Ram Mandir trust member

न्यूज़
ram mandir

 

Ram Mandir trust member

Advertisement

बुधवार को संसद में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने राम जन्मभूमि के लिए राम मंदिर ट्रस्ट का ऐलान किया और केंद्र सरकार ने  राम मंदिर निर्माण के लिए एक रूपये का दान दिया।
मंदिर के लिए 15 सदस्यों की ट्रस्ट की घोषणा की गयी है जिसमे एक सदस्य दलित समुदाय से है, इन 15 सदस्यों में 9 स्थाई और 6 पदेन सदस्य होंगे  


1 सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील के. परासरन  ट्रस्ट के अध्यक्ष होंगे  राम मंदिर ट्रस्ट का आधिकारिक कार्यालय के. परासरन के आवास ग्रेटर कैलाश में बनाया गया है इन्होने 92 साल की उम्र में भी अयोध्या मामले में हिंदू पक्ष की पैरवी की थी।   


2 परमानंद जी महाराज अखंड आश्रम हरिद्वार के प्रमुख परमानंद जी महाराज भी ट्रस्ट में शामिल किए गए हैं अब तक परमानंद जी महाराज की वेदांत पर 150 से अधिक किताबें प्रकाशित हो चुकी हैं और वर्ष 2000 में संयुक्त राष्ट्र में उन्होंने आध्यात्मिक नेताओं के शिखर सम्मेलन को सम्बोधित किया था। 


3 जगतगुरु शंकराचार्य स्वामी वासुदेवानंद सरस्वती जी महाराज बद्रीनाथ स्थित ज्योतिष पीठ के शंकराचार्य, इनके शंकराचार्य बनाए जाने पर विवाद भी रहा ज्योतिष मठ की शंकराचार्य की पदवी को लेकर द्वारका पीठ के शंकराचार्य स्वामी वासुदेवानंद सरस्वती ने हाईकोर्ट में केस दाखिल किया था।


4 स्वामी गोविंद देव गिरि जी महाराज के द्वारा रामायण, श्रीमद्भगवद्गीता, महाभारत और अन्य पौराणिक ग्रंथों का देश-विदेश में प्रवचन किया जाता है एवं स्वामी गोविंद देव गिरि जी महाराज राज्य के विख्यात आध्यात्मिक गुरु पांडुरंग शास्त्री के शिष्य हैं।


5 जगतगुरु मध्वाचार्य स्वामी विश्व प्रसन्न तीर्थ जी महाराज कर्नाटक के उडुपी स्थित पेजावर मठ के 33वें पीठाधीश्वर हैं एवं दिसम्बर 2019 में गुरु विश्वेश तीर्थ स्वामी के निधन के बाद जगतगुरु मध्वाचार्य स्वामी विश्व प्रसन्नतीर्थ जी महाराज मठ की जिम्मेदारी ली अयोध्या राम मंदिर के पक्ष में 1990 के दशक में लोगों को जोड़ने में मठ की महत्त्वपूर्ण भूमिका रही है।

 
6 विमलेंद्र मोहन प्रताप मिश्रा अयोध्या राजपरिवार से है लोग इन्हे प्यार से पप्पू भैया या राजा भैया भी कहते है इन्होने 2009 में फैजाबाद से लोकसभा का चुनाव (बसपा) कांग्रेस के निर्मल खत्री के खिलाप जीता था परन्तु इसके बाद विमलेंद्र राजनीति से दूर हो गए वर्तमान में वह रामायण मेला समिति के संरक्षक मंडल सदस्य हैं।


7 डॉ. अनिल मिश्र अयोध्या में प्रसिद्ध होम्योपैथी डॉक्टर है.अनिल मिश्र अंबेडकर नगर के निवासी है 1975 में जब इंदिरा गांधी ने पूरे भारत में आपातकाल लगाया तब डॉ. अनिल मिश्र ने इसका जोरशोर से विरोध किया था. 1981 से अनिल मिश्र आरएसएस के स्वयंसेवक भी रहे हैं।


8 श्री कामेश्वर चौपाल दलित समुदाय से ताल्लुक रखने वाले कामेश्वर चौपाल ने 9 नवम्बर 1989 में राम मंदिर शिलान्यास की पहली ईट रखी थी यही से कामेश्वर चौपाल को प्रसिद्धि मिलना प्रारम्भ हुआ।

 

(9) महंत दिनेंद्र दास  निर्मोही अखाड़ा प्रमुख महंत दिनेंद्र दास को भी ट्रस्ट में शामिल किया गया है, उन्हें ट्रस्ट की मीटिंग में वोटिंग का अधिकार नहीं होगा।

Leave a Reply