अरहर जैसी साधारण दाल (pulses)के अलावा राजमा और चना जैसी टेस्टी और फैंसी दालें घर में अक्सर पकाई जाती हैं। भले ही इसका स्वाद और पकाने का तरीका अलग होता है, लेकिन इनके फायदे हर घर में एक समान हैं।

दाल खाने के लाभ (pulses benefits in hindi) यहीं नहीं खत्म होते हैं। हर किसी को खासकर बच्चों को जरूर दिन में एक बार दाल खाने (pulses benefits in hindi) के लिए देना चाहिए। वैसे, दाल से आप सूप भी बना सकते हैं, लेकिन इसे लोग रोटी और चावल के साथ ज्यादा खाते हैं। कई तरह के दाल होते हैं और सभी में पौष्टिक तत्व भरपूर मात्रा में शामिल होते हैं। जानें, दाल खाने के लाभ Dal Ke Fayde (pulses benefits in hindi)

ये भी पढ़ें : प्रोटीन से भरपूर हैं प्राकृतिक खाद्य पदार्थ

pulses benefits in hindi | Dal Ke Fayde | दाल खाने के फायदे

दाल एनर्जी बूस्टर फूड : शरीर में ऊर्जा की कमी रहती है, तो दाल खाएं। दाल को एक एनर्जी बूस्टर फूड माना गया है। इसमें मौजूद फाइबर और आयरन शरीर की ऊर्जा के साथ-साथ रोग प्रतिरोधक की क्षमता को बढ़ाती है। दाल में मौजूद प्रोटीन, (Protein) आयरन और फोलेट के कारण, यह सुनिश्चित होता है कि

आपकी कोशिकाएं मरम्मत और नव निर्माण के लिए पर्याप्त रूप से स्वस्थ रहें। आयरन आपके एनीमिया के विकास के जोखिम को भी कम कर सकता है।दाल में सबसे ज्यादा प्रोटीन होता है। pulse प्रोटीन (Protein) का सबसे बड़ा स्रोत होता है। प्रोटीन शरीर के लिए जरूरी भी होता है, ताकि आपकी आंखें, त्वचा, बाल सभी हेल्दी रहें। ऐसे में दाल का सेवन करें।

ये भी पढ़ें : What is Diabetes in hindi | How many types of diabetes are there

दाल हृदय रोगों से बचाता है : दिल को स्वस्थ्य रखना है, तो नियमित रूप से पौष्टिक भोजन लेना जरूरी है। दाल उन्हीं पौष्टिक खाद्य पदार्थों में से एक है। फाइबर और मैग्नीशियम होने की वजह से दाल हृदय रोगों से बचाता है। इससे शरीर में ब्लड सर्कुलेशन अच्छा बना रहता है।

वजन रहता है संतुलित : दालें प्रोटीन (Protein) और फाइबर से भरपूर होती हैं। ये उन लोगों के लिए फायदेमंद हैं जो वेट लॉस करना चाह रहे हैं। लो फैट होने के कारण यह एक्स्ट्रा कैलोरी इंटेक को रोकती हैं। प्रोटीन, फाइबर, मिनरल और विटामिन से भरपूर दाल शरीर के बढ़ते चर्बी पर लगाम लगाता।

दरअसल, दाल में फैट नहीं होता, इसलिए इसे ज्यादा भी खाते हैं तो आपको नुकसान नहीं करेगा। रोजाना दाल खाने से आपको सही मात्रा में ऊर्जा और पोषण मिल सकता है, वो भी बिना कैलोरी जमा किए। यह आपके पेट को लंबे समय तक भरा हुआ रखती हैं। जो अनहेल्दी क्रेविंग से बचने में मदद करता है। इसका मतलब है कि दालों का सेवन आपकी भूख को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है और अधिक खाने से रोकता है।

ये भी पढ़ें : Chana Side Effects in Hindi चना दाल फायदे

दालें पेट कि समस्याएं दूर भगाते हैं : पेट में गैस, अपच, कब्ज या सीने में जलन रहती है, तो दाल खाएं। ये सभी समस्याएं दूर हो जाएंगी। ये सभी लक्षण खराब पाचन क्रिया के हैं, इसलिए जिन लोगों को दाल पसंद नहीं है, उन्हें भी इसे खाना शुरू कर देना चाहिए। इससे आपकी खराब पाचन क्रिया दुरुस्त होगी। इसमें घुलनशील फाइबर्स होते हैं, जो कब्ज की बीमारी को दूर भगाते हैं।

दालें खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करती हैं : बदलती जीवनशैली की वजह से हम खान पान पर ध्यान ही नहीं दे पाते, जिससे शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ जाती है। ऐसे में आपको दाल खाना चाहिए। इसमें मौजूद घुलनशील रेशे खराब कोलेस्ट्रॉल और रक्तचाप को कम करने में मदद करती हैं। हर रोज़ दालों का सेवन करने से यह भी सुनिश्चित हो सकता है कि आपका हृदय स्वस्थ रहता है। इससे हृदय रोगों के विकास के जोखिम को कम किया जा सकता है।

pulse side effects in hindi | Dal Khane Ke Nuksan In Hindi | दाल के नुकसान

प्रोटीन (Protein) से भरपूर दाल (Pulses) का सेवन स्वास्थ्य (Health) के लिए बेहद फायदेमंद होता है।लेकिन किसी भी वस्तु या खाद्य पदार्थ का अधिक उपयोग स्वास्थय के लिए नुकसानदायक हो सकता है। तो आइये जानते है दालों (Pulses)के अधिक उपयोग करने से क्या क्या नुकसान हो सकते है।

pulse side effects in hindi | Dal Khane Ke Nuksan In Hindi | दाल के नुकसान

  • दाल( Pulse) का अधिक मात्रा में सेवन करने से आंत से जुड़ी समस्याएं जैसे अपच, डिहाइड्रेशन, थकान, जी मिचलाना, चिड़िचड़ापन महसूस होना, सिरदर्द जैसी दिक्कतें हो सकती हैं। ..
  • आप अधिक मात्रा में दाल का सेवन करते हैं, तो इसका सीधा असर आपकी किडनी पर हो सकता है।
  • आप गाउट (Gout) की बीमारी से पीड़ित हैं, तो डॉक्टर से बिना पूछे दाल का सेवन नहीं करना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि दाल में प्यूरीन की मात्रा अधिक होती है, जो शरीर के लिए नुकसानदायक हो सकती है। ..

FAQ :

Q : सबसे पौष्टिक दाल कौन सी होती है?

Ans : दालों में सबसे पौष्टिक दाल, मूंग की होती है। इसमें विटामिन ए, बी, सी और ई की भरपूर मात्रा होती है। साथ ही पौटेशियम, आयरन, कैल्शियम की मात्रा भी मूंग में बहुत होती है। इसके सेवन से शरीर में कैलोरी भी बहुत नहीं बढ़ती है।

Q : गर्मी में कौन सी दाल खानी चाहिए? -Which Dal Is Good For Summer

Ans : गर्मी में आप मूंग दाल (Moong dal), मसूर दाल (Masoor dal in summer) और उदड़ दाल (Urad Dal) खाएं। ये सभी आसानी से पच जाता है और पारंपरिक रूप से पाचन तंत्र के काम काज को बेहतर बनाता है। साथ ही शरीर को ठंडक देते हैं और शरीर में जलन को कम करते हैं।

Q : कौन सी दाल में सबसे ज्यादा प्रोटीन होता है?

Ans : मूंग की दाल में सबसे ज्यादा प्रोटीन होता है। प्रोटीन की कमी पूरी करने का एक सस्ता साधन है क्योंकि मूंग की दाल प्रोटीन से भरपूर होती है। सिर्फ 100 ग्राम मूंग की दाल में करीब 24 ग्राम प्रोटीन पाया जाता है।

Q : एक कटोरी अरहर दाल में कितना प्रोटीन होता है?

Ans : एक कटोरी अरहर दाल में ( 100 ग्राम पकी हुई अरहर की दाल ) में करीब 5.92g प्रोटीन होता है।

Q : सबसे हल्की दाल कौन सी होती है?

Ans : मूंग दाल आपके लिए सबसे अच्छी है। ये दाल न सिर्फ कैलोरी में कम होती है बल्कि ये काफी हल्की भी होती है।

Q : दाल कितनी होती है?

Ans : अरहर , राजमा , उड़द , मसूर , मलका , मूंग , चना दाल , हरी मूंग , लोबिया आदि।

Q : दाल का महत्व

Ans : दाल एक एसा आहार है जो पौष्टिक के साथ-साथ स्वादिष्ट भी है। कोई भी भारतीय भोजन दाल के बिना अधूरा है। दालों मे फाइबर पाया जाता है जो रक्त में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कम करने मे मदद करता है, जो आपके दिल के लिए अच्छा होता हे। दाल प्रोटीन, विटामिन और खनिज के साथ-साथ आयरन, फोलेट, ज़िंक, मैग्नीशियम का एक महत्वपूर्ण स्रोत है।

Q : ज्यादा दाल पीने से क्या होता है?

Ans : दाल अगर आप ज्यादा खाते हैं तो इसका सीधा असर आपके गुर्दे पर होता है. आपके गुर्दे में पथरी होने का खतरा होता है. दाल खाने से गैस की समस्या भी होती है. इतना ही नहीं इसके इस्तेमाल से पेट से जुड़ी कई अन्य समस्याएं भी होती है

Q : दाल में कौनसा विटामिन होता है

Ans : दाल में ढेर सारा फाइबर, विटामिन B, मैग्नीशियम, जिंक और पोटैशियम पाया जाता है. ये सारे पोषक तत्व शरीर के लिए बहुत जरूरी हैं. प्रोटीन के किसी भी दूसरे माध्यम की तुलना में इसमें कम फैट होता है. इसके साथ ही ये खनिज, विटामिन, एंटी-ऑक्सीडेंट और पाचन क्रिया में मददगार फाइबर्स से युक्त होती हैं.

Q : सबसे ज्यादा ताकतवर दाल कौन सी होती है?

Ans : उड़द दाल प्रोटीन और विटामिन बी के सबसे समृद्ध स्रोतों में से एक है. फैट और कैलोरी में कम, उड़द की दाल आयरन, फोलिक एसिड, कैल्शियम, मैग्नीशियम और पोटैशियम में भी समृद्ध है

Q : रात में दाल खाने से क्या होता है?

Ans : रात को दाल खाने के नुकसान (pulses side effects)
गैस और एसिडिटी
अपच या इनडाइजेशन
पाचन क्रिया पर असर
पेट में दर्द

Q : सबसे गर्म दाल कौन सी होती है?

Ans : कुल्थी की दाल, मसूर की दाल आदि के सेवन से बचना चाहिए। क्योंकि इनकी तासीर बहुत गर्म होती है, इससे पेट में गर्मी बढ़ सकती है

Leave a Reply