Rakesh Jhunjhunwala : आखिर वो व्यक्ति कौन है जिन्हे बिग बुल के नाम से जाना जाता है

Top News
Rakesh Jhunjhunwal
Rakesh Jhunjhunwal

Rakesh Jhunjhunwala : हाल ही में पीएम नरेंद्र मोदी ने एक ट्वीट किया, जिसमें उन्होंने चर्चित निवेशक राकेश झुनझुनवाला (Rakesh Jhunjhunwala)के साथ अपनी तस्वीर अपलोड की और पोस्ट किया, “मिलिये हमारे खास मित्र राकेश झुनझुनवाला से, जो भारत को लेकर काफी तेजड़िया यानि आशान्वित रहते हैं”।

Advertisement

राकेश झुनझुनवाला (Rakesh Jhunjhunwala)से पीएम मोदी की मुलाकात उतनी सुर्खियों में नहीं रही, जितना उनका पहनावा ख़बरों में रहा। कुछ ने उनकी सादगी के लिए उनकी प्रशंसा की, तो कुछ लोगों ने स्वभाव अनुसार अपनी कुंठा जगज़ाहिर की, परंतु आखिर ये राकेश झुनझुनवाला है कौन, जिनका परिचय कराने में स्वयं नरेंद्र मोदी भी कोई हिचक नहीं महसूस कर रहे हैं?

राकेश झुनझुनवाला (Rakesh Jhunjhunwala)भारत के निवेशक एवं शेयर व्यापारी (stock trader) हैं। वे पेशे से चार्टर्ड एकाउन्टैन्ट हैं। उनकी कम्पनी का नाम ‘रारे इंटरप्राइजेज’ है, जिसका पोर्टफोलियो प्रबन्धन राकेश झुनझुनवाला स्वयं करते हैं । 5 जुलाई 1960 को हैदराबाद में जन्म लेने वाले राकेश झुनझुनवाला का परिवार मूलरूप से राजस्थान के झुंझुनू जिले से संबंधित है। हिसाब-किताब से उनका बहुत पुराना नाता रहा है।

इनके पिता स्वयं आयकर विभाग में कमिश्नर थे और ये भी प्रारंभ में एक चार्टर्ड अकाउन्टेंट थे, परंतु जोखिम लेना इनका स्वभाव था, और यही स्वभाव इन्हें शेयर मार्केट की ओर आकृष्ट कर लाया। इन्होंने जब स्टॉक मार्केट में कदम रखा था, तो उस समय Manu Manek, हर्षद मेहता जैसे खिलाड़ी एक दूसरे को कांटे की टक्कर देते थे।

धीरे-धीरे राकेश झुनझुनवाला (Rakesh Jhunjhunwala)ने अपनी अलग पहचान बनाई, और वे स्टॉक मार्केट के नए ‘बिग बुल’ के रूप में सामने आए। आज इनकी निजी संपत्ति अक्टूबर 2021 में ही 570 करोड़ रुपये के आसपास है।

राकेश झुनझुनवाला केवल आर्थिक रूप से ही नहीं, बल्कि राजनीतिक रूप से भी बहुत सक्रिय हैं। वे पूंजीवाद के कट्टर समर्थक हैं, और उसका विरोध करने वाले किसी भी राजनीतिक दल को वे छोड़ते नहीं हैं। उन्होंने कई विषयों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का समर्थन भी किया है, और उनका समर्थन तार्किक एवं नपा-तुला भी है।

पिछले वर्ष जब देश में कोविड की भयावहता के कारण देश की अर्थव्यवस्था दूसरी तिमाही में 23 प्रतिशत से भी नीचे गिरी थी, तो एनडीटीवी ने इसपर मोदी सरकार को घेरने का काफी प्रयास किया। इसपर Ndtv ने जब राकेश झुनझुनवाला के विचार जानने का प्रयास किया, तो उलटे उन्होंने एनडीटीवी को ही अर्थशास्त्र का ABCD पढ़ा दिया।

राकेश झुनझुनवाला (Rakesh Jhunjhunwala)ने स्पष्ट बताया, “हाँ, मैं पीएम मोदी का प्रशंसक हूँ, ये स्पष्ट बात है। एक भारतीय होने के नाते मेरा अधिकार है कि मैं अपने राजनीतिक विकल्प चुन सकूँ। पर आप तो स्पष्ट रूप से पक्षपाती रवैया अपना रहे हो। मैं देख सकता हूँ कि एनडीटीवी वर्तमान सरकार के प्रति पक्षपात अपनाता है।” जब एनडीटीवी के पत्रकार श्रीनिवासन जैन ने अपने आप को बचाने का एक और प्रयास किया, तो राकेश झुनझुनवाला ने श्रीनिवासन की जमकर धुलाई करते हुए कहा, “मैं एक राजनीतिक पशु हूँ, लेकिन प्रेस नहीं है। प्रेस को निष्पक्ष होना चाहिए, आपको निष्पक्ष होना चाहिए!”

इसके अलावा राकेश झुनझुनवाला (Rakesh Jhunjhunwala) ने भारतीय अर्थव्यवस्था के सकारात्मक पहलुओं को गिनाते हुए कहा कि वुहान वायरस की महामारी के बावजूद भारतीय अर्थव्यवस्था तेज़ी से रिकवर कर रही है, और विदेशी उद्योगपति भर-भर के भारत में निवेश कर रहे हैं। उन्होंने कहा, “बाज़ार केवल मार्च 2021 तक सीमित नहीं है। भारत पहले से ही तेज़ी से रिकवर कर रहा है। इसके अलावा भारत में काफी सकारात्मक बदलाव आया है, जिसमें ब्याज दरों में कटौती एक बहुत बड़ा फ़ैक्टर है, और इसके अलावा भी बहुत बड़े स्तर पर सुधार हो रहे हैं।”

राकेश झुनझुनवाला (Rakesh Jhunjhunwala) केवल नाम के ‘बिग बुल’ नहीं है, बल्कि वे वास्तव में एक प्रखर निवेशक है, जो भारत के उज्ज्वल भविष्य के प्रति आशान्वित है और उन्हें आभास है कि इस देश में कितनी क्षमता है, और ये कहाँ तक जा सकता है। ऐसे लोगों को अमेरिका में वॉरेन बफेट की भांति पूजा जाता है, और अब समय आ चुका है कि भारत में भी ऐसे लोगों को उनका उचित सम्मान दिया जाए, जैसे पीएम मोदी दे रहे हैं, क्योंकि धन का सृजन करना अपराध नहीं, पुण्य है।

इंडिया टुडे कॉन्क्लेव में उनसे (Rakesh Jhunjhunwala) पूछा गया, ‘आप प्रधानमंत्री से मिले, बहुत सी बातें हुईं, तस्वीरें वायरल हो गईं। एक स्टॉक ब्रोकर प्राइम मिनिस्टर से क्यों मिला?’ स्टॉक ब्रोकर कहे जाने पर आपत्ति जताते हुए राकेश झुनझुनवाला ने कहा, ‘मैम, पहले मुझे एक बात कहने दीजिए। मैं हर साल सरकार को 15 लाख डॉलर (11.25 करोड़ रुपए) देता हूं। मैं कोई ब्रोकर नहीं हूं।’ उन्होंने आगे कहा, ‘आपने कहा कि मैं प्रधानमंत्री से क्यों मिला? तो मुझे नहीं पता वो क्यों मिले, आपको उनसे ही पूछना चाहिए।’

अर्थव्यवस्था को लेकर उनका (Rakesh Jhunjhunwala) कहना था कि ये जल्द ही आगे बढ़ने वाली है। वो बोले, ‘हमारा टाइम आएगा लेकिन मेरा मानना है कि हमारा टाइम आ चुका है।

Leave a Reply