beautiful hill station of Uttarakhand : आइये जानते है उत्तराखंड के खूबसूरत हिल स्टेशन रानीखेत के बारे में

हेल्थ
उत्तराखंड के खूबसूरत हिल स्टेशन रानीखेत के बारे में
Advertisement
उत्तराखंड के खूबसूरत हिल स्टेशन रानीखेत के बारे में

भारत के उत्तराखण्ड राज्य में स्थित प्रकृति की नैसर्गिक सुंदरता से भरपूर रानीखेत एक प्रमुख  पर्यटन स्थल है। यह समुद्रतल से करीब 1829 मीटर ऊंचाई पर स्थित है । यह उत्तराखंड का एक प्रमुख हिल स्टेशन (beautiful hill station of Uttarakhand) है, जिसकी प्राकृतिक खूबसूरती देखते ही बनती है। रानीखेत का मनमोहक दृश्य ही ऐसा है ।

कि लोग इसे ‘पहाड़ों की रानी’ भी कहते हैं। यहां कई प्रसिद्ध पर्यटन स्थल (beautiful hill station of Uttarakhand) हैं, जिसमें हरे-भरे जंगल, हिमालयी पहाड़ियां, पर्वतीय चढ़ाई, गोल्फ कोर्स, ट्रैकिंग रेंज और मंदिर आदि शामिल हैं गौरवपूर्ण इतिहास वाली कुमाऊं रेजिमेंट (KRC) का मुख्यालय भी यहां स्थित है। रानीखेत तकरीबन 27 किलोमीटर में फैला हुआ क्षेत्र है।

भारतीय रेल ने काठगोदाम से जैसलमेर (राजस्थान) तक चलने वाली ट्रेन का नाम भी ‘रानीखेत एक्सप्रेस’ रखा है। अगर आप शहरी जीवन की भागदौड़ से दूर कुछ वक्त प्रकृति के करीब बिताना चाहते हैं

और एक शांति अपने मन में चाहते हैं तो आपको एक बार रानीखेत जरूर जाना चाहिए। यहां पर आपको कई बेहतरीन दर्शनीय स्थल (beautiful hill station of Uttarakhand) मिलेंगे। तो चलिए जानते हैं रानीखेत में मौजूद ऐसे ही कुछ खूबसूरत स्थानों के बारे में

झूला देवी मंदिर
झूला देवी मंदिर

झूला देवी मंदिर – Jhula Devi Temple

रानीखेत के पास मौजूद यह झूला देवी मंदिर (Jhula Devi Temple) काफी प्रसिद्ध है। ऐसा माना जाता है कि यहां पर आने वाले सभी भक्तों की मनोकामनाएं पूरी होती हैं। यह मंदिर 8वीं शताब्दी में बना दुर्गा मां का मंदिर हैं। हालांकि वर्तमान में जो मंदिर परिसर मौजूद है, उसका पुनर्निमाण वर्ष 1935 में किया गया था। मान्यता है कि इस मंदिर की दीवार पर जो कोई भी एक घंटी बांधता है, उसकी मनोकामना जरूर पूरी होती है। इस मंदिर का मुख्य आकर्षण यहां पर लगाई गई घंटियां हैं।

चौबटिया बाग – Chaubatia gardn

रानीखेत से करीबन दस किलोमीटर दूर चौबटिया बाग (Chaubatia Bagh) में आपको खुमानी, आडू, शाहबलूत, बादाम और सेब के कई उद्यान देखने को मिलेंगे। वैसे इस बाग के निकट ही फ्रूट रिसर्च सेंटर भी है।

इसके अलावा बाग के निकट जल प्रपात भी है, जहां पर जाकर आपको एक अलग ही नजारा देखने को मिलेगा। अगर आप रानीखेत आए हैं तो आपको यहां पर अवश्य जाना चाहिए।

रानीखेत गोल्फ कोर्स – Ranikhet Golf Course

रानीखेत गोल्फ कोर्स रानीखेत के प्रमुख आकर्षणों में से एक है। यह समुद्र तल से लगभग 1830 मीटर पर स्थित है रानीखेत गोल्फ कोर्स एशिया के उच्चतम गोल्फ कोर्सों में से एक है। यह रानीखेत नगर से 5 किमी की दूरी पर है।

इस गोल्फ कोर्स (Ranikhet Golf Course) को देखने के लिए सिर्फ भारत से ही नहीं, विदेशों से पर्यटक भी आते हैं। यहां पर खिलाडि़यों के लिए एक विश्राम गृह भी है।इस गोल्फ कोर्स में 9-होल का कोर्स है। यहां का सुकून, सुंदरता और हरियाली आपको घंटों यहां रहने के लिए प्रेरित करेगी।

इसे भी पढ़ें : Wild mustard : स्वाद और खुशबू का खजाना एक चुटकी जखिया

द्वाराहाट – Dwarahat

द्वाराहाट (Dwarahat) रानीखेत से लगभग 32 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह भी पर्यटकों के मुख्य आकर्षण में से एक है। यह स्थान ना सिर्फ हरी भरी वादियों से घिरा है, बल्कि इसका पुरातात्विक महत्व भी है। यहां पर मध्ययुगीन काल में कत्यूरी राजाओं द्वारा निर्मित 55 विषम प्राचीन मंदिर मौजूद हैं। आप इन मंदिरों के अलावा यहां से हिमालय दर्शन भी कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें :  फूलदेई : उत्तराखंड का प्रसिद्ध लोकपर्व ऋतुओ आगमन एवं प्रकृति का आभार प्रकट करता

पांडुखोली
पांडुखोली

पांडुखोली – Pandukholi

पांडुखोली अल्मोड़ा जिले के द्वाराहाट से लगभग 25 किलो मीटर की दूरी पर स्थित हैं । पांडूखोली जाने के लिए कुकुछिना से बांज .बुरांश के हरे .

भरे घने वनों से पैदल मार्ग पर ऊंचाई की ओर लगभग पांच (5) किलोमीटर की यात्रा तय करनी पड़ती हैं । यह पर्यटक स्थल (Ranikhet)से लगभग 57 किमी दूरी पर स्थित स्वर्गपूरी पांडवखोली (Pandukholi) स्थित हैं | यहाँपर ट्रेकिंग करके पहुंचा जा सकता है और दूनागिरी मंदिर के नजदीक से यह यात्रा शुरू हो जाती है।कुक्कुखिना से भी यात्रा शुरू की जा सकती है, जहां से यह सड़क से 3 किलोमीटर की ट्रेकिंग दूरी पर है।

पांडुकोली (Pandukholi) का शाब्दिक अर्थ है ‘पांडू’जो पांडव और ‘खोली’ का मतलब आश्रय है,अर्थात ‘पांडवो का आश्रय

‘पहाड़ी में अधिक अनदेखी गुफाएं हैं क्योंकि जैसे ही धरती पर पैर मारते हैं तो कोई भी खोखले ड्रम की भांति ध्वनि सुन सकता है यह गुफाएं 8,000 फुट की ऊंचाई पर स्थित हैं।यह जगह प्रसिद्ध है इस स्थान से आस पास की जगहों के लुभावने दृश्य देखे जा सकते हैं

सैंट ब्रिजेट चर्च – St. Bridget’s Church
सैंट ब्रिजेट चर्च रानीखेत नगर का सबसे पुराना चर्च है।

कुमाऊँ रेजिमेंटल सेंटर – Kumaon Regimental Center
कुमाऊँ रेजिमेंटल सेंटर (केआरसी) कुमाऊँ तथा नागा रेजिमेंट द्वारा संचालित एक म्यूजियम है। यहाँ विभिन्न युद्धों में पकडे गए अस्त्र तथा ध्वज प्रदर्शन करने के लिए रखे गए हैं। इसके अतिरिक्त म्यूजियम में ऑपरेशन पवन के समय पकड़ी गयी एलटीटीई की एक नाव भी है।

इसे भी पढ़ें : तोरई के फायदे नुकशान और उपयोग

आशियाना पार्क
आशियाना पार्क

आशियाना पार्क – Ashiana Park
आशियाना पार्क रानीखेत नगर के मध्य में स्थित है। कुमाऊँ रेजिमेंट द्वारा निर्मित और विकसित इस पार्क में बच्चों के लिए विशेषकर जंगल थीम (jungle theme) पर बना आशियाना पार्क कुछ घंटे बिताने के लिए एक बढ़िया जगह है।

जहां बच्चे चिल्ड्रन पार्क में झूलों का आनंद ले सकते हैं, हर्बल गार्डन का भ्रमण कर सकते हैं और रंगीन फव्वारों को निहार सकते हैं। यह हिमालय की चोटियों के शानदार दृश्यों (beautiful hill station of Uttarakhand) को निहारने के लिए भी एक अद्भुत जगह है। इसे हरित वन क्षेत्र के लिए देवधर उध्यान भी कहा जाता है, रानीखेत (Ranikhet) का पहला थीम पार्क कुछ पारिवारिक समय के लिए सही जगह है।है।

मनकामेश्वर मंदिर – Mankameshwar Temple
यह मंदिर कुमाऊँ रेजिमेंट के नर सिंह मैदान से संलग्न है। मंदिर के सामने एक गुरुद्वारा, तथा एक शाल की फैक्ट्री है।

रानी झील – Rani jheel 
रानी झील नर सिंह मैदान के समीप वीर नारी आवास के नीचे स्थित है। इस झील में नौकायन की सुविधा उपलब्ध है।

इसे भी पढ़ें : kafal : काफल पहाड़ी फलों का राजा पहुचाये कई रोगों में लाभ

बिनसर महादेव – Binsar Mahadev
बिनसर महादेव भगवन शिव को समर्पित एक मंदिर है। मंदिर के समीप बहती एक गाड़ विहंगम दृश्य प्रस्तुत करती है। मंदिर के पास देवदार तथा चीड़ के जंगलों के मध्य स्थित एक आश्रम भी है।

भालूडैम – Beardam
भालूडैम (Beardam) नगर के समीप स्थित एक कृत्रिम झील है। यहाँ से हिमालय श्रंखलाओं का मनोरम दृश्य देखा जा सकता है।

मजखाली – majkhali
मजखाली अल्मोड़ा-रानीखेत रोड पर रानीखेत से 12 किमी दूर स्थित एक पिकनिक स्थल है। यहां की प्राकृतिक सुंदरता मन मोह लेती है।यहां से बागेश्वर में स्थित त्रिशूल चोटी के दृश्य देखे जा सकते हैं।अगर आप रानीखेत (Ranikhet) जा रहे हैं, तो यहां जरूर घूमने जाएं। 

ताड़ीखेत – Tadikhet
रानीखेत से 8 किमी दूर स्थित ताड़ीखेत (Tadikhet) गाँधी कुटी तथा गोलू देवता मंदिर के लिए प्रसिद्द है।


हैडाखान मंदिर – Haidakhan Temple
रानीखेत का यह एक प्रसिद्ध धार्मिक तीर्थ स्थान है। सफेद संगमरमर से निर्मित यह भव्य मंदिर रानीखेत से करीब 4-5 किलोमीटर की दूरी पर हिमालय की खूबसूरत वादियों में एक पहाड़ी पर स्थित है। यहां (Haidakhan Temple) से हिमालय की बर्फ से ढकी चोटियां साफ नजर आती हैं। यहां सिर्फ देश ही नहीं बल्कि विदेशों से भी लोग घूमने के लिए आते हैं। 

Leave a Reply