राजीव कपूर का हार्ट अटैक से निधन,रणधीर कपूर ने किया कन्फर्म

Top News
Rajiv Kapoor Passed Away
Rajiv Kapoor Passed Away

राजीव कपूर का हार्ट अटैक से निधन (Rajiv Kapoor dies ), रणधीर कपूर उन्हें तुरंत हॉस्पिटल लेकर गए थे, लेकिन जब वह अस्पताल पहुंचे तो डॉक्टर्स ने उन्हें मृत घोषित कर दिया

Advertisement

बॉलिवुड से एक और दुखद खबर आई है. राज कपूर के सबसे छोटे बेटे राजीव कपूर का मंगलवार 9 फरवरी को हार्ट अटैक के बाद निधन (Rajiv Kapoor dies) हो गया है। राजीव कपूर 58 साल के थे। राजीव का जन्म 25 अगस्त 1962 को मुंबई में हुआ था। राजीव कपूर  केवल एक्टर नहीं  बल्कि प्रोड्यूसर और डायरेक्टर भी रह चुके हैं।

राजीव कपूर  ऐक्टर रणधीर कपूर और ऋषि कपूर के सबसे छोटे भाई थे। बताया जा रहा है कि रणधीर कपूर उन्हें तुरंत हॉस्पिटल लेकर गए थे, लेकिन जब वह अस्पताल पहुंचे तो डॉक्टर्स ने उन्हें मृत घोषित कर दिया ।

रणधीर कपूर ने इस दुखद खबर को कन्फर्म करते हुए कहा, ‘मैंने अपना सबसे छोटा भाई राजीव खो दिया है। वह अब इस दुनिया में नहीं हैं। डॉक्टरों ने उन्हें बचाने की पूरी कोशिश की मगर बचा नहीं सके। मैं अभी हॉस्पिटल में ही हूं और उनकी डेड बॉडी मिलने का इंतजार कर रहा हूं।’

नीतू कपूर ने भी इंस्टाग्राम पर राजीव कपूर की फोटो शेयर करते हुए उनके निधन की खबर को कन्फर्म किया है।

राजीव कपूर ने राज कपूर के डायरेक्शन में बनी फिल्म ‘राम तेरी गंगा मैली’ से अपनी पहचान बनाई थी । इसके बाद उन्होंने ऋषि कपूर के लीड रोल वाली फिल्म ‘प्रेम ग्रंथ’ का डायरेक्शन भी किया था। इसके साथ ही राजीव कपूर (Rajiv Kapoor) ने आसमान, लवर बाय, एक जान हैं हम, हम तो चले परदेस जैसी फिल्मों में काम किया था। उन्होंने 1999 में फिल्म आ अब लौट चलें को प्रोड्यूस किया था ।

घरवालों प्यार से ‘चिम्पू’ बुलाते थे

फिल्म अभिनेता राजीव कपूर (Rajiv Kapoor) राजकपूर के सबसे छोटे बेटे है, जिन्हें घरवाले प्यार से चिम्पू के नाम से भी बुलाते थे।

राम तेरी गंगा मैली के बाद राज कपूर बेटे राजीव कपूर के रिश्तों में कड़वाहट आ गई

राजीव कपूर (Rajiv Kapoor) ने राज कपूर (Raj Kapoor)के डायरेक्शन में बनी फिल्म ‘राम तेरी गंगा मैली’ से अपनी पहचान बनाई थी।बताया जाता है की राम तेरी गंगा मैली फिल्म की वजह से इनके रिश्तों में कड़वाहट भी आ गई थी।

मधु जैन की किताब ‘द कपूर्स’ में  राज कपूर बेटे राजीव कपूर के रिश्तों में कड़वाहट का जिक्र 

मधु जैन की किताब ‘द कपूर्स’ के मुताबिक, राज कपूर ने अपने सबसे छोटे बेटे राजीव कपूर (Rajiv Kapoor) को ‘राम तेरी गंगा मैली’ फिल्म से लांच किया। फिल्म तो हिट रही लेकिन राजीव कपूर की वजह से नहीं बल्कि झरने के नीचे नहाती हुई मंदाकिनी की वजह से।

राम तेरी गंगा मैली से मंदाकिनी रातों-रात स्टार बन गईं

यह फिल्म  सिर्फ राज कपूर और मंदाकिनी के इर्द-गिर्द सिमट कर रह गई। राजीव कपूर (Rajiv Kapoor) को इस फिल्म के हिट होने का कोई फायदा नहीं मिला। इस फिल्म से मंदाकिनी रातों-रात स्टार बन गईं लेकिन राजीव कपूर वहीं के वहीं रह गए। राजीव कपूर (Rajiv Kapoor) का मानना था इसके लिए राज कपूर जिम्मेदार हैं।

राज कपूर राजीव से स्पॉटब्वॉय और असिस्टेंट का काम कराते

राजीव कपूर (Rajiv Kapoor) चाहते थे कि राज कपूर एक और फिल्म बनाएं और उस फिल्म में उन्हें (राजीव कपूर) एक नायक की तरह प्रोजेक्ट करें ताकि स्टार होने का जो फायदा मंदाकिनी को मिला वो उन्हें इस फिल्म में मिले। परन्तु राज कपूर ने ऐसा नहीं किया और राजीव को राज कपूर को एक असिस्टेंट के तौर पर रखा। वो उनसे यूनिट का वह सारा काम कराते जो एक स्पॉटब्वॉय और असिस्टेंट करता था 

राजीव कपूर नाराजगी के कारण पिता के अंतिम संस्कार में नहीं गए थे

इन सब बातो से राजीव कपूर (Rajiv Kapoor), अपने पिता से इतने नाराज थे कि उनके निधन के बाद अंतिम संस्कार तक में नहीं गए। यही नहीं कपूर परिवार से अलग वो तीन दिनों तक शराब के नशे में चूर रहे।

Leave a Reply